भोजन क्या है भोजन का अर्थ एवं परिभाषा भोजन के कार्य  bhojan

प्रस्तावना :-

मानव जीवन की पहली आवश्यकता भोजन है। भोजन हमारे शरीर को पोषण देता है। भोजन कहे जाने वाले प्रत्येक पदार्थ की अलग-अलग पोषण क्षमताएँ और विशेषता होती हैं। स्वस्थ रहने के लिए हर व्यक्ति को एक निश्चित मात्रा में पोषण की आवश्यकता होती है। पोषण का अर्थ है खाए गए भोजन के माध्यम से आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति। खाद्य पदार्थों की पौष्टिकता और उनके महत्व को जानना बहुत जरूरी है।

भोजन का अर्थ :-

मानव जीवन को कायम रखने के लिए भोजन आवश्यक है। मनुष्य जो भी भोजन करता है उसमें विभिन्न पोषक तत्व पाए जाते हैं जो मानव शरीर को पोषण देते हैं। मनुष्य को शारीरिक वृद्धि, विकास, अच्छे स्वास्थ्य और दैनिक गतिविधि के लिए पर्याप्त आहार और पोषण की आवश्यकता होती है।

मनुष्य अपना आहार दो प्रमुख प्राकृतिक स्रोतों से प्राप्त करते हैं – वनस्पति स्रोत और प्राणिज स्रोत। पौधे प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया के माध्यम से अपना भोजन स्वयं बनाते हैं। प्राणी अपने आहार के लिए पौधों या अन्य जीवों पर निर्भर रहते हैं।

मनुष्य अपने आहार में कई खाद्य पदार्थों को शामिल करता है। विभिन्न खाद्य पदार्थों में पोषक तत्वों की मात्रा भी भिन्न-भिन्न होती है। अपने आहार को संतुलित करने और उसमें विविधता लाने के लिए मनुष्य कई खाद्य पदार्थों का चयन करता है।

भोजन के लिए खाद्य पदार्थों का चुनाव कई कारकों से प्रभावित होता है जैसे किसी भौगोलिक क्षेत्र में उगने वाली वनस्पतियां, पर्यावरणीय कारक, संस्कृति, आहार संबंधी आदतें, रोग की स्थिति, भोजन की उपलब्धता आदि।

भोजन की परिभाषा (bhojan ki paribhasha) :-

मनुष्य द्वारा ग्रहण किया जाने वाला वह खाद्य पदार्थ जो मानव शरीर को पोषण देता है, आहार कहलाता है। दूसरे शब्दों में, “वह पदार्थ जो खाया जाता है, शरीर द्वारा अवशोषित किया जाता है, जो शरीर की वृद्धि और विकास में मदद करता है और शरीर के विभिन्न कार्यों को नियंत्रित करता है”, को आहार के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

“भोजन वह पदार्थ है जिसे खाया जा सके, पचाया जा सके तथा जो शरीर की वृद्धि और निर्माण करें।”

चैम्बर्स शब्दकोश

“वह पौष्टिक पदार्थ जो किसी जीव के शरीर में अवशोषित व शोषित होकर उसकी वृद्धि, टूट-फूट से मरम्मत तथा जीवित रहने की विभिन्न क्रियाओं का संचालन करता है, भोजन कहलाता है।”

फूड डिक्शनरी

भोजन के कार्य (bhojan ke karya) :-

जीवित रहने के लिए मानव भोजन आवश्यक है। भोजन के अभाव में मनुष्य का शरीर अत्यंत दुर्बल एवं रोगग्रस्त हो जायेगा। भोजन के शरीर में कई कार्य होते हैं जिन्हें निम्नानुसार वर्गीकृत किया जा सकता है:-

भोजन के शारीरिक कार्य :-

भोजन मनुष्य की भूख को शांत करता है –

भोजन के बिना मनुष्य कोई भी कार्य नहीं कर पाता है। एक जटिल शारीरिक प्रक्रिया के बाद व्यक्ति को भूख का अनुभव होता है। हमारा पाचन तंत्र मस्तिष्क को संदेश भेजता है कि हमें शारीरिक कार्यों के लिए भोजन लेने की आवश्यकता है।

मस्तिष्क इस संदेश को भूख के रूप में पहचानता है। इसके बाद हमारे शरीर में भूख का एहसास होने लगता है। ऐसे समय में यदि व्यक्ति को भोजन मिल जाए तो उसकी भूख शांत हो जाती है और वह तृप्त महसूस करता है। भोजन के अभाव में व्यक्ति को अन्य लक्षण जैसे सिरदर्द, कमजोरी, मतली आदि का अनुभव होने लगता है।

ऊर्जा प्रदान करना –

मनुष्य को विभिन्न शारीरिक क्रियाओं को संचालित करने और कार्यात्मक जीवन जीने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। यह ऊर्जा मनुष्य को भोजन में मौजूद कार्बोहाइड्रेट, वसा और प्रोटीन जैसे पोषक तत्वों से प्राप्त होती है। ये पोषक तत्व शरीर में ऑक्सीकृत होते हैं और शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं।

यह ऊर्जा शरीर की स्वैच्छिक एवं अनैच्छिक गतिविधियों के सफल संचालन एवं सम्पादन के लिए आवश्यक है। मांसपेशियों की गतिविधियाँ जैसे चलना, उठना, दौड़ना आदि स्वैच्छिक गतिविधियों के अंतर्गत आती हैं। शरीर में स्वतः होने वाली अनैच्छिक क्रियाएँ जैसे हृदय की धड़कन, श्वसन तंत्र, पाचन तंत्र आदि।

शरीर का निर्माण और ऊतकों की टूट-फूट की मरम्मत –

भोजन का दूसरा महत्वपूर्ण कार्य शरीर का निर्माण करना है। शरीर की बुनियादी न्यूनतम इकाई, कोशिका के निर्माण के लिए प्रोटीन, पानी और अन्य पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है।

शरीर निर्माण का कार्य जन्म से पहले ही शुरू हो जाता है और तब तक चलता रहता है जब तक व्यक्ति का पूर्ण शारीरिक विकास नहीं हो जाता तथा व्यक्ति पूर्ण लंबाई एवं वजन प्राप्त नहीं कर लेता। शरीर में अक्सर ऊतकों का टूटना होता रहता है। इनके पुनर्जनन के लिए पोषक तत्वों की भी आवश्यकता होती है।

एक वयस्क व्यक्ति के शरीर में पोषक तत्वों की मांग न केवल शारीरिक विकास के लिए होती है, बल्कि शारीरिक गतिविधियों को बनाए रखने और ऊतकों की टूट-फूट की मरम्मत के लिए भी होती है। शैशवावस्था, बाल्यावस्था तथा किशोरावस्था में पौष्टिक तत्व शरीर निर्माण का कार्य करते हैं।

शरीर का निर्माण करने वाले प्रमुख पोषक तत्व हैं; प्रोटीन, खनिज लवण और पानी। प्रत्येक कोशिका के निर्माण के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है। कोशिकाओं में होने वाली कई रासायनिक प्रक्रियाओं में भी प्रोटीन का विशेष स्थान होता है। कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, लौह लवण और आयोडीन जैसे खनिज लवण शरीर निर्माण की दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं।

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना –

भोजन में मौजूद पोषक तत्व शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। विटामिन, खनिज और प्रोटीन ऐसे पोषक तत्व हैं जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। विटामिन और खनिज सुरक्षात्मक पोषक तत्व के रूप में जाने जाते हैं।

किसी विशेष विटामिन या खनिज लवण की कमी से शरीर में रोग हो सकते हैं जैसे विटामिन ‘ए’ की कमी से रतौंधी, लौह नमक की कमी से एनीमिया रोग आदि। खान-पान से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

शरीर की विभिन्न महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं को नियंत्रित करना –

पोषक तत्व शरीर की विभिन्न महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं जैसे रक्त का थक्का जमना, अम्ल-क्षार संतुलन को नियंत्रित करना, पानी और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखना आदि को नियंत्रित करते हैं। इसके अलावा शरीर के तापमान को बनाए रखने और अपशिष्ट पदार्थों के उत्सर्जन के लिए भी पोषक तत्व आवश्यक होते हैं।

भोजन के सामाजिक कार्य :-

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और भोजन सामाजिकता का माध्यम है। हमारे समाज में अधिकांश विशेष अवसरों पर रीति-रिवाजों और परंपराओं के अनुसार ही खाना बनाया और परोसा जाता है।

होली, दिवाली, ईद आदि धार्मिक त्योहारों में लोग तरह-तरह के पकवान बनाते हैं और उनके जरिए अपनी खुशी जाहिर करते हैं। भोजन भी लोगों को एक साथ लाने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। पार्टी, पिकनिक आदि कार्यक्रमों में व्यक्ति अपने परिवार और दोस्तों के साथ भोजन करता है।

एक साथ खाना खाने से ज्यादातर माहौल प्रफुल्लित और खुशनुमा हो जाता है। हम मेहमानों के स्वागत के लिए विशेष भोजन परोसते हैं। जब हम किसी मरीज से मिलने जाते हैं तो अपने साथ फल आदि लेकर जाते हैं। दोस्तों और रिश्तेदारों के घर जाने पर हम उनकी पसंद और रुचि का खाना परोसते हैं।

हमारे दोस्त कभी-कभी हमें नए खाद्य पदार्थ आज़माने और उन्हें अपने आहार में शामिल करने का सुझाव देते हैं। धार्मिक मान्यताएँ और भोजन का विशेष दावतों और भोज से गहरा संबंध है। भोजन के माध्यम से, लोग अपनी सामाजिक प्रस्थिति दर्शाते हैं और विवाह, जन्मदिन आदि जैसे शुभ अवसरों पर विशेष भोजन परोसते हैं। स्पष्ट रूप से, भोजन कई सामाजिक कार्यों के निष्पादन में मदद करता है।

भोजन के मनोवैज्ञानिक कार्य :-

भोजन भी भावनाओं को व्यक्त करने का एक माध्यम है। किसी को भोजन पर आमंत्रित करना अतिथि के प्रति सम्मान और मित्रता दर्शाता है। परिचित स्वाद व्यक्ति को संतुष्टि प्रदान करते हैं। गर्म पेय पदार्थ व्यक्ति की थकान को कुछ पल के लिए दूर कर देते हैं।

माताएं अपने बच्चों को उनकी पसंद का खाना खिलाकर उनके प्रति अपना प्यार दिखाती हैं। गृहिणी अपने बनाये भोजन की प्रशंसा सुनकर प्रसन्न होती है। ये सभी भावनाएँ भोजन के माध्यम से व्यक्त होती हैं। व्यक्ति भोजन के माध्यम से भी अपनी खुशी व्यक्त करते हैं।

भोजन के कार्य
bhojan ke karya

एक बड़ी आबादी को पर्याप्त भोजन न मिल पाने के मुख्य कारण हैं :-

  • बहुत कम क्रय शक्ति
  • जनसंख्या में अत्यधिक वृद्धि
  • औद्योगीकरण का निम्न स्तर
  • निरक्षरता, अज्ञानता, अंधविश्वास और खाद्य मिथक
  • भोजन के भंडारण, परिवहन और वितरण में कमियाँ
  • प्रति व्यक्ति कृषि योग्य भूमि में कमी तथा भूमि एवं पशुधन की उत्पादकता में कमी
  • अस्वच्छ वातावरण जिसके कारण बार-बार संक्रामक रोग फैलते हैं, कुपोषण की समस्या को और जटिल बना देता है

संक्षिप्त विवरण :-

भोजन मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता है। कई अपरिपक्व परीक्षणों और त्रुटियों के बाद, मनुष्य ने उचित आहार के बारे में ज्ञान विकसित किया है। खाद्य पदार्थों में विभिन्न पोषक तत्व पाए जाते हैं। विभिन्न खाद्य पदार्थों में मौजूद पोषक तत्वों की मात्रा अलग-अलग होती है। भोजन शरीर में कई कार्य करता है, जिन्हें तीन प्रमुख श्रेणियों में विभाजित किया गया है; भोजन के शारीरिक, सामाजिक और मनोवैज्ञानिक कार्य।

FAQ

भोजन किसे कहते हैं?

भोजन के कार्य लिखिए?

social worker

Hi, I Am Social Worker इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

प्रातिक्रिया दे