रोग किसे कहते हैं रोग की परिभाषा, प्रकार, कारण

रोग की अवधारणा :-

प्राचीन काल में, रोग की अवधारणा पूरी तरह से मानव शरीर में जैविक कुसमायोजन पर आधारित थी। लेकिन चिकित्सा विज्ञान की प्रगति के साथ-साथ प्राचीन अवधारणा भी बदल गई। आज भी बीमारी का संबंध जैविक स्थितियों और शरीर क्रिया विज्ञान तक ही सीमित नहीं है। इसे सामाजिक परिवेश, सामाजिक संबंध एवं संगठन, सांस्कृतिक परिवेश एवं मनोवैज्ञानिक स्थितियों से भी जोड़ा जा रहा है।

रोग का अर्थ :-

रोग मानव शरीर की एक ऐसी स्थिति है जिसमें मानव शरीर में किसी प्रकार की विकृति या अक्षमता हो जाती है। यह रोग गर्भस्थ शिशु से लेकर मृत्यु के कगार पर खड़े व्यक्ति तक को हो सकती है। यह एक पुरुष, एक लड़का या लड़की सभी के बीच कोई अंतर नहीं करता है। यह दुनिया के किसी भी कोने में रहने वाले किसी भी व्यक्ति को किसी भी मौसम में प्रभावित कर सकता है।

रोग की परिभाषा :-

“रोग का तात्पर्य है साधारणतः सामान्य प्रकार्य से विचलन शीलता है जो अपने आप में एक अवांछनीय निष्कर्ष है क्योंकि इससे व्यक्तिगत अशांति होती है या व्यक्ति के भावी के स्वास्थ्य स्तर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।”

डॉ. मैकलीन

रोग एक असुविधा, एक ऐसी स्थिति जिसमें शारीरिक स्वास्थ्य गंभीर रूप से प्रभावित, विकृत या बाधित हो जाता है, स्वास्थ्य की दशा से गमन, मानव शरीर में परिवर्तन होता है जिससे महत्वपूर्ण कार्य प्रभावित होते हैं।

बेवस्टर शब्दकोष

रोग शरीर या शरीर के किसी अंग की वह दशा है जिसमें इसके कार्य बाधित या व्यतिक्रमित जाते हैं।

आक्सफोर्ड शब्दकोश

रोग के प्रकार :-

पार्क और पार्क ने रोग को निम्नलिखित प्रकार से वर्गीकृत करने का प्रयास किया है:-

संक्रामक रोग –

यह आयुविज्ञान की आधुनिक स्थिति से स्पष्ट है। अधिकांश संक्रामक रोग विभिन्न प्रकार के सूक्ष्म जीवों के कारण होते हैं। क्योंकि ये सूक्ष्म जीव मानव शरीर पर परजीवी बन जाते हैं, जैसे बैक्टीरिया, फंगल, वायरस आदि।

चिर रोग –

चिर रोगों से बचाव में संक्रामक रोगों की तुलना में अलग और अधिक कठिन समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कई चिर रोगों, जैसे तपेदिक, कुष्ठ रोग आदि में, ऊतकों का पतन होता है और संबंधित अंगों की कार्यात्मक शक्ति का नुकसान होता है। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि ये मुख्यतः वृद्धावस्था की बीमारियाँ हैं।

मानसिक रोग –

रोग वर्गीकरण में अंतिम और तीसरे प्रकार का रोग मानसिक असामान्यता से संबंधित है। संक्रामक रोगों और चिर रोगों की तुलना में मानसिक बीमारी की गति के बारे में अभी भी कम जानकारी है। मानसिक बीमारियों का जैविक या कार्यात्मक आधार होता है। पार्सन्स ने बीमारी की एक संस्थागत भूमिका और “चिकित्सा” के साथ इसके संबंध को सामाजिक नियंत्रण का एक तंत्र माना।

रोग फैलने के कारण :-

  • जन्मजात रोग उपार्जित रोग
  • संक्रामक रोग असंक्रामक रोग

अत: यह स्पष्ट है कि रोग चाहे जन्मजात हो या उपार्जित, चाहे वह रोग सबसे छोटा भी हो, व्यक्ति को कभी भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। स्वास्थ्य नियमों का पालन करना चाहिए।

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *