भारत में औद्योगिक विकास की समस्याओं का उल्लेख कीजिए?

भारत में औद्योगिक विकास की समस्याओं के मुख्य कारण :-

भारत में औद्योगिक पिछड़ापन या औद्योगिक विकास की धीमी गति के कारण बहुत कुछ पिछड़ा हुआ है। अनेक उपाय अपनाने के बाद भी यहां में औद्योगिक विकास में समस्या बनी हुई है। भारत में औद्योगिक विकास की समस्याओं के मुख्य कारण इस प्रकार हैं :-

आधारभूत उद्योगों का विकास :-

भारत में बुनियादी उद्योगों का विकास हो रहा है। लेकिन उनके उत्पादों की घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मांग इतनी अधिक है कि उन्हें पूरा करना संभव नहीं है। इसलिए हमारा निर्यात नहीं बढ़ रहा है। वहीं घरेलू मांग भी पूरी नहीं हो पा रही है।

ऊँची कीमतें :-

भारतीय उद्योगों द्वारा उत्पादित वस्तुओं की ऊँची कीमतें। इनकी कीमत तुलनात्मक दृष्टि से कहीं अधिक है। यही कारण है। कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय सामान की मांग बहुत कम है। इसलिए हम ठीक से निर्यात नहीं कर पा रहे हैं।

श्रमिक संघों की दोषपूर्ण नीति :-

हमारे देश में श्रमिकों की समस्याओं को भी समय-समय पर श्रमिक संघों के माध्यम से उद्योगों के समक्ष उठाया जाता रहा है। जो अनुचित है। आए दिन उद्योगों में टूल डाउन हड़ताल, तालाबंदी, लड़ाई-झगड़े होते रहते हैं। इसलिए सेवा योजकों का ज्यादातर समय विवादों को निपटाने में ही बीत जाता है।

कुशल श्रमिकों की कमी :-

औद्योगिक उत्पादन बढ़ाने के लिए कुशल श्रमिकों का होना आवश्यक है। जब तक कुशल श्रमिक नहीं होंगे तब तक अपेक्षित उत्पादन नहीं बढ़ सकता। यह श्रमिकों की निपुणता ही है जो वस्तु को उत्कृष्ट बनाती है। लेकिन हमारा श्रम अभी भी अकुशल है। जिसके कारण भारत के उत्पाद उच्च गुणवत्ता के नहीं हैं।

कुशल साहसी लोगों की कमी :-

हमारे देश में अभी भी कुशल साहसी लोगों की कमी है। उनकी जोखिम लेने की क्षमता भी अन्य देशों के साहसी लोगों की तुलना में कम है। ये लोग गैर-पारंपरिक तरीकों से उन्हीं वस्तुओं के उत्पादन में लगे हुए हैं।

जिसकी मांग दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है। जब तक किसी देश में योग्य और साहसी लोग न हों, औद्योगिक विकास को गति नहीं दी जा सकती।

जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है :-

भारत में जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। सरकार का अधिकांश व्यय जनसंख्या के भरण-पोषण पर हो रहा है। घरेलू दृष्टिकोण से भी, बढ़ती जनसंख्या विकास बचत को कम कर देती है। अतः पूंजी निर्माण के अभाव में निवेश की मात्रा बढ़ाना संभव नहीं है।

पूंजी की कमी :-

कम आय और अन्य उपयोग स्तर यह भारत की अर्थव्यवस्था की स्थिति है। बचत की कमी के कारण उद्योगों के खुलने और खुलने वाले उद्योगों को पूंजी की आपूर्ति उनकी मांग के अनुरूप नहीं हो पाती है, जिससे उद्योग के विकास में बाधा उत्पन्न हुई है।

ऊर्जा समस्या :-

ऊर्जा आर्थिक विकास का एक साधन है, आज छोटे-बड़े उद्योग विद्युत शक्ति से चलते हैं, हमारे देश के उद्योगों के सामने विद्युत संकट उत्पादक में बाधक है।

सरकारी हस्तक्षेप:-

उदारीकरण की नीति से पहले देश में उद्योगों के संचालन पर सरकार का सख्त नियंत्रण था, जिससे देश के उद्योगपति बहुत निराश थे, कई उद्योगों को सुलझाने में उद्योगों के प्रशासकों का आधिकारिक समय बर्बाद हो जाता था।

नियंत्रण के प्रकार एवं उन पर आपत्तियाँ। आज उदारीकरण की नीति अपनाने के बाद उद्योग जगत में काफी राहत है, फिर भी सरकार का नियंत्रण पूरी तरह से नहीं हटाया गया है।

स्थापित क्षमता की खरीद :-

भारत के उद्योगों की क्षमता क्षमता से कम रही है। और उद्योग के साथ एक समस्या यह है कि यह केवल 70 से 90 प्रतिशत उत्पादन करता है। जिसका प्रभाव स्थापित क्षमता से कम होने का असर रोजगार के स्तर पर भी पड़ता है।

उत्पादक क्षमता में गिरावट का यह बड़ा कारण हो सकता है। विद्युत शक्ति की कमी, कच्चे माल की कमी, तकनीकी ज्ञान की कमी, श्रमिकों की अक्षमता आदि।

भारत में औद्योगिक विकास की समस्याओं का उपाय :-

उद्योगों का आधुनिकीकरण :-

भारत में अधिकतर उद्योग पुराने तरीकों से ही चलते हैं, दुनिया में नई तकनीक विकसित हो चुकी है, इसलिए देश में औद्योगिक क्रांति लानी होगी। इसलिए उद्योगों की नवीनतम मशीनें और तकनीक उपलब्ध करानी होगी।

श्रमिक संबंधों में सुधार :-

जब तक श्रमिकों और नियोक्ताओं के बीच मिश्रित संबंध नहीं होंगे, उद्योगों की प्रगति में बाधाएँ आएंगी। इस प्रकार, उत्पादन के स्तर में गिरावट आती है, बेरोजगारी पैदा होती है और आर्थिक विकास अवरुद्ध हो जाता है।

ऊर्जा की उपलब्धता :-

देश के उद्योग-धंधे आगे बढ़ रहे हैं। अतः उद्योगों को पर्याप्त पूंजी उपलब्ध करायी जानी चाहिए।

औद्योगिक रुग्णता की समस्या को दूर करना :-

देश के अधिकांश उद्योग इस रुग्णता से प्रभावित हुए हैं। लगातार घाटे के कारण अधिकांश उद्योग बंद हो रहे हैं। तो सरकार को चाहिए कि उन्हें ऐसे उद्योगों को सभी प्रकार की सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए और बैंकों द्वारा उन्हें पूंजी भी उपलब्ध करायी जानी चाहिए। कच्चा माल और मशीनें भी उपलब्ध कराई जाएं।

ऊर्जा के साधनों का पर्याप्त दोहन :-

औद्योगिक व्यवसायों के उत्पादन में शक्ति के साधनों का महत्वपूर्ण स्थान है, लेकिन भारत में ऊर्जा के स्रोतों का उचित दोहन न होने के कारण आवश्यकता के अनुसार उद्योगों को काम करने के साधन नहीं मिल पाते हैं।

बुनियादी ढांचे का विकास :-

औद्योगिक विकास के लिए बुनियादी ढांचे के विकास की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए परिवहन, संचार, ऊर्जा विकास आदि के साधनों को प्राथमिकता के आधार पर विकसित किया जाना चाहिए। यदि उद्योगों की मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं होंगी तो उद्योगपति उद्योग लगाने से पीछे हट जायेंगे और औद्योगिक विकास में कमी आएगी।

उत्पादन लागत में कमी :-

जब तक उद्योग अपनी पूरी क्षमता का उपयोग नहीं करते, तब तक उत्पादों की कीमतों में कमी की उम्मीद नहीं की जा सकती।

इसलिए, कीमतों में वृद्धि का एक कारण समय पर कच्चा माल न मिलना, अकुशल मजदूर, चार से पांच घंटे की बिजली कटौती आदि है। यदि ऐसी रुकावटें दूर हो जाएं तो उद्योग अपनी पूरी क्षमता का उपयोग कर सकते हैं।

FAQ

भारत में औद्योगिक विकास की समस्याओं का वर्णन कीजिए?

भारत में औद्योगिक विकास की समस्याओं का उपाय बताइए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *