बचत क्या है बचत की परिभाषा, बचत का अर्थ (Savings)

प्रस्तावना :-

मनुष्य बहुत मेहनत से पैसा कमाता है और परिवार के भविष्य को ध्यान में रखते हुए कई इच्छाओं का त्याग करके अपनी बचत करता है। बचत आय का वह हिस्सा है जिसका उपयोग व्यक्ति वर्तमान में नहीं करता है बल्कि उस आय को भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अलग रखता है।

बचत प्रत्येक परिवार के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि बचत के माध्यम से परिवार वित्तीय सुरक्षा और अन्य पारिवारिक लक्ष्यों को प्राप्त करता है। छोटी बचत न केवल परिवार के आर्थिक विकास के लिए बल्कि देश के आर्थिक विकास के लिए भी महत्वपूर्ण है। बचत का निर्धारण बचत क्षमता, इच्छा और सुविधा से होता है।

राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था सीधे तौर पर बचत को प्रभावित करती है। बचत के उचित प्रबंधन के लिए योजना बनाना आवश्यक है। बचत बढ़ाने के लिए बचत का शीघ्र परिचय और उचित विनियोग आवश्यक है। वर्तमान समय में ऐसे कई बचत साधन उपलब्ध हैं जो हर आय वर्ग के लिए उपयोगी हैं।

अनुक्रम :-
 [show]

बचत का अर्थ :-

मनुष्य को पारिवारिक जीवन की आवश्यकताओं, उत्तरदायित्वों तथा लक्ष्यों के निर्वहन के लिए धन की आवश्यकता होती है। लोग अपनी आय का कुछ हिस्सा वर्तमान में इन जरूरतों को पूरा करने के लिए खर्च नहीं करते हैं, बल्कि इसे भविष्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए बचाकर रखते हैं। यह बची हुई रकम व्यक्ति की बचत होती है।

किसी भी व्यक्ति या परिवार के लिए बचत का विशेष महत्व है। स्वयं द्वारा की गई बचत के कारण व्यक्ति परिवार की विभिन्न आकस्मिक आवश्यकताओं और खर्चों को पूरा करने में सक्षम होता है। अगर किसी व्यक्ति के पास बचत के रूप में पर्याप्त पैसा नहीं है तो उसे अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए कर्ज लेना पड़ता है।

बचत व्यक्ति को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है। पारिवारिक जीवन चक्र के हर चरण के लिए बचत महत्वपूर्ण है। आर्थिक रूप से सुरक्षित व्यक्ति कर्ज चुकाने की चिंता से मुक्त होता है।

भविष्य की आवश्यकताओं पर होने वाले खर्च के लिए वह पहले से ही तैयार रहते हैं। बचत आय का वह हिस्सा है जिसे वर्तमान में खर्च नहीं किया जाता है बल्कि उत्पादक के रूप में भविष्य में उपयोग के लिए रखा जाता है।

बचत की परिभाषा :-

बचत को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं :-

“वर्तमान आय के वर्तमान व्यय पर आधिक्य को बचत कहा जाता है।”

जे0 एम0 केंज

“भविष्य में खर्च करने के उद्देश्य से वर्तमान व्यय में कटौती के परिणामस्वरूप एकत्रित की गई धन की राशि को बचत कहा जाता है।”

वर्गीज, ओगेल एवं श्रीनिवासन

“बचत मनुष्य की आय का वह भाग है जो वर्तमान आवश्यकताओं की पूर्ति में उपयोग नहीं किया जाता वरन् भविष्य के उपयोग के लिए समझ बूझकर उत्पादक के रूप में अलग रख दिया जाता है और संपत्ति को पूंजी का स्वरूप दिया जाता है।”

वर्मा एवं देशपाण्डे

बचत का महत्व :-

हर परिवार के लिए बचत का विशेष महत्व होता है। बचत के महत्व से संबंधित कुछ बिंदु निम्नलिखित हैं:-

बचत अनावश्यक खर्चों पर अंकुश लगाने में सहायक है :-

यदि कोई व्यक्ति अपनी आय का एक हिस्सा बचत के रूप में अलग रखता है, तो उसके पास वर्तमान व्यय के लिए उपलब्ध कुल राशि कम हो जाती है। ऐसे में व्यक्ति अपने पास मौजूद धन को सोच-समझकर खर्च करता है।

यह केवल आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं पर ही खर्च करता है। व्यक्ति बजट या पारिवारिक बजट बनाते हैं और उपलब्ध धन को सोच-समझकर खर्च करते हैं। ऐसे में अनावश्यक खर्च और फिजूलखर्ची पर रोक लगती है।

बचत व्यक्ति या परिवार को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है :-

बचत व्यक्ति को भविष्य की अनिश्चितताओं को देखते हुए वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है। भविष्य में दुर्घटना, व्यापार में हानि, नौकरी छूटना आदि कई कारणों से परिवार को विपरीत आर्थिक परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में व्यक्ति द्वारा की गई बचत उसके और उसके परिवार वालों के काम आती है।

किसी भी बचत के अभाव में, परिवार को भारी ब्याज दरों पर ऋण लेना पड़ सकता है या कोई प्रिय चीज़ बेचनी पड़ सकती है। कई बार करण भी आसानी से उपलब्ध नहीं होते।

नियमित बचत के साथ, परिवार भविष्य की आकस्मिकताओं के लिए पहले से ही कुछ हद तक वित्तीय रूप से तैयार होते हैं। परिवार के लिए वित्तीय सुरक्षा बहुत महत्वपूर्ण है। आर्थिक रूप से असुरक्षित परिवार के सदस्य हमेशा तनावग्रस्त रहते हैं।

वित्तीय असुरक्षा कई प्रतिकूलताओं को जन्म दे सकती है। बचत आर्थिक असुरक्षा को कम करती है और कठिन परिस्थितियों में परिवार को सहारा देती है। इसके अलावा, व्यक्ति द्वारा की गई बचत उसके परिवार को जीवन के बाद के चरणों/बुढ़ापे में भी वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है।

वृद्धावस्था में, रिटायरमेंट के बाद सतत आय में कमी आ जाती है। इस अवस्था में व्यक्ति की बचत उसके लिए बहुत उपयोगी साबित होती है। इसके माध्यम से व्यक्ति अपना चिकित्सा खर्च स्वयं वहन कर सकता है और उसे आर्थिक रूप से किसी पर निर्भर नहीं रहना पड़ता है।

बचत के कारण वृद्ध लोग आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर रहते हैं। वर्तमान समय में स्वास्थ्य सुविधाओं और तकनीकी क्षेत्र में उन्नति के कारण मनुष्य की जीवन अवधि बढ़ गई है। लंबी जिंदगी में इंसान की बचत उसके बहुत काम आती है।

बचत से आय और व्यय की असमानता को दूर करना संभव है :-

कई परिवारों की हर महीने या साल में लगातार समान आय नहीं होती है। उदाहरण के लिए, व्यापारियों या उद्योगपतियों को कभी-कभी अधिक आय होती है और कभी-कभी अर्जित आय कम हो जाती है। ऐसे में आय-व्यय की असमानता को दूर करने में बचत का विशेष महत्व है।

अल्प आय अवधि का खर्च व्यक्ति अपनी बचत से वहन कर सकता है। आय-व्यय की असमानता पारिवारिक जीवन के विभिन्न चरणों में भी देखी जा सकती है। आमतौर पर पारिवारिक जीवन के पहले चरण में खर्च कम होता है और बचत करना संभव होता है। पारिवारिक जीवन में जब बच्चे बड़े हो जाते हैं तो उन्हें अपनी उच्च शिक्षा, विवाह आदि पर अधिक खर्च करना पड़ता है।

यह भी संभव है कि इस स्तर पर परिवार की आय में कोई उल्लेखनीय वृद्धि न हो। इस स्तर पर, आवश्यक बड़ा व्यय व्यक्तियों और परिवारों द्वारा अतीत में स्वयं द्वारा की गई बचत के माध्यम से वहन किया जाता है। उपरोक्त दो उदाहरणों से यह स्पष्ट है कि बचत के माध्यम से आय और व्यय की असमानता को समाप्त करना संभव है।

बचत आय बढ़ाने के साधन हैं :-

बचतकर्ता अपनी बचत को डाकघर, बैंक आदि उपक्रमों में सुरक्षित रखते हैं, जिस पर उन्हें ब्याज या लाभांश मिलता है। यह लाभांश भी आय का एक रूप है जो किसी व्यक्ति को बचाए गए मूलधन पर प्राप्त होता है।

बचत उपक्रम में मूलधन सुरक्षित रहता है। बचत उद्यमों में, व्यक्तियों द्वारा की गई छोटी बचत के कारण बड़ी पूंजी का निर्माण होता है। बैंक यह पूंजी उद्योगपतियों को ऋण के रूप में प्रदान करता है, जिससे पूंजी का पुनर्निर्माण संभव हो जाता है।

किसी विशेष वस्तु को खरीदने के लिए की गई बचत :-

व्यक्ति या परिवार विलासिता और विलासिता की वस्तुएं खरीदने की इच्छा रखते हैं। जैसे कार, कूलर, एसी, कंप्यूटर, संचार के आधुनिक साधन जैसे मोबाइल, टैबलेट और आधुनिक टीवी। घरेलू श्रम और समय बचाने वाले उपकरण जैसे फ्रिज, वैक्यूम क्लीनर, माइक्रोवेव ओवन, वॉशिंग मशीन आदि।

इनका उपयोग करके परिवार अपनी सुविधानुसार कई कार्य पूरा कर सकते हैं और अपना मनोरंजन कर सकते हैं। आधुनिक उपकरणों का उपयोग परिवार के उच्च जीवन स्तर को दर्शाता है। इन्हें खरीदने के लिए भी बचत करनी पड़ती है।

दीर्घकालिक उद्देश्यों को पूरा करने के लिए बचत :-

प्रत्येक परिवार के कुछ दीर्घकालिक उद्देश्य और लक्ष्य होते हैं, जैसे बच्चों की उच्च शिक्षा, आवासीय भूमि खरीदकर आवास का निर्माण, बच्चों का विवाह आदि। ऐसे दीर्घकालिक लक्ष्य बड़े और स्थायी होते हैं। इन्हें पूरा करने के लिए अधिक धन की आवश्यकता होती है।

परिवार इस प्रकार के धन का प्रबंधन बचत के माध्यम से ही करते हैं। निम्न और मध्यम आय वाले परिवारों को इन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए लगातार छोटी बचत करनी पड़ती है। यदि समय पर पर्याप्त बचत की जाए, तो ही वे इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए वित्तीय रूप से आश्वस्त हो सकते हैं।

बचत निर्धारण करने वाले कारक :-

बचत की मात्रा तीन प्रमुख कारकों द्वारा निर्धारित होती है। ये कारक इस प्रकार हैं:-

बचत की इच्छा :-

किसी भी कार्य या लक्ष्य को पूरा करने के लिए उसके प्रति चाहत का होना जरूरी है। इसी प्रकार व्यक्ति तभी बचत करेगा जब उसमें बचत करने की इच्छा होगी। बचत करने की इच्छा कई कारणों से हो सकती है जैसे वित्तीय सुरक्षा, पारिवारिक प्रेम, संचयी प्रकृति, भविष्य की ज़रूरतें, सामाजिक प्रतिष्ठा प्राप्त करना आदि।

पारिवारिक प्रेम –

एक व्यक्ति अपने परिवार के सदस्यों के प्यार के कारण उनकी जरूरतों और इच्छाओं को पूरा करने के लिए बचत करता है।

आर्थिक सुरक्षा –

आर्थिक सुरक्षा की चाह सभी परिवारों में होती है। आर्थिक रूप से सुरक्षित परिवारों के लिए कई लक्ष्यों और जरूरतों को पूरा करना संभव है। वे आर्थिक रूप से तनावग्रस्त नहीं हैं। वित्तीय सुरक्षा प्राप्त करने से व्यक्ति में बचत करने की इच्छा जागृत होती है।

संचयी प्रकृति –

कई लोग अपने स्वभाव के कारण संचयी या कंजूस होते हैं, जिसके कारण वे पैसे बचाते हैं। ऐसे व्यक्ति कई बार अपनी जरूरतों को नजरअंदाज करके भी बचत करते हैं। संचयी स्वभाव के कारण इनमें बचत करने की इच्छा और प्रवृत्ति प्रबल होती है।

सामाजिक प्रतिष्ठा प्राप्त करने के लिए –

समाज में धनी वर्ग के लोगों को उच्च सामाजिक प्रतिष्ठा प्राप्त होती है। समाज में प्रतिष्ठा पाने की इच्छा से मनुष्य बचत भी करता है।

भविष्य की आवश्यकताएँ –

मनुष्य भविष्य में आने वाली जरूरतों को पूरा करने के लिए बचत करता है। कई आवश्यकताएँ भविष्य में अचानक उत्पन्न हो सकती हैं या कुछ आवश्यकताएँ मनुष्य द्वारा पहले से ही सोच ली जाती हैं। भविष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति से मनुष्य में बचत करने की इच्छा उत्पन्न होती है।

बचत करने की क्षमता :-

किसी व्यक्ति या परिवार द्वारा की गई बचत को सुनिश्चित करने के लिए यह जानना जरूरी है कि उनके पास कितनी बचत है। परिवार द्वारा अर्जित आय का सीधा प्रभाव बचत क्षमता पर पड़ता है।

यदि परिवार की आय बहुत कम है और वे अपनी बुनियादी जरूरतों को केवल अपनी आय से ही पूरा करने में सक्षम हैं, तो ऐसी स्थिति में परिवार के लिए किसी भी प्रकार की बचत करना संभव नहीं है। परिवार द्वारा अर्जित सारी आय केवल उनकी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए खर्च की जाती है और बचत के लिए कोई पैसा नहीं बचता है।

अन्य परिस्थितियों में, जैसे कि परिवार अपनी आय से अधिक खर्च करता है, बचत संभव नहीं है। अधिक आय अर्जित करने वाले अमीर लोगों के पास कुछ आवश्यक जरूरतों और सेवाओं का उपयोग करने के बाद भी बचत के रूप में बहुत सारा पैसा बच जाता है, जिसे वे बचत के रूप में रख सकते हैं।

गरीबों के लिए बचत करना कठिन होता है क्योंकि उनकी अधिकांश आय बुनियादी जरूरतों को पूरा करने पर ही खर्च हो जाती है। स्वाभाविक रूप से, अमीरों के पास एक गरीब व्यक्ति की तुलना में बचत करने की अधिक क्षमता होती है।

किसी राष्ट्र के नागरिकों की बचत करने की क्षमता उस राष्ट्र के आर्थिक वातावरण पर निर्भर करती है। यदि देश की अर्थव्यवस्था प्रगति कर रही है और प्रति व्यक्ति आय बढ़ रही है, तो उसके नागरिकों की बचत क्षमता बढ़ जाती है।

इसके अलावा, यदि देश में धन का वितरण अत्यधिक असमान है, तो केवल अमीर ही बचत कर पाएंगे और गरीबों के पास बचत करने की क्षमता सबसे कम होगी। विकसित देशों में उन्नत तकनीक के प्रयोग से देश की अर्थव्यवस्था प्राय: अच्छी स्थिति में रहती है। इससे वहां के नागरिकों की आय अधिक होती है और बचत करने की क्षमता भी अधिक होती है।

देश की कर प्रणाली का असर व्यक्ति की बचत क्षमता पर भी पड़ता है। यदि देश के लोगों को भारी कर चुकाना पड़ेगा, तो उनके पास बचत की मात्रा कम हो जाएगी और देशवासियों की बचत करने की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

यदि कोई देश अपने प्राकृतिक संसाधनों का समुचित दोहन एवं उपयोग विकास गतिविधियों के लिए करता है तो उसके नागरिकों के आर्थिक विकास में, उपलब्ध सुविधाओं में तथा प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि होती है, जिससे नागरिकों की बचत करने की क्षमता स्वतः ही बढ़ जाती है।

बचत के लिए उपलब्ध सुविधाएँ :-

देश के नागरिकों को बचत करने के लिए यह आवश्यक है कि देश में बचत करने की सुविधाएं उपलब्ध हों। अगर देश में बचत के लिए पर्याप्त सुविधाएं और योजनाएं उपलब्ध नहीं होंगी तो देश के नागरिक पर्याप्त बचत नहीं कर पाएंगे। वे बचत करने के लिए प्रेरित नहीं होंगे।

वे जो भी पैसा इकट्ठा करेंगे वह अनुत्पादक रह जाएगा। इसका असर देश की प्रगति और विकास पर भी पड़ेगा। देश के उद्योगों को ऋण के रूप में पर्याप्त पूंजी नहीं मिलेगी। देश के नागरिकों में बचत की प्रवृत्ति विकसित करने के लिए देश में निम्नलिखित सुविधाओं एवं परिस्थितियों का होना आवश्यक है।

मजबूत अर्थव्यवस्था –

देश के नागरिकों में बचत को प्रेरित करने के लिए जरूरी है कि देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जाए। राष्ट्रीय मुद्रा मूल्य में बहुत अधिक उतार-चढ़ाव नहीं होना चाहिए और स्थिर होना चाहिए, अन्यथा नागरिकों को राष्ट्रीय मुद्रा प्रणाली पर विश्वास नहीं रहेगा।

बचत के लिए जरूरी है कि अर्थव्यवस्था मजबूत हो, बाजार व्यवस्थित हो और कोई घोटाला न हो। ऐसी घटनाओं से विनियोगकर्ता में असुरक्षा की भावना पैदा होती है।

देश में सुरक्षित एवं शांतिपूर्ण वातावरण –

पैसे बचाने के लिए देश का वातावरण सुरक्षित और शांतिपूर्ण होना चाहिए। यदि देश में युद्ध, आतंकवाद, आपातकाल, प्राकृतिक आपदाएँ, लूट, चोरी, डकैती आदि आम बात हो और देश में अशांति और अस्थिरता का माहौल हो तो वहाँ के नागरिक अपने धन को लेकर असुरक्षित महसूस करेंगे। उन्हें वर्तमान में बचत की अपेक्षा धन का उपयोग अधिक उपयोगी लगेगा।

बचत के लिए उपलब्ध साधन –

देश के लोगों को बचत करने के लिए यह जरूरी है कि उनके पास बचत के लिए पर्याप्त सुरक्षित साधन और बचत योजनाएं जैसे बैंक, डाकघर, बीमा, विश्वसनीय औद्योगिक इकाइयों के शेयर आदि हों।

कई बार ग्रामीण इलाकों में बचत के साधन उपलब्ध नहीं होते हैं। ऐसे क्षेत्र, जिसके कारण ग्रामीण लोग घरेलू बचत नहीं कर पाते हैं और अपनी बचत पर लाभ पाने से वंचित रह जाते हैं। बचत के लिए निवेश के उचित साधन उपलब्ध होना बहुत जरूरी है।

महँगाई दर में कमी –

यदि देश में महँगाई बहुत अधिक हो तो देश के नागरिकों की आय का अधिकांश भाग उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने में ही खर्च हो जायेगा। उनके पास बचत करने लायक पैसा नहीं बचेगा।

देश में वस्तुओं और सेवाओं की कीमत अधिक होने के कारण देश के नागरिक चाहकर भी बचत नहीं कर पाएंगे। इसलिए बचत के लिए जरूरी है कि महंगाई दर बहुत ज्यादा न हो।

जनता पर अत्यधिक कर का बोझ नहीं डाला जाना चाहिए –

यदि देश के लोग अत्यधिक करों का भुगतान करेंगे तो उनकी बचत क्षमता प्रभावित होगी। अत्यधिक कर भुगतान के कारण व्यक्तियों के पास कम बचत रह जायेगी। भारत में जनता प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कई तरह के टैक्स चुकाती है। इन करों को वहन करने में जनता की आय का एक बड़ा हिस्सा खर्च हो जाता है और उनकी बचत क्षमता कम हो जाती है।

योग्य एवं सफल उद्यमी –

समुचित बचत एवं निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए यह आवश्यक है कि देश में योग्य एवं सफल उद्यमी पर्याप्त पूंजी सृजन करें। जनता उद्यमियों की विश्वसनीय कंपनियों के शेयरधारकों को विनियोग में रुचि लेगी और बचत को बढ़ावा मिलेगा। अक्सर कम विकसित देशों में उद्यमी बड़े जोखिम लेने से डरते हैं। इससे राष्ट्रीय पूंजी निर्माण और बचत प्रभावित होती है।

बचत उपक्रम का अच्छा लाभांश प्रदान करना –

यदि बचत से अच्छा लाभांश (ब्याज) मिलेगा तो व्यक्ति की रुचि बचत में होगी। वे लाभांश पाने के लिए अधिक रकम बचाएंगे। बचत पर ऊंची ब्याज दरें बचत को प्रोत्साहित करती हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में बचत हेतु विशेष प्रयास –

ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों में बचत को प्रोत्साहित करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में बैंक, डाकघर आदि की सुविधाएं प्रदान करना आवश्यक है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकों की नई शाखाएँ खोली जानी चाहिए। इससे ग्रामीणों में बचत को बढ़ावा मिलेगा।

संक्षिप्त विवरण :-

आय का वह भाग जो वर्तमान में खर्च नहीं किया जाता बल्कि भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उत्पादक रूप में रखा जाता है, बचत कहलाता है। परिवार के लिए बचत का विशेष महत्व है।

बचत परिवार को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है, अनावश्यक खर्चों पर अंकुश लगाने में मदद करती है, आय बढ़ाती है, आय और व्यय की असमानता को खत्म करती है और लक्ष्यों को पूरा करना संभव बनाती है। बचत तीन प्रमुख कारकों द्वारा निर्धारित होती है; बचत क्षमता, इच्छाशक्ति एवं उपलब्ध सुविधाएं।

FAQ

बचत किसे कहते हैं?

बचत का क्या महत्व है?

बचत को प्रभावित करने वाले घटकों को लिखिए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *