परिवार क्या है? परिवार का अर्थ एवं परिभाषा, परिवार के प्रकार

प्रस्तावना :-

समाज के सभी सामाजिक संस्थानों में परिवार एक महत्वपूर्ण और सर्वव्यापी सामाजिक संस्था है। समाज के सभी स्तरों में, चाहे वह निम्न स्तर का हो या उच्च स्तर का, परिवार संगठन अवश्य होता है। व्यक्तित्व का विकास सामाजिक संबंधों से होता है। ये रिश्ते परिवार में विकसित होते हैं। परिवार के अभाव में सभ्य मानव समाज की कल्पना करना कठिन है। परिवार मानव समाज की प्राथमिक इकाई है। जिसमें व्यक्ति की सभी जरूरतें पूरी होती हैं। इसीलिए परिवार सार्वभौमिक है और प्राचीन काल से अस्तित्व में है।

अनुक्रम :-
 [show]

परिवार का अर्थ :-

प्राणी संबंधों के आधार पर गठित समूहों में परिवार सबसे छोटी इकाई है। परिवार सामाजिक संगठन की मूलभूत इकाई है। हर इंसान किसी न किसी परिवार का सदस्य होता है। मनुष्य की सभी संस्थाओं में परिवार एक महत्वपूर्ण और सर्वव्यापी संस्था है। संस्कृति के प्रत्येक स्तर में, चाहे उन्हें उन्नत कहा जाए या निम्न, पारिवारिक संगठन का कोई न कोई रूप अनिवार्य रूप से पाया गया है।

परिवार को अंग्रेजी में ‘Family’ ‘ कहते हैं। ‘फैमिली’ शब्द की उत्पत्ति लैटिन शब्द  ‘famulus’ से हुई है। जिसका उपयोग माता-पिता, बच्चों, नौकरों और दासों के समूह के लिए किया जाता है। साधारण अर्थ में विवाहित जोड़े को परिवार का नाम दिया जाता है। लेकिन सामाजिक-उदारवादी दृष्टिकोण से परिवार का यह व्यापक अर्थ नहीं है।

परिवार एक स्थायी सामाजिक समूह है। जिसमें पुरुष और महिलाएं यौन संबंधों के जरिए बच्चे पैदा करते हैं। और उनका पालन-पोषण करें। परिवार परिवार के सदस्यों के लिए आवास, आर्थिक, सहायता, शिक्षा, समाजीकरण आदि की व्यवस्था करता है।

परिवार की परिभाषा :-

विद्वानों ने परिवार के विषय को अनेक प्रकार से परिभाषित किया है। जो निम्न है:

“परिवार उस समूह का नाम है। जिसमें स्त्री-पुरुष को यौन संबंध पर्याप्त निश्चित होता है और इनका साथी इतनी देर तक रहता है। जिससे सन्तान उत्पन्न हो जाये और उनका पालन पोषण भी किया जायें। “

मैकाइवर

“परिवार पर्याप्त निश्चित यौन संबंधों द्वारा स्थापित एक समूह है जो बच्चों के जन्म और पालन-पोषण की व्यवस्था करता है।”

मैकाइवर एवं पेज

“परिवार एक गृहस्थ समूह है जिसमें माता-पिता और बच्चे एक साथ रहते हैं। इसका मूल रूप में दम्पत्ति और उनके सन्तान रहती हैं।”

लूसी मेयर

“परिवार ऐसे व्यक्तियों का एक समूह है। जिनके पारस्परिक संबंध सगोत्रता पर आधारित होते हैं और जो इस प्रकार एक दूसरे के रक्त संबंधी होते हैं।”

किग्सले डेविस

“परिवार ऐसे व्यक्तियों का एक समूह है। जो विवाह, रक्त और गोद लेने के संबंधों से संगठित होता है, एक छोटी गृहस्थी को बनाते है। पति-पत्नी, माता-पिता, बेटा-बेटी, भाई-बहन के रूप में एक दूसरे से अन्त क्रिया करते हैं और एक सामान्य संस्कृति का निर्माण करते हैं।”

बर्गेस. ई. डब्ल्यू. तथा हार्नीलाक

“परिवार एक सामाजिक समूह है जिसके लक्षण सामान्य निवास, आर्थिक सहयोग और प्रजनन हैं। इनमें दो लिंगों के वयस्क शामिल हैं जिनमें कम से कम दो व्यक्तियों में स्वीकृत यौन सम्बन्ध होता हैं। और जो वयस्क व्यक्तियों में यौन संबंध होता है उनके अपने या गोद लिए गए एक या अधिक बच्चे हैं।”

मरडॉक

परिवार की विशेषताएं :-

परिवार के अर्थ के अनुसार परिवार की कई विशेषताएं हैं जो इस प्रकार हैं:

विवाह संबंध –

विवाह के कारण परिवार अस्तित्व में आता है। विवाह की संस्था के माध्यम से ही एक पुरुष या महिला को यौन संबंध बनाने की सामाजिक स्वीकृति मिलती है, जिसके परिणामस्वरूप बच्चे पैदा होते हैं। माता-पिता और बच्चों के मिलने से परिवार बनता है।

सार्वभौमिकता –

परिवार एक सार्वभौमिक संस्था है। आधुनिक हो या प्राचीन शहरी-ग्रामीण हर समाज, सभी में परिवार का अस्तित्व रहा है। परिवार को समाज के विकास के हर स्तर पर देखा गया है।

आर्थिक व्यवस्था –

परिवार के सदस्यों का समर्थन करने के लिए सभी परिवारों के पास किसी न किसी तरह की आर्थिक व्यवस्था होती है।

सामान्य निवास –

परिवार के सदस्यों के रहने की कोई न कोई व्यवस्था जरूर है। विवाह के बाद जब पति-पत्नी पति के वंशजों के साथ रहते हैं तो इसे पैतृक स्थानीय परिवार कहते हैं और जब विवाह के बाद पति-पत्नी पत्नी की पत्नियों के साथ रहते हैं तो इसे मातृ वंशीय परिवार कहते हैं।

वंशनाम की व्यवस्था –

सभी परिवारों में वंश के आधार पर बच्चों के नामकरण का कोई न कोई आधार रहा है। परिवार के बच्चे उसके नाम से जाने जाते हैं। पितृ वंशीय परिवारों में, यह नामकरण पिता के वंश पर आधारित होता है जबकि मातृ वंशीय परिवार में यह माता के वंश पर आधारित होता है।

भावनात्मक आधार –

परिवार के सदस्य भावनात्मक आधार पर परस्पर एक दूसरे से जुड़े होते हैं। परिवार में प्रेम, सहयोग, दया, सहिष्णुता, बलिदान, त्याग आदि की भावनाएँ होती हैं जो परिवार के संगठन को सुदृढ़ करती हैं।

सामाजिक नियंत्रण –

परिवार में सामाजिक मानदंड बने रहते हैं| ऐसे कई नियम, प्रथाएं और रीति-रिवाज हैं जो परिवार को बनाए रखने और नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

सदस्यों की जिम्मेदारी-

परिवार के प्रत्येक सदस्य की अपने परिवार के प्रति कुछ न कुछ जिम्मेदारी होती है। सदस्यों के इस उत्तरदायित्व के कारण ही परिवार का संगठन स्थायी रहता है।

सीमित आकार –

अन्य सामाजिक संस्थाओं के विपरीत, परिवार का आकार सीमित होता है। एक परिवार की विशेषताओं में से एक इसका सीमित आकार है।

सामाजिक संरचना में केंद्रीय स्थान –

सामाजिक संरचना में परिवार की केन्द्रीय स्थिति होती है। परिवार के रूप में इकाइयों के मिलने से समाज का निर्माण होता है।

इससे स्पष्ट है कि परिवार एक ऐसी संस्था है जो विवाह सम्बन्धों पर आधारित है। परिवार सभी समाजों में मौजूद है। सामाजिक नियंत्रण परिवार के माध्यम से बनाए रखा जाता है।

परिवार के कार्य :-

मानव समाज में परिवार के महत्व ने परिवार के कार्यों को कई भागों में विभाजित किया है। जो निम्नलिखित हैं

जैविकीय कार्य  –

यौन इच्छाओं की पूर्ति –

यौन संतुष्टि मानव जीवन की आवश्यकता है। परिवार में, व्यक्ति एक सफल वैवाहिक जीवन में और समाज द्वारा स्वीकृत तरीके से यौन इच्छाओं को पूरा करता है।

संतानोत्पत्ति और बच्चे का पालन-पोषण –

यौन इच्छाओं की पूर्ति के साथ-साथ बच्चे के जन्म की प्रक्रिया भी शुरू हो जाती है। समाज को गतिशील रखने के लिए संतानोत्पत्ति आवश्यक है। परिवार के अलावा संतानोत्पत्ति भी हो सकती है, लेकिन समाज न तो ऐसे बच्चों को स्वीकार करता है और न ही ऐसे संबंधों को। बच्चों को पालने, उनकी शिक्षा की व्यवस्था करने, उन्हें सुसंस्कृत बनाने आदि का कार्य परिवार द्वारा किया जाता है।

भोजन और आवास की व्यवस्था –

जीवन के अस्तित्व के लिए भोजन आवश्यक है। जिसके बिना व्यक्ति जीवित नहीं रह सकता है। परिवार सदस्यों के लिए खाने के साथ-साथ रहने की व्यवस्था भी करता है। व्यक्ति अपने निवास स्थान में सुख-शांति का अनुभव करता है।

सामाजिक कार्य –

बालक का सामाजिक विकास परिवार के माध्यम से होता है। परिवार में संस्कृति, प्रथाओं, आदतों, रीति-रिवाजों आदि का ज्ञान प्राप्त होता है। परिवार द्वारा व्यवहार, ज्ञान, संस्कृति का हस्तांतरण पीढ़ी-दर-पीढ़ी होता है। साथ ही परिवार द्वारा परिवार के सदस्यों को सामाजिक सुरक्षा भी प्रदान की जाती है।

आर्थिक कार्य –

पुरुष शुरू से ही काम करके घर की आमदनी बढ़ा रहे हैं। जिससे परिवार का पालन पोषण होता है। आधुनिक परिवारों में अब स्त्री और पुरुष दोनों ही कार्यरत हैं। जिससे घर की आय में वृद्धि होती है और घर में समृद्धि आती है। साथ ही घर की आमदनी और खर्चा भी परिवार ही चलाता है।

शैक्षिक कार्य –

परिवार बच्चों की प्रथम पाठशाला है। जहां बच्चों को नैतिक शिक्षा और सामाजिक शिक्षा मिलती है। जिससे उनके व्यक्तित्व का निर्माण होता है।

मनोवैज्ञानिक कामकाज –

परिवार के माध्यम से परिवार के सदस्यों को मानसिक सुरक्षा, संतोष, प्रेम, सहयोग, परस्पर प्रेम व स्नेह प्राप्त होता है। जिससे बच्चों में आत्मविश्वास पैदा होता है और व्यक्तित्व का पूर्ण विकास होता है। जिन परिवारों में बच्चों को प्यार और स्नेह नहीं मिलता, वे अपराधी बन जाते हैं और उनका व्यक्तित्व बिखर जाता है।

राजनीतिक कार्य –

परिवार के भीतर पारिवारिक झगड़ों को दूर करने के लिए परिवार के सदस्यों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों से अवगत कराने के लिए और उन्हें उनकी स्थिति से अवगत कराने के लिए और परिवार के प्रबंधन आदि के लिए परिवार के वरिष्ठ सदस्यों द्वारा दिया जाता है।

मनोरंजक कार्य –

परिवार द्वारा मनाए जाने वाले त्योहारों, त्योहारों, त्योहारों, धार्मिक अनुष्ठानों आदि से परिवार के सदस्यों का मनोरंजन होता है। कहानी, इंडोर गेम, पिकनिक आदि सुनाकर बच्चों का मनोरंजन किया जाता है। साथ ही शारीरिक और मानसिक विकास भी होता है।

परिवार के प्रकार :-

मानव समाज के विकास के साथ-साथ परिवार के अनेक रूप अस्तित्व में आए हैं। प्रत्येक स्थान की भौगोलिक, आर्थिक और सांस्कृतिक स्थितियों ने विभिन्न प्रकार की पारिवारिक व्यवस्थाओं को जन्म दिया है। परिवार को सदस्यों की संख्या, विवाह की प्रकृति, व्यक्ति की शक्ति, निवास स्थान, उपनाम आदि के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है, जो इस प्रकार हैं:

संस्था के आधार पर –

संस्था के आधार पर परिवार को तीन भागों में बांटा गया है-

केंद्रीय परिवार –

इस प्रकार के परिवार आधुनिक समाज की प्रमुख विशेषता हैं। केन्द्रीय परिवार परिवार का सबसे छोटा रूप है। एक परिवार जिसमें पति-पत्नी और उनके आश्रित बच्चे होते हैं। उन्हें केंद्रीय परिवार कहा जाता है। ऐसे परिवारों में अन्य रिश्तेदार शामिल नहीं होते हैं।

संयुक्त परिवार –

एक संयुक्त परिवार में तीन या अधिक पीढ़ियों के सदस्य एक साथ एक ही घर में रहते हैं, उनकी संपत्ति सामूहिक होती है, एक ही रसोई होती है, सामूहिक पूजा में भाग लेते हैं और किसी न किसी रिश्ते से जुड़े होते हैं।

विस्तृत परिवार –

इस प्रकार के परिवार में सभी रक्त संबंधी और कुछ अन्य रिश्तेदार शामिल होते हैं। ये एक पक्षीय या द्विपक्षीय दोनों हो सकते हैं।

अधिकार के आधार पर –

इस आधार पर परिवार को दो भागों में बांटा गया है-

पितृसत्तात्मक परिवार –

ऐसे परिवारों में शक्ति और अधिकार पिता और पुरुषों के पास होता है। वे परिवार को नियंत्रित करते हैं।

मातृसत्तात्मक परिवार –

ऐसे परिवारों में शक्ति और शक्ति माँ या महिला के पास होती है। साथ ही यह परिवार पर नियंत्रण बनाए रखने का काम करता है।

उत्तराधिकार के आधार पर –

इस आधार पर परिवार को दो भागों में बांटा गया है –

पितृ-मार्गी परिवार –

ऐसे परिवार में उत्तराधिकार के नियम पितृ पक्ष के आधार पर निश्चित किए जाते हैं।

मातृ-मार्गी परिवार –

इसमें उत्तराधिकार के नियम मातृ पक्ष के आधार पर निश्चित किए जाते हैं।

वंशनाम के आधार पर –

परिवार का वर्गीकरण भी वंशनाम के आधार पर होता है। इस आधार पर परिवार को चार भागों में बांटा गया है-

पितृवंशीय परिवार –

ऐसे परिवारों में वंश परिवार की परंपरा पिता के नाम से चलती है। पुत्रों को पिता का वंशनाम मिलता है।

मातृसत्तात्मक परिवार –

ऐसे परिवारों में वंश परम्परा माता के नाम से परिवार चलता है। बेटी को मां से सरनेम मिलता है।

उभयवाही परिवार –

कुछ परिवारों में, पारिवारिक पहचान वंशानुगत संबंधों पर नहीं बल्कि सभी करीबी रिश्तेदारों पर समान रूप से निर्भर होती है। ऐसे समाजों में, पैतृक और मातृका वंशावली परंपराएँ दोनों साथ-साथ चलती हैं।

ट्विनामी परिवार –

ऐसे परिवारों में व्यक्ति अपने दादा और नानी से एक ही समय में संबंधित होता है। अन्य दो रिश्तेदार (दादी और नाना) छोड़ दिये जाते हैं।

निवास के आधार पर –

इस आधार पर परिवार को 6 भागों में बाँटा जा सकता है –

पितृ-स्थानीय प स्थानीय परिवार –

यदि विवाह के पश्चात् पत्नी अपने पति तथा पति की माता पित्त के साथ रहती है तो ऐसे परिवार को पितृस्थानीय कहते हैं।

मातृ-स्थानीय परिवार –

जब विवाह के पश्चात् पति अपनी पत्नी के माता-पिता के निवास में रहने लगता है तो उसे मातृस्थानीय परिवार कहते हैं।

नव स्थानीय परिवार –

जब परिवार में पति-पत्नी विवाह के बाद न तो पति पक्ष के लोगों के साथ रहते हैं और न ही पत्नी पक्ष के लोगों के साथ, बल्कि अपना अलग घर बनाते हैं, तो इसे नव-स्थानीय परिवार कहा जाता है।

मातृ-पिता स्थानीय परिवार –

कई समाजों में, एक विवाहित जोड़ा पति या पत्नी में से किसी एक के साथ रहने के लिए बाध्य नहीं है, लेकिन दोनों में से किसी एक के साथ रह सकता है। ऐसे परिवार को मातृ-पिता स्थानीय परिवार कहते हैं।

मामा- स्थानीय परिवार –

इसमें नवविवाहित जोड़ा पति के मामा के परिवार में रहता है।

द्वि-स्थानीय परिवार –

कुछ जगहों पर ऐसे परिवार भी होते हैं जहां शादी के बाद पति-पत्नी अपने जन्म के परिवार में रहते हैं।

संक्षिप्त विवरण :-

परिवार उस समूह का नाम है जिसमें स्त्री-पुरुष के बीच यौन संबंध पर्याप्त रूप से तय हो जाते हैं और उनका साथी इतने समय तक रहता है जिसमें बच्चे पैदा होते हैं और उनका पालन-पोषण होता है। एक परिवार व्यक्तियों का एक समूह है जो विवाह रक्त और गोद लेने से संगठित होता है, एक छोटा सा गृहस्थी बनाता है। पति-पत्नी माता-पिता, बेटा-बेटी, भाई-बहन के रूप में एक-दूसरे से बातचीत करते हैं और एक सामान्य संस्कृति का निर्माण करते हैं।

अतः यह स्पष्ट है कि परिवार जैविक सम्बन्धों पर आधारित एक सामाजिक समूह है। जिसमें माता-पिता और बच्चे रहते हैं और जिसका उद्देश्य अपने सदस्यों को सामान्य निवास, वित्तीय सहायता, यौन संतुष्टि और प्रजनन, समाजीकरण और शिक्षा आदि की सुविधाएं प्रदान करना है।

FAQ

परिवार के प्रकार क्या है?

परिवार की विशेषताएं क्या है?

परिवार के कार्य क्या है?

परिवार क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *