समाज क्या है समाज की परिभाषा, अर्थ, विशेषताएं (society)

प्रस्तावना :-

समाज स्वयं एक संघ है, एक संगठन है, औपचारिक संबंधों का योग है। जिसमें आपसी संबंध निभाने वाले लोग मिलकर संगठित होते हैं। समाज के निर्माण में सामाजिक संबंध और व्यक्ति समान रूप से महत्वपूर्ण हैं।

समाज रीति-रिवाजों, प्रक्रियाओं, अधिकारों और पारस्परिक सहायता, कई समूहों के नियंत्रण और स्वतंत्रता और उनके मानव व्यवहार के उप-विभाजनों की एक प्रणाली है। समाज लोगों का एक समूह है जो अंतःक्रिया द्वारा एक दूसरे से जुड़े होते हैं।

समाज का अर्थ (samaj ka arth) :-

मनुष्य सामाजिक प्राणी हैं। समाज में रहना उसका स्वभाव है जहां वह अन्य व्यक्तियों के साथ संबंध स्थापित करता है, उनके साथ बातचीत करता है। दरअसल, व्यक्ति में समाज के अन्य सदस्यों के साथ संबंध स्थापित करने की स्वाभाविक प्रवृत्ति होती है, जिसे वह सामाजिक अंतःक्रिया के परिणामस्वरूप विकसित करता है।

मानव समाज दो शब्दों से मिलकर बना है। पहला मानव और दूसरा समाज इसका मतलब सामाजिकता है। मानव समाज के लिए सामाजिकता की भावना आवश्यक है और सामाजिकता के विकास के लिए संबंधों का होना आवश्यक हैं।

ये सामाजिक संबंध समाज के निर्माण के साथ-साथ मनुष्य के व्यवहार, गतिविधियों को भी संतुलित करते हैं। इसी कारण समाज को संबंधों का जाल भी कहा जाता है। इस प्रकार, हम कह सकते हैं कि “समाज” शब्द मानव जीवन में संबंधों, मानदंडों, मूल्यों, आदर्शों, संहिताओं, प्रथाओं, विश्वासों आदि का व्यापक जाल है।

समाजशास्त्रीय अर्थ में, “समाज” शब्द लोगों के समूह से संबंधित नहीं है, बल्कि लोगों के बीच उत्पन्न होने वाले अंतःक्रिया के नियमों की समग्र प्रकृति से संबंधित है। इस प्रकार, समाज लोगों का संगठन नहीं है और न ही ऐसी कोई वस्तु है जिसका कोई भौतिक रूप हो।

“समाज पूर्णतया अमूर्त है। यह किसी वस्तु की तुलनात्मक रूप से एक-कार्य प्रक्रिया है। समाज सर्वव्यापी है, अर्थात जहां जीवन है वहां संबंध हैं और जहां संबंध हैं वहां समाज पाया जाता है।”

विभिन्न विद्वानों द्वारा समाज के अंतर्गत निम्न आते है –

  • चेतना और अंतःक्रिया है।
  • अलग-अलग संगठन बनते हैं।
  • सामाजिक संबंध स्थापित होते हैं।
  • परंपराओं का पालन किया जाता है।
  • इसका असर व्यक्ति के जीवन पर पड़ता है।
  • इससे भौतिक और सामाजिक उन्नति होती है।

समाज की परिभाषा(samaj ki paribhasha) :-

समाज को अनेक समाजशास्त्रियों द्वारा किसी न किसी रूप में भिन्न-भिन्न प्रकार से परिभाषित किया गया है। इनमें से कुछ प्रमुख हैं:-

“समाज रीतियों, कार्यविधियों, अधिकारों और पारस्परिक सहायता, अनेक समूहों और उनके उप विभागों, मानव व्यवहार के नियंत्रणों और स्वतंत्रताओं की व्यवस्था है।”

मैकाइवर

“समाज स्वयं एक संघ है, एक संगठन है, औपचारिक संबंधों का योग है, जिसमें परस्पर संबंध रखने वाले लोग एक साथ संगठित होते हैं।”

गिडिंग्स

“समाज केवल व्यक्तियों का समूह नहीं है, यह समाज में रहने वाले व्यक्तियों के पारस्परिक संबंधों की एक व्यवस्था है।”

राइट

“समाज को उन मानवीय संबंधों की संपूर्ण जटिलता के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो साधन और साध्य के संबंध द्वारा क्रिया करने से उत्पन्न होता है, चाहे वह वास्तविक हो या केवल प्रतीकात्मक।”

पारसन्स

“समाज ऐसे व्यक्तियों का एक समूह है जो अनेक संबंधों और व्यवहार के विधियों द्वारा संगठित होता है और उन व्यक्तियों से भिन्न होता है जो ऐसे संबंधों से बंधे नहीं होते हैं।”

गिन्सबर्ग

“समाज कई आदतों, भावनाओं, जनरीतियों, लोकाचार, प्रविधियों और संस्कृति की एक सामाजिक विरासत है जो मनुष्य के सामूहिक व्यवहार को निर्धारित करती है।”

पार्क और बर्गेस

उपरोक्त सभी परिभाषाएँ निम्नलिखित तथ्यों को स्पष्ट करती हैं –

  • समाज सामाजिक संबंधों की एक प्रणाली है।
  • ये सामाजिक संबंध हमेशा बदलते रहते हैं। इसलिए समाज को एक जटिल एवं परिवर्तनशील व्यवस्था भी कहा जाता है।
  • समाज का निर्माण करने वाला कोई भी संबंध मनमाना और अनियमित नहीं होता, वह हमेशा सांस्कृतिक नियमों की सीमा के भीतर होता है।
  • किसी समाज के निर्माण में व्यक्ति का स्थान अत्यंत महत्वपूर्ण होता है, परंतु व्यक्तियों के समूह को समाज के रूप में परिभाषित नहीं किया जा सकता।

समाज के तत्व :-

जब व्यक्ति व्यवस्थित रूप से संबंध स्थापित करते हैं, तो वे समाज का निर्माण करते हैं। किंग्सले डेविस ने अपनी पुस्तक Human Society में सभी समाजों के लिए निम्नलिखित आवश्यक तत्व का वर्णन किया है:-

जनसंख्या की निरन्तरता बनाये रखना –

सभी जीव अपनी विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए एक साथ रहते हैं। जीवों के समूह में रहने का अर्थ है उसकी जनसंख्या को बनाए रखना। जनसंख्या की निरंतरता उसके विशिष्ट समाज के अस्तित्व के लिए आवश्यक है। समाज को अपनी निरंतरता बनाए रखनी होगी।

जनसंख्या में श्रम का विभाजन –

श्रम का विशेषज्ञता अथवा विभाजन सभी प्रकार के समाजों में पाया जाता है। श्रम विभाजन के कारण ही समाज के सदस्यों की स्थिति निर्धारित होती है। दूसरे शब्दों में, सदस्यों का कार्य विभिन्न पदों के अनुसार निर्धारित होता है। आधुनिक युग की बढ़ती हुई आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कार्य दृढ़ संकल्प समाज का एक आवश्यक गुण है।

सामूहिक एकता –

किसी समूह की एकता उसके सदस्यों के सहयोग पर आधारित होती है। जिस समाज के सदस्यों के बीच संबंध सहयोग पर आधारित होंगे, वह समाज उतना ही मजबूत होगा। यही कारण है कि सदस्य सहयोगात्मक अंतःक्रिया के लिए प्रेरित होते हैं। इस सहयोगात्मक अंतःक्रिया के कारण एक समूह का दूसरे समूह से भेदभाव भी पाया जाता है।

सामाजिक व्यवस्था में स्थिरता –

प्रत्येक समाज की अपनी व्यवस्था होती है। किसी सामाजिक संस्था को देखकर उस समाज के बारे में अनुमान लगाया जा सकता है। प्रत्येक समाज की सामाजिक व्यवस्था निरन्तर एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी की ओर गतिशील रहती है।

समाज निर्माण की आवश्यक परिस्थिति/ दशायें :-

 के. डेविस ने समाज निर्माण के लिए चार प्रकार की परिस्थितियों या शर्तों का वर्णन किया है:-

समाज की रक्षा –

समाज की सुरक्षा से तात्पर्य उन परिस्थितियों से है जो समाज के सदस्यों को जीवित रखने में मदद करती हैं। इसके लिए पालन-पोषण की एक निश्चित व्यवस्था का होना आवश्यक है। साथ ही ऐसी परिस्थितियाँ भी बननी चाहिए जिससे समाज को प्राकृतिक आपदाओं और संकटों से सुरक्षा मिल सके।

इसके अलावा, ऐसी स्थितियाँ होनी चाहिए जिनमें विषमलैंगिक संबंध स्थापित हो सकें और नए जीवों का जन्म हो सके और नई पीढ़ियों का विकास होता रहे।

समाज में कार्य का विभाजन –

समाज में कार्य विभाजन के अंतर्गत ऐसी स्थितियाँ होनी चाहिए जिसमें समाज के सभी सदस्य श्रम विभाजन के माध्यम से विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति करते रहें। यह विशेषज्ञता की प्रक्रिया से संभव है। यह विशेषज्ञता ही सामाजिक व्यवस्था का आधार है। विभिन्न समाजों में विशेषज्ञता की मात्रा भिन्न-भिन्न होती है। इसीलिए विभिन्न समाज एक-दूसरे की तुलना में कमोबेश संगठित होते हैं। 

समूह एकता –

समाज निर्माण की दृष्टि से समूह की एकता आवश्यक है, इसके लिए समूह के सदस्यों के बीच संबंध स्थापित करने के लिए प्रेरक तत्वों का होना आवश्यक है। सदस्यों के बीच सहयोग, सहानुभूति, अपनेपन की भावना होनी चाहिए। समूह के सदस्यों में “हम की भावना” होनी चाहिए।

सामाजिक व्यवस्था में स्थिरता –

समाज को संगठित रखने के लिए ऐसी स्थितियाँ होनी चाहिए जिससे समाज में स्थिरता एवं निरंतरता बनी रहे। इसके लिए समाज को व्यवस्थाओं एवं नियमों की आवश्यकता है तथा इसके संचालन के लिए कुशल नेतृत्व भी होना चाहिए।

समाज की विशेषताएं (samaj ki visheshta) :-

पारस्परिक जागरूकता :-

सामाजिक संबंधों का ताना-बाना समाज निर्माण में सहायक होता है। सामाजिक संबंध तभी बनते हैं जब लोग एक-दूसरे को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जानते हैं। व्यक्ति और प्रकृति, सूर्य और पृथ्वी, मनुष्य और पुस्तक आदि के बीच पाए जाने वाले संबंध भौतिक हैं, जिनमें परस्पर जागरूकता नहीं पाई जाती है।

जब जागरूकता नहीं होगी तो वे एक-दूसरे से प्रभावित नहीं होंगे और उनमें कोई अंतर नहीं होगा। अतः यह कहा जा सकता है कि सामाजिक संबंधों के निर्माण के लिए आपसी जागरूकता अत्यंत आवश्यक है।

समानता एवं असमानता :-

किसी भी समाज के निर्माण के लिए समानता एवं असमानता आवश्यक है।

समानता –

मैकाइवर एवं पेज ने समानता को समाज का आधार माना है। समाज की दृष्टि से शारीरिक रूप, उम्र या रंग की समानता के साथ-साथ व्यक्तियों के विचारों, मूल्यों और उद्देश्यों की समानता महत्वपूर्ण है।

लोगों के बीच संबंध बनाने के लिए उनके बीच कुछ समानता होना जरूरी है। उदाहरण के लिए, किसी परिवार के सभी सदस्यों के बीच विचारों या उद्देश्यों की समानता ही परिवार का मुख्य आधार है, इसके बिना परिवार का विघटन हो सकता है।

असमानता –

समाज में समानताएँ और भिन्नताएँ दोनों हैं। यह अंतर कई रूपों में प्रकट होता है जैसे व्यक्ति के बीच क्षमताओं, कार्यक्षमता, विचारों, इच्छाओं, आकांक्षाओं, शारीरिक संरचना और लिंग भेद (पुरुष और महिला) की उपस्थिति।

इस असमानता के कारण समाज में श्रम विभाजन और विशेषज्ञता उत्पन्न होती है जो समाज की प्रगति में योगदान देती है। विभिन्न स्वभावों, क्षमताओं, क्षमताओं और विचारों वाले लोगों के बीच निरंतर क्रिया और प्रतिक्रिया से ही समाज का अस्तित्व होता है।

समाज में सहयोग एवं संघर्ष :-

सहयोग एवं संघर्ष प्रत्येक समाज में सतत प्रक्रियाओं के रूप में पाए जाते हैं।

सहयोग –

प्रत्येक व्यक्ति का सामाजिक जीवन सहयोग पर आधारित है।

संघर्ष –

यह समाज के लिए सहयोग जितना ही महत्वपूर्ण है। शारीरिक और व्यक्तिगत मतभेदों, सांस्कृतिक मतभेदों, स्वार्थ के संघर्षों और तेजी से हो रहे सामाजिक परिवर्तनों के कारण कई लोगों के बीच “संघर्ष” उत्पन्न होता है। कार्ल-मार्क्स वर्ग संघर्ष को सामाजिक परिवर्तन का मूल कारण मानते थे।

परस्पर निर्भरता :-

व्यक्ति को अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अन्य व्यक्तियों या समूहों की आवश्यकता होती है। इसके लिए व्यक्ति को अपनी आर्थिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए दूसरों के साथ सामाजिक संबंध विकसित करने पड़ते हैं और जिसके लिए वह एक तरह से उन पर निर्भर भी होता है।

समाज अमूर्त है :-

समाज केवल व्यक्तियों का समूह नहीं बल्कि उनके बीच सामाजिक संबंधों का जाल है। सामाजिक रिश्तों को न तो आँखों से देखा जा सकता है, न ही छुआ जा सकता है। वे निराकार हैं, अमूर्त हैं, उन्हें केवल अनुभव किया जा सकता है।

विभिन्न अवसरों और परिस्थितियों में कैसा व्यवहार करना चाहिए यह एक परिवार, गाँव या कस्बे में रहने के अनुभव से ही समझ में आता है। सामाजिक संबंधों को मूर्त रूप में देखने के बजाय सामाजिक सदस्यों के बीच होने वाली व्यवहारिक और स्नेहपूर्ण एकता से समझा जा सकता है।

समाज सतत परिवर्तनशील है :-

समाज में व्यक्तियों के बीच पाए जाने वाले सामाजिक संबंध स्थिर नहीं होते, वे कई कारणों से बदलते रहते हैं। परिवर्तन समाज की एक महत्वपूर्ण विशेषता है जो बाहरी परिस्थितियों के बदलने पर और भी तेजी से घटित होता है। समय के साथ जनसंख्या बढ़ती है, जिसके कारण लोगों की आवश्यकताएँ, इच्छाएँ भी बढ़ती हैं।

समाज
SOCIETY

संक्षिप्त विवरण :-

सामाजिक संबंधों की अंतःक्रिया को समाज कहा जाता है। समाज अमूर्त परिवर्तनशील सामाजिक संबंधों का जाल है। समाज में सदस्यों के विचार, मूल्य और धारणाएँ बदलती रहती हैं, जिसके परिणामस्वरूप उनके सामाजिक संबंध भी बदलते हैं।

FAQ

समाज किसे कहते है ?

समाज निर्माण की आवश्यक परिस्थिति क्या होती है ?

समाज के आधारभूत तत्व आवश्यक तत्व क्या होते है ?

समाज की विशेषताएं क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *