स्वास्थ्य क्या है स्वास्थ्य का अर्थ एवं परिभाषा (swasthya)

प्रस्तावना :-

अच्छा स्वास्थ्य जन्मसिद्ध अधिकार है, अर्थात प्रत्येक व्यक्ति को सुखी जीवन जीने का अवसर पाने का अधिकार है। स्वास्थ्य मानव जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है। जिसके बिना कोई भी व्यक्ति अपने क्षेत्र में उपलब्धि हासिल नहीं कर सकता। क्योंकि रोगी व्यक्ति को अन्य क्षेत्रों में कोई सफलता या अवसर नहीं मिल पाता।

इस स्थिति को कम करने के लिए अर्थात् मनुष्य के समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए रोगों के विभिन्न कारणों, उनसे बचने के उपाय, रोगमुक्ति के तरीकों के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। इस तरह चिकित्सा शास्त्र का जन्म हुआ।

चिकित्सा विज्ञान की मदद से आज हर व्यक्ति और समाज के पास स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताओं के अनुरूप उपकरण, सेवाएँ और जानकारी उपलब्ध है। मानव कल्याण की खुशी और संतुष्टि प्राप्त करने के लिए, चिकित्सा विज्ञान और स्वास्थ्य विज्ञान का उपयोग न केवल बीमारियों से निपटने वाले विभागों के लिए बल्कि निवारक, प्रचार और पुनर्वास सेवाओं के निर्माण के लिए भी किया जा रहा है।

स्वास्थ्य की अवधारणा :-

सबसे पहले, यह कहावत कि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क रहता है यह कहावत काफी लोकप्रिय और पुराना है। स्वास्थ्य सभी के लिए आवश्यक और उपयोगी है, स्वास्थ्य का मतलब केवल शारीरिक स्वास्थ्य ही नहीं बल्कि मानसिक, सामाजिक, आध्यात्मिक और संवेगात्मक स्वास्थ्य भी है।

मनोवैज्ञानिक दृष्टि से तभी व्यक्ति स्वस्थ्य रह सकता है। जब उसके पास एक शांत छवि, चिंता मुक्त प्रसन्नचित्त और एक संयमी चरित्र होता है, तो उसके पास सहनशीलता का गुण होता है।

सभी समुदायों के सदस्यों ने स्वास्थ्य की अलग-अलग रिपोर्ट दी है। इसके अंतर्गत विभिन्न व्यावसायिक समूह (बायोमेडिकल, वैज्ञानिक, सामाजिक विज्ञान विशेषज्ञ, स्वास्थ्य प्रबंधक आदि) स्वास्थ्य के प्रत्यय के बारे में अपने-अपने विचार देते हैं। बदलती दुनिया में स्वास्थ्य के प्रत्यय पर भी विचार किया जा रहा है। स्वास्थ्य के चर प्रत्यय का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है:-

जैव चिकित्सकीय प्रत्यय –

परंपरागत रूप से, स्वास्थ्य को बीमारी की अनुपस्थिति के रूप में माना जाता है। जो व्यक्ति बीमारी से मुक्त है उसे स्वस्थ कहा जाता है। स्वास्थ्य का यह प्रत्यय रोगाणु सिद्धांत रोग (Germ theory disease) पर आधारित है। जिसने 20 वीं शताब्दी के चिकित्सा विचार को प्रभावित किया।

चिकित्सा दृष्टिकोण के अनुसार , मानव शरीर एक मशीन की तरह है और रोग उस मशीन में खराबी का कारण बनता है। इस प्रकार एक संकीर्ण अर्थ में स्वास्थ्य चिकित्सा विज्ञान का अंतिम लक्ष्य बन गया। लेकिन समय के साथ, इस स्वास्थ्य प्रत्यय की आलोचना की गई और कहा गया कि बायोमेडिकल प्रत्ययों ने स्वास्थ्य के अन्य निर्धारक जैसे पर्यावरण, सामाजिक, मनोवैज्ञानिक और सांस्कृतिक कारक भूमिका को नजर अंदाज कर दिया है।

पारिस्थितिक प्रत्यय –

जैव चिकित्सकीय अवधारणाओं की कमी ने एक नए प्रत्यय को जन्म दिया। पारिस्थितिक विद्वानों ने स्वास्थ्य के संबंध में एक आकर्षक परिकल्पना प्रस्तुत की, जिसे उन्होंने मनुष्य और उसके पर्यावरण के बीच गतिशीलता संतुलन के रूप में वर्णित किया, और बीमारी पर्यावरण के साथ व्यक्ति का कुसमायोजन है। इस प्रकार यह प्रत्यय दो बातों का बोध कराता है।

  • दोषमुक्त व्यक्ति।
  • दोषमुक्त पर्यावरण।

मनोसामाजिक प्रत्यय –

सामाजिक विद्वानों के बीच समकालीन विकल्पों से पता चला है कि स्वास्थ्य केवल एक जैव-चिकित्सा घटना नहीं है बल्कि यह सामाजिक, मनोवैज्ञानिक, सांस्कृतिक, आर्थिक और राजनीतिक कारकों से भी प्रभावित होता है। स्वास्थ्य पर विचार करने और मापने के लिए ये कारक महत्वपूर्ण हैं। इस प्रकार, स्वास्थ्य जैविक और सामाजिक दोनों अवधारणा है।

सम्पूर्णात्मक प्रत्यय –

स्वास्थ्य का यह प्रत्यय सभी उपयुक्त प्रत्ययों का योग है। इसके अनुसार सामाजिक आर्थिक, राजनीतिक और पर्यावरणीय कारकों का स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। स्वास्थ्य के प्रति यह दृष्टिकोण यह स्पष्ट करता है कि समाज के सभी क्षेत्रों जैसे कृषि, भोजन, उद्योग, शिक्षा, सार्वजनिक कार्य पद्धतियाँ आदि का स्वास्थ्य पर अपना प्रभाव पड़ता है।

स्वास्थ्य का अर्थ (swasth ka arth) :-

स्वास्थ्य का अर्थ केवल शारीरिक स्वास्थ्य ही नहीं बल्कि मानसिक, आध्यात्मिक, सामाजिक, भावनात्मक स्वास्थ्य भी है। मनोवैज्ञानिक दृष्टि से कोई भी व्यक्ति तभी स्वस्थ हो सकता है जब उसका मन शांत हो, चिंतामुक्त हो, प्रसन्नचित्त और धैर्यवान हो तथा सहनशीलता का गुण हो।

स्वास्थ्य का नया दर्शन :-

पिछले कुछ वर्षों में स्वास्थ्य के प्रति नए दृष्टिकोण पेश किए गए हैं, जो इस प्रकार हैं:-

  • स्वास्थ्य विकास का संपूर्ण अंग है।
  • स्वास्थ्य मनुष्य का जन्मसिद्ध अधिकार है।
  • स्वास्थ्य एक सार्वभौमिक सामाजिक लक्ष्य है।
  • स्वास्थ्य व्यक्ति के जीवन के प्रत्ययों और गुणों का केंद्र है।
  • स्वास्थ्य व्यक्ति की स्थिति और अंतर्राष्ट्रीय उत्तरदायित्व की स्थिति को जोड़ता है।

स्वास्थ्य की परिभाषा (swasthya ki paribhasha) :-

स्वास्थ्य एक प्रत्यय है जिसे परिभाषित करने में विद्वानों को कठिनाई महसूस हुई। परिभाषित करते समय विभिन्न विद्वानों ने अपने-अपने मत दिये हैं जो इस प्रकार हैं:-

“स्वास्थ्य शरीर, मन या आत्मा की स्वस्थता की अवस्था है जिसमें किसी भी शारीरिक बीमारी या पीड़ा न हो।”

वेबस्टर

“उत्तम स्वास्थ्य वह अवस्था है जब शरीर और मस्तिष्क दोनों स्वस्थ हों और उनके कार्य सुचारु रूप से संपादित हो रहे हों।”

ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी

स्वास्थ्य वह अवस्था है जिसमें सम्पूर्ण शारीरिक, मानसिक और सामाजिक कुशलता पाया जाता है, केवल रोगों का अभाव ही स्वास्थ्य नहीं है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन

उपरोक्त परिभाषाओं से यह स्पष्ट है कि संपूर्ण, दोषरहित एवं विशिष्ट स्वास्थ्य के स्तर को प्राप्त करना कठिन है, फिर भी प्रत्येक व्यक्ति, परिवार, समाज या समूह का लक्ष्य स्वास्थ्य के उस स्तर को प्राप्त करना होना चाहिए। स्वास्थ्य मनुष्य का जन्मसिद्ध अधिकार है लेकिन इसे तभी प्राप्त किया जा सकता है जब वह प्रकृति के नियमों का पालन करने में सक्षम हो।

अच्छे स्वास्थ्य के लिए यह आवश्यक है कि एक-दूसरे के आस-पास का वातावरण स्वस्थ हो, व्यक्ति को संतुलित आहार और पर्याप्त शारीरिक गतिविधि मिले तथा उसकी शारीरिक आवश्यकताओं के अनुसार आराम उपलब्ध हो। स्वास्थ्य मनुष्य की सामान्य एवं सामान्य स्थिति है तथा उसका जन्मसिद्ध अधिकार भी है।

स्वास्थ्य की प्रकृति :-

  • साहसिक
  • रोग मुक्त रहना
  • स्वास्थ्य मानसिक दृष्टिकोण
  • सबके कल्याण की भावना
  • अनावश्यक चिंता मुक्त
  • ऊर्जा और खुशी से भरपूर
  • उत्साहपूर्वक कार्य करने की क्षमता
  • खुद पे भरोसा (आत्मविश्वास)

स्वास्थ्य के प्रकार :-

शारीरिक स्वास्थ्य –

शारीरिक स्वास्थ्य समग्र स्वास्थ्य का एक प्रमुख घटक है। शारीरिक स्वास्थ्य के लक्षण इस प्रकार हैं – त्वचा चमकीले धब्बों से रहित, क्रांतिकारी रूप से लचीली, झुर्रियाँ रहित, दृढ़ लेकिन स्थूल नहीं, आंखें दोष रहित और बाल रूखे न होकर चमकदार, सांस मीठी, दुर्गंधयुक्त नहीं, भूख, खुलकर लगती, नींद गहरी आती हो, शारीरिक क्रियाएं एवं बाह्य गतिविधियां सरल, सुव्यवस्थित एवं सामान्य हों, शरीर के सभी बाह्य एवं आंतरिक अंग सामान्य रूप से कार्य करें।

सभी ज्ञानेन्द्रियाँ सक्रिय एवं सतर्क भी होनी चाहिए। व्यक्ति की उम्र और लिंग के अनुसार रक्तचाप और परिश्रम सहनशीलता सामान्य रहनी चाहिए।

मानसिक स्वास्थ्य –

यद्यपि यह सर्वमान्य नहीं है कि स्वास्थ्य को शारीरिक एवं मानसिक घटकों में विभाजित किया जाना चाहिए, फिर भी इन्हें स्पष्ट रूप से समझने के लिए इन्हें अलग-अलग भागों के रूप में जानना आवश्यक है। शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का आपस में इतना गहरा संबंध है कि एक के बिना दूसरा अधूरा है। कोई व्यक्ति मानसिक रूप से स्वस्थ है या नहीं यह हम निम्नलिखित लक्षणों से जान सकते हैं।

मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति कभी भी अपनी आलोचना नहीं करता और न ही सहानुभूति पाने का प्रयास करता है। वह स्वयं से पूर्णतः संतुष्ट रहता है, सदैव प्रसन्न, शान्त एवं आनंदित रहता है। ऐसा व्यक्ति स्वयं से संघर्ष नहीं करता। दूसरों की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाता और विनम्रता से व्यवहार करता है। मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति का आत्म-नियंत्रण अच्छा होता है।

सामाजिक स्वास्थ्य –

सामान्यतः सामाजिक स्वास्थ्य का तात्पर्य यह है कि व्यक्ति में समाज में रहते हुए भी दीर्घकालीन मित्रता निभाने की क्षमता हो, अपनी योग्यता के अनुसार उत्तरदायित्व स्वीकार करने की रुचि हो, वह दैनिक कार्यों में सफलता-असफलता का विचार किये बिना सन्तोष, आनन्द एवं प्रसन्नता का अनुभव करता हो।  वह दूसरों के साथ सफलतापूर्वक समायोजन करके रहता है और साथ ही उसमें सामाजिक रूप से विनम्र व्यवहार करने की स्वाभाविक क्षमता भी होनी चाहिए।

आध्यात्मिक स्वास्थ्य –

अभी तक आध्यात्मिक स्वास्थ्य को पूर्ण स्वास्थ्य से नहीं जोड़ा गया है, लेकिन वर्तमान समय में आध्यात्मिक स्वास्थ्य की बहुत आवश्यकता है। आध्यात्मिक स्वास्थ्य चौथा पहलू है यानी सुबह और साथ में ईश्वर का ध्यान और पूजा। कई रोगों का इलाज धार्मिक अनुष्ठान वेद, मंत्र जाप, योग, व्यायाम आदि से किया जा सकता है, इसलिए मनुष्य के पूर्ण स्वास्थ्य के लिए आध्यात्मिक स्वास्थ्य आवश्यक है।

स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारक :-

  • जनसंख्या
  • जीवन स्तर
  • सामाजिक पर्यावरण
  • पेयजल एवं आवास
  • काम करने की स्थिति
  • निर्धनता और असंतुलित आहार
  • चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं
  • चिकित्सा विज्ञान की स्थिति
  • शिक्षा एवं स्वास्थ्य विनियम

स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारक अन्य कारण इस प्रकार हैं:-

  • गंदी बस्ती
  • जन्म दर
  • विवाह की आयु
  • प्रति व्यक्ति आय
  • बीमारियों का प्रकोप
  • अज्ञान और अंधविश्वास
  • व्यक्तियों की आदतें
  • धार्मिक एवं सांस्कृतिक मान्यताएँ
  • शुद्ध एवं पर्याप्त खाद्य पदार्थों की उपलब्धता

संक्षिप्त विवरण :-

मानव जीवन में स्वास्थ्य का महत्वपूर्ण स्थान है। यह भी कहा जाता है कि “स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन निवास करता है।” अत: मनुष्य अनादि काल से ही अपने जीवन में स्वास्थ्य, सुख और दीर्घायु की कामना करता रहा है। एकमात्र समस्या और समस्या जो इस लक्ष्य की प्राप्ति में बाधक है वह है बीमारी।

परिणामस्वरूप यह महसूस किया गया कि अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए रोगों के विभिन्न कारणों, उनसे बचने के उपायों, रोगमुक्ति के तरीकों के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त की जानी चाहिए। इस प्रकार स्वास्थ्य विज्ञान का जन्म हुआ।

FAQ

स्वास्थ्य से आप क्या समझते हैं?

स्वास्थ्य कितने प्रकार का होता है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *