मानसिक स्वास्थ्य क्या है अर्थ एवं परिभाषा mental health

प्रस्तावना :-

कहा जाता है कि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। व्यक्ति के शरीर में मानसिक स्वास्थ्य का महत्वपूर्ण स्थान होता है, क्योंकि व्यक्ति जो भी कार्य करता है वह अपने मस्तिष्क के संकेत पर या मन के अनुसार करता है। जिन लोगों का मस्तिष्क स्वस्थ नहीं होता, वे जीवन की विभिन्न परिस्थितियों का सफलतापूर्वक सामना नहीं कर पाते, वे सदैव एक प्रकार की मानसिक परेशानी या भ्रम में रहते हैं।

इसका कारण मानसिक दुर्बलता या किसी प्रकार का विकार है। इन्हें जीवन में हर कदम पर कठिनाइयों, निराशाओं का सामना करना पड़ता है। मानसिक उलझन के कारण वे समाज में स्वयं को समायोजित नहीं कर पाते हैं। दुनिया में केवल वही लोग खुद को शारीरिक और सामाजिक परिस्थितियों में समायोजित कर पाते हैं जिनका मानसिक स्वास्थ्य (mental health) अच्छा होता है।

मानव जीवन में शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना आवश्यक है। व्यक्तित्व का विकास तभी संभव है जब बच्चे का शरीर और मन पूर्णतया स्वस्थ हो, क्योंकि शरीर और मन का आपस में गहरा संबंध है।

मानसिक स्वास्थ्य का अर्थ :-

मानसिक स्वास्थ्य का मतलब मानसिक बीमारियों का अनुपस्थिति नहीं है। इसके विपरीत यह व्यक्ति के दैनिक जीवन का एक सक्रिय एवं निश्चित गुण है। यह गुण उस व्यक्ति के व्यवहार में व्यक्त होता है जिसका शरीर और मस्तिष्क एक साथ एक ही दिशा में काम करते हैं। उसके विचार, भावनाएँ और कार्य सामूहिक रूप से एक ही उद्देश्य की प्राप्ति के लिए कार्य करते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य ऐसी कार्य आदतों और लोगों और चीज़ों के प्रति ऐसे दृष्टिकोण को व्यक्त करता है। जिससे व्यक्ति को अधिकतम संतुष्टि और आनंद मिलता है। और लोगों तथा वस्तुओं के प्रति ऐसे दृष्टिकोण को व्यक्त करता है। जिसमें व्यक्ति को अधिकतम संतुष्टि और आनंद मिलता है।

व्यक्ति को यह संतुष्टि और खुशी उस समूह या समाज से प्राप्त करनी होती है जिसका वह सदस्य है, बिना किसी विरोध के। इस प्रकार, मानसिक स्वास्थ्य समायोजन की यह प्रक्रिया है। जिसमें समझौता और सामंजस्य, विकास और निरंतरता शामिल है।

मानसिक स्वास्थ्य की परिभाषा (mansik swasthya ki paribhasha) :-

मानसिक स्वास्थ्य को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“मानसिक स्वास्थ्य अधिकतम खुशी और प्रभावशीलता के साथ वातावरण तथा उसके प्रत्येक दूसरे व्यक्तियों के साथ मानव का समायोजन है। यह एक संतुलित मनोदशा, सतर्क बुद्धि, सामाजिक रूप से मान्य व्यवहार और खुशमिजाज बनाये रखने की क्षमता है।”

कार्ल मेंनिगर

“मानसिक स्वास्थ्य संपूर्ण व्यक्तित्व का पूर्ण सामंजस्य के साथ कार्य करना है।”

हेडफील्ड

“मानसिक स्वास्थ्य एक ऐसी सीखे गए व्यवहार के वर्णन के अलावा कुछ नहीं है जो सामाजिक रूप से समायोजी होता है और जो व्यक्ति को जीवन के लिए पर्याप्त रूप से अनुकूलन करने में मदद करता है।”

स्ट्रेज

“मानसिक स्वास्थ्य का अर्थ है दैनिक जीवन में भावनाओं, इच्छाओं, महत्वाकांक्षाओं, आदर्शों को संतुलित करने की योग्यता। इसका अर्थ है जीवन की वास्तविकताओं का सामना करने और स्वीकार करने की योग्यता।”

कुप्पूस्वामी

“मानसिक स्वास्थ्य का अर्थ है वास्तविकता के धरातल पर वातावरण के साथ पर्याप्त सामंजस्य करने की योग्यता।”

लैडेल

मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारक :-

बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक इस प्रकार हैं:-

शारीरिक स्वास्थ्य –

मनोवैज्ञानिक अध्ययनों से यह स्पष्ट हो गया है कि शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक स्वास्थ्य के बीच बहुत गहरा संबंध है। जिस बच्चे का शरीर स्वस्थ और सेहतमंद होता है। बहुत खुश रहता है और साथ ही उसमें चिंता, संघर्ष और विरोधाभास जैसे कोई तत्व नहीं होते हैं।

माता-पिता मानसिक रोग से पीड़ित होना –

यदि बच्चा ऐसा है जिसके माता-पिता दुर्भाग्य से स्वयं मानसिक रोग से पीड़ित हैं तो उनका स्वास्थ्य अच्छा नहीं रहता है और मानसिक रोग से पीड़ित होने की संभावना भी बढ़ जाती है। इसके दो कारण हैं, पहला कारण आनुवंशिकता और दूसरा कारण यह कि ऐसे माता-पिता बच्चों के सामने उन्हें एक दोषपूर्ण मॉडल के रूप में पेश करने वाला पेशा मानते हैं।

घरेलू माहौल –

हेडफ़ील्ड के अनुसार, जब बच्चे का घरेलू वातावरण ऐसा हो कि उसे विशेष स्नेह, दुलार आदि मिले और उसकी अधिकांश आवश्यकताएँ पूरी हो जाएँ, तो ऐसे बच्चे का मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है। यदि घरेलू माहौल में कलह अधिक और शांति कम हो तो बच्चा तनावपूर्ण जीवन जीता है।

विद्यालय का वातावरण –

यदि बच्चा ऐसे स्कूल में पढ़ता है जहां का वातावरण अधिक सख्त है और अनुशासन पर आवश्यकता से अधिक जोर दिया जाता है और जहां शिक्षक का व्यवहार छात्रों के प्रति नरम नहीं बल्कि दिल दुखाने वाला है तो बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य अच्छा नहीं रहता है।

वास्तविक मनोवृत्ति का अभाव –

यदि बच्चों में घटनाओं, तथ्यों और अन्य लोगों के प्रति यथार्थवादी और वस्तुनिष्ठ मनोवृत्ति का अभाव है, तो यह बच्चों में अवास्तविक और काल्पनिक सोच को बढ़ावा देता है, जिससे अन्तर्गस्ता में वृद्धि होती है।

मुख्य आवश्यकताओं की संतुष्टि –

जब बच्चे की मुख्य आवश्यकताएँ – भूख, प्यास आदि और अन्य प्राथमिक आवश्यकताएँ जैसे कागज, पेंसिल की आवश्यकता, स्कूल तक पहुँच, स्कूल की फीस का समय पर भुगतान आदि समय पर पूरी हो जाती हैं, तो उसका मानसिक स्वास्थ्य ठीक रहता है। बच्चा ठीक है, अन्यथा मानसिक स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

संक्षिप्त विवरण :-

मनुष्य एक चिंतनशील प्राणी है। वह सदैव मानव विकास के बारे में सोचते रहते हैं। इस सोच का फायदा वह खुद और आने वाली पीढ़ी उठाती है, लेकिन यह चिंतन तभी संभव है जब उसका मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य ठीक रहे। यदि कोई व्यक्ति मानसिक रोग से पीड़ित है तो उसकी कार्यक्षमता में कमी महसूस की जा सकती है।

आज की तनाव भरी और भागदौड़ भरी जिंदगी में व्यक्ति अपने स्वास्थ्य और खान-पान पर ध्यान नहीं दे रहा है, बल्कि केवल काम को महत्व दे रहा है, जिससे उसके स्वास्थ्य में गिरावट आ रही है। शारीरिक स्वास्थ्य का मानसिक स्वास्थ्य पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है। मानसिक रोग के कारण व्यक्ति के मान-सम्मान, सामाजिक सहयोग, कार्यकुशलता, शिक्षण कार्य, दक्षता आदि में कमी आ जाती है।

इस कमी को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य मानवशास्त्र व्यक्ति को स्वस्थ बनाने तथा रोग का निदान करने के उपाय सुझाता है, जिससे व्यक्ति स्वस्थ हो सके। स्वस्थ हो जाता है और फिर से काम करना शुरू कर देता है। वह सामान्य लोगों की तरह व्यवहार करते हैं। आज किसी भी बीमारी का इलाज संभव है, अगर हम सही समय पर उसका समाधान कर लें।

 FAQ

मानसिक स्वास्थ्य से आप क्या समझते हैं?

मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारकों का वर्णन करें?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *