संचार किसे कहते हैं? संचार का अर्थ, परिभाषा, तत्व, सिद्धांत

प्रस्तावना :-

वैश्वीकरण के इस वर्तमान युग में संचार का महत्व दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, चाहे परिवार जैसी छोटी संस्था हो, व्यापारिक संस्था हो या देश की सरकार, संचार अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। संचार हर संगठन के अस्तित्व का आधार है।

मानव शरीर में तंत्रिका तंत्र का वही स्थान है जो किसी संगठन में संचार तंत्र का होता है। संचार हर सामाजिक व्यवस्था और संगठन का सार है। आज के युग में प्रबंधकीय कार्यों की श्रृंखला में संचार एक अत्यंत महत्वपूर्ण प्रणाली है। केवल वही सम्प्रेषण सफल एवं पूर्ण होता है जिसमें सम्प्रेषक द्वारा कही गई बातों को उसी अर्थ में समझे तथा लक्ष्य प्राप्ति के उद्देश्य से आवश्यक कार्यवाही करे।

चाहे वह परिवार का सदस्य हो या किसी संस्था का कर्मचारी, सभी को घटनाओं, गतिविधियों, सूचनाओं, विचारों, आदेशों, भावनाओं, कल्पनाओं, अनुमानों, सारांशों का आदान-प्रदान करना होता है और संचार इसके लिए एक आवश्यक स्रोत है।

अनुक्रम :-
 [show]

संचार की अवधारणा :-

संप्रेषण का प्रयोग विभिन्न विद्वानों ने अपने-अपने ढंग से किया है, जहाँ कुछ विद्वानों द्वारा समझ पैदा करने के उद्देश्य से कुछ विद्वानों द्वारा विचारों, भावनाओं और तथ्यों के आदान-प्रदान का उल्लेख किया गया है। यह वह तरीका है जिसमें एक व्यक्ति अपने विचारों, भावनाओं, नैतिक मूल्यों और तथ्यों को दूसरों के सामने पेश करने में सक्षम होता है और लोगों द्वारा लगाए गए अर्थों के बीच की खाई को पाटता है। इसमें संदेशों का प्रवाह, संचार तकनीक, संगठन संरचना और अंतर-वैयक्तिक संचार शामिल हैं।

संचार का अर्थ :-

अंग्रेजी में ‘Communication’ शब्द लैटिन शब्द  ‘Communis’  से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘समरूप’ (Common) संचार में, प्रेषक संदेश के प्राप्तकर्ता के साथ अर्थ का सामान्य ज्ञान स्थापित करने का प्रयास करता है। इस प्रकार संचार एक विषय के संबंध में दो पक्षों के बीच समान समझ बनाने की प्रक्रिया है।

संचार दो या दो से अधिक लोगों के बीच तथ्यों, विचारों, अनुमानों, भावनाओं और बातचीत के पारंपरिक आदान-प्रदान को संदर्भित करता है। संचार का अर्थ है- शब्द, संकेत; भाषण, व्यवहार आदि के माध्यम से संदेशों और विचारों और संपत्ति के आदान-प्रदान का संगम होता है।

संचार की परिभाषा :-

संचार को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“संप्रेषण वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा विचारों और भावनाओं को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक व्यक्त किया जा सकता है, इसका उद्देश्य संप्रेषिती में समझ जागृत करना है।”

ब्राउन

“संप्रेषण वह प्रक्रिया है जिसमें संदेश और समझ एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचाई जाती है।”

कीथ डेविस

“संप्रेषण में वे सभी चीजें शामिल हैं जिनके माध्यम से एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के मस्तिष्क में अपनी बात पहुँचता है। यह अर्थ का एक सेतु है। इसमें कहने, सुनने और समझने की एक व्यवस्थित और निरंतर प्रक्रिया शामिल है।”

लुईस ए, ऐलन

“संप्रेषण दो या दो से अधिक लोगों के बीच तथ्यों, विचारों, सम्मतियो या भावनाओं का विनिमय है।”

न्यूमेन तथा समर

“संप्रेषण एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को सूचना या विश्वास का हस्तांतरण है।”

डेल एस. ब्रीच

उपरोक्त परिभाषाओं से स्पष्ट है कि संचार एक सतत और गतिशील प्रक्रिया है जिसमें दो या दो से अधिक लोग अपने विचारों, भावनाओं, सूचनाओं और तथ्यों के साथ-साथ समान अर्थ और समझ का विनिमय करते हैं।

संचार के तत्व :-

संचार को एक प्रक्रिया के रूप में परिभाषित किया गया है। इस प्रक्रिया में कई तत्व होते हैं। डेविड के. बर्लो के अनुसार, संचार के मुख्य तत्व हैं:

स्रोत –

संचार के लिए स्रोत होना आवश्यक है। जहां से विचार, आवश्यकता, विचार, धारणाएं, अनुभव, सूचना या कोई अन्य संदेश प्रवाहित होता है। अक्सर हर संचार का एक मानवीय स्रोत होता है। इसे संदेश प्रेषण भी कहा जाता है।

लिपिबद्धकरण –

संदेश या सूचना अदृश्य और अमूर्त होती है। अतः इसे स्वरूप देने के लिए लिपिबद्ध आवश्यक है। अक्सर मानव स्रोत अपनी मानसिक धारणा और अनुभूति को एक संकेत प्रणाली में अनुवादित करते हैं, जिसका अर्थ है कि वह संचारित करना चाहता है। मानसिक अवधारणाओं को व्यक्त करने के लिए भाषा एक महत्वपूर्ण संकेतक है।

किसी भी मैसेज को लिपिबद्ध करने के लिए बॉडी लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता है। संदेश को भाषण, इशारों, मुंह की मुद्रा, हाथों आदि के माध्यम से कूटबद्ध किया जाता है। आजकल व्यवसाय में कई संदेश कंप्यूटर भाषा द्वारा लिपिबद्ध किए जाते हैं।

संदेश –

स्रोत (व्यक्ति) द्वारा संदेश के रूप में “अर्थ” लिपिबद्ध किया गया है। संदेश संचार का विषय है। यह एक विचार, सूचना या संवाद के रूप में होता है जो संदेश के प्राप्तकर्ता को भेजा जाता है। संदेश या संवाद का अर्थ स्पष्ट होना चाहिए जो प्रेषक के दिमाग में है। संदेश उस “अर्थ” को दर्शाता है जिसे प्रेषक भेजना चाहता है।

मध्यम –

माध्यम कड़ी, मार्ग या धारा है जो संदेश के स्रोत और प्राप्तकर्ता को जोड़ता है। मनुष्य की पाँच ज्ञानेंद्रियाँ उसके संचार के साधन हैं – दृष्टि, वाणी, गंध, स्वाद, स्पर्श, आदि संचार के मध्यम हैं।

साधन –

संचार में कई लिखित और मौखिक माध्यमों, जैसे पत्र, टेलीफोन, टेलीविजन, रेडियो, स्वर, संवाद, शारीरिक मुद्रा, चित्र, फिल्म आदि का उपयोग किया जाता है।

संदेश प्राप्तकर्ता –

यह संदेश प्राप्त करता है। कुछ संदेशों के प्राप्तकर्ता निश्चित और विशिष्ट लोग होते हैं जैसे कर्मचारी, व्यापारी, ग्राहक, उपभोक्ता आदि। संदेश प्राप्तकर्ता एक समूह भी हो सकता है।

व्याख्या करना या कूट खोलना –

संदेश प्राप्तकर्ता संदेश प्राप्त होने के बाद उसकी व्याख्या करता है। शब्दों, संकेतों, चित्रों आदि के माध्यम से वह इसका अर्थ समझाता है। कई बार भाषा या अन्य गुप्त संकेतों का अनुवाद करने वाला व्यक्ति दूसरा होता है। हालाँकि, संदेश का “विशिष्ट या वैयक्तिक अर्थ” प्राप्तकर्ता द्वारा निर्धारित किया जाता है, अर्थात वह संदेश का पुन: अनुवाद करता है।

अर्थ और आशय –

संचार का अर्थ है संदेश को उसी अर्थ में समझना जैसे संदेश भेजने वाला। प्रेषक और प्राप्तकर्ता के दिमाग में एक ही अर्थ हो, इसके लिए यह आवश्यक है कि वे दोनों भाषा और प्रतीकों को समझें और एक ही अर्थ बनाएं। अर्थ की एकरूपता संचार का सार है।

प्रतिक्रिया –

वास्तव में, संचार का उद्देश्य केवल सूचना देना नहीं है, बल्कि व्यवसाय को तदनुसार कार्य करने के लिए प्रेरित करना है। संदेश प्राप्तकर्ता द्वारा की गई कार्रवाई संदेश के प्रति उसकी प्रतिक्रिया पर निर्भर करती है। संदेश प्राप्तकर्ता की प्रतिक्रिया संदेश की भाषा, दिए गए समय, संदेश देते समय प्रेषक के आचरण और व्यवहार, संदेश के उद्देश्य आदि पर निर्भर करती है। संचार को प्रभावी बनाने के लिए, प्रतिक्रिया का अनुमान लगाना आवश्यक है।

प्रतिपुष्टि –

प्रतिपुष्टि संदेश प्राप्तकर्ता की प्रतिक्रिया को संदेश भेजने वाले को वापस भेजने की क्रिया है। संदेश प्राप्त करने और उसकी व्याख्या करने के बाद, व्यक्ति स्वयं स्रोत बन जाता है, क्योंकि वह मूल स्रोत को अपनी प्रतिक्रिया भेजता है। प्रतिपुष्टि के माध्यम से ही संदेश भेजने वाले को अपने संदेश के प्रगति, कार्रवाई या आपत्तियों के बारे में पता चलता है। इससे वह अपने भविष्य के संदेशों को बेहतर बना सकता है।

विकृति या कोलाहल –

विकृति एक महत्वपूर्ण तत्व है जो संदेश की सटीकता और विश्वसनीयता को कम करता है। हर स्तर पर विकृति होने की संभावना है। प्रेषक द्वारा संदेश का ठीक से निर्माण न करने अर्थात संदेश को समझने और वर्णन करने में गलती, संचार प्रक्रिया में बाधा डालने, संदेश की गलत व्याख्या या विवेचन करने के कारण विकृति उत्पन्न होती है। माध्यम और साधनों में तकनीकी दोष भी संचार को विकृत करते हैं।

संचार की प्रकृति :-

  • संचार की प्रकृति को इसकी निम्नलिखित विशेषताओं से समझा जा सकता है:-
  • संचार सूचनाओं के साथ-साथ भावनाओं, तर्कों, अनुभूति और आपसी समझ के आदान-प्रदान की प्रक्रिया है।
  • यह मानव अंतःक्रिया की एक व्यवस्थित, सतत और गतिशील प्रक्रिया है।
  • यह विचारों, सहमतिओं, शंकाओं, संबोध और अवबोध का संगम और आदान-प्रदान है
  • यह दो दिमागों के बीच समझ का सेतु है।
  • संचार स्मृति शक्तियों को प्रतिध्वनित करने, प्रतिक्रिया देने या दोहराने की एक प्रक्रिया है।
  • यह मानवीय पहलुओं के बीच सार्थक बातों का आदान-प्रदान है।
  • संचार मौखिक, लिखित या प्रतीकात्मक हो सकता है।
  • यह बहुआयामी है-अर्थात् अधोगामी, ऊर्ध्वगामी,समतल, आंतरिक या बाह्य किसी भी प्रकार की हो सकती है।
  • संचार न केवल संदेश देने की क्षमता पर निर्भर करता है, बल्कि सुनने की क्षमता पर भी निर्भर करता है।
  • संचार प्रबंधकीय कार्य का आधार है और संगठन के अस्तित्व का सार है।
  • संचार एक संबंधन प्रक्रिया है। यह एक व्यावहारिक और अन्तर्क्रियात्मक कार्य है।
  • संचार एक “विचारों का प्रत्यारोपण” है।
  • संचार में सहमति होना आवश्यक नहीं है, लेकिन समान समझ और अर्थ होना आवश्यक है।
  • संचार व्यवहार से संबंधित है, यह एक वैयक्तिक प्रक्रिया है।

संचार के कार्य :-

  • सूचना प्रसारित करना और प्राप्त करना
  • मानव व्यवहार में बदलाव लाना
  • व्यक्तियों को निर्देशित करना
  • सहकारी प्रवृत्ति का विकास
  • सामाजिक संबंध बनाए रखना
  • भावनाओं को व्यक्त करना
  • भूल सुधार करना
  • विचार विमर्श के माध्यम से ठोस योजनाओं को तैयार करना और कार्यान्वित करना।

संचार के महत्व :-

मानवीय संबंधों के निर्माण में सहायक –

आधुनिक प्रबंधन में मानवीय संबंधों का विशेष महत्व है। आज कर्मचारी को उत्पादन के साधन के रूप में नहीं, बल्कि एक आदर्श इंसान के रूप में देखा जाता है। मानवीय संबंधों को स्थापित करने के लिए कर्मचारियों की समस्याओं, कठिनाइयों, भावनाओं, अपेक्षाओं आदि के बारे में पूरी जानकारी होना आवश्यक है। सामंजस्यपूर्ण संबंध केवल नियोक्ताओं, प्रबंधकों और कर्मचारियों के बीच निरंतर संचार के माध्यम से स्थापित किए जा सकते हैं।

संदेह और अज्ञान की रोकथाम –

शक और भ्रम की वजह से आपसी संबंध बिगड़ जाते हैं। नियमों और प्रक्रियाओं की अनदेखी भी कर्मचारियों के काम में बाधा डालती है। संचार की उचित व्यवस्था इन सभी कार्य बाधाओं को दूर करती है। सूचनाओं और तथ्यों का समय पर आदान-प्रदान संदेह और भ्रम को दूर करके दक्षता बढ़ा सकता है।

पारस्परिक सहयोग में वृद्धि –

प्रभावी संचार कर्मचारियों के बीच वफादारी, जिम्मेदारी की भावना और आपसी सहयोग और सद्भावना को बढ़ाता है। प्रबंधक और कर्मचारी एक-दूसरे की समस्याओं को हल करने में रुचि लेते हैं। वे एक-दूसरे की अपेक्षाओं और भावनाओं को समझने लगते हैं और समर्पण के साथ एक-दूसरे का सहयोग करने के लिए तैयार हो जाते हैं।

प्रबंधकीय कार्यों का कार्यान्वयन –

सभी प्रबंधकीय कार्यों की सफलता संचार पर निर्भर करती है। अच्छा संचार मजबूत प्रबंधन की नींव है। किसी भी उपक्रम में, प्रबंधक संचार के माध्यम से योजना, संगठन निर्देश और नियंत्रण आदि जैसे विभिन्न प्रबंधकीय कार्यों को सफलतापूर्वक करता है। इन प्रबंधकीय कार्यों में संचार का महत्व इस प्रकार है:

नियोजन

प्रबंधक अपने अधीनस्थों को उनके द्वारा निर्धारित योजनाओं के बारे में सूचित करता है और उन्हें लागू करता है। सर्वोत्तम विकल्प की खोज और चयन में विचारों के आदान-प्रदान का बहुत महत्व है। संचार के अभाव में प्रबंधकीय योजनाएँ केवल कागजों तक ही सीमित रह जाती हैं।

समन्वय –

संचार समन्वय का एक महत्वपूर्ण साधन है। इसके माध्यम से समय-समय पर सूचनाओं एवं निर्देशों का प्रचार-प्रसार कर विभिन्न कार्यों में सामंजस्य स्थापित किया जा सकता है।

संगठन –

संचार भी संगठन निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। संचार संगठन के व्यापक सिद्धांतों में एक केंद्रीय स्थान रखता है, क्योंकि संगठन का विस्तार और कार्यक्षेत्र अक्सर केवल संचार की तकनीकों द्वारा ही निर्धारित होता है। अधिकारों के प्रत्यायोजन, कार्य के आवंटन आदि के लिए संचार आवश्यक है।

नियंत्रण –

नियंत्रण में प्रबंधक यह जानने का प्रयास करता है कि कार्य की प्रगति पूर्व निर्धारित योजना के अनुसार हो रही है या नहीं। वह त्रुटियों और विचलन का पता लगाकर उनकी पुनरावृत्ति को रोकने की कोशिश करता है। लेकिन ये सब चीजें एक कुशल संचार प्रणाली के बिना संभव नहीं हैं।

नेतृत्व और निर्देशन

आज नेतृत्व की विचारधारा लोकतांत्रिक और सहभागी हो गई है। अधीनस्थों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देकर ही श्रेष्ठ नेतृत्व की स्थापना की जा सकती है। सहभागी नेतृत्व के माध्यम से ही अधीनस्थों में विश्वास की भावना पैदा की जा सकती है और उन्हें लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया जा सकता है।

प्रेरणा और मनोबल का निर्माण –

कर्मचारियों के व्यक्तिगत लक्ष्यों, जरूरतों और भावनाओं को जानने और प्रेरित करने के लिए संचार आवश्यक है। मौखिक या लिखित शब्दों या अंकों की भाषा ही समस्त कार्य करने का एकमात्र साधन है।

निर्णय लेना –

सही निर्णयों के लिए, प्रबंधक के पास पर्याप्त जानकारी, तथ्य और सांख्यिकी का ज्ञान होना आवश्यक है। साथ ही किसी निर्णय के लिए विभिन्न लोगों से परामर्श करना, सुझाव लेना और औपचारिक विचार-विमर्श करना भी आवश्यक है। लेकिन ये सब चीजें बिना संचार व्यवस्था के संभव नहीं है।

पूर्वानुमान के लिए आवश्यक –

प्रबंधन को व्यवसाय के संचालन में कई प्रकार की मांग, मूल्य, प्रतिस्पर्धा, बिक्री, बाजार की स्थिति आदि से संबंधित पूर्वानुमान लगाने होते हैं। इसके लिए बहुत सी जानकारियां, तथ्य, मत, परामर्श, सूचना एकत्र करनी पड़ती है। इस प्रकार, सफल पूर्वानुमान के लिए निरंतर संचार की आवश्यकता होती है।

व्यवसाय का कुशल संचालन –

आज व्यवसाय का स्वरूप बहुत जटिल हो गया है। व्यवसाय के संचालन के लिए कई तकनीकी, आर्थिक, प्रशासनिक, वित्तीय, निर्माण गतिविधियाँ की जाती हैं। व्यवसाय में विशेषज्ञता, श्रम विभाजन, नवीन संगठन संरचना, नवीन तकनीकी के प्रयोग ने व्यवसाय को बहु-आयामी एवं बहु- पक्षीय बना दिया है। अनेक विभागों, अनेक गतिविधियों, अनेक रुचियों और लक्ष्यों के कारण व्यवसाय को एक साथ चलाना आवश्यक हो गया है। इस प्रकार, व्यवसाय का कुशल संचालन एक प्रभावी संचार प्रणाली पर निर्भर हो गया है।

एकीकृत और लोकतांत्रिक प्रबंधन की स्थापना –

यह आवश्यक हो गया है कि प्रत्येक कर्मचारी को प्रबंधन से जोड़ा जाए, उसका सहयोग लिया जाए, उसके विचारों और सुझावों को सुना जाए। इस प्रकार संचार प्रजातांत्रिक प्रबंधन की नींव को मजबूत करता है।

संचार के सिद्धांत :-

स्पष्टता का सिद्धांत –

संप्रेषण द्वारा एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को अपना अर्थ समझा सकता है। इसलिए स्पष्ट और बोधगम्य भाषा का प्रयोग करना चाहिए। टेरी का कहना है कि “संदेश भेजने से पहले, प्रेषक को स्पष्ट रूप से विचार करना चाहिए और जानना चाहिए कि क्या भेजना है?”

ध्यान का सिद्धांत –

संदेश प्राप्त करते समय इसे ध्यान से सुनना या पढ़ना चाहिए। यदि संदेश कई स्रोतों से प्राप्त हो रहा है, तो प्रत्येक स्रोत के बारे में सजग होना चाहिए।

ईमानदारी का सिद्धांत –

संगठन के उद्देश्य के लिए संचार को उपयोगी बनाने के प्रयास किए जाने चाहिए। जोसेफ धूहट का कहना है कि संदेश भेजते समय प्रेषक को प्रेषिती की आवश्यकताओं जरूरत और कर्मचारी के हितों दोनों का ध्यान रखना चाहिए।

अनौपचारिक संगठन के उपयोग का सिद्धांत –

अनौपचारिक संगठन भी औपचारिक संगठनों की तरह महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए इसका उचित लाभ उठाना चाहिए।

उपयोग का सिद्धांत –

प्रत्येक संचार उपयोगी होना चाहिए। गलत संचार से समय और धन दोनों का अपव्यय होता है और आपसी संबंधों में दरार पैदा हो जाती है। संदेश की योजना बनानी चाहिए ताकि यह अधिक उपयोगी साबित हो सके।

मितव्ययिता का सिद्धांत –

संचार प्रणालियां बहुत महंगी नहीं होनी चाहिए, उपयुक्त संचार विधियों जैसे मेल, तार, टेलीफोन, टेलीप्रिंटर आदि का उपयोग दूरी और काम की तात्कालिकता के आधार पर किया जाना चाहिए। संचार को अनावश्यक रूप से द्रुतगामी बनाने से अपव्यय होता है।

नियंत्रण का सिद्धांत –

औपचारिक संचार को नियंत्रित किया जाता है, अनौपचारिक लेकिन आवश्यक संचार को भी नियंत्रित किया जाना चाहिए। जहाँ समूह में बातचीत हो रही हो वहाँ पहल कौन करता है? पहले किसे बयान देना चाहिए? इस बात का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि अगर शुरुआत गलत तरीके से की जाए तो आगे की बातचीत में समस्या का समाधान निकालना मुश्किल हो जाता है।

प्रमापीकरण का सिद्धांत –

कई नियमित चीजें और कुछ आचार संहिताएं प्रमापित जाती हैं जैसे अभिवादन का तरीका, पता, बात शुरू करने से पहले आज्ञा मांगना आदि। प्रमापीकरण में संदेश की एकरूपता बनाए रखने का प्रयास किया जाता है।

अनुकूलता का सिद्धांत –

भेजे जाने वाले और प्राप्त होने वाले संदेशों को समय और स्थिति के अनुरूप होना चाहिए। समय के साथ सही संदेश का प्रभाव अधिक होता है।

प्रति-पुष्टि का सिद्धांत –

संदेश प्रणाली ऐसी होनी चाहिए कि प्रेषक को अपनी त्रुटियों और शब्दों की अनुपयुक्तता का बोध हो ताकि वह यथासमय उसे सुधार सके। यदि संचार त्रुटियों को समय रहते ठीक नहीं किया गया तो अनेक प्रकार की अनिष्ट उत्पन्न हो सकती हैं।

नेतृत्व का सिद्धांत –

संदेश देने वाला व्यक्ति अपने दृष्टिकोण का दृढ़ और विचारशील व्यक्ति होना चाहिए। वह एक अच्छा प्रेषक और एक अच्छा श्रोता होना चाहिए।

न्यूनतम मध्यस्थ का सिद्धांत –

संचार प्रक्रिया में, प्रेषक और प्राप्तकर्ता के बीच मध्यस्थों की संख्या न्यूनतम होनी चाहिए। जब मध्यस्थों की संख्या कम होती है तो न केवल संदेश जल्दी पहुंचता है बल्कि संदेश के विकृत होने की संभावना भी कम हो जाती है।

लोच का सिद्धांत –

प्रभावी संचार लचीला होता है। इस प्रणाली को बदली हुई परिस्थितियों, तकनीकी परिवर्तनों और अन्य संगठनात्मक समायोजन के अनुसार बदला जा सकता है।

विषय वस्तु का ज्ञान –

संदेश प्रभावी होने के लिए, प्रेषक को संदेश की सामग्री का सटीक, विस्तृत और पूर्ण ज्ञान होना चाहिए।

सहानुभूति का सिद्धांत –

एक प्रेषक को खुद को प्राप्तकर्ता की स्थिति में रखकर संचार प्रक्रिया का संचालन करना चाहिए। इससे आम सहमति और आपसी समझ बनाने में मदद मिलती है।

संक्षिप्त विवरण :-

संचार एक पारस्परिक और व्यावहारिक प्रक्रिया है। जिसमें विभिन्न माध्यमों से प्रेषक और प्राप्तकर्ता के बीच विचारों, आदेशों, निर्देशों, मतों, अनुभवों आदि का आदान-प्रदान होता है। एक आदर्श संचार प्रणाली के बिना परिवार, समाज या संगठन अपने उद्देश्यों को प्राप्त नहीं कर सकता है। संदेशों का सही ढंग से आदान-प्रदान करने के लिए, संचार के लिए आवश्यक तत्वों और सिद्धांतों का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है।

FAQ

संचार के महत्व को समझाइए?

संचार के सिद्धांत क्या है?

संचार के तत्व बताइए?

संचार की प्रकृति क्या है?

संप्रेषण क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *