पोषण किसे कहते हैं पोषण का अर्थ, पोषण की परिभाषा (nutrition)

प्रस्तावना :-

अच्छा पोषण एक ऐसा लक्ष्य है जिसे कोई भी व्यक्ति जो इसकी इच्छा रखता है, प्राप्त कर सकता है। इंसान के लिए स्वस्थ रहना और शरीर को क्रियाशील बनाए रखना बहुत जरूरी है। आहार में सभी पोषक तत्वों की एक निश्चित मात्रा होना जरूरी है। इसके लिए व्यक्ति को आहार में विभिन्न प्रकार के पौष्टिक खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए।

आज के दौर में जीवनशैली में बदलाव के कारण आहार में कई बदलाव देखने को मिलते हैं, जिसके कारण विभिन्न पोषक तत्वों की कमी या अधिकता देखी जाती है। इसलिए व्यक्ति को स्वस्थ शरीर के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर संतुलित आहार लेना चाहिए और प्राकृतिक खाद्य पदार्थों के चयन को प्राथमिकता देनी चाहिए।

पोषण का अर्थ :-

पोषण शरीर को पोषित करने की प्रक्रिया है। पोषण प्राप्त करने के लिए मनुष्य मुख्यतः खाद्य पदार्थों पर निर्भर रहता है। मानव शरीर के पोषण के लिए तीन महत्वपूर्ण प्रक्रियाएं पाचन, अवशोषण और चयापचय निरंतर चलती रहती हैं। “पोषण” एक विस्तृत शब्दावली है। पोषण में कई प्रक्रियाएँ शामिल होती हैं जैसे भोजन का सेवन, उसका पाचन, अवशोषण, चयापचय, उत्सर्जन और मानव स्वास्थ्य पर पोषक तत्वों का प्रभाव आदि।

कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि पोषण एक अपेक्षाकृत नया विज्ञान है। यह रसायन विज्ञान और शरीर विज्ञान जैसे विषयों से विकसित हुआ है। हम जो आहार लेते हैं उसका हमारे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है इसे पोषण विज्ञान के माध्यम से समझा जा सकता है। पोषण को शरीर में भोजन के कार्य के रूप में भी परिभाषित किया जा सकता है।

पोषण की परिभाषा :-

“शरीर की आहार संबंधी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए आहार ग्रहण करना पोषण है ।”

विश्व स्वास्थ्य संगठन

“पोषण आहार, उसमें मौजूद पोषक तत्वों, अन्य तत्वों की, इनकी परस्पर क्रिया, इनकी स्वास्थ्य और रोग की स्थितियों में संतुलन और उन सभी प्रक्रियाओं का विज्ञान है जिनके द्वारा जीव आहार ग्रहण करते हैं और उस भोजन को पचाते हैं, अवशोषित करते हैं, परिवहन करते हैं, उपयोग करते हैं और उत्सर्जित करते हैं का विज्ञान है।”

काउंसिल ऑफ फूड एंड न्यूट्रिशन ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन

पोषण की स्थितियाँ :-

पोषण संबंधी स्थितियाँ एक व्यक्ति जिस प्रकार का भोजन खाता है उसका सीधा प्रभाव उसके स्वास्थ्य पर पड़ता है। आमतौर पर पोषण की दो मुख्य स्थितियाँ देखी जा सकती हैं:-

उत्तम पोषण –

उत्तम पोषण अथवा सुपोषण वह स्थिति है जब कोई व्यक्ति पूरी तरह स्वस्थ हो, उसमें बीमारी के कोई लक्षण न हों और वह अपनी उम्र के अनुसार सक्रिय हो। जब व्यक्ति को उचित मात्रा में संतुलित आहार मिलता है तो वह उत्तम पोषण की स्थिति में रहता है।

ऐसे में व्यक्ति को आहार के माध्यम से सभी प्रकार के आवश्यक पोषक तत्व उचित और वांछित मात्रा में मिलते हैं। एक सुपोषित व्यक्ति के शरीर में सभी पोषक तत्वों का अच्छी तरह से उपयोग होता है। यह स्थिति किसी व्यक्ति के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आवश्यक है।

परंपरागत रूप से, यदि कोई व्यक्ति किसी बीमारी से पीड़ित नहीं है, तो यह माना जाता है कि वह स्वस्थ है। अच्छा स्वास्थ्य सुखी मानव जीवन की नींव है।

एक स्वस्थ एवं सुपोषित व्यक्ति के शरीर में निम्नलिखित लक्षण पाए जाते हैं:-

  • चमकते बाल
  • सुविकसित शरीर
  • साफ और चमकदार त्वचा
  • साफ़ और दीप्तिमान आँखें
  • शरीर आसानी से चलता है
  • एक सुगठित शरीर जो मोटा न हो
  • व्यक्ति नियमित समय पर गहरी नींद सोता है
  • शरीर में स्फूर्ति और कार्य क्षमता होनी चाहिए
  • शरीर के सभी अंग सामान्य रूप से कार्य करते हैं
  • सभी इंद्रियों को अपना कार्य अच्छे से करना चाहिए
  • व्यक्ति के शरीर में पर्याप्त रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है
  • उम्र के अनुसार उचित ऊंचाई और वजन प्राप्त करना।
  • मल और अन्य अपशिष्ट पदार्थों का उचित उत्सर्जन और निष्कासन
  • व्यक्ति को पर्याप्त भूख लगती है और पाचन तंत्र अच्छे से कार्य करता है
  • व्यक्ति की उम्र और लिंग के अनुसार उसकी नाड़ी और रक्तचाप सामान्य होना चाहिए

कुपोषण –

सुपोषण की विपरीत स्थिति को कुपोषण कहा जाता है। कुपोषण की स्थिति में व्यक्ति का शरीर कमजोर और रोगग्रस्त हो जाता है। यदि व्यक्ति के आहार में पोषक तत्वों की कमी है या पोषक तत्व अधिक मात्रा में मौजूद हैं तो वे शरीर में कुपोषण का कारण बन सकते हैं।

कुपोषण की स्थिति में व्यक्ति को असंतुलित मात्रा में पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। कुपोषण का अर्थ है शरीर में एक या अधिक पोषक तत्वों की कमी। कम पोषण की स्थिति में शरीर को पर्याप्त और आवश्यक पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। कुपोषण की स्थितियाँ :-

अल्प-पोषण –

अल्पपोषण मुख्यतः निम्नलिखित दो कारणों से उत्पन्न होता है:-

  • व्यक्ति को पर्याप्त मात्रा में भोजन नहीं मिल पाता हो।
  • एक व्यक्ति के पास पर्याप्त भोजन उपलब्ध हो सकता है लेकिन उपलब्ध भोजन में पौष्टिक तत्वों की कमी होती हो।

अल्प-पोषणकी स्थिति में व्यक्ति शारीरिक रूप से कमजोर हो जाता है। उसकी कार्यकुशलता कम हो जाती है। तरह-तरह की बीमारियाँ और संक्रमण व्यक्ति को जल्दी घेर लेते हैं। हमारा देश आज प्रगति की राह पर है, लेकिन विभिन्न सर्वेक्षणों से पता चलता है कि भारत में निम्न आय वर्ग के बच्चे और महिलाएं कुपोषण से पीड़ित हैं।

अति-पोषण –

पोषक तत्वों की अधिकता भी कुपोषण का कारण बन सकती है। इसे हम अति-पोषण से उत्पन्न कुपोषण कह सकते हैं। मोटापा इसका उदाहरण है। इस स्थिति में व्यक्ति अपने आहार में आवश्यकता से अधिक ऊर्जा/कैलोरी शामिल कर लेता है। यह अतिरिक्त ऊर्जा शरीर में वसा के रूप में जमा हो जाती है।

संक्षिप्त विवरण :-

पोषण उन सभी प्रक्रियाओं का सार है जिसके द्वारा मानव शरीर का पोषण होता है। हम जो आहार लेते हैं उसका हमारे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है उसे पोषण के माध्यम से समझाया जा सकता है।

सामान्यतः मानव शरीर में पोषण की दो स्थितियाँ देखी जा सकती हैं- सुपोषण और कुपोषण। सुपोषण उत्तम पोषण की अवस्था है। सुपोषण की विपरीत स्थिति को कुपोषण कहा जाता है।  अल्प-पोषण और अति-पोषण दोनों ही कुपोषण की स्थितियाँ हैं। कुपोषण कई संभावित कारणों से हो सकता है।

FAQ

पोषण क्या है?

पोषण की कितनी स्थितियाँ होती हैं?

उत्तम पोषण क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *