पोषक तत्व क्या है भोजन के पोषक तत्त्व (poshak tatva)

प्रस्तावना :-

आहार का संबंध उन पदार्थों से है जो शरीर को पोषण प्रदान करते हैं। आहार में पाए जाने वाले रासायनिक पदार्थ जो शरीर को पोषण प्रदान करते हैं, पोषक तत्व कहलाते हैं। यदि हमारे शरीर में पोषक तत्व उचित मात्रा में मौजूद न हों तो बीमारियाँ उत्पन्न हो जाती हैं, जिन्हें कुपोषण रोग कहा जाता है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए सही मात्रा में उचित आहार एवं पोषण लेना बहुत जरूरी है।

पोषक तत्व का अर्थ :-

पोषक तत्व जीवन के संचालन एवं विकास के लिए आवश्यक पोषण प्रदान करते हैं। पोषक तत्व वे पदार्थ हैं जो शारीरिक विकास और चयापचय के लिए आवश्यक हैं। हमारे आहार में कई प्रकार के पोषक तत्व शामिल होते हैं। पोषक तत्व शरीर को पोषण देते हैं।

भोजन में विभिन्न पोषक तत्व पाए जाते हैं। प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा, विटामिन, खनिज लवण, पानी जैसे पोषक तत्व रासायनिक यौगिक और तत्व हैं जो कार्बन, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन, ऑक्सीजन, सल्फर, कैल्शियम, मैग्नीशियम आदि तत्वों से बनते हैं। हमारे आहार से हमें मुख्य रूप से छह मिलते हैं पोषक तत्वों के प्रकार, जो इस प्रकार हैं:-

इन पोषक तत्वों के अलावा आहारीय फाइबर भी बहुत महत्वपूर्ण है जिसे आहार में शामिल करना आवश्यक है।

इन पोषक तत्वों में हम प्रोटीन, वसा और कार्बोहाइड्रेट को स्थूल पोषक  तत्व (मैक्रोन्यूट्रिएंट्स) के अंतर्गत शामिल करते हैं। ये मैक्रोन्यूट्रिएंट्स पूरे शरीर में विशिष्ट कार्य करते हैं और शरीर को आवश्यक कैलोरी या ऊर्जा भी प्रदान करते हैं। इस कारण शरीर की वृद्धि, विकास, निर्माण के लिए इन पोषक तत्वों की अपेक्षाकृत अधिक मात्रा में आवश्यकता होती है।

मैक्रोन्यूट्रिएंट्स की तुलना में विटामिन और खनिज लवण जैसे सूक्ष्म पोषक तत्वों (माइक्रोन्यूट्रिएंट) की कम मात्रा में आवश्यकता होती है, लेकिन ये पोषक तत्व शरीर के अच्छे स्वास्थ्य के लिए भी उतने ही आवश्यक हैं। ये, मैक्रोन्यूट्रिएंट्स के साथ, शरीर के सामान्य कार्यों जैसे ऊर्जा स्तर, चयापचय, सेलुलर कार्य और अच्छे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करते हैं।

पोषक तत्व के कार्य :-

आहार में विविध खाद्य पदार्थ (अनाज, दालें, सब्जियाँ, दूध आदि) शामिल करते हैं। इन सभी खाद्य पदार्थों में कुछ मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होते हैं। पोषक तत्व रासायनिक यौगिक होते हैं जो शरीर को पोषण देने में मदद करते हैं।

कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, विटामिन, खनिज लवण और पानी हमारे आहार में पाए जाने वाले विभिन्न पोषक तत्व हैं। शरीर में पोषक तत्व कई कार्यों के संचालन और निष्पादन में सहायक होते हैं। विभिन्न पोषक तत्व अलग-अलग कार्य करते हैं। पोषक तत्वों के कार्यों का विवरण निम्नलिखित है:-

प्रोटीन –

प्रोटीन एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। प्रोटीन बनाने वाले तत्व कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन और नाइट्रोजन हैं। अमीनो एसिड प्रोटीन की मूल इकाई हैं। प्रोटीन का मुख्य कार्य शरीर के ऊतकों का निर्माण करना है। इसके साथ ही प्रोटीन शरीर के ऊतकों में होने वाली टूट-फूट को भी ठीक करने में सहायक होता है। शरीर की प्रत्येक कोशिका प्रोटीन द्वारा निर्मित होती है।

इसके अलावा, एंजाइम, हार्मोन और एंटीबॉडी जैसे कई महत्वपूर्ण तत्वों के संश्लेषण के लिए भी प्रोटीन की आवश्यकता होती है। ये तत्व शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों को नियंत्रित करते हैं। साथ ही ये रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाते हैं।

हमें अंडे, दूध, मांस, मछली जैसे पशु खाद्य स्रोतों से अच्छी गुणवत्ता वाला प्रोटीन मिलता है। वनस्पति स्रोतों में दालें प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत हैं। प्रोटीन से शरीर को ऊर्जा भी मिलती है. एक ग्राम प्रोटीन प्रति कैलोरी 4 किलो कैलोरी ऊर्जा प्रदान करता है।

कार्बोहाइड्रेट-

कार्बोहाइड्रेट का मुख्य कार्य शरीर को ऊर्जा प्रदान करना है। एक ग्राम कार्बोहाइड्रेट से 4 किलो कैलोरी ऊर्जा मिलती है। प्रकृति में, प्रकाश संश्लेषण की क्रिया द्वारा पौधों द्वारा कार्बोहाइड्रेट का उत्पादन किया जाता है। पौधे इस कार्बोहाइड्रेट को स्टार्च के रूप में संग्रहित करते हैं। शर्करा भी कार्बोहाइड्रेट का एक रूप है और पौधों में भी पाई जाती है।

कार्बोहाइड्रेट कार्बनिक यौगिक हैं और कार्बन, हाइड्रोजन और ऑक्सीजन के संयोजन से बनते हैं। पौधों द्वारा प्राप्त कार्बोहाइड्रेट को हम दो श्रेणियों में विभाजित कर सकते हैं:-

सरल शर्करा –

आमतौर पर यह मीठा होता है। यह हमें मीठे फल, शहद, चीनी, गुड़ आदि से प्राप्त होता है।

स्टार्च –

यह हल्के और सफेद रंग का होता है। पौधों में कार्बोहाइड्रेट मुख्यतः स्टार्च के रूप में संग्रहित होते हैं। यह हमें अनाज, दालें, जड़ एवं कंद वाली सब्जियों से प्राप्त होता है। प्राणियों में कार्बोहाइड्रेट ग्लाइकोजन के रूप में संग्रहित होते हैं।

वसा  –

वसा भी कार्बन, हाइड्रोजन और ऑक्सीजन के संयोजन से बनने वाला एक कार्बनिक यौगिक है। वसा कार्बोहाइड्रेट से इस मायने में भिन्न होती है कि उनमें ऑक्सीजन बहुत कम अनुपात में होती है। शुद्ध वसा ग्लिसरॉल और फैटी एसिड के संयोजन से बनते हैं। वसा का मुख्य कार्य शरीर को ऊर्जा प्रदान करना है। वसा शरीर के लिए ऊर्जा का सघन स्रोत है। एक ग्राम वसा से 9 किलो कैलोरी ऊर्जा मिलती है।

वसा शरीर में ऊर्जा के रूप में वसायुक्त ऊतकों में जमा होती है। यह वसा में घुलनशील विटामिन के वाहक के रूप में भी कार्य करता है। हमें वसा पशु और पौधे दोनों स्रोतों से प्राप्त होती है। वनस्पति जगत से हम इसे तिलहन, मूंगफली, सोयाबीन, सूखे मेवे और नारियल से प्राप्त करते हैं और पशु जगत से हम इसे घी, मक्खन, क्रीम, लार्ड आदि जैसे साधनों से प्राप्त करते हैं।

विटामिन –

विटामिन कार्बनिक रासायनिक यौगिक हैं जो कम मात्रा में भी शरीर के लिए आवश्यक होते हैं। यह दो प्रकार का होता है:

  • वसा में घुलनशील:- विटामिन ए, डी, ई, के
  • पानी में घुलनशील:- विटामिन “बी” कॉम्प्लेक्स और विटामिन सी

सभी विटामिनों का मुख्य कार्य शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना है। भोजन में उनकी उपस्थिति सामान्य शारीरिक विकास और विभिन्न प्रक्रियाओं के निष्पादन के लिए महत्वपूर्ण है।

विभिन्न विटामिनों की कमी के कारण शरीर में कई रोग उत्पन्न हो जाते हैं जैसे विटामिन ‘ए’ की कमी से रतौंधी, विटामिन ‘सी’ की कमी से स्कर्वी रोग आदि। संतुलित आहार का सेवन और सभी खाद्य समूहों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।

खनिज लवण –

खनिज लवण कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, पोटेशियम, सल्फर, लौह लवण, आयोडीन आदि हैं। ये शरीर में अकार्बनिक यौगिकों के रूप में भी मौजूद होते हैं। खनिज लवण शरीर निर्माण में सहायक होते हैं। साथ ही यह शरीर में होने वाली कई महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं को संचालित और नियंत्रित करता है।

उदाहरण के लिए, कैल्शियम, फास्फोरस और मैग्नीशियम हड्डियों और दांतों के निर्माण के लिए आवश्यक हैं। इसके अलावा खनिज लवण शरीर में जल संतुलन और अम्ल-क्षार संतुलन बनाए रखने में सहायक होते हैं। रक्त के थक्के जमने और मांसपेशियों के संकुचन के लिए भी खनिज लवणों की आवश्यकता होती है।

जल –

शरीर के लिए पानी का महत्व अन्य पोषक तत्वों से कहीं अधिक है। जल के बिना जीवन संभव नहीं है। शरीर निर्माण के लिए पानी बेहद जरूरी है। यह शरीर के विभिन्न पदार्थों के लिए विलायक माध्यम के रूप में कार्य करता है। विभिन्न पोषक तत्व पानी में घुलने के बाद ही शरीर द्वारा उपयोग किये जाते हैं।

पानी शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने का माध्यम भी है। शुद्ध पेयजल, तरल पेय पदार्थ, फलों और सब्जियों के रस और भोजन शरीर में पानी पहुंचाने के विभिन्न साधन हैं।

कार्य के आधार पर पोषक तत्वों का वर्गीकरण :-

पोषक तत्वों को शरीर में उनके कार्यों के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है। पोषक तत्वों को उनके कार्यों को ध्यान में रखते हुए तीन प्रमुख समूहों में विभाजित किया गया है।

ऊर्जा प्रदान करने वाले पोषक तत्व –

विभिन्न शारीरिक क्रियाओं को करने के अलावा, शरीर के तापमान को बनाए रखने, मांसपेशियों में संकुचन, हृदय गति को बनाए रखने और अपशिष्ट पदार्थों को हटाने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। वसा एवं कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा प्रदान करने वाले पोषक तत्वों की श्रेणी में रखा जाता है। इन पोषक तत्वों के विभिन्न खाद्य स्रोत हैं जैसे तेल, घी, मक्खन, गुड़, जैम, साबूदाना, चावल, अनाज, केला, आलू आदि।

निर्माणात्मक पोषक तत्व –

इस समूह में प्रोटीन शामिल हैं। नई कोशिकाओं का निर्माण प्रोटीन द्वारा होता है। साथ ही टूटी हुई कोशिकाएं भी दोबारा बन जाती हैं। इसी से शरीर में वृद्धि या विकास होता है। दालें, दूध, अंडा, मांस, मछली, सोयाबीन, भट्ठी इसके प्रमुख खाद्य स्रोत हैं।

सुरक्षात्मक पोषक तत्व –

विटामिन और खनिज इस श्रेणी में आते हैं। इस समूह के पोषक तत्व हमारे शरीर की जैविक गतिविधियों को नियंत्रित करते हैं और शरीर को विनियमित करने में मदद करते हैं। इन तत्वों के असंतुलन के कारण शरीर का विकास प्रभावित होता है और व्यक्ति कई बीमारियों से ग्रस्त हो सकता है। दूध, घी, पत्तेदार हरी सब्जियाँ, अन्य सब्जियाँ, फल आदि इन पोषक तत्वों को प्राप्त करने के अच्छे साधन हैं।

संक्षिप्त विवरण :-

आहार में ऐसे खाद्य पदार्थ शामिल होते हैं जो जीवन के निर्वाह और विकास के लिए आवश्यक होते हैं। प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा, विटामिन, खनिज और पानी विभिन्न पोषक तत्व हैं। पोषक तत्वों को भी उनके कार्य के आधार पर तीन समूहों में विभाजित किया जा सकता है; ऊर्जा उत्पादन, रचनात्मक और सुरक्षात्मक पोषक तत्व।

FAQ

पोषक तत्व किसे कहते हैं?

भोजन के पोषक तत्व कौन-कौन से हैं?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *