कुपोषण क्या है कुपोषण के प्रकार कुपोषण के कारण (kuposhan)

प्रस्तावना :-

भारत में कई पोषण सर्वेक्षण आयोजित किए गए हैं। ऐसा पाया गया है कि भारत के अधिकांश लोगों के आहार में मुख्यतः अनाज शामिल है। आहार में मुख्य रूप से फलों और सब्जियों की मात्रा बहुत कम देखी गई है। दूध, अंडे, मांस और मछली नगण्य हैं क्योंकि अधिकांश आबादी इन्हें खरीद नहीं सकती। आबादी के एक बड़े हिस्से को पर्याप्त भोजन नहीं मिल पाता है। परिणामस्वरूप, कई कुपोषण समस्याएं उत्पन्न होती हैं।

कुपोषण का अर्थ :-

कुपोषण पोषण एक ऐसी स्थिति है जिसमें भोजन अपने गुणों और परिणामों में अपर्याप्त होता है। इसके अधिक सेवन से शरीर में हानिकारक प्रभाव उत्पन्न होने लगते हैं और इसका असर बाहरी तौर पर भी दिखता है।

जब व्यक्ति का शारीरिक मानसिक विकास असामान्य होता है और भले ही वह अस्वस्थ महसूस करता हो या नहीं, वह अंदर से अस्वस्थ है (जिसे केवल डॉक्टर ही पहचान सकता है) तो यह स्पष्ट है कि उसे आवश्यक पोषक तत्व नहीं मिल रहे हैं। ऐसी स्थिति को कुपोषण कहा जाता है।

कुपोषण की परिभाषा :-

“कुपोषण पोषण की एक ऐसी स्थिति है जो व्यक्ति के स्वास्थ्य में गिरावट का कारण बनती है। यह एक या अधिक तत्वों की कमी या अधिकता या असंतुलन के कारण होता है, जिसके कारण शरीर रोगग्रस्त हो जाता है।”

कुपोषण के प्रकार :-

अल्पपोषण :-

जब किसी व्यक्ति के आहार में किसी पोषक तत्व की लगातार कमी होती है तो उस पोषण स्थिति को “अल्पपोषण” कहा जाता है। यह कई बीमारियों का कारण बनता है जैसे मरास्मस,

अल्पपोषण दो प्रकार का होता है:-

प्राथमिक अल्पपोषण –

यह भोजन में पोषक तत्वों की लगातार कमी के कारण होता है।

द्वितीयक अल्पपोषण –

जब कोई व्यक्ति पर्याप्त मात्रा में सभी पोषक तत्वों से भरपूर आहार लेता है, लेकिन वे शरीर में ठीक से पाचन, अवशोषित, चयापचय और संग्रहीत नहीं होते हैं और वे पोषक तत्व मल, मूत्र, पसीने और शरीर के बाहर उत्सर्जित होते हैं। इससे “द्वितीयक अल्पपोषण” होता है।

उदाहरण के लिए, फोलिक एसिड के अनुचित अवशोषण के कारण एनीमिया, शरीर में कैल्शियम और फास्फोरस के अनुचित अवशोषण के कारण रिकेट्स और ऑस्टियोमलेशिया।

अतिपोषण :-

जब किसी व्यक्ति के आहार में वसा या कैलोरी की नियमित अधिकता होती है और यह अधिकता लंबे समय तक बनी रहती है तो इसे अतिपोषण या अतिरिक्त पोषण कहा जाता है। इससे मोटापा बढ़ता है, जो आगे चलकर कई बीमारियों जैसे हृदय रोग, कुछ प्रकार के कैंसर आदि का कारण बनता है।

कुपोषण से होने वाले रोग :-

भारत में पोषण की कमी के परिणामस्वरूप अधिक से अधिक समूहों के लोगों में कुपोषण से होने वाले रोग उत्पन्न होती हैं। इनमें प्रमुख हैं प्रोटीन ऊर्जा कुपोषण, रक्ताल्पता या एनीमिया, विटामिन-ए की कमी और आयोडीन की कमी से होने वाले रोग। साथ ही, संपन्न, धनाढ्य वर्ग में अतिपोषण के परिणामस्वरूप मोटापा; मधुमेह, हृदय रोग और कुछ प्रकार के कैंसर आदि।

कुपोषण के कारण (kuposhan ke karan) :-

कुपोषण कई कारणों से हो सकता है, लेकिन कुपोषण की स्थिति के लिए निम्नलिखित कारण मुख्य रूप से जिम्मेदार हैं:

व्यक्ति को पर्याप्त भोजन नहीं होना –

यदि किसी व्यक्ति को किसी भी कारण से पर्याप्त भोजन नहीं मिलता है, तो उसके शरीर में स्वचालित रूप से पोषक तत्वों की कमी हो जाएगी और वह जल्द ही कुपोषण का शिकार हो जाएगा।

पोषक तत्वों की मांग की पूर्ति न होना –

यदि कोई व्यक्ति अपने आहार में विविध खाद्य पदार्थों को शामिल नहीं करता है और संतुलित आहार नहीं लेता है, तो उसके शरीर में कई पौष्टिक तत्वों की कमी हो सकती है। ऐसे में अक्सर व्यक्ति के आहार में विविधता नहीं होती है, जिससे उसे भरपेट भोजन तो मिल जाता है लेकिन सभी पौष्टिक तत्वों की शारीरिक आवश्यकता पूरी नहीं हो पाती है। परिणामस्वरूप वह कुपोषण का शिकार हो सकता है।

उम्र, लिंग, गतिविधि और शारीरिक स्थिति के अनुसार भोजन की अनुपलब्धता –

पोषक तत्वों की मांग व्यक्ति की उम्र, लिंग, गतिविधि और शारीरिक स्थिति के अनुसार अलग-अलग होती है। उदाहरण के लिए, किशोरावस्था एक विकास अवधि है जिसमें शरीर को अधिक विकास करने वाले पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है।

अधिक शारीरिक श्रम करने वाले व्यक्ति को अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है। विशेष शारीरिक परिस्थितियों में पोषक तत्वों की आवश्यकता भी बदलती रहती है। ऐसे में यदि शारीरिक आवश्यकता के अनुरूप पोषक तत्वों की पूर्ति नहीं हो पाती है तो व्यक्ति कुपोषण का शिकार हो सकता है।

आर्थिक कारक –

किसी व्यक्ति की आर्थिक स्थिति खाद्य पदार्थों की उपलब्धता और पसंद को प्रभावित करती है। निम्न आय वर्ग के लोग महंगे खाद्य पदार्थों को अपने दैनिक आहार में शामिल नहीं कर पाते हैं। उनकी क्रय शक्ति कम है। उनके द्वारा खाया गया भोजन मात्रा और गुणवत्ता दोनों में अधूरा हो सकता है और व्यक्ति कुपोषण का शिकार हो सकता है।

सामाजिक एवं सांस्कृतिक कारक –

सामाजिक कारक जैसे रीति-रिवाज, विशेष परिस्थितियों में प्रतिबंधित भोजन, उपवास आदि भी व्यक्ति के शरीर में कुपोषण पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

अज्ञानता –

कुपोषण को बढ़ावा देने में अज्ञानता भी एक महत्वपूर्ण कारक है। कई बार लोग अज्ञानता के कारण पौष्टिक तत्वों से युक्त खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल नहीं करते हैं। यह धारणा भी गलत है कि केवल महंगे खाद्य पदार्थ खाकर ही अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त किया जा सकता है।

सस्ते मौसमी फल और सब्जियाँ भी विटामिन और खनिज जैसे पोषक तत्वों की आवश्यकता को पूरा कर सकते हैं। अनुसंधान से यह साबित हो चुका है कि आहार में मोटे अनाज को जगह देना स्वास्थ्य की दृष्टि से बेहतर है। यदि खाद्य पदार्थों को पकाते समय अज्ञानतावश उचित विधि का प्रयोग न किया जाए तो पोषक तत्व नष्ट हो सकते हैं।

अस्वास्थ्यकर वातावरण –

यदि लोग अपनी और खान-पान की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान नहीं देते हैं तो वे डायरिया, संक्रमण आदि से पीड़ित हो सकते हैं। यदि यह लंबे समय तक चलता रहे तो कुपोषण का कारण बन सकता है। इसके साथ ही अगर व्यक्ति दूषित वातावरण में रहता है तो ऐसी स्थिति में उसे पर्याप्त धूप और शुद्ध हवा नहीं मिल पाती है। ऐसी परिस्थितियाँ व्यक्ति में कुपोषण का कारण भी बन सकती हैं।

दोषपूर्ण पाचन एवं अवशोषण –

यदि व्यक्ति का पाचन तंत्र रोगग्रस्त है तो उसके द्वारा खाए गए भोजन का पाचन और पोषक तत्वों का अवशोषण प्रभावित होगा। यह स्थिति कुपोषण का कारण बन सकती है।

खान-पान की गलत आदतें –

खान-पान की दोषपूर्ण आदतें जैसे सिर्फ स्वाद के लिए भोजन करना, सही समय पर भोजन न करना, अधिक तला-भुना और मसालेदार भोजन करना आदि भी कुपोषण का संभावित कारण बन सकते हैं।

कुपोषण से बचाव के उपाय :-

दुनिया भर के ऐसे देशों में कुपोषण एक बड़ी समस्या है, खासकर जहां गरीबी है और जहां अज्ञानता, निर्धनता, रूढ़िवादिता और अंधविश्वास अधिक है। विश्व से कुपोषण को हमेशा के लिए ख़त्म करने के लिए सभी एजेंसियों ने कमरतोड़ प्रयास किये हैं और कर रहे हैं। उनकी मदद से भारत सरकार भी इसे हटाने के लिए काम कर रही है।

राष्ट्रीय स्तर के कार्यों के अंतर्गत निम्नलिखित कार्यों को शीघ्रता से नीति निर्धारण कर क्रियान्वित किया जाना चाहिए, ये हैं –

  • मूल्य नियंत्रण
  • पोषण शिक्षा
  • विकिरणित भोजन
  • जनसंख्या नियंत्रण
  • खाद्य उत्पादकता में वृद्धि
  • खाद्य पदार्थों में मिलावट की रोकथाम
  • भोजन का सुदृढ़ीकरण एवं संवर्धन
  • सस्ते पूरक आहार का आविष्कार

संक्षिप्त विवरण :-

भारतीय परिवार की गरीबी और अज्ञानता का एकमात्र कारण अत्यधिक बढ़ी हुई जनसंख्या है। जनसंख्या इतनी तेजी से बढ़ रही है कि जनसंख्या विस्फोट हो गया है। गरीबी और अज्ञानता तथा परिणामी कुपोषण तथा कई अन्य दुष्परिणामों को समाप्त नहीं किया जा सकता। जब तक जनसंख्या पर नियंत्रण नहीं होगा।

FAQ

कुपोषण किसे कहते हैं?

कुपोषण कितने प्रकार के होते हैं?

कुपोषण के कारण बताइए?

अल्पपोषण क्या है?

अति पोषण क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *