सर्वेक्षण क्या है? सर्वेक्षण का अर्थ, सर्वेक्षण के प्रकार

प्रस्तावना :-

सर्वेक्षण उपकरण किसी एक सामाजिक विज्ञान विषय की विशिष्ट पद्धति नहीं है, बल्कि कई क्षेत्रों में इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। इस व्यापक प्रयोग की खूबियों ने अनुप्रयुक्त विज्ञानों में सर्वेक्षण विधियों को अत्यधिक उपयोगिता प्रदान की है।

सर्वेक्षण उन व्यक्तियों या व्यक्तियों के प्रतिदर्श के सीधे संपर्क पर आधारित है जिनकी विशेषताएँ, या दृष्टिकोण किसी विशिष्ट शोध के लिए प्रासंगिक हैं। इस प्रकार, सर्वेक्षण पद्धति अनुभवजन्य अध्ययन है और पुस्तकालय अनुसंधान से पूरी तरह अलग है।

सर्वेक्षण विधि का प्रयोग विशेष रूप से तब किया जाता है जब वांछित जानकारी अन्य स्रोतों से आसानी से और कम लागत पर प्राप्त नहीं की जा सकती है। सर्वेक्षण के लिए समग्र का चयन सर्वेक्षण के उद्देश्यों द्वारा निर्धारित किया जाता है। कभी-कभी पूरे देश में सर्वेक्षण किए जाते हैं। कभी-कभी किसी विशेष भौगोलिक क्षेत्र या नगर को संपूर्ण माना जाता है। कई सर्वेक्षण एक निश्चित व्यवसाय, जाति, धर्म, सेवा की अवधि, शैक्षिक स्तर, या राजनीतिक संबद्धता के लोगों के समूह का सर्वेक्षण करते हैं। किसी भी व्यवहार संबंधी समस्याओं का अध्ययन करने के लिए उनसे प्रतिनिधित्वात्मक प्रतिदर्श लेकर सर्वेक्षण किया जाता है।

अनुक्रम :-
 [show]

सर्वेक्षण का अर्थ :-

‘सर्वेक्षण’ का अंग्रेजी अनुवाद ‘Survey’ है। इस विधि का प्रयोग सामान्यत: सामाजिक तथा शैक्षिक समस्याओं के अध्ययन के लिए किया जाता है। जब अनुसंधानकर्ता कम समय में किसी सामाजिक व्यवहार का अध्ययन करना चाहता है या थोड़े समय में लोगों की राय का सर्वेक्षण करना चाहता है, तो वह सर्वेक्षण विधि का उपयोग करता है।

सर्वेक्षण सामाजिक अनुसंधान की वह विशिष्ट शाखा है जिसके अंतर्गत सामाजिक जीवन के किसी भी पहलू या व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारकों को निर्धारित करने के संदर्भ में तथ्यों और सामग्री का व्यवस्थित विश्लेषण और व्याख्या की जाती है।

सर्वेक्षण एक वैज्ञानिक अध्ययन है, एक प्रक्रिया जिसके द्वारा एक निश्चित भौगोलिक क्षेत्र में होने वाली घटनाओं के बारे में विश्वसनीय तथ्यों का विस्तृत संकलन किया जाता है। इसकी सहायता से किसी भी पक्ष, विषय या समस्या का अन्वेषणात्मक निरीक्षण किया जाता है और उससे संबंधित विश्वसनीय विस्तृत तथ्यों का संकलन करके वास्तविक और अनुभवजन्य रूप से निष्कर्ष निकाला जाता है। इन्हीं निष्कर्षों के आधार पर रचनात्मक योजनाओं का निर्माण कर समाज सुधार एवं समाज कल्याण की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य किया जाता है।

सर्वेक्षण की परिभाषा :-

सर्वेक्षण शब्द का प्रयोग इतने व्यापक और इतने व्यापक रूप से किया गया है कि एक निश्चित सार्वभौमिक परिभाषा देना उचित प्रतीत नहीं होगा, क्योंकि कोई भी परिभाषा इसकी सभी विशेषताओं, उद्देश्यों, प्रकारों और अभिकल्पों पर प्रकाश नहीं डाल पाएगी। हालाँकि, इसे ठीक से समझने के लिए, कुछ प्रतिष्ठित शब्दकोशों, विश्वकोशों और लेखकों द्वारा प्रस्तुत सर्वेक्षण की परिभाषाएँ, जो यहाँ प्रस्तुत की जा रही हैं, विशेष रूप से अंतर्दृष्टिपूर्ण हैं: –

“सर्वेक्षण अनुसंधान समाज वैज्ञानिक खोज की वह शाखा है जो समाजशास्त्रीय एवं मनोवैज्ञानिक परिवत्यों की सापेक्ष घटना, आबंटन तथा पारस्परिक सम्बन्धों का पता लगाने के लिए समग्र से चुने हुए प्रतिदर्शों के चुनाव और अध्ययन द्वारा बड़ी एवं छोटी जनसंख्याओं (या समग्रों) का अध्ययन करती है।“

करलिंगर

“एक समुदाय के लगभग सम्पूर्ण जीवन या उसके किसी एक पक्ष जैसे- स्वास्थ्य, शिक्षा, मनोरंजन के संबंध में तथ्यों के प्रायः व्यवस्थित और विस्तृत एवं विश्लेषण को ही मोटे तौर पर सर्वेक्षण कहा जाता है।“

dictionary of sociology

“सर्वेक्षण आधुनिक सामाजिक विज्ञान की पारिभाषिक शब्दावली के अनुसार सामाजिक संस्था, समूह या क्षेत्र की वर्तमान स्थिति का विश्लेषण, निर्वचन और प्रतिवेदन करने का एक संगठित प्रयास है।”

एफ एल व्हिटनी

“एक समुदाय का सर्वेक्षण सामाजिक विकास की रचनात्मक योजना प्रस्तुत करने के उद्देश्य से किया गया, उसकी दशाओं तथा आवश्यकताओं का वैज्ञानिक अध्ययन है।”

ईडब्ल्यू बर्जेस

“सर्वेक्षण विधि का तात्पर्य निदर्शन एवं प्रश्नावली विधि द्वारा जनमत के मापन से है।“

चैपलिन

सर्वेक्षण की प्रकृति :-

उपरोक्त परिभाषाओं के आधार पर यह विशेष रूप से कहा जा सकता है कि सर्वेक्षण की प्रकृति वैज्ञानिक होती है। इसे अपने मूल रूप में एक वैज्ञानिक पद्धति कहा जा सकता है क्योंकि यह वह साधन है जिससे हम सामाजिक घटनाओं और सामाजिक समस्याओं के बारे में विश्वसनीय तथ्य एकत्र कर सकते हैं। इस दृष्टि से सर्वेक्षण सामाजिक सर्वेक्षण, सामाजिक घटनाओं और सामाजिक समस्याओं से संबंधित होते हैं। लेकिन इस संबंध में एक उल्लेखनीय शर्त यह है कि सर्वेक्षण में पूरे समाज की सभी घटनाओं या समस्याओं का एक ही समय में अध्ययन नहीं किया जाता है। इसका अध्ययन क्षेत्र एक समय में एक निश्चित भौगोलिक क्षेत्र तक ही सीमित है।

सर्वेक्षण के प्रकार :-

करलिंगर के अनुसार सर्वेक्षण चार प्रकार का होता है –

वैयक्तिक साक्षात्कार और अनुसूची –

यह विधि सामाजिक विज्ञान अनुसंधान में सर्वाधिक लोकप्रिय है। यह प्रदान किए गए संकलन की एक प्रमुख विधि है। इसके लिए एक प्रश्नावली या अनुसूची बनानी होगी। इसके लिए शोधकर्ता एक प्रश्नावली या अनुसूची बनाने में अधिक परिश्रम होता है जिसमें आयु, यौन, शिक्षा, आय, राय, दृष्टिकोण, व्यवहार का कारण आदि जैसी कई जानकारी शामिल होती है। हालाँकि, साक्षात्कार अनुसूची की तैयारी में अधिक पैसा लगता है और समय।

 इस पद्धति में प्राप्त जानकारी की प्रकृति समाजशास्त्रीय है जैसे यौन, वैवाहिक स्थिति, आय, राजनीतिक वरीयता, धार्मिक वरीयता आदि। यह जानकारी बहुत महत्वपूर्ण है। प्राप्त सूचनाओं के आधार पर आप भूत, वर्तमान और भविष्य के व्यवहार का विश्लेषण कर सकते हैं। इस विधि के माध्यम से संज्ञानात्मक वस्तुओं के प्रति उत्तरदाता के दृष्टिकोण, मत, राय और विश्वास को जाना जा सकता है।

चयन विधि –

इसमें, उत्तरदाताओं के प्रतिदर्श का चयन और साक्षात्कार किया जाता है। इसके बाद, प्राप्त विश्लेषण किया जाता है। इसमें खास बात यह है कि एक साथ कई निरीक्षक होते हैं।

दूरभाष सर्वेक्षण –

इस विधि से विस्तृत विवरण प्राप्त नहीं होता है। अतः इस विधि का प्रयोग भी कम होता है। हालांकि, यह तरीका कम समय भी लेता है और तेज गति से काम करता है। इस विधि का प्रयोग तब किया जाता है जब शोधकर्ता उत्तरदाता से अपरिचित है, जब उत्तरदाता केवल सरल प्रश्नों का उत्तर देना चाहता है, जब उत्तरदाता गैर-सहायक और गैर-प्रतिक्रियाशील होते हैं।

डाक प्रश्नावली –

जब डाक द्वारा सर्वेक्षण किया जाता है। इसमें सभी सवालों के जवाब मिलने की संभावना कम पाई जाती है। इसमें शोधकर्ता दिए गए उत्तरों की जांच करने में असमर्थ है।

सर्वेक्षण के उद्देश्य :-

“एक सर्वेक्षण जन-साधारण के किसी पक्ष पर प्रशासनिक तथ्यों की आवश्यकता या किसी कार्य-कारण सम्बन्ध की अन्वेषण करने या समाजशास्त्रीय सिद्धांत के किसी पक्ष पर नया प्रकाश डालने के लिए किया जा सकता है।“

मोजर तथा काल्टन

इस प्रकार मोजर और कैल्टन सामाजिक सर्वेक्षणों के वर्णनात्मक और व्याख्यात्मक दोनों उद्देश्यों पर जोर देते हैं। परन्तु विवेचनात्मक अध्ययन की सुविधा के लिए हम सर्वेक्षण के विभिन्न लक्ष्यों को निम्न प्रकार से प्रस्तुत कर सकते हैं –

सूचना प्रदान करना –

अधिकांश सर्वेक्षणों का लक्ष्य केवल किसी व्यक्ति को जानकारी प्रदान करना होता है। वह व्यक्ति किसी सरकारी विभाग से हो सकता है जो यह जानना चाहता है कि लोग भोजन पर कितना खर्च करते हैं, या व्यवसाय से संबंधित हो सकता है, जो यह जानना चाहता है कि लोग किस प्रक्षालक सामग्री का उपयोग कर रहे हैं, या कोई शोध संस्थान हो सकता है जो यह पता लगाना चाहता है वृद्धावस्था पेंशनरों के करों की स्थिति।

परिकल्पनाओं का निर्माण और परीक्षण –

अत्यधिक विकसित स्तर पर किए गए सर्वेक्षणों का उद्देश्य न केवल परिकल्पनाओं को तैयार करना है बल्कि उनका परीक्षण करना भी है। एक विशिष्ट शोध के तहत एक सर्वेक्षण के उद्देश्य उपलब्ध ज्ञान की सीमा पर निर्भर करते हैं। और अध्ययन से प्राप्त परिणामों का क्या और कैसे उपयोग किया जाता है।

सामाजिक गतिविधियों में करणीयता की जांच –

कई सर्वेक्षणों का लक्ष्य वर्णन करने के बजाय व्याख्या करना है। वस्तुतः सामाजिक सर्वेक्षण के अन्तर्गत सामाजिक परिघटनाओं का अध्ययन करते समय उन परिघटनाओं के अंतर्निहित कारणों का पता लगाया जाता है क्योंकि सामाजिक सर्वेक्षण की प्रथम मान्यता यह है कि कोई भी जीव शून्य से उत्पन्न नहीं हो सकता। दूसरे शब्दों में, यह मानता है कि प्रत्येक क्रिया का एक कारण होता है। इसलिए, सामाजिक घटनाएं आकस्मिक नहीं हैं।

सामाजिक स्थितियों, संबंधों और व्यवहारों का अध्ययन –

एक सामाजिक वैज्ञानिक के लिए, सर्वेक्षण का समान रूप से वर्णनात्मक लक्ष्य सामाजिक परिस्थितियों, संबंधों और व्यवहारों के रूप में हो सकता है। इस संबंध में, उदाहरण के लिए, विभिन्न प्रकार के परिवारों के आकार, संरचना और सामाजिक स्थिति, व्यय और उनकी आय आदि से संबंधित तथ्य एकत्र किए जा सकते हैं। वास्तव में, सामाजिक विज्ञानों के तथ्य संग्रह के इस प्रारंभिक चरण में, सर्वेक्षणों के विषयों के दायरे की वस्तुतः कोई सीमा नहीं है।

सामाजिक सिद्धांतों का सत्यापन –

सामाजिक सिद्धांतों के सत्यापन की आवश्यकता है क्योंकि इन सिद्धांतों का निर्माण एक विशेष सामाजिक व्यवस्था के संदर्भ में किया गया है। सामाजिक व्यवस्था हमेशा एक जैसी नहीं रहती, बल्कि उसमें परिवर्तन होते रहते हैं। अतः प्राचीन काल की सामाजिक व्यवस्था के सन्दर्भ में जो सिद्धांत बनाए गए हैं, वे नई और परिवर्तित सामाजिक व्यवस्था के लिए अनुपयुक्त सिद्ध हो सकते हैं।

अतः ऐसी स्थिति में पूर्व में बनाये गये सामाजिक सिद्धान्तों में परिवर्तन एवं वृद्धि की आवश्यकता हो सकती है। यही कारण है कि परिवर्तित सामाजिक व्यवस्था से पहले मौजूद सामाजिक नियमों और सिद्धांतों के सत्यापन की आवश्यकता है।

व्यावहारिक उपयोगितावादी या सुधारात्मक दृष्टिकोण –

अक्सर अधिकांश सर्वेक्षणों का लक्ष्य व्यावहारिक या उपयोगितावादी होता है। सामाजिक स्थितियों और समस्याओं का वैज्ञानिक सर्वेक्षण सामाजिक-रोगविज्ञान विश्लेषण में मदद करता है, जिससे योजनाओं को व्यवस्थित करना आसान हो जाता है। इस प्रकार समाज सुधार एवं समस्याओं के समाधान हेतु रचनात्मक योजना प्रस्तुत कर निर्णायक कदम उठाये जाते हैं। समुदाय की स्थिति और समस्याओं की गंभीरता के अनुसार सामाजिक सुधार और समस्या समाधान के लिए रचनात्मक योजनाएँ लागू की जाती हैं।

यहां यह उल्लेखनीय है कि सर्वेक्षणकर्ता सामाजिक योजनाकार नहीं है। वह केवल अपने सर्वेक्षण से प्राप्त ज्ञान के आधार पर रचनात्मक योजना बनाने के लिए आवश्यक सिद्धांतों को निर्धारित करता है। इसे वास्तविक रूप में लागू करना प्रशासकों, राष्ट्रीय नेताओं और समाज सुधारकों का काम है। इस प्रकार उपयोगिता की दृष्टि से सामाजिक सर्वेक्षण सामाजिक विकास एवं समस्याओं के समाधान का वैज्ञानिक प्रयास है।

किसी व्यवहार या घटना की पूर्वानुमान करना –

सर्वेक्षणों के उल्लेखनीय कार्यों में से एक मानव व्यवहार या घटनाओं की भविष्यवाणी करना है। कई बार, राजनीतिक दलों के सदस्य यह अनुमान लगाने के लिए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण करते हैं कि किस पार्टी को कितने वोट मिलने की संभावना है। इसी प्रकार तात्कालिक परिस्थितियों का सर्वेक्षण कर यह भी अनुमान लगाया जा सकता है कि इस वर्ष फसल कितने प्रतिशत बढ़ सकती है अथवा देश में कितने पर्यटकों के आने की संभावना है।

सामाजिक मानदंडों की खोज और सामान्यीकरण –

प्राय: प्रत्येक शोध का कार्य कुछ नियमों का पता लगाना होता है। कुछ सामाजिक सर्वेक्षण भी सामाजिक प्रक्रियाओं का अध्ययन करते हैं और नियमों की खोज करते हैं और उनका सामान्यीकरण करते हैं।

सर्वेक्षण की विशेषताएं :-

सर्वेक्षण की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं-

  1. सर्वेक्षण अन्तर्गत लोगों से सीधा सम्पर्क स्थापित कर तथ्य एवं सामग्री का संग्रह किया जाता है।
  2. सर्वेक्षण अंतर्गत किसी भौगोलिक क्षेत्र में रहने वाले सभी लोगों या सभी लोगों के प्रतिनिधि नमूने से तथ्यों का संग्रह किया जाता है।
  3. सर्वेक्षण अन्तर्गत तथ्यों का संकलन व्यक्तिगत साक्षात्कार के प्रयोग द्वारा अथवा तथ्यों के संकलन की अन्य विधियों या साधनों के आधार पर किया जाता है।
  4. सर्वेक्षण अन्तर्गत यद्यपि परिमाणात्मक सामग्री का अधिकांश संकलन किया जाता है, उसमें आवश्यकतानुसार गुणात्मक तथ्यात्मक सामग्री भी एकत्रित की जा सकती है।
  5. यह अक्सर संपूर्ण अध्ययन करने के लिए उस समग्र के एक प्रतिनिधित्वात्मक प्रतिदर्श का अध्ययन करता है। इसलिए, ऐसे अध्ययनों को अक्सर प्रतिदर्श सर्वेक्षण कहा जाता है।
  6. सर्वेक्षण व्यक्ति के सामाजिक जीवन के किसी पहलू या व्यवहार और उसके आपसी संबंधों को प्रभावित करने वाले कारकों का पता लगाने के संदर्भ में तथ्यों का संग्रह किया जाता है।
  7. सर्वेक्षण अन्तर्गत यथासम्भव तात्कालिक सामाजिक समस्याओं का यथासम्भव अध्ययन करने का प्रयास किया जाता है तथा साथ ही अध्ययन की उपलब्धियों के आधार पर समस्या के समाधान या समाधान के लिए उपयुक्त रचनात्मक कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाता है।

संक्षिप्त विवरण :-

सर्वेक्षण एक विशेष समुदाय के लोगों के रहने और काम करने की स्थिति के बारे में तथ्यों को संकलित करता है। सर्वेक्षण की विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए कहा गया है कि यह एक भौगोलिक क्षेत्र में रहने वाले सभी लोगों के प्रतिनिधि प्रतिदर्श से तथ्यों को एकत्र करता है और व्यक्तियों के किसी भी पहलू या व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारकों का पता लगाने के संदर्भ में तथ्य सामग्री एकत्र की जाती है।

FAQ

सर्वेक्षण से क्या अभिप्राय है?

सर्वेक्षण सामाजिक अनुसंधान की विशेष शाखा को संदर्भित करता है जिसमें सामाजिक जीवन के किसी भी पहलू या व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारकों के संबंध में तथ्यों और सामग्री का व्यवस्थित संग्रह और एक निश्चित भौगोलिक क्षेत्र में रहने वाले सभी व्यक्तियों या सभी व्यक्तियों के प्रतिनिधि प्रतिदर्श के साथ उनका संकलन, विश्लेषण तथा विवेचन किया जाता है।

सर्वेक्षण के प्रकार बताइए?

सर्वेक्षण के उद्देश्य क्या है?

सर्वेक्षण की विशेषताएं क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *