सामाजिक समस्या क्या है? अर्थ, परिभाषा, घटक, प्रकार, कारण

प्रस्तावना :-

सामाजिक समस्या की अवधारणा ने विकास और परिवर्तन की पृष्ठभूमि में एक नए विषय के रूप में समाजशास्त्र के उद्धव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। समाजशास्त्र का विकास समस्याग्रस्त वातावरण और परिस्थितियों के अध्ययन और समाधान के प्रयासों के रूप में हुआ है। सामाजिक समस्याओं के अध्ययन में सामाजिक विचारकों का ध्यान आकर्षित किया गया है क्योंकि यह सामाजिक जीवन का अभिन्न अंग है।

मानव समाज कभी भी सामाजिक समस्याओं से पूरी तरह मुक्त नहीं हुआ है और न ही निकट भविष्य में रहने की संभावना दिखाई देती है, लेकिन यह निश्चित है कि संचार की क्रांति और आधुनिक समय में मौजूद शिक्षा के प्रति लोगों की जागरूकता के परिणामस्वरूप, मनुष्य संवेदनशील हो गया और इन समस्याओं से अवगत हैं।

सामाजिक समस्या का अर्थ :-

सामाजिक समस्या का अर्थ समझने के लिए हमें सामाजिक और समस्या शब्द का अर्थ समझना उचित होगा। जब भी हम ‘सामाजिक’ शब्द का प्रयोग करते हैं, तो इसका अर्थ मानवीय संबंध, सामाजिक संरचना, संगठन आदि से होता है। समस्या ऐसे अवांछनीय और अनुचित व्यवहार या प्रथाओं को संदर्भित करती है, जो सामाजिक व्यवस्था में किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न करती हैं। इसलिए, सामाजिक संगठन, सामाजिक संरचना या मानवीय संबंधों में उत्पन्न होने वाली समस्याओं को सामाजिक समस्याएँ कहा जाता है।

सामाजिक समस्या हमेशा अलग होती है। इससे सामाजिक संगठन में उथल-पुथल हो सकती है और नियमित और सामान्य जीवन बुरी तरह प्रभावित हो सकता है। सामाजिक समस्या न केवल किसी विशेष स्थिति का सूचक है, बल्कि उस स्थिति की गंभीरता के बारे में सामाजिक चेतना या सामाजिक सरोकार भी दृष्टिकोण को व्यक्त करता है।

सामाजिक समस्या की परिभाषा :-

सामाजिक समस्या को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“सामाजिक समस्या व्यवहार का एक ऐसा रूप है जिससे समाज का एक बड़ा भाग व्यापक रूप से स्वीकृत एवं अनुमोदित मानदण्डो का उल्लंघन माना जाता है।”

रोबर्ट के. मर्टन एवं निस्वेत

“यह (सामाजिक समस्या) मानवीय सम्बन्धों की वह समस्या है जो स्वयं समाज को गम्भीर चुनौती देती है या अनेक लोगों की महत्त्वपूर्ण आकांक्षाओं में बाधा पैदा करती है।”

रोब अर्ल एवं  जी. जे. सेल्जनिक

“सामाजिक समस्या ऐसी परिस्थितियों का पुंज है जिसे समाज में बहुसंख्यक या पर्याप्त अल्पसंख्यक द्वारा नेतिकतया गलत समझा जा सकता है।”

ग्रीन

“सामाजिक समस्याएं सामाजिक आदर्शो का विचलन है जिनका निराकरण सामूहिक प्रयासों से ही सम्भव हो सकता है।“

मेरी ई.वाल्श एवं पॉल एच. फर्फ

“जब समाज के अधिकांश सदस्य किसी विशिष्ट दशा एवं व्यवहार प्रतिमानों को अवांछित और आपत्तिजनक मान लेते हैं तब उसे सामाजिक समस्या कहा जाता है।“

रिचर्ड सी. फुलर एवं रिचर्ड मेयर्स

“सामाजिक समस्या एक ऐसी स्थिति है जो अनेक व्यक्तियों को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करती है और जिसका हल समूह द्वारा सामूहिक क्रिया द्वारा निकाला जाता है।“

पॉल बी हॉर्टन एवं जीराल्ड आर. लेस्ती

सामाजिक समस्या के घटक :-

वींन वर्ग ने सामाजिक समस्या के निम्नलिखित घटकों का उल्लेख किया है:-

  • व्यवहार प्रतिमान जिसे समाज के अधिकांश लोग आपत्तिजनक मानते हैं, आपत्तिजनक सामाजिक समस्या कहलाते हैं।
  • सामाजिक समस्याएं समय, स्थिति, समय और सामाजिक दृष्टिकोण के आधार पर बदलती रहती हैं।
  • जनसंचार का माध्यम – दूरदर्शन, समाचार पत्र और पत्रिकाएँ, रेडियो, फिल्म, सामाजिक समस्याओं के बारे में समाज में जागरूकता पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • सामाजिक समस्या सामाजिक प्रतिमान और सामाजिक मूल्य के सापेक्ष है।
  • सामाजिक संबंधों पर इसके प्रभाव को ध्यान में रखते हुए सामाजिक समस्याओं का विश्लेषण किया जाता है।

सामाजिक समस्या के तत्व :-

फुलर ने सामाजिक समस्या के विश्लेषण में तीन तत्वों को प्रधानता दी है-

  1. चेतना
  2. नीति निर्धारण
  3. सुधार

चेतना –

चेतना समाज के अधिकांश लोगों के विश्वास और विश्वास को संदर्भित करती है कि समाज की ऐसी स्थिति या स्थिति समाज में मान्यता प्राप्त मानदंडों और संस्थागत मानदंडों के विपरीत व्यवहार है और इसे हटाने और उन्मूलन के लिए उचित प्रयासों की आवश्यकता है, अन्यथा यह समाज को विघटित कर सकता है।

नीति निर्धारण –

समाज में सामाजिक समस्याओं के अस्तित्व को स्वीकार करने के बाद, इसके निवारण और उन्मूलन के लिए लोगों से सुझाव मांगे जाते हैं और समितियों का गठन किया जाता है। उनके द्वारा सुझाए गए कई सुझावों में से कुछ सुझावों के व्यावहारिक पहलुओं को ध्यान में रखते हुए, उल्लिखित सामाजिक समस्या के समाधान, समाधान और उन्मूलन के लिए वांछित प्रयास किए जाते हैं और उक्त विषय में एक स्पष्ट नीति निर्धारित की जाती है।

सुधार –

सामाजिक समस्या के उपयुक्त साधनों का निर्धारण करने के बाद उनका व्यावहारिक रूप से उपयोग किया जाता है और वांछित सुधार लाने का प्रयास किया जाता है।

सामाजिक समस्या के प्रकार :-

जोन जे. केन ने सामाजिक समस्याओं को दो भागों में बांटा है:-

  1. प्रकट सामाजिक समस्याएं
  2. प्रच्छन्न/गुप्त सामाजिक समस्याएं

प्रकट सामाजिक समस्या –

प्रकट सामाजिक समस्या एक अवांछित सामाजिक स्थिति है जिसमें “राज्य या निजी एजेंसियों या दोनों द्वारा उपचारात्मक प्रयास किए जाते हैं।” आम आदमी को प्रकट सामाजिक समस्या से अवगत और जागरूक किया जाता है और लोगों को यह विश्वास हो जाता है कि ऐसी स्थिति समाज के अस्तित्व और बुनियादी प्रणालियों के सुचारू संचालन के लिए खतरा है। सामाजिक समस्याएं जैसे अपराध, बाल अपराध, शराब, बेरोजगारी, जनसंख्या, विस्फोट, निर्धनता आदि इस श्रेणी में शामिल हैं।

प्रच्छन्न / गुप्त सामाजिक समस्या –

गुप्त सामाजिक समस्या समाज की वह अवांछित स्थिति है, जिसके समाधान के लिए अभी तक कोई उपचारात्मक प्रयास नहीं किया गया है, फिर भी यह समाज के लिए खतरा होता। वास्तव में प्रच्छन्न सामाजिक समस्या वास्तविक रूप में, वास्तविकता के धरातल पर है, जो समाज के लिए किसी प्रकार का खतरा उत्पन्न नहीं करती है, लेकिन समाज का एक वर्ग इसे समाज के अस्तित्व के लिए भयावह मानता है।

यह तब तक सामाजिक समस्या नहीं लगती जब तक इसके बारे में लोगों में जागरूकता और जागरूकता पैदा नहीं की जाती है और इसे मिटाने के लिए सामूहिक प्रयास नहीं किए जाते हैं, लेकिन जब इन समस्याओं के बारे में समाज में जागरूकता पैदा होती है, तो यह प्रकट सामाजिक समस्याओं का रूप ले लेती है। और उन्हें सुलझाने और हल करने के लिए समाज द्वारा वांछित प्रयास किए जाते हैं।

इस संदर्भ में यह उल्लेख करना उचित होगा कि छुआछूत, सती प्रथा, बाल विवाह, विधवा पुनर्विवाह, असमानता सदियों से अव्यक्त सामाजिक समस्याएँ थीं, लेकिन धीरे-धीरे समाज में जागरूकता आने के बाद, निजी संगठनों और समाज के नेताओं ने सामूहिक प्रयास किए। उनका समाधान और उन्मूलन।

सामाजिक समस्याओं के कारण :-

सामाजिक समस्याएं कई कारकों और कारणों से उत्पन्न होती हैं। समस्या की प्रकृति को समझकर ही कारणों का पता लगाया जा सकता है। प्रमुख सामाजिक वैज्ञानिकों के विचारों का उल्लेख हैं।

रॉबर्ट ए. निस्बेट ने सामाजिक समस्या के मूल में चार प्रमुख कारणों का उल्लेख किया है। ये इस प्रकार हैं:-

  1. संस्थानों में संघर्ष
  2. सामाजिक गतिशीलता
  3. व्यक्तिवादी दृष्टिकोण
  4. व्याधिकीय स्थिति

रोब और सेल्ज़निक ने अपनी पुस्तक ‘major social problem’ में सामाजिक समस्याओं के पांच प्रमुख कारणों की रूपरेखा तैयार की है। ये इस प्रकार हैं:-

  1. पारस्परिक संबंधों को सुचारू रूप से संचालित करने और विनियमित करने के लिए संगठित समाज में लोगों की क्षमता का नुकसान।
  2. समाजीकरण की प्रक्रिया के माध्यम से उचित तरीके से और समान रूप से समाज के मानदंडों और मूल्यों को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में स्थानांतरित नहीं किया जाना।
  3. समाज के अधिकांश सदस्यों की आकांक्षाओं और अपेक्षाओं की संरचना में सामंजस्य का अभाव।
  4. समाज की संस्थाओं में विचलन पाया जाना।
  5. समाज के सदस्यों द्वारा समाज के मानदंडों और नियमों का उल्लंघन।

पॉल लैंडिस ने सामाजिक समस्याओं के चार प्रमुख कारणों का उल्लेख किया है, जो इस प्रकार हैं:

  1. व्यक्तिगत समायोजन में असफल होना।
  2. सामाजिक समस्या का दोष।
  3. संस्थागत समायोजन में विफलता का अस्तित्व।
  4. सामाजिक नीतियों में संस्थागत देरी।
सामाजिक समस्या
social problem

संक्षिप्त विवरण :-

सामाजिक समस्याएं किसी भी समाज की स्थितियां और दशाएँ हैं जो समाज के अस्तित्व, अन्योन्याश्रयता, ताकत और स्थापित मूल्यों के लिए खतरा हैं। सामाजिक समस्याएँ सामूहिक कल्याण में बाधाएँ उत्पन्न कर समाज को जागरूक एवं सचेतन बनाती हैं तथा उसके समाधान एवं समाधान के लिए वांछित प्रयास किये जाते हैं।

FAQ

सामाजिक समस्या क्या है?

सामाजिक समस्याओं के प्रमुख तत्त्व क्या है?

सामाजिक समस्याओं के कारण की विवेचना कीजिए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *