अपराध क्या है? अर्थ, परिभाषा, प्रकार

प्रस्तावना :-

अपराध एक सार्वभौमिक समस्या है जो हर समाज में किसी न किसी रूप में पाई जाती है। प्रत्येक समाज में सदस्यों के हितों और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कुछ नियम बनाए जाते हैं। समाज द्वारा बनाए गए इन नियमों का पालन करना सभी के लिए आवश्यक है, जो कोई भी इन नियमों का उल्लंघन करता है उसे समाज द्वारा दंडित किया जाता है। इस प्रकार, कानून द्वारा दंडनीय कार्य अपराध की श्रेणी में आते हैं।

आधुनिक युग में राज्य के नियमों के उल्लंघन को अपराध कहा जाता था, जबकि प्राचीन काल में दैवीय कानून के उल्लंघन को अपराध कहा जाता था। समाजशास्त्र के दृष्टिकोण से, सामाजिक व्यवस्था के खिलाफ होने वाली सभी क्रियाओं को अपराधी बनाया जा सकता है।

अपराध का अर्थ :-

अपराध, अंग्रेजी के ‘CRIME’ शब्द के हिन्दी पर्याय, जो मानक अंग्रेजी-हिन्दी कोश में दिए गए हैं, ‘क्राइम’ शब्द लैटिन भाषा के शब्द ‘CRIMEN’से उत्पन्न हुआ है जिसका अर्थ अलगाव है।

सरल शब्दों में, अपराध आपराधिक कानून का उल्लंघन है। कोई कृत्य कितना भी अनैतिक या गलत क्यों न हो, उसे तब तक अपराध नहीं कहा जाता जब तक कि उसे अपराधी-कानून में अपराध नहीं माना जाता।

दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है कि कानून का उल्लंघन अपराध कहलाता है। कानूनी दृष्टि से अपराध एक ऐसा कार्य है जो जनहित के लिए हानिकारक है। अपराध हमेशा सामाजिक रूप में हानिकारक होता है, इसलिए अपराध की अवज्ञा करना दंडनीय है।

अपराध की परिभाषा :-

अपराध को परिभाषित करने के तीन मुख्य प्रयास हैं –

  • कानूनी दृष्टिकोण से,
  • सामाजिक दृष्टिकोण से और
  • सामाजिक-कानूनी दृष्टिकोण से।

कानूनी दृष्टिकोण से, अपराध कानून द्वारा निषिद्ध कार्य है, जिसके बदले में इसके कर्ता को मृत्यु, जुर्माना, कारावास, कार्य-गृह, सुधार-गृह या जेल की सजा दी जा सकती है।

“अपराध कानूनी तौर पर वर्जित तथा साभिप्राय कार्य है। जिसका सामाजिक हितों पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। जिसका अपराधिक उद्देश्य है ओर जिसके लिए कानूनी तौर से दण्ड निर्धारित है।”

हालज़िरोम

 “अपराध कानून संहिता के उल्लंघन में जानबूझकर किया गया व्यवहार है जो बिना किसी प्रतिरक्षा अथवा औचित्य के किया गया है तथा जो राज्य द्वारा दण्डनीय है।”

टप्पन

“अपराध कोई भी वह क्रिया है जिसके द्वारा कानून का उल्लंघन होता है।”

मावरर

सामाजिक दृष्टिकोण से अपराध सामाजिक नियमों से विचलन है।

“सामाजिक दृष्टिकोण से अपराध अथवा बाल अपराध का अर्थ व्यक्ति के ऐसे व्यवहार से है जो मानवीय सम्बन्धों की उस व्यवस्था में बाधा डालता है जिसे समाज अपने अस्तित्व के लिए आवश्यक समझता है।“

हैकरवाल

“अपराध, व्यवहार आदर्श-प्रतिमान से विचलन अथवा इसे भंग करना है।“

सेलिन

“अपराध किसी निश्चित स्थान पर संगठित समाज द्वारा स्वीकृत मूल्यों के संग्रह का उल्लंघन है।”

काल्डवेल

सामाजिक-कानूनी दृष्टिकोण से, अपराध एक असामाजिक व्यवहार है जिसने कानून द्वारा निषिद्ध सीमा तक सार्वजनिक भावना को तोड़ा है।

“अपराध की परिभाषा एक कार्य या गलती (भूल), पापमय या गैर-पापमय के रूप में दी जा सकती है जो सम्बन्धित देश के विशिष्ट समय पर लागू कानून के अन्तर्गत दण्ड योग्य है।”

सेथना

“अपराध वह कार्य है जिसको राज्य ने समूह के कल्याण के लिए हानिकारक माना है और जिसके प्रति दण्ड देने की शक्ति राज्य के पास रहती है।”

लैण्डिस एवं लैण्डिस

अपराध की सामाजिक दृष्टि से व्याख्या :-

सदरलैंड ने सामाजिक दृष्टिकोण से किसी व्यवहार को अपराध बनाने के लिए तीन बातों पर जोर दिया है:

  1. एक मूल्य जिसे एक समूह या उसके एक भाग द्वारा महत्वपूर्ण माना जाता है।
  2. इस समूह में एक दूसरा भाग है जो उस मूल्य के अधिक या विरोध में हो और इस कारण उसके लिए घातक साबित हो,
  3. एक स्पष्ट या उचित दंड प्रणाली के लिए जो उस मूल्य के मूल्यों का अनादर करने वालों पर लागू किया जाना चाहिए।

टाफ्ट ने सामाजिक दृष्टि से अपराध में दो बातों को सम्मिलित किया है –

१. सामाजिक दृष्टि से वे कार्य अपराध हैं, जिनकी समाज द्वारा मनाही है। ऐसे कृत्यों को समाज पाप, अनैतिक दुराचार और परंपराओं को तोड़ने वाला मानता है। समाज द्वारा निषेध समाज अनौपचारिक रूप से कार्य करने वाले व्यक्ति को दण्डित करता है, जैसे उसका अपमान करना, सामाजिक बहिष्कार का उपहास करना आदि। ऐसा कार्य करने वाले व्यक्ति की सामाजिक प्रतिष्ठा भी गिरती है। अपराध की गंभीरता का आकलन अपराधी क्रिया के समाज पर पड़ने ‘वाले प्रभाव के आधार पर किया जाता है।

२. सामाजिक दृष्टिकोण से, अपराध भविष्य के कार्यों की तुलना में किसी व्यक्ति के पिछले कार्यों से अधिक संबंधित होता है। कानून व्यक्ति को उसके पिछले आपराधिक कार्यों के लिए अधिक सजा देता है। इसमें बदले की भावना होती है जबकि सामाजिक दृष्टि से अपराध एक ऐसी क्रिया है जो आने वाले समाज के लिए हानिकारक हो सकती है।

अपराध के प्रकार :-

‘अपराध को गहनता’ के आधार –

इलियट और मेरिल ने ‘ अपराध को गहनता’ के आधार पर अपराध को निम्नलिखित २ श्रेणियों में विभाजित किया है:

कदाचार अथवा कम गम्भीर अपराध –

साधारण अपराध या छोटा अपराध एक ऐसा अपराध है जो कानून की दृष्टि से गंभीर नहीं है। उदाहरण के लिए जुआ खेलना, शराब पीना, बिना टिकट यात्रा करना, असावधानी से दुर्घटना आदि छोटे अपराध कहलाते हैं। इस प्रकार के अपराध में व्यक्ति को सजा भी दी जाती है; जैसे फाइन या साधारण केद आदि।

महापराध अथवा गम्भीर अपराध –

गंभीर अपराध एक ऐसा अपराध है जो गंभीर प्रकृति का भी होता है। उदाहरण के लिए, हत्या, बलात्कार, राजद्रोह आदि गंभीर अपराध हैं। इन गंभीर अपराधियों को दी जाने वाली सजा की प्रकृति भी गंभीर है। इनके लिए आजीवन कारावास और मौत की सजा का प्रावधान है।

कई विद्वानों (जैसे जेम्स स्टीफन) ने इस वर्गीकरण की आलोचना की है क्योंकि यह अपराध के वर्गों को अधिक स्पष्ट नहीं करता है। इस वर्गीकरण की सबसे बड़ी कमी यह है कि इसका उपयोग अपराधियों के लिए भी किया जाता है। एक व्यक्ति एक सप्ताह के लिए महाप्रदा और दूसरे सप्ताह में दुराचार कर सकता है, इसलिए यह वर्गीकरण अधिक उपयुक्त नहीं है।

‘अपराध की प्रकृति’ के आधार –

बोंगर ने ‘अपराध की प्रकृति’ के आधार पर अपराधों को ४ श्रेणियों में विभाजित किया है:

आर्थिक अपराध –

इस प्रकार के अपराध का मुख्य उद्देश्य, जैसा कि इसके नाम से ही स्पष्ट है, धन प्राप्त करना है। गबन, चोरी, डकैती आदि आर्थिक अपराधों के कुछ उदाहरण हैं।

यौन अपराध –

इस तरह के अपराध समाज द्वारा एक अवैध (कानून द्वारा निषिद्ध) के साथ यौन संतुष्टि से संबंधित हैं। बलात्कार, अप्राकृतिक यौन संबंध, अवैध वेश्यावृत्ति आदि यौन अपराधों के प्रमुख उदाहरण हैं।

राजनीतिक अपराध –

ऐसे अपराध मुख्य रूप से राजनीतिक व्यवस्था में असंतुलन या राज्य की शांति भंग करने से संबंधित होते हैं। राजद्रोह, सांप्रदायिकता आदि राजनीतिक अपराध हैं।

विविध अपराध –

उपरोक्त तीन श्रेणियों में शामिल नहीं होने वाले अपराधों को इस श्रेणी में रखा गया है। प्रतिशोध, आगजनी, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना आदि इस श्रेणी के उदाहरण हैं।

संक्षिप्त विवरण :-

समाजशास्त्रीय दृष्टि से वे सभी व्यवहार जो असामाजिक होते हैं, अपराध कहलाते हैं। समाजशास्त्रीय दृष्टि से अपराध की परिस्थितियों पर अधिक बल दिया जाता है। जिसमें यह जोड़ने का प्रयास किया गया है कि वे कौन-सी परिस्थितियाँ हैं जो व्यक्ति को अपराध की ओर ले जाती हैं। यह व्याख्या अपराध के परिणामों पर जोर नहीं देती है, इसलिए यह दंड की तुलना में सुधार से अधिक संबंधित है। अपराध की कानूनी व्याख्या अपराध के परिणाम और सजा से घनिष्ठ रूप से जुड़ी हुई है।

कई बार किसी एक कार्य को सामाजिक और कानूनी दृष्टिकोण से अपराध माना जाता है, लेकिन कभी-कभी ये दृष्टिकोण परस्पर विरोधी पाए जाते हैं। मृत्युभोज सामाजिक अपराध नहीं, बल्कि कानूनन अपराध है। अंतरजातीय विवाह कानूनी रूप से अपराध नहीं है, बल्कि सामाजिक दृष्टि से यानी जाति के नियमों के अनुसार अपराध है। चोरी सामाजिक और कानूनी दोनों तरह से एक अपराध है।

FAQ

अपराध किसे कहते हैं?

अपराध के प्रकार बताइए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *