नगरीय समाजशास्त्र का महत्व, नगरीय समाजशास्त्र की प्रकृति

प्रस्तावना :-

नगरीय समाजशास्त्र एक नया विषय है, जो कई शहरों और नगरीय समुदायों से संबंधित है। नगरीय समुदाय, शहरी जीवन, परिवार व्यवस्था और सामाजिक संबंधों के जीवन के तरीके का विस्तार से विश्लेषण करता है। यद्यपि शहरी अध्ययन प्राचीन काल से एक प्रमुख विषय रहा है, लेकिन नगरों का अध्ययन 16वीं शताब्दी में इटली के विचारक गियोवानी बोटरो द्वारा शुरू किया गया था।

इसके बाद पार्क और बर्गेस ने नगरीय समाजशास्त्र को आगे बढ़ाने में विशेष सहायता प्रदान की। पार्क की पुस्तक “The City”और बर्गस की “The Urban Community”के प्रकाशन ने नागरोय समाजशास्त्र की स्थापना में एक प्रमुख भूमिका निभाई।

अनुक्रम :-
 [show]

नगरीय समाजशास्त्र की अवधारणा :-

प्रत्येक मानव समूह समुदाय और उस समाज में रहता है । जिसमें वह रहता है इसका उनके व्यक्तित्व, व्यवहार और जीवन स्तर पर विशेष प्रभाव पड़ता है। चूंकि मनुष्य को समाज का अभिन्न अंग माना जाता है। इसलिए, उनके विभिन्न सामाजिक समूहों का उन पर विशेष प्रभाव है।

विभिन्न सामाजिक समूहों में ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों तथा नगरीय एवं ग्रामीण पर्यावरण एवं संस्कृति का विशेष स्थान है। जिसका मनुष्य के सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक जीवन पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।

नगरीय समाजशास्त्र वर्तमान समय में समाजशास्त्र की एक महत्वपूर्ण उपशाखा है। जिसके अन्तर्गत नगरीय जीवन, रहन-सहन के स्तर, विभिन्न सामाजिक घटनाओं, सामाजिक समस्याओं एवं नगरीय सामाजिक क्रियाओं, सामाजिक सम्बन्धों, सामाजिक संरचनाओं का सम्पूर्ण वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता है।

नगरीय समाजशास्त्र का अर्थ :-

नगरीय समाजशास्त्र को दो शब्दों ‘नगरीय’ और ‘समाजशास्त्र’ से समझा जा सकता है। ‘नगरीय’ शब्द का अर्थ एक शहरी समुदाय है जिसमें ग्रामीण समुदाय के विपरीत जीवन जीने के तरीके के साथ व्यक्तिगत, पारिवारिक और सामाजिक संबंध शामिल हैं। ‘समाजशास्त्र’ शब्द का अर्थ समाजशास्त्र विभिन्न सामाजिक संस्थाओं और समाज के मानवीय सामाजिक संबंधों के अध्ययन से होता है। इस प्रकार, नगरीय समाजशास्त्र नगरीय समाज में रहने वाले लोगों के सामाजिक संबंधों और जीवन के अध्ययन से संबंधित है।

वास्तव में नगरीय समाजशास्त्र मुख्य रूप से नगरीय समाज की अनेक सामाजिक क्रियायों, व्यक्तियों के मध्य सामाजिक सम्बन्धों, विभिन्न सामाजिक संस्थाओं, नगरीय सामाजिक संरचनाओं एवं संस्कृति पर पड़ने वाले सकारात्मक एवं नकारात्मक प्रभावों के अध्ययन से संबंधित विषय है।

नगरीय समाजशास्त्र की परिभाषा :-

नगरीय समाजशास्त्र को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“नगरीय समाजशास्त्र कस्बों और नगरों में समाज और जीवन के ढंग से संबंधित है।”

एण्डरसन

“नगरों का अध्ययन और उससे संबंधित सभी समस्याओं का अध्ययन समाजशास्त्र की एक नवीन और महत्वपूर्ण शाखा नगरीय समाजशास्त्र में किया जाता है। ये नगरीय समस्याएं मानवीय समस्याएं हैं और इनका हल मनुष्य के द्वारा मानवीय ढंग से ही होना चाहिए।”

एल0 डब्ल्यू0 ब्राइस एवं बैंजामिन खान

“नगरीय सामाजिक क्रियायों, सामाजिक संबंधों, सामाजिक संस्थाओं पर शहरी जीवन के प्रभाव और शहरी जीवन के ढंग पर आधारित और इससे विकसित सभ्यताओं के प्रकारों से संबंधित है।”

बर्गल

“नगरीय समाजशास्त्र नगर के जीवन और समस्याओं का विशिष्ट अध्ययन है।”

हॉब हाउस

“नगरीय समाजशास्त्र नगरीय पयार्वरण में मानव और नगरीय समूहों के पारस्परिक संबंधों का अध्ययन है।”

लॉरी नेल्सन

“एक सामाजिक वैज्ञानिक के रूप में, नगरीय समाजशास्त्री उस सम्पूर्ण जटिल परिस्थिति और सभी अंतर्संबंधों में रुचि रखते हैं, जो कि नगरीय सामाजिक जीवन जीवन का निर्माण करते हैं। यह नगरीय समग्र के एक अंग में नहीं, बल्कि सम्पूर्ण नगरीय समग्र का अध्ययन करता है।”-

इरिवसन

नगरीय समाजशास्त्र की उत्पत्ति और विकास :-

नगरीय समाजशास्त्र की उत्पत्ति एवं विकास के संदर्भ में प्रसिद्ध अमेरिकी समाजशास्त्री रॉबर्ट पार्क को नगरीय समाजशास्त्र का जनक कहा जाता है। 1925 में रॉबर्ट पार्क की पुस्तक ‘दि सिटी’ प्रकाशित हुई। इसी वर्ष बर्गेस की पुस्तक ‘दि अर्बन कम्युनिटी’ भी प्रकाशित हुई, जिसने नगरीय समाजशास्त्र को विकसित करने का प्रयास किया।

नगरीय समाजशास्त्र के प्रारंभिक दौर में यह विषय पारिस्थितिक अध्ययन से संबंधित था, जिसमें नगरों की विभिन्न समस्याओं एवं समाज के प्रमुख रूपों का अध्ययन प्रमुख रूप से किया जाता था। 1925 से 1950 के बीच नगरों से संबंधित अनेक अध्ययन अनेक समाजशास्त्रियों द्वारा किए गए।

इसलिए, इस अवधि या अवधि को शहरी समाजशास्त्र का विकास काल कहा जाता है। 20वीं शताब्दी के पूर्वार्द्ध में अमेरिका के शिकागो विश्वविद्यालय में नगरीय समाजशास्त्र में उल्लेखनीय कार्य किए गए। जिसने नगरीय समाजशास्त्र को एक नई दिशा दी।

अतः कहा जा सकता है कि नगरीय समाजशास्त्र एक विशिष्ट विज्ञान के रूप में स्थापित हो रहा है तथा इस अध्ययन में मानव नगरीय जीवन से सम्बन्धित प्रत्येक परिप्रेक्ष्य का गहन अध्ययन किया जा रहा है।

नगरीय समाजशास्त्र की प्रकृति :-

नगरीय समाजशास्त्र की प्रकृति वैज्ञानिक मानी जाती है, क्योंकि इसका अध्ययन वैज्ञानिक तरीके से क्रमबद्ध एवं व्यवस्थित तरीके से किया जाता है। समाजशास्त्र की प्रकृति वैज्ञानिक क्यों हैं? इसे निम्नांकित आधार पर समझा जा सकता है।

वैज्ञानिक पद्धति का प्रयोग –

नगरीय समाजशास्त्र का अध्ययन वैज्ञानिक विधियों के आधार पर किया जाता है। तथ्यों का संग्रह और व्याख्या तथा विभिन्न नियमों का अध्ययन वैज्ञानिक विधियों जैसे अवलोकन विधि, व्यक्तिगत जीवन अध्ययन विधि, सर्वेक्षण विधि, समाजमिति और प्रयोगात्मक विधि और वर्गीकरण और सारणीयन विधि द्वारा किया जाता है। ताकि अध्ययन में सटीक निष्कर्ष प्राप्त किया जा सके।

सिद्धांतों की पुनः परीक्षण संभव है –

नगरीय समाजशास्त्र में निर्मित सिद्धांत और तथ्य। इनकी नगरीय भी की जा सकती है, क्योंकि किसी भी सिद्धांत या तथ्यों के बनने के बाद इनकी प्रामाणिकता जानने के लिए इनकी सत्यता को फिर से जांचने के लिए वैज्ञानिक तरीकों का इस्तेमाल संभव है।

सार्वभौमिक –

नगरीय समाजशास्त्र में सार्वभौमिकता का गुण है, क्योंकि इसके नियम हर जगह हैं और सभी जगहों पर समान रूप से लागू होते हैं। उदाहरण के लिए, औद्योगीकरण और नगरीकरण से शहरों का विकास और विस्तार होता है और इससे आवास की समस्या और मलिन बस्तियों का निर्माण होता है।

तथ्यात्मक निष्कर्षों पर आधारित –

नगरीय समाजशास्त्र में सामाजिक तथ्यों को उनके मौलिक रूप में प्रस्तुत किया जाता है। साथ ही, प्राप्त तथ्यों के आधार पर सिद्धांत और नियम बनते हैं।

भविष्यवाणी –

चूँकि नगरीय समाजशास्त्र के तथ्यों एवं सिद्धान्तों का निर्माण वैज्ञानिक विधियों द्वारा किया जाता है, परन्तु इस समाजशास्त्र में भी वर्तमान परिस्थितियों के आधार पर भावी परिवर्तन, विकास की गति एवं प्रगति का अनुमान लगाया जा सकता है। उदाहरण के लिए, शहरों पर तेजी से बढ़ती मलिन बस्ती के प्रभाव का अनुमान लगाया जा सकता है।

नगरीय समाजशास्त्र का क्षेत्र : –

नगरीय समाजशास्त्र एक आधुनिक सामाजिक विज्ञान है, जो शहरी जीवन के विभिन्न दृष्टिकोणों का अध्ययन करता है, जिसमें शहरीकरण, नगरवाद और नगरीय परिस्थितिशास्त्र प्रमुख हैं। वास्तव में, नगरीय समाजशास्त्र भी मानव समाज के अतीत और भविष्य और भविष्य में होने वाले कई परिवर्तनों का अध्ययन करता है। इसलिए आधुनिकीकरण के तेजी से बढ़ते नगरीय जीवन को समझने के लिए यह विज्ञान बहुत जरूरी है।

पार्क और बर्गेस ने नगरीय समाजशास्त्र के क्षेत्र की व्याख्या तीन तथ्यों के आधार पर की है:-

परिस्थितिशास्त्र –

यह शहरों में पाई जाने वाली भौगोलिक और प्राकृतिक परिस्थितियों का अध्ययन करता है। पार्क और बर्गेस ने इसे दो भागों में विभाजित किया है- मानव परिस्थितिशास्त्र और सामाजिक परिस्थितिशास्त्र। आज दोनों समाजशास्त्रियों का मानना है कि परिस्थितियाँ हर जगह एक जैसी नहीं होती हैं और परिस्थितियाँ हर जगह एक जैसी नहीं होती हैं और परिस्थितियाँ मानव व्यवहार, जीवन शैली और सामाजिक संबंधों को सबसे अधिक प्रभावित करती हैं।

सामाजिक संगठन –

नगरीय समाजशास्त्र में सामाजिक संगठन एक महत्वपूर्ण अध्ययन क्षेत्र है। पार्क और बर्गेस का मानना है कि नगरीय सामाजिक संगठन ग्रामीण सामाजिक संगठन से पूरी तरह अलग है। इसलिए इनके बारे में जानना बहुत जरूरी है।

सामाजिक संगठन के अन्तर्गत अध्ययन क्षेत्र में प्राथमिक एवं द्वितीयक समूहों का समावेश किया गया है जो सामाजिक संगठन के संगठन में योगदान करते हैं। इसके अतिरिक्त विभिन्न वर्गों, परिवारों, जातियों, सामाजिक संस्थाओं, आर्थिक एवं मनोरंजन तथा राजनीतिक संस्थाओं का विस्तृत अध्ययन किया जाता है।

सामाजिक विघटन

नगरीय जीवन का विशाल होना अनेक विघटनकारी शक्तियों को बढ़ाने का कार्य करता है। इसलिए, नगरीय समाजशास्त्र में विघटनकारी शक्तियों का अध्ययन किया जाता है। शहरी समाजशास्त्र के अंतर्गत अपराध, मलिन बस्तियों, नशीली दवाओं के दुरुपयोग, वेश्यावृत्ति, भिक्षावृत्ति, भ्रष्टाचार, पारिवारिक तनाव और संघर्ष और तलाक आदि प्रमुख विघटनकारी शक्तियों का अध्ययन किया जाता है।

पार्क और बर्गेस के अलावा, कई समाजशास्त्रियों ने नगरीय समाजशास्त्र के अध्ययन के क्षेत्र को कई भागों में विभाजित किया है:-

सामुदायिक जीवन का अध्ययन –

शहरी समाजशास्त्र नगर की संरचना और शहरी जीवन के सामाजिक संबंधों और कार्यात्मक विभाजनों का अध्ययन करता है

जीवन शैली का विश्लेषण –

शहरी जीवन शैली को शहरीकरण का परिणाम माना जाता है, जो ग्रामीण जीवन शैली के बिल्कुल विपरीत है। नगरीय समाजशास्त्र के अन्तर्गत नगरीय जीवन शैली, वेशभूषा, व्यवहार करने का ढंग, भाषा शैली आदि का अध्ययन किया जाता है।

संगठनात्मक पहलुओं का अध्ययन –

नगरीय समाजशास्त्र के अन्तर्गत प्राथमिक एवं द्वितीयक सामाजिक संस्थाओं का विस्तृत अध्ययन किया जाता है।

शहरी समस्याओं का अध्ययन –

नगरीय समाजशास्त्र के अन्तर्गत नगरीकरण एवं नगरीकरण से उत्पन्न विभिन्न समस्याओं का भी अध्ययन किया जाता है।

आर्थिक और राजनीतिक जीवन का अध्ययन –

नगरीय समाज में आर्थिक अर्थव्यवस्था को सर्वोच्च स्थान दिया जाता है। जिसमें उद्योग अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार हैं, जिसके परिणामस्वरूप शहरी गतिशीलता को बढ़ावा मिला है। इसी प्रकार, राजनीतिक केन्द्र होने के कारण नगर भी नगरीय समाज के प्रत्येक परिप्रेक्ष्य को प्रभावित करता है। इसलिए, शहरी समाजशास्त्र में शहरी आर्थिक और राजनीतिक जीवन का अध्ययन किया जाता है।

सामाजिक प्रक्रियाओं का अध्ययन –

सामाजिक प्रक्रियाएं सामाजिक संगठन और समाज को व्यवस्थित करने में प्रमुख भूमिका निभाती हैं। नगरीय सामाजिक प्रक्रियाओं में सहयोगात्मक, असहयोगी, विभेदीकरण एवं प्रतिस्पर्धा आदि प्रमुख हैं। जिन्हें नगरीय समाजशास्त्र के अध्ययन क्षेत्र में सम्मिलित किया गया है।

नगरीय समाजशास्त्र का महत्व :-

आधुनिक समाज विकास और तकनीकी विकास का प्रतीक है, और जैसे-जैसे नगरीकरण और औद्योगीकरण की प्रक्रिया तेज होती है, नगरीय समाजशास्त्र की उपयोगिता भी बढ़ती है। ऐसा माना जाता है कि जैसे-जैसे विकास की प्रक्रिया तीव्र होती जाती है।

इसी प्रकार समाज में अनेक समस्याएँ उत्पन्न हो जाती हैं। इसलिए, इन समस्याओं को समझने और हल करने के लिए शहरी समाजशास्त्र एक महत्वपूर्ण विज्ञान के रूप में उभर रहा है। नगरीय समाजशास्त्र के महत्व को निम्नलिखित तथ्यों द्वारा समझाया जा सकता है:-

विशिष्ट शाखा –

नगरीय समाजशास्त्र, समाजशास्त्र की एक विशेष शाखा है। जिसके अंतर्गत नगरीय एवं नगरीय परिस्थितियों में व्यक्ति एवं समाज के विभिन्न दृष्टिकोणों का अध्ययन किया जाता है। जिनका अध्ययन किसी अन्य सामाजिक विज्ञान के अंतर्गत नहीं किया जाता है।

विभिन्न समस्याओं का अध्ययन –

नगरीय समाज को एक जटिल समाज माना जाता है। जटिल समाज होने के कारण यहाँ अनेक प्रकार की समस्याएँ भी उत्पन्न होती हैं। अतः नगरीय समाजशास्त्र के अन्तर्गत इन समस्याओं का गहन अध्ययन किया जाता है। ताकि भविष्य में इन समस्याओं को दूर करने में मदद मिल सके।

वैज्ञानिक अध्ययन –

नगरीय समाजशास्त्र प्रकृति में वैज्ञानिक है। अतः वैज्ञानिक अध्ययन विधियों की सहायता से नगरीय सामाजिक समूहों, संस्थाओं, संगठनों एवं संरचनाओं का क्रमबद्ध एवं व्यवस्थित अध्ययन किया जाता है।

प्रगति और विकास में सहायक –

नगरीय समाजशास्त्र नगरीय संरचना और शहरी समाज के विभिन्न दृष्टिकोणों का अध्ययन करता है। जिससे समय-समय पर इसके परिवर्तन, विकास और प्रगति का आकलन भी किया जा सकता है।

नगर नियोजन में सहायक –

नगरों के विकास में नगर नियोजन का महत्वपूर्ण स्थान है। अत: नगरीय समाजशास्त्र इस दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है कि इसने नगरों के विकास की दिशा में अनेक नगर नियोजन नीतियों के अध्ययन में उन्हें व्यवस्थित रूप देकर उनका प्रारूप तैयार किया है।

नगरीय परिवर्तन –

नगरीय समाजशास्त्र नगरों में होने वाले विभिन्न परिवर्तनों का भी अध्ययन करता है जिससे नगरीय समाज में होने वाले परिवर्तनों को भी देखा जा सकता है। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि नगरीय समाजशास्त्र का अपना विशेष महत्व है, क्योंकि जहाँ एक ओर नगरों के विकास में औद्योगिक विकास का विशेष योगदान रहा है।

दूसरी ओर, कई शहरी समस्याएं भी उत्पन्न हो गई हैं। अत: नगरीय समाजशास्त्र एक पृथक् विज्ञान के रूप में इन सबका विस्तृत अध्ययन करता है और उन कारणों की व्याख्या भी करता है। ताकि भविष्य में होने वाले दुष्प्रभाव से बचा जा सके।

संक्षिप्त विवरण :-

नगरीय समाजशास्त्र, समाजशास्त्र की एक विशेष शाखा है जो शहरों की संरचना, शहरी समाज और जीवन स्तर के अध्ययन से संबंधित है। यदि नगरीय समाजशास्त्र की उत्पत्ति की बात करें तो यह विज्ञान कोई अति प्राचीन विज्ञान नहीं है, अपितु अनेक समाजशास्त्रियों ने भी इसे आधुनिक काल के अध्ययन के रूप में परिभाषित करने का प्रयास किया है।

नगरीय समाजशास्त्र के अध्ययन के महत्व को इस तथ्य से भी समझा जा सकता है कि यह अध्ययन जहाँ एक ओर नगरीय समाज, संगठनों, संस्थाओं और समूहों का विस्तृत अध्ययन उपलब्ध कराता है। वहीं दूसरी ओर नगरीय जीवन से उत्पन्न होने वाली अनेक समस्याओं को भी समझाने का प्रयास करता है। ताकि भविष्य में प्रगति और विकास में आने वाली बाधाओं और परिणामों को भी दूर किया जा सके।

FAQ

नगरीय समाजशास्त्र क्या है?

नगरीय समाजशास्त्र के जनक कौन है?

नगरीय समाजशास्त्र का क्षेत्र बताइए?

नगरीय समाजशास्त्र की प्रकृति क्या है?

नगरीय समाजशास्त्र का महत्व क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *