अवलोकन क्या है? अवलोकन का अर्थ एवं परिभाषा, महत्व, गुण, दोष

प्रस्तावना :-

सामाजिक विज्ञान के संदर्भ में अवलोकन पद्धति कोई नई पद्धति नहीं रही है। इस पद्धति का उपयोग प्राचीन काल से प्राकृतिक विज्ञानों में किया जाता रहा है।

और विज्ञान के क्षेत्र में होने वाले नए प्रयोगों और शोधों में सबसे प्रमुख और सबसे लोकप्रिय तरीका है प्रेक्षण या अवलोकन अथवा निरीक्षण। मनुष्य ने अपने चारों ओर के वातावरण का प्रथम ज्ञान अवलोकन द्वारा ही प्राप्त किया है। मनुष्य के पास अधिकांश ज्ञान अवलोकन का परिणाम है।

सामाजिक विज्ञानों में इस पद्धति का प्रयोग बाद में होता रहा है, लेकिन प्राकृतिक विज्ञानों में इसका प्रयोग संभवतः प्रारंभ से ही होता रहा है। गुडे और हाट अवलोकन को विज्ञान का आधार मानते हैं और लिखते हैं, “विज्ञान अवलोकन से शुरू होता है और इसे अवलोकन पर लौटना पड़ता है क्योंकि यह अंततः सत्यापन के लिए आवश्यक है।”

समाजशास्त्र के जनक अगस्त कॉम्ट जब समाजशास्त्र की रूपरेखा तैयार कर रहे थे, तब उन्होंने यह भी महसूस किया कि यदि समाजशास्त्र को विज्ञान का दर्जा देना है, तो इसकी विषय वस्तु का निर्माण अवलोकन द्वारा किया जाना चाहिए।

उनके उत्तराधिकारी माने जाने वाले समाजशास्त्री इमाइल दुर्खीमी ने भी अपनी पुस्तक “The Rules of Sociological Methods” में तथ्यों के वैज्ञानिक अवलोकन पर बल दिया है।

अनुक्रम :-
 [show]

अवलोकन की अवधारणा :-

अवलोकन विधि अनुसंधान की सबसे प्राचीन एवं प्रचलित पद्धति है। सृष्टि के आदिकाल से लेकर आज तक मनुष्य अपने जिज्ञासु स्वभाव के कारण अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए अवलोकन विधि का सहारा लेता रहा है। मनुष्य ने अपने चारों ओर के संसार का प्रारम्भिक ज्ञान अवलोकन द्वारा ही प्राप्त किया है।

मनुष्य के पास संचित अधिकांश ज्ञान अवलोकन का परिणाम है। सामान्य ज्ञान से लेकर सृष्टि के गूढ़ रहस्यों को जानने तक मनुष्य ने अवलोकन पद्धति का सहारा लिया है।

विभिन्न प्रकार के विज्ञानों के प्रारंभिक विकास में अवलोकन पद्धति ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। नक्षत्रों और ग्रहों का अवलोकन; वनस्पति विज्ञान और जीव विज्ञान का ज्ञान वनस्पतियों के फलने-फूलने और जन्म और मृत्यु के विकास, शारीरिक परिवर्तन और जीवों के अंतर के अवलोकन के आधार पर ही प्राप्त होता है।

प्राचीन काल से ही ज्ञान प्राप्ति में अवलोकन पद्धति के योगदान के कारण मोजर इसे वैज्ञानिक शोध की शास्त्रीय पद्धति कहते हैं। वस्तुत: सामाजिक विज्ञान की वह विधि जिसमें घटनाओं को आँखों द्वारा देखा और परखा जाता है, अवलोकन कहलाती है।

व्यवस्थित अवलोकन में घटनाओं को व्यवस्थित रूप से देखना, सुनना, समझना और लिखना भी शामिल है, यह नियोजित उद्देश्यपूर्ण और सैद्धांतिक मान्यताओं से संबंधित है।

अवलोकन का अर्थ :-

अवलोकन शब्द अंग्रेजी के ‘observation’ शब्द का हिंदी रूपान्तरण है, जिसका अर्थ है ‘देखना’, ‘प्रेक्षण’ और ‘ अवलोकन करना’। दूसरे शब्दों में, कार्य-कारण या पारस्परिक संबंधों को जानने के लिए प्राकृतिक रूप से होने वाली घटनाओं को बारीकी से देखना अवलोकन है।

अवलोकन प्राथमिक सामग्री के संकलन की एक प्रत्यक्ष और महत्वपूर्ण विधि है। अवलोकन में, शोधकर्ता घटनाओं की संबंधित सामग्रियों को देखता, सुनता, समझता और संकलित करता है। अवलोकन के लिए प्रेक्षक समूह या समुदाय के दैनिक जीवन में भी भाग ले सकता है और ऐसा वह दूर बैठकर भी कर सकता है। मनुष्य अवलोकन में अपनी इंद्रियों का उपयोग करता है।

सी. ए. मोजर ने अपनी पुस्तक ‘Survey Methods in Social Investigation’ में स्पष्ट किया है कि अवलोकन में कानों और वाणी की अपेक्षा आंखों के उपयोग की स्वतंत्रता पर बल दिया जाता है। अर्थात् यह किसी घटना को उसके वास्तविक रूप में देखने पर बल देता है।

अवलोकन की परिभाषा :-

अवलोकन को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“घटनाओं को स्वतः घटित होने के समय आँखों द्वारा एक व्यक्ति और सुविचारित रूप में अध्ययन करने को अवलोकन कहते हैं।”

पी. वी. यंग

“अवलोकन का तात्पर्य कानों अथवा वाणी के स्थान पर स्वयं अपनी दृष्टि का अधिकाधिक उपयोग करना है।”

मोजर

“अवलोकन केवल दैनिक जीवन की ही अत्यधिक व्यापक क्रिया मात्र नहीं है, यह वैज्ञानिक जाँच का भी एक प्राथमिक यंत्र है।”

जहोदा एवं कुक

“अनुसंधान का प्राथमिक साधन मानव बुद्धि के अवलोकन और अनुभवों के आधार पर ज्ञान प्राप्त करना है।”

जॉन होलार्ड

इन परिभाषाओं में निम्नलिखित बिन्दुओं पर बल दिया गया है।

  • अवलोकन कृत्रिम घटनाओं और व्यवहारों से संबंधित नहीं है, बल्कि ऐसी घटनाओं से है जो स्वाभाविक रूप से या स्वचालित रूप से विकसित होती हैं।
  • घटनाओं के घटित होने के समय ही पर्यवेक्षक की उपस्थिति आवश्यक है ताकि वह उन्हें उसी समय देख सके।
  • अवलोकन विचारपूर्वक या व्यवस्थित रूप से किया जाता है।

अवलोकन की विशेषताएं :-

उपरोक्त परिभाषाओं के अध्ययन से स्पष्ट है कि निरीक्षण विधि प्राथमिक सामग्री के संग्रह की प्रत्यक्ष विधि है। निरीक्षण से तात्पर्य उस विधि से है जिसमें नए या प्राथमिक तत्वों को सोच-समझकर आंखों द्वारा एकत्र किया जाता है। उपरोक्त विश्लेषण के आधार पर हम प्रेक्षण के निम्नलिखित विशेषताएं की व्याख्या कर सकते हैं।

प्रत्यक्ष पद्धति –

सामाजिक अनुसंधान की दो विधियाँ हैं – प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष। अवलोकन सामाजिक शोध की प्रत्यक्ष विधि है, जिसमें शोधकर्ता सीधे अध्ययन की वस्तु को देखता है और निष्कर्ष निकालता है।

मानवीय इंद्रियों का उपयोग –

अवलोकन की विधि में मानवीय इंद्रियों का पूर्ण और व्यवस्थित रूप से उपयोग किया जाता है। इसमें देखने वाला कान और वाणी का भी प्रयोग करता है, परन्तु इसमें नेत्रों का भी विशेष प्रयोग होता है। प्रेक्षक घटनाओं को अपनी आँखों से देखता है और संकलन के लिए उन्हें नोट करता है।

प्राथमिक सामग्री का संकलन –

अवलोकन विधि में अवलोकन कर्ता स्वयं मौके पर उपस्थित होकर घटनाओं के बारे में प्राथमिक स्तर की जानकारी एकत्र करता है, इसलिए वे अधिक विश्वसनीय होती हैं।

सूक्ष्म गहन एवं वस्तुनिष्ठ अध्ययन –

इस विधि में अवलोकन कर्ता स्वयं मौके पर उपस्थित रहता है, जिससे वह घटनाओं का गहराई से अध्ययन कर केवल उन्हीं तथ्यों का संग्रह कर सकता है, जो उसके अध्ययन से संबंधित हों।

विश्वसनीयता –

यह विधि अधिक विश्वसनीय है, क्योंकि इसमें किसी समस्या या घटना का स्वाभाविक रूप से अध्ययन किया जाता है। अतः इससे प्राप्त निष्कर्ष अधिक विश्वसनीय होते हैं।

निष्पक्षता –

इसमें प्रेक्षक स्वयं घटनाओं को अपनी आँखों से देखता है और उनका परीक्षण करता है। इस प्रकार, उसका निष्कर्ष निष्पक्ष और वैज्ञानिक है और वह अभिनति से बचता है।

पारस्परिक और कारण संबंधों का ज्ञान –

सामान्य अवलोकन और वैज्ञानिक के बीच वास्तविक अंतर यह है कि सामान्य अवलोकन में पर्यवेक्षक केवल घटनाओं को देखता है जबकि वैज्ञानिक अवलोकन में वह घटनाओं को भी देखता है और उनके कारणों और परिणामों को भी खोजता है जिसके आधार पर सिद्धांत का निर्माण किया जा सकता है और वास्तविकता की खोज की जा सकती है।

व्यावहारिक और अनुभवजन्य अध्ययन –

अवलोकन एक प्रयोगात्मक और अनुभवजन्य अध्ययन पद्धति है जिसके द्वारा सामूहिक और विशिष्ट व्यवहार दोनों का अध्ययन किया जा सकता है। अवलोकन द्वारा किया गया अध्ययन काल्पनिक न होकर व्यावहारिक या अनुभव पर आधारित होता है।

वैज्ञानिक अध्ययन की विधि –

अवलोकन विधि सामाजिक अनुसंधान की अन्य विधियों की तुलना में अधिक वैज्ञानिक है, क्योंकि इसमें सामग्री को आंखों से देखकर संकलन करना शामिल है। इसलिए इसमें वैज्ञानिकता है।

विचारशील अध्ययन –

अवलोकन एक ऐसी विधि है जिसमें पर्यवेक्षक स्वयं घटनाओं का सोच-समझकर अध्ययन करता है और तथ्यों का संकलन करता है। वह दूसरों पर निर्भर नहीं रहता।

सामूहिक व्यवहार का अध्ययन –

जिस प्रकार वैयक्तिक अध्ययन व्यक्तिगत अध्ययन के लिए सर्वोत्तम विधि है, उसी प्रकार सामूहिक व्यवहार के अध्ययन के लिए अवलोकन विधि सर्वोत्तम विधि है।

अवलोकन की उपरोक्त विशेषताओं के आधार पर इसे वैज्ञानिक पद्धति की एक विश्वसनीय एवं महत्वपूर्ण विधि माना गया है।

अवलोकन की प्रक्रिया :-

अवलोकन विचारपूर्वक की गई एक व्यवस्थित प्रक्रिया है। इसलिए, अवलोकन शुरू करने से पहले, अवलोकनकर्त्ता अवलोकन के प्रत्येक चरण को सुनिश्चित करता है।

प्रारंभिक आवश्यकताएं –

अवलोकन को रेखांकित करने के लिए अवलोकनकर्त्ता को पहले यह निर्धारित करना होगा कि –

  • उसे किसका अवलोकन करना है?
  • तथ्यों को कैसे दर्ज किया जाए?
  • किस प्रकार का अवलोकन उपयुक्त होगा?
  • अवलोकनकर्त्ता और अवलोकित के बीच संबंध किस प्रकार स्थापित किया जाए?

पूर्व सूचना प्राप्त करना –

इस चरण में, अवलोकनकर्त्ता निम्नलिखित जानकारी पहले से प्राप्त करता है।

  • अध्ययन क्षेत्र में इकाइयों के बारे में जानकारी।
  • अध्ययन समूह की सामान्य विशेषताओं के बारे में जानकारी; जैसे स्वभाव, व्यवसाय, रहन-सहन आदि।
  • अध्ययन क्षेत्र की भौगोलिक स्थिति की जानकारी, घटना स्थल का ज्ञान एवं नक्शा आदि।

विस्तृत अवलोकन रूपरेखा तैयार करना –

रूपरेखा तैयार करने के लिए निम्नलिखित बातों को ठीक करना होगा।

  • परिकल्पना के अनुसार अवलोकन के लिए तथ्यों का निर्धारण;
  • आवश्यकतानुसार नियंत्रण के तरीकों और परिस्थितियों का निर्धारण,
  • सहयोगी की भूमिका निर्धारित करें।

अवलोकन यंत्र –

अवलोकन कार्य शुरू करने से पहले, उपयुक्त अवलोकन उपकरणों का निर्माण करना आवश्यक है; जैसा

  • अवलोकन निर्देशिका या डायरी
  • देखे गए तथ्यों को लिखने के लिए उपयुक्त आकार के अवलोकन कार्ड
  • इनका उपयोग व्यवस्थित रूप से अवलोकन-अनुसूची और चार्ट-सूचनाओं को संकलित करने के लिए किया जाता है।

अन्य आवश्यकताएं –

इसमें कैमरा, टेप रिकार्डर, मोबाइल आदि शामिल हो सकते हैं। इनकी सहायता से सूचनाएँ भी संकलित की जाती हैं।

अवलोकन के गुण :-

अवलोकन पद्धति की उपयोगिता को निम्नलिखित बिन्दुओं के अंतर्गत स्पष्ट कर सकते हैं:

सरलता –

यह विधि अपेक्षाकृत सरल है। अवलोकनकर्तता को अवलोकन करने के लिए किसी विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता नहीं होती है।

स्वाभाविक पद्धति –

मनुष्य अनादि काल से स्वभावतः अवलोकन करता आ रहा है।

वैषयिकता –

चूँकि इस विधि में अवलोकन कर्त्ता घटनाओं को अपनी आँखों से देखता है और उनका सटीक विवरण प्रस्तुत करता है। इसलिए वैषयिकता बनी रहती है।

सत्यापनशीलता –

संकलित जानकारी पर संदेह होने पर पुन: परीक्षा की जाती है।

परिकल्पना का स्रोत –

अवलोकन के दौरान अवलोकनकर्तता द्वारा घटना के प्रत्यक्ष अवलोकन से घटनाओं के बारे में नए विचारों और परिकल्पनाओं का उदय होता है, जो भविष्य के शोध का आधार बनता है।

विश्वसनीयता –

अध्ययन के निष्पक्ष होने से विश्वसनीयता बनी रहती है।

सबसे प्रचलित तरीका है –

अपनी सरलता, अर्थपूर्णता और निष्पक्षता के कारण अवलोकन सर्वाधिक लोकप्रिय विधि है।

अवलोकन के दोष :-

अवलोकन पद्धति की कुछ सीमाएँ हैं:

सभी घटनाओं का अध्ययन करना संभव नहीं है-

कुछ घटनाओं का अध्ययन करना संभव नहीं है। उदाहरण के लिए, पति और पत्नी के व्यक्तिगत और व्यावहारिक जीवन का अवलोकन। कुछ घटनाओं के घटित होने के समय और स्थान का निर्धारण नहीं करना। जैसे पति-पत्नी में अनबन, भाई-बहू में तकरार। अमूर्त घटनाएँ, जैसे किसी व्यक्ति के विचार, भावनाएँ, मनोदशा आदि।

व्यवहार में कृत्रिमता –

कभी-कभी अवलोकन के दौरान लोग अपने स्वाभाविक व्यवहार से दूर चले जाते हैं और नाटकीय ढंग से व्यवहार करते हैं। नतीजतन, सही निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता है।

ज्ञानेन्द्रियों में दोष –

कभी-कभी इंद्रियां वास्तविक व्यवहार को समझने में सक्षम नहीं होती हैं जबकि अवलोकन में ज्ञानेन्द्रियों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। ऐसे में अध्ययन प्रभावित होता है।

सीमित क्षेत्र –

समय, धन और श्रम की कमी के कारण यह विधि एक सीमित क्षेत्र का ही अध्ययन कर पाती है।

पक्षपात –

अवलोकित समूह के व्यवहार में कृत्रिमता तथा प्रेक्षक के मिथ्या करण के कारण अध्ययन में पूर्वाग्रह की सम्भावना रहती है।

संक्षिप्त विवरण :-

अनुसंधान में अध्ययन की वह विधि जिसमें अनुसंधानकर्ता अपनी ज्ञानेन्द्रियों, विशेषकर आँखों से अवलोकन करके तथ्यों का संग्रह करता है।

FAQ

अवलोकन किसे कहते हैं?

अवलोकन के विशेषताएं क्या है?

अवलोकन के गुण क्या है?

अवलोकन के दोष क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *