साक्षात्कार निर्देशिका क्या है? अवधारणा, विशेषताएं, गुण, दोष

  • Post category:Sociology
  • Reading time:9 mins read
  • Post author:
  • Post last modified:दिसम्बर 26, 2022

साक्षात्कार निर्देशिका की अवधारणा :-

साक्षात्कार दो या दो से अधिक लोगों (आमतौर पर दो) की एक बैठक है जिसमें शोधकर्ता सूचनादाताओं से उनकी शोध समस्या के बारे में औपचारिक या अनौपचारिक रूप से प्रश्न पूछकर जानकारी एकत्र करता है। जब साक्षात्कार में पूर्व निर्मित प्रश्नों का प्रयोग किया जाता है तो उसे औपचारिक साक्षात्कार कहते हैं। इसके विपरीत, अनौपचारिक साक्षात्कार में, साक्षात्कारकर्ता अपनी शोध समस्या के विभिन्न पहलुओं पर सूचनादाता के साथ स्वतंत्र रूप से बातचीत करता है। कई बार अनौपचारिक साक्षात्कारों में साक्षात्कारकर्ता सूचनादाताओं से जानकारी एकत्र करने के लिए कुछ बिंदुओं का चयन करता है और सूचनादाताओं को उन चयनित बिंदुओं पर कहानी के रूप में घटना का वर्णन करने के लिए कहता है। ये बिंदु, जो साक्षात्कारकर्ता को शोध समस्या से संबंधित सामग्री के संकलन में निर्देशित कर रहे हैं, साक्षात्कार निर्देशिका कहलाते हैं।

साक्षात्कारकर्ता सूचना देने वाले को एक के बाद एक विस्तृत या संक्षिप्त जानकारी देने के लिए प्रेरित करता है, जैसा वह देना चाहता है। साक्षात्कार निर्देशिका में कोई औपचारिक प्रश्न नहीं लिखे जाते हैं, केवल उन बिंदुओं का उल्लेख किया जाता है जिनके बारे में सूचनादाता से बात करनी है। साक्षात्कार निर्देशिका से जानकारी संकलित करते समय सूचना देने वाले को उत्तर देने की पर्याप्त स्वतंत्रता होती है।

साक्षात्कार निर्देशिका ने न केवल परिवार, कार्यस्थल और स्कूल की स्थितियों के बारे में व्यक्तिगत इतिहास जानने में मदद की, बल्कि इन युवाओं के व्यवहार और उनके व्यवहार को प्रेरित करने वाली परिस्थितियों को समझने में भी मदद की।

साक्षात्कार निर्देशिका की विशेषताएं :-

साक्षात्कार निर्देशिका की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं:

  • साक्षात्कार निर्देशिका सामाजिक अनुसन्धान में आँकड़े संकलित करने की एक गुणात्मक पद्धति है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका व्यक्तिगत और वर्णनात्मक तथ्यों को प्राप्त करने के सबसे उपयोगी तरीकों में से एक है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका एक ऐसी विधि है जिसके द्वारा अन्य विधियों की तुलना में अधिक गहन एवं गुणात्मक सूचनाओं के संकलन में सहायता मिलती है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका में साक्षात्कार हेतु कुछ बिन्दु लिखे रहते हैं और इन्हीं बिन्दुओं पर साक्षात्कारकर्ता चयनित सूचनादाताओं से अनौपचारिक बातचीत करता है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका में साक्षात्कार के लिए कुछ बिंदु होते हैं और इन बिंदुओं पर साक्षात्कारकर्ता चयनित सूचनादाताओं के साथ अनौपचारिक रूप से बातचीत करता है।
  • एक साक्षात्कार निर्देशिका में, साक्षात्कारकर्ता का सूचनादाता के साथ संवाद करने का एक विशेष उद्देश्य होता है। इसका उद्देश्य अनुसंधान समस्याओं से संबंधित गुणात्मक सामग्री का संकलन करना है।

साक्षात्कार निर्देशिका के गुण :-

साक्षात्कार निर्देशिका की प्रमुख गुण निम्नलिखित हैं: –

  • साक्षात्कार निर्देशिका के माध्यम से प्राप्त सूचनाएँ अधिक वैध एवं विश्वसनीय होती हैं।
  • साक्षात्कार निर्देशिका के माध्यम से दमित और कुंठित भावनाओं और दृष्टिकोणों का अध्ययन करना संभव है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका के माध्यम से विभिन्न साक्षात्कारकर्ताओं द्वारा प्राप्त सूचनाओं की तुलना करना संभव है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका सूचनादाताओं के मौलिक और वास्तविक मनोदशाओं का अध्ययन करने में सहायक होती है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका द्वारा किए गए अध्ययन में लचीलापन है, जिससे संबंधित समस्या का बहुपक्षीय तरीके से अध्ययन करना संभव हो जाता है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका के माध्यम से प्राप्त सामग्री परिकल्पना के निर्माण में और कभी-कभी परिकल्पना के परीक्षण में सहायक होती है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका द्वारा उपलब्ध सूचना का उपयोग आगे के अध्ययन को और अधिक संरचित बनाने के लिए पूर्वगामी अध्ययन के रूप में किया जा सकता है।

साक्षात्कार निर्देशिका के दोष :-

यद्यपि साक्षात्कार निर्देशिका को गुणात्मक सामग्री के संकलन की एक प्रमुख एवं अत्यंत उपयोगी विधि माना जाता है, तथापि यह अन्य सभी विधियों की भाँति दोषरहित नहीं है। इसके प्रमुख दोष या अवगुण इस प्रकार हैं:

  • साक्षात्कार निर्देशिका के माध्यम से अनावश्यक सामग्री के संग्रह की भी सम्भावना रहती है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका द्वारा संकलित सामग्री में वस्तुनिष्ठता का अभाव है। इसकी विश्वसनीयता का परीक्षण करना बहुत कठिन है।
  • साक्षात्कार निर्देशिका द्वारा संकलित सामग्री का परिशुद्ध लेखन संभव नहीं है, अर्थात् यदि प्राप्त सामग्री को तुरंत नहीं लिखा गया तो बाद में लिखे जाने पर अनेक त्रुटियों की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • साक्षात्कार निदेशिका द्वारा किए गए अध्ययन की प्रकृति कभी-कभी संतुलित नहीं होती है क्योंकि किसी बिंदु पर बहुत अधिक जानकारी प्राप्त होती है और कुछ बिंदु ऐसे होते हैं जिन पर बहुत कम जानकारी उपलब्ध होती है।

संक्षिप्त विवरण :-

उपरोक्त विवेचन से स्पष्ट है कि साक्षात्कार निर्देशिका द्वारा संरचित साक्षात्कार के अनेक दोषों को कम किया जा सकता है, परन्तु सूचनाओं को संकलित करने में काफी समय लगता है।

FAQ

साक्षात्कार निर्देशिका से क्या अभिप्राय है?

साक्षात्कार निर्देशिका एक ऐसा रूप है जिस पर बिंदुओं को अंकित किया जाता है जिस पर एक साक्षात्कारकर्ता को सूचनादाता से आमने-सामने संवाद करना होता है और उसके विचारों को जानना होता है।

साक्षात्कार निर्देशिका की विशेषताएं क्या है?

साक्षात्कार निर्देशिका के गुण क्या है?

साक्षात्कार निर्देशिका के दोष क्या है?

social worker

Hi, I Am Social Worker इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

प्रातिक्रिया दे