जनसंपर्क क्या है? Public Relations (PR)

प्रस्तावना :-

जनसंपर्क जनता और संगठन के बीच एक सुविचारित एवं नियोजित प्रयास है। जिसमें निरंतरता होनी चाहिए। जनसंपर्क एक सचेत प्रक्रिया है जिसके माध्यम से संगठन और उसके उत्पादन के बारे में जानकारी बिना विज्ञापन के भी सही समय पर उचित श्रोताओं तक पहुंचाई जाती है। जनसंपर्क में ज्ञान, अनुभव, भावना, विचार, सूचना का व्यापक प्रसार आदि पहलू शामिल हैं।

जनसंपर्क की अवधारणा :-

किसी भी लोकतांत्रिक व्यवस्था में जनता की जनमत सबसे महत्वपूर्ण होती है। जन प्रतिनिधित्व को स्थायी बनाने के लिए जनता से संपर्क स्थापित करना आवश्यक है। यह संपर्क कितना व्यावहारिक है और प्रतिनिधि का लोगों पर कितना प्रभाव है। इसका निर्धारण जनसंपर्क के बाद ही पता चल सकेगा। इसकी आवश्यकता सभी धर्म, व्यवस्था, सत्ता, उद्योग, संस्था, व्यापारिक प्रतिष्ठान आदि में महसूस की जा सकती है।

जनसंपर्क का अर्थ :-

जनसंपर्क के लिए लोकसंपर्क शब्द भी प्रचलित है। यह दो शब्दों व्यक्ति या व्यक्ति और संपर्क के मिश्रण से बना है। जिससे पता चलता है कि इसका उद्देश्य जनता से संपर्क बनाए रखना है. सार्वजनिक संचार भी इसी अर्थ का द्योतक है, जिसमें आमने-सामने बैठकर बातचीत करने का भाव होता है।

अंग्रेजी में इसके लिए ‘public relation’ शब्द का प्रयोग किया जाता है। इसे संक्षेप में  ‘पी आर’ कहा जाता है। कहते हैं। इसे समझाते हुए, ‘पी’ का अर्थ है ‘Performance’ और ‘आर’ का अर्थ है ‘recognition’ प्रत्येक संस्थागत समाज कल्याण या स्वीकृति, गई है। कार्य की स्वीकृति जनता द्वारा होनी चाहिए।

अंततः यह जानना जरूरी है कि जनसंपर्क के लिए जनसंचार जरूरी है और जनसंचार के लिए जनसंपर्क की निर्देशन जरूरी है। यदि जनसंचार के मौखिक, मुद्रित, श्रव्य, दृश्य-श्रव्य एवं इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों का प्रयोग विज्ञान की देन है तो जनसंपर्क वह कला है जिसके माध्यम से प्रचार कार्य में इन माध्यमों का प्रयोग कर लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है।

जनसंचार के अंतर्गत ज्ञान, अनुभव, भावनाएँ, विचार, सूचनाओं का व्यापक प्रसार आदि आते हैं तो इन सभी माध्यमों का योजनाबद्ध एवं प्रभावी तरीके से उपयोग ही जनसंपर्क का क्षेत्र है।

जनसंपर्क की परिभाषा :-

जनसंपर्क मुख्य रूप से उन प्रश्नों का उत्तर देने का प्रयास करता है जो जनता अक्सर पूछती है। वस्तुतः यह जनमत के आधार पर अपने पक्ष के गुण-दोषों का पुनर्निर्माण करने तथा जनता की अनुकूलता प्राप्त करने का एक व्यवस्थित एवं अव्यवस्थित प्रयास है। जनसंपर्क शब्द का वर्णन करने के लिए कई परिभाषाएँ दी गई हैं।

“किसी व्यक्ति फर्म या संस्थान का दूसरे व्यक्तियों, विशिष्ट जनता या समुदाय से व्याख्यात्मक सामग्री प्रदान करके गहरा संबंध स्थापित करना, पड़ोसी की तरह विचारों के आदान-प्रदान करना और सार्वजनिक प्रतिक्रियाओं का अवलोकन करना ही जनसंपर्क है।”

वैबस्टर्स

“जनसंपर्क एक चेतन प्रयास है, जिसके माध्यम से संस्था और उसके उत्पादन की सूचना बिना विज्ञापन के भी उचित समय पर, उचित विधि से, उचित श्रोताओं तक पहुंचाई जाती है।”

बर्टजोलो

“जनसंपर्क एक द्विपक्षीय संचार प्रक्रिया है जिसमें जनता और संस्था के हित में दोनों के बीच पूर्ण और सही सूचनाएँ प्रस्तुत करके आपसी सौहार्द स्थापित किया जाता है।”

आर्थर, आर0 गलमैन

“आधुनिक शासन में जनसंपर्क प्रचार का वह साधन है जिसके माध्यम से जनता की इच्छाओं एवं भावनाओं का ज्ञान होने के साथ-साथ उन्हें अपने कार्य प्रणाली में समन्वय कर पुनः जनता तक पहुंचाया जाता है।”

बैब्रनर

“जनसंपर्क एक प्रबंधन प्रणाली है जिसमें संस्था की नीतियों और कार्यों का मूल्यांकन किया जाता है, जनता से उनका समर्थन और आम सहमति हासिल करने के लिए संपर्क बनाया जाता है और उनके मत को पुनः कार्यान्वयन में लिया जाता है।”

कफ डैनी ग्रीसल्ड

“अपनी नीतियों एवं कार्यप्रणाली की साख बनाये रखने के लिए जनता की सहमति प्राप्त करना ही जनसंपर्क है। यह एक द्विपक्षीय संचार प्रक्रिया और समाज दर्शन है।”

बट्रेण्ड आर0 केनफील्ड एवं फ्रेनियरमूर

“जनसंपर्क मूलतः प्रबंधन प्रणाली की वह मानसिक तैयारी है जिसमें प्रबंधक अपने संस्था के प्रत्येक फैसले में जनता की प्राथमिकताओं को भी स्थान देता है।”

डब्ल्यू. पाल

“यह एक सतत प्रयास है जिसमें संस्था या व्यक्तिगत संस्थान अपने निर्णय जनता के सहयोग से, उनके रुचियों को ध्यान में रखते हुए करते हैं।”

अंतर्राष्ट्रीय जनसंपर्क परिषद

जनसंपर्क के कार्य :-

जनसंपर्क में निम्नलिखित कार्य शामिल हैं:-

लेखन –

यह सभी लेखन के निम्नलिखित प्रकार हैं –

  • रपट प्रतिवेदन
  • समाचार विज्ञप्ति
  • तकनीकी पाठ लेखन
  • पुस्तिकाएँ एवं घरेलू पत्रिकाएँ
  • सूचनात्मक संदेश और भाषण.
  • रेडियो, टेलीविजन और फिल्म के लिए लेखन।

भाषण –

भाषण आमने-सामने संचार की एक विधि है। किसी भी गुट, समूह का सामना करने से पहले पूरी तैयारी है. भाषण की कला सही समय पर, सही समय पर, सही शब्दों का उपयोग करना है और यह ध्यान रखना है कि इसके सामने किस वर्ग या समूह के लोगों को रखा जाएगा।

संपादन करना –

संपूर्ण लिखित एवं मौखिक सामग्री के संपादन का कार्य अत्यंत जिम्मेदारी का होता है। अपनी सही राय जनता तक पहुंचाने के लिए सही भाषा का चुनाव जरूरी है। इसके अंतर्गत दूरदर्शन के लिए बनाई गई फिल्मों, वृत्तचित्रों और लघु फिल्मों का संपादन भी किया जाता है। इसलिए जनसंपर्क अधिकारी को संपादन के विभिन्न आयामों का ज्ञान होना चाहिए ताकि वह संपादन पर कार्य कर सके।

श्रेणीकरण –

सारी जानकारी तैयार करने के बाद उनका श्रेणीकरण करना जरूरी है. अर्थात संस्थागत नीति के अनुसार यह तय किया जाता है कि कौन सी खबर या फीचर किस संचार माध्यम से जनता तक पहुंचाया जाएगा ताकि सही संचार किया जा सके। प्रेस का कौन सा माध्यम उपयुक्त रहेगा? जनहित के अनुरूप कहां दिया जाएगा विज्ञापन?

प्रस्तुतीकरण –

ग्रेडिंग के बाद, अधिकारी एक प्रस्तुति देता है जो निम्नलिखित माध्यमों से की जाती है: -जनसंपर्क प्रेस विज्ञप्ति, रेडियो, टेलीविजन पर फिल्म रिलीज, प्रदर्शनियां, नाटकों का प्रदर्शन, मंचन उद्देश्य को पूरा करने के लिए प्रस्तुति के सभी रूप हैं। कौन सा माध्यम प्रभावी होगा, किस माध्यम से प्रस्तुतीकरण लक्ष्य प्राप्ति में सहायक होगा, यह भी जनसंपर्क का काम है।

विस्तार –

कई लोगों और क्षेत्रों तक पहुंचने के लिए विस्तार कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। जिसमें संवाददाता दौरे, त्योहारों एवं मेलों के अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम, कवि सम्मेलन, मुशायरा, संगीत सम्मेलन आदि अपने कार्यक्रमों का आयोजन कर विस्तार किया जाता है।

मंच प्रस्तुति –

जनसंपर्क विभाग को दिन-प्रतिदिन की घटनाओं का विस्तृत जायजा लेते रहना चाहिए और जनता की प्रतिक्रिया जानने के लिए एक मंच प्रस्तुत करना चाहिए। इसलिए भाषण लिखना, मंच की व्यवस्था करना, वक्ता और श्रोता के बीच संपर्क स्थापित करना, फिर प्रेस विज्ञप्ति जारी करना, सभी कार्य जनसंपर्क अधिकारी के होते हैं।

प्रचार सामग्री का निर्माण –

प्रचार सामग्री तैयार करना एक अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य है। इसके लिए विभिन्न माध्यमों जैसे समाचार पत्र, हैंडबिल, मेक-अप, लेआउट, बुकलेट, पोस्टर, ब्रोशर प्रकाशन आदि का ज्ञान होना आवश्यक है। सभी संसाधन संस्थान की नीतियों और भविष्य के कार्यक्रमों को ध्यान में रखकर तैयार किए जाने चाहिए। .

विज्ञापन –

जनसंपर्क के उद्देश्यों की पूर्ति में विज्ञापन की महत्वपूर्ण भूमिका है। सरकार, निजी संस्थान या सार्वजनिक संस्थान सभी अपनी सफलता प्राप्त करने और व्यावसायिक प्रतिष्ठा बनाए रखने के लिए रेडियो, टेलीविजन और पत्रिकाओं में विज्ञापन प्रचारित और प्रसारित करते हैं। यह सार्वजनिक संचार का एक महत्वपूर्ण साधन है।

अभिमत अध्ययन –

अंततः, अभिमत का अध्ययन एक कठिन कार्य है। यह एक सर्वेक्षण कार्य है जो जनता की रुचि और नापसंद के कारणों का विश्लेषण करता है और उसके उत्पादन पर प्रतिक्रिया का पता लगाता है। परिणामस्वरूप जनसम्पर्क अधिकारी अपना भावी कार्यक्रम जनता की धारणा के अनुरूप प्रभावी ढंग से तैयार करने में सक्षम होता है।

जनसंपर्क निस्संदेह आधुनिक युग का एक महत्वपूर्ण व्यावसायिक अनुशासन है जिसके माध्यम से सत्ता या जनता के साथ संस्थागत संबंधों के अध्ययन पर विशेष ध्यान दिया जाता है। आज यह विधा न केवल राजनीतिक पक्ष के लिए बल्कि निजी और सार्वजनिक संस्थानों के लिए भी महत्वपूर्ण हो गई है।

जनसंपर्क के तत्व :-

जनसंपर्क जनता के हित को ध्यान में रखते हुए संस्था की नीतियों को बनाने और पुनर्निर्माण करने की प्रक्रिया है, जिसका उद्देश्य संस्था के भविष्य को सुनिश्चित करना है। उसके लिए, एक निश्चित प्रबंधन प्रक्रिया की आवश्यकता है –

नीति निर्धारण –

सबसे पहले, नीतियां बनाना और मुख्य तत्वों की रूपरेखा तैयार करना आवश्यक है। इससे पहले हमें जनता के बीच जाकर उनकी मानसिकता, परिवेश, परंपराओं का अध्ययन करना चाहिए। नीति निर्माण के बाद उसके अनुसार कार्यप्रणाली तय करना और संस्थागत समाज कल्याण प्रक्रिया का प्रबंधन करना आवश्यक है।

प्रबंधकीय दर्शन –

जनसंपर्क एक प्रबंधकीय सामाजिक दर्शन है। प्रत्येक संस्था का भविष्य जनता द्वारा बनता और बिगड़ता है, इसलिए प्रबंधन प्रक्रिया जैसे जनता के समाज के दर्शन को समझना, हितों को ध्यान में रखते हुए अपनी नीतियों का निर्माण करना और जनता की सहमति और विश्वास प्राप्त करना जनसंपर्क का मुख्य तत्व है।

सुदृढ़ नीतियां –

प्रबंधक को मजबूत नीतियां निर्धारित करनी चाहिए ताकि उन्हें लागू किया जा सके। ऐसी नीतियां ही जनता में विश्वास पैदा कर सकती हैं।

द्विपक्षीय संचार –

जनसंपर्क का प्रमुख तत्व द्विपक्षीय संचार है जिसमें –

  • लोगों के हितों और मांगों का अध्ययन किया जाता है।
  • नीति निर्माण का कार्य संस्थान द्वारा किया जाता है।
  • नीतियों का जनता पर प्रभाव का अध्ययन भी जरूरी है।
  • अंततः जन प्रतिक्रिया के अनुसार संस्थान की नीतियों में सुधार किया जाना चाहिए तथा आवश्यक परिवर्तन किये जाने चाहिए।

जनसंपर्क के उद्देश्य :-

चाहे वह सार्वजनिक क्षेत्र हो, या निजी एवं सहकारी औद्योगिक प्रतिष्ठान, जनसंपर्क दो उद्देश्यों को ध्यान में रखकर किया जाता है –

  • यह जनता के प्रमुख एवं प्रतिष्ठित लोगों से संपर्क स्थापित करने तथा उनकी सहमति प्राप्त कर आपसी सहयोग बढ़ाने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए किया जाता है।
  • उद्योग की सेवाओं एवं उत्पादन को बढ़ाना, उसे बढ़ाकर प्रतिष्ठा स्थापित करना तथा प्रतिस्पर्धियों के बीच भी सफलता प्राप्त करना महत्वपूर्ण उद्देश्य हैं।

इन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए अच्छे जनसंपर्क तंत्र की आवश्यकता है। इनके अभाव में उद्योग अपनी प्रतिष्ठा एवं विश्वसनीयता कायम नहीं रख पाता, जनसंपर्क परिणाम एवं उसकी बिक्री भी प्रभावित होती है।

सार्वजनिक निजी और सहकारी क्षेत्र के उद्योगों को कनेक्टिविटी की आवश्यकता के लिए निम्नलिखित उद्देश्यों को ध्यान में रखना होगा :-

  • प्रमुख व्यक्तियों एवं आम जनता से संवाद करना तथा उनकी राय लेना ताकि आपसी सहयोग प्राप्त किया जा सके।
  • इनका मुख्य उद्देश्य उत्पादन बढ़ाना, बिक्री बढ़ाना तथा विश्वसनीयता एवं प्रतिष्ठा स्थापित करना है।
  • प्रतिस्पर्धा के माध्यम से सफलता प्राप्त करना एक कठिन कार्य है। इसे अच्छे जनसंपर्क से ही हासिल किया जा सकता है।

इन सबको पूरा करने के लिए एक ऐसे जनसंपर्क व्यवस्था की आवश्यकता है जो जनसंचार माध्यमों का उपयोग कर अपने पक्ष में राय बनाए और अपनी प्रतिष्ठा एवं विश्वसनीयता बनाए रखे।

जनसंपर्क के क्षेत्र :-

जनसंपर्क अधिकारी जनता के बीच जाता है और उन्हें संस्थागत या सत्तावादी सच्चाई और तथ्यों से परिचित कराता है। वह विभिन्न मंत्रालयों, निदेशालयों, कार्यालयों, समकक्ष कार्य संगठनों के साथ भी संपर्क में रहते हैं। जो जनसंपर्क की तरह है. आज संपर्क की नहीं जनसंपर्क की जरूरत है। इसमें लोगों के मनोविज्ञान को जानकर नीतियां बनाई जाती हैं। तब उनकी प्रतिक्रिया परिष्कार को जानकर की जाती है।

इस प्रकार, (1) जनमत निर्माण और (2) पारस्परिक संबंधों का संदर्भ, दोनों जनसंपर्क के कार्य हैं। एक जनसंपर्क अधिकारी को निम्नलिखित क्षेत्रों में लगातार काम करना होता है:-

अंतः क्षेत्र –

  • नीतियों और तकनीकों का अध्ययन, तथ्य एकत्र करना और विश्लेषण करना
  • कर्मियों और अधिकारियों के बीच का पुल
  • प्रचार नीतियाँ और योजनाएँ बनाना

बाह्य क्षेत्र –

  • जनमत निर्माण
  • उत्पादन को बढ़ावा देना
  • उपभोक्ता सर्वेक्षण
  • प्रचार और विज्ञान
    • प्रेस
    • रेडियो
    • चलचित्र
    • विज्ञप्ति
    • प्रेस नोट
    • टेलीविजन
    • शासकीय सूचना
    • प्रकाशन सामग्री
    • पारंपरिक साधनों का प्रयोग

अन्तः क्षेत्र में, जनसंपर्क अधिकारी संस्थान की नीतियों का अध्ययन, विश्लेषण और संकलन करता है। वह कर्मियों और अधिकारियों के बीच एक सेतु बनकर कल संस्थागत सामाजिक कल्याण नीतियों का प्रचार-प्रसार करने की योजना बना रहे हैं।

बाह्य क्षेत्र में जनता से संवाद करते हैं। संस्थान के उत्पाद का प्रचार-प्रसार करता है, विज्ञापन हेतु संचार माध्यमों का चयन एवं प्रसार करता है। और उपभोक्ता सर्वेक्षण आयोजित करके और अधिकारियों से दोबारा संपर्क करके नीतियों को परिष्कृत करना।

संक्षिप्त विवरण :-

संक्षेप में कहें तो जनसंपर्क एक ऐसी मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया है जिसमें सत्ता, संस्था और व्यक्ति को जनता की नैतिक प्रवृत्ति, मानव व्यवहार, उनके हितों, पर्यावरण और परंपराओं को ध्यान में रखते हुए निर्णय लेना चाहिए। उसके निर्णयों एवं निष्कर्षों में जनता के हितों एवं आवश्यकताओं का पूरा योगदान होना चाहिए।

संक्षेप में, जनसंपर्क इस प्रकार हैं:-

  • जनमत बनता है।
  • अपनी प्रतिष्ठा के अनुरूप ही निजी संस्थानों या उद्योगों के उद्देश्य पूरे होते हैं।
  • इस प्रकार अच्छे परिणाम मिलने से संस्थान का भविष्य सुनिश्चित होता है।
  • संस्था के व्यापक हित के साथ-साथ जनता का हित भी है।

FAQ

जनसंपर्क का अर्थ स्पष्ट कीजिए?

जनसंपर्क के प्रमुख तत्वों का विवेचन कीजिए?

जनसंपर्क के कार्य क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *