संस्कार क्या है संस्कार का अर्थ संस्कार का महत्व (sanskar)

प्रस्तावना :-

हिंदुओं के धार्मिक और सामाजिक जीवन में संस्कारों का सर्वोच्च स्थान रहा है। दुनिया भर के सभी धर्मों या संस्कृतियों में धार्मिक और सामाजिक एकता स्थापित करने और बनाए रखने के लिए कुछ संस्कार विकसित किए गए हैं।

संस्कार वह सशक्त साधन हैं जिनके माध्यम से व्यक्ति बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से परिष्कृत होकर समाज का पूर्ण विकसित सदस्य बन पाता है। संस्कार की इस प्रक्रिया में कुछ विधियाँ या धार्मिक अनुष्ठान होते हैं, जिनके माध्यम से व्यक्ति के ‘अहम्” को सामाजिक बनाने और व्यक्तित्व के समग्र विकास का प्रयास किया जाता है।

दुनिया में संस्कृति जितनी पुरानी है, रीति-रिवाजों का महत्व भी उतना ही आम तौर पर देखने को मिलता है। विभिन्न समाजों में संस्कारों की प्रकृति में अंतर उस समाज के मूल्यों से संबंधित होता है। सदियों से भारतीय समाज में विभिन्न संस्कारों को जीवन दर्शन और नैतिक मूल्यों का मजबूत आधार माना जाता रहा है।

धर्म हिंदू जीवन का एक अनिवार्य और महत्वपूर्ण हिस्सा है और धर्म के लिए पवित्रता और पवित्रता का पालन करना अनिवार्य है। इसीलिए हिंदूओं ने व्यक्ति के जीवन को शुद्ध करने, उसके मन, शरीर और दिमाग को शुद्ध करने के उद्देश्य से धार्मिक नैतिकता की भूमि पर अनुष्ठानों की शुरुआत की है।

संस्कार का अर्थ :-

संस्कार शब्द का प्रयोग कई अर्थों में किया जाता है। शाब्दिक अर्थ में संस्कार का अर्थ है शुद्धि, परिशोधन या सुधार। अत: हम कह सकते हैं कि जीवन को शुद्ध करने के लिए किया गया उचित कर्म ही संस्कार कहलाता है।

संस्कार वे अनुष्ठान हैं जिनकी हिंदुओं में जन्म से मृत्यु तक पारंपरिक रूप से आवश्यकता होती है क्योंकि इसके बिना जीवन की पवित्रता और आत्मा की उन्नति संभव है।

हालाँकि संस्कार की इस प्रक्रिया में कुछ धार्मिक रीति-रिवाज और अनुष्ठान भी विशेष भूमिका निभाते हैं, लेकिन संस्कारों की व्याख्या केवल उन्हें करने की किसी विशेष प्रक्रिया से नहीं की जा सकती, बल्कि संस्कारों का वास्तविक उद्देश्य सामाजिक जिम्मेदारियों के साथ व्यक्ति को शुद्ध करना और उसे अच्छी तरह से परिचित कराना रहा है।

संस्कार के प्रकार :-

हिंदू जीवन से संबंधित संस्कारों की संख्या के संबंध में विभिन्न ग्रंथों में काफी भिन्नता है। हिन्दू जीवन से सम्बंधित प्रमुख संस्कार इस प्रकार हैं:-

गर्भ धान संस्कार –

जिस कर्म के द्वारा पुरुष स्त्री में अपना बीज स्थापित करता है उसे गर्भाधान कहते हैं। गर्भाधान संस्कार का उद्देश्य संतान, विशेषकर पुत्र को जन्म देना है। हिंदू धर्म के अनुसार बेटे को जन्म देना एक पवित्र धार्मिक कार्य माना जाता है। इस अनुष्ठान को करने का समय भी शास्त्रों में बताया गया है।

विवाह की चौथी रात गर्भधारण के लिए उपयुक्त होती है। मनु, याज्ञवल्क्य और बैखानस का मानना है कि पत्नी के ऋतुस्नान की चौथी रात्रि से लेकर सोलहवीं रात्रि तक का समय गर्भधारण की दृष्टि से उचित है।

इन रातों में बेटे के जन्म के लिए सम्रात्रि (अर्थात रात की वह तारीख जिसे 2 की संख्या से विभाजित किया जा सकता है) और बेटी के जन्म के लिए एक विषम रात का चयन करना उपेक्षित है। आधुनिक समाज में इस संस्कार का कोई विशेष महत्व नहीं है और न ही आजकल इसका पालन किया जाता है।

पुंसवन संस्कार –

पुंसवन शब्द का अर्थ है हष्ट पुष्ट संतान को जन्म देना। इस अनुष्ठान का उद्देश्य पुत्र प्राप्ति की कामना करना है। गृहसूत्र के अनुसार, यह संस्कार तब किया जाता है जब चंद्रमा पुष्य नक्षत्र, विशेषकर तिष्य नक्षत्र में प्रवेश करता है।

इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं याज्ञवल्क्य की मान्यता के अनुसार, इस विशेष अवसर पर जल से भरा एक घड़ा स्त्री की गोद में रखा जाता था और पति उसके गर्भ को छूकर पुत्र प्राप्ति की कामना करता था।

सीमन्तोन्नयन संस्कार –

अशुभ या बुरी शक्तियों से रक्षा के लिए इस संस्कार के माध्यम से गर्भवती स्त्री के बालों (सीमांत) को बढ़ाकर संवारने (उन्नयन करने) का विधान है। गृहमसूत्र में इस संस्कार को गर्भावस्था के चौथे या पांचवें महीने में करने का विधान है।

उसके बालों को संवारने का एक अन्य उद्देश्य उसे यथासंभव खुश और प्रसन्न रखना था। इस संस्कार के प्रारंभ में मातृ पूजन, नंदी श्राद्ध आदि किये जाते हैं।

जातकर्म संस्कार –

यह संस्कार बच्चे के जन्म के तुरंत बाद किया जाता है। जब बच्चे का जन्म होता है तो अनेक हानिकारक प्रभावों का भय रहता है, उनसे बचने के लिए यह संस्कार किया जाता है। इसका उद्देश्य शिशु को बुरी शक्तियों के प्रभाव से बचाना और उसके लंबे और स्वस्थ जीवन की कामना करना है।

बच्चे के जन्म के तुरंत बाद, पिता बच्चे को अपनी चौथी उंगली और सोने शलाका पर शहद और घी या केवल घी चटाता है। इस समय शिशु की नाभि काटकर मां और बच्चे को नहलाया जाता है।

नामकरण संस्कार –

मनुस्मृति के अनुसार नामकरण संस्कार शिशु के जन्म के दसवें या बारहवें दिन किया जाता था। बच्चे का नामकरण करते समय उसके रंग, जाति और ज्योतिष के अनुसार उसकी राशि का ध्यान रखा जाता है।

नामकरण संस्कार में पूजा, हवन आदि करने के बाद पुजारी बच्चे की राशि का विचार करता है और उसी राशि से संबंधित पहले अक्षर के आधार पर बच्चे का नाम रखता है।

निष्क्रमण संस्कार –

निष्क्रमण शब्द का अर्थ है “बाहर की ओर जाना।” शिशु को पहली बार घर से बाहर निकालने के संस्कार को निष्क्रमण संस्कार कहा जाता है। मनुस्मृति में बताया गया है कि यह संस्कार जन्म के बारहवें दिन से चौथे महीने तक गिना जाता है और इसी अवधि में यह संस्कार किया जाता है।

पिता सबसे पहले बच्चे को मां की गोद में बिठाकर सूर्य का दर्शन करता है। इस संस्कार का व्यावहारिक अर्थ शिशु को एक निश्चित समय के बाद खुली हवा में लाना है।

अन्नप्राशन संस्कार –

इस संस्कार के पहले तक शिशु अपने भोजन के लिए माँ के दूध या गाय के दूध पर निर्भर रहता था। मनुस्मृति और याज्ञवल्क्य स्मृति के अनुसार यह संस्कार बच्चे के जन्म के छठे महीने में किया जाता है।

अन्नप्राशन संस्कार बच्चे के पहले भोजन ग्रहण करने का सूचक है। आमतौर पर इस संस्कार के अवसर पर शिशु को पहली बार दही, शहद और घी के साथ कुछ भोजन दिया जाता है। इस संस्कार का महत्व यह है कि बच्चे को सही समय पर मां के दूध से अलग करने से उसका शारीरिक विकास ठीक से होता है।

चूड़ाकरण (मुंडन) संस्कार –

शास्त्रों के अनुसार, इस संस्कार का उद्देश्य एक सुसंस्कृत व्यक्ति के लिए लंबी आयु, सौंदर्य और कल्याण प्राप्त करना है। यह वह संस्कार है जिसमें पहली बार बच्चे के सिर के बाल मुंडवाए जाते हैं।

मनुस्मृति के अनुसार चूड़ाकर्म जन्म के पहले वर्ष या तीसरे वर्ष में करना चाहिए। तीसरे वर्ष में पूर्ण किया गया चूड़ाकरण सर्वोत्तम माना जाता है। बहुत से लोग अपनी मन्नत के अनुसार मुंडन कराने के लिए देवी के मंदिर जाते हैं या किसी तीर्थस्थल या गंगाजी या किसी अन्य पवित्र नदी पर जाते हैं।

कर्णवेध संस्कार –

इस संस्कार के माध्यम से बच्चे के कान छेदे जाते हैं। प्राचीन काल से ही विश्व के विभिन्न समाजों में शरीर के विभिन्न अंगों में छेद कराकर आभूषण पहनने की प्रथा रही है। सुश्रुत का मानना है कि रोग आदि से रक्षा तथा अलंकार या भूषण के लिए बालक के कान छिदवाने चाहिए।

बच्चे के कान छिदवाने का उपयुक्त समय तीसरे या पांचवें वर्ष को निर्धारित किया गया है। इस समय सुनार या नाई को बुलाकर मंत्रोच्चारण के साथ कान छिदवाया जाता है और कानों में सोने की बालियां पहनी जाती हैं। इसके बाद ब्राह्मण भोजन के साथ संस्कार का समापन होगा।

विद्यारंभ संस्कार –

इस संस्कार से बालक की शिक्षा प्रारम्भ होती है। जब बच्चे का मस्तिष्क शिक्षा ग्रहण करने के योग्य हो जाता है तो उसकी शिक्षा का प्रारम्भ अक्षर ज्ञान से किया जाता है। उपरोक्त संस्कारों के माध्यम से बालक के मानसिक एवं बौद्धिक विकास का कार्य प्रारंभ होता है।

विश्वामित्र के अनुसार यह संस्कार बालक की आयु के पांचवें वर्ष में किया जाना चाहिए। जब सूर्य उत्तरायण में आता है तो इस समय को शुभ मानकर यह अनुष्ठान किया जाता है।

इस दिन बच्चे को स्नान कराकर सुंदर पोशाकों से सजाया जाता है और गणेश, सरस्वती, बृहस्पति आदि देवताओं की पूजा की जाती है और वहां ॐ नमः सिद्धम् का जाप किया जाता है और लिखा जाता है।

उपनयन संस्कार –

हिंदू जीवन में किशोरावस्था को संपूर्ण जीवन में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है, इससे संबंधित उपनयन संस्कार का वैदिक काल से ही विशेष महत्व रहा है। अथर्ववेद में उपनयन संस्कार का अर्थ ब्रह्मचारी की शिक्षा और ब्रह्मचारी को वेदों की दीक्षा देना था।

आजकल उपनयन संस्कार का शैक्षणिक अर्थ लगभग लुप्त हो गया है, अब इसे बच्चे का जनेऊ धारण संस्कार माना जाता है। गृहसूत्रों के अनुसार ब्राह्मण का उपनयन संस्कार आठवें वर्ष में, क्षत्रिय का ग्यारहवें वर्ष में और वैश्य का बारहवें वर्ष में किया जाना चाहिए।

उपनयन संस्कार करने के लिए एक शुभ दिन चुना जाता है, विशेष रूप से शुक्ल पक्ष का एक उपयुक्त दिन और समय निर्धारित करके गणेश, लक्ष्मी, सरस्वती, धात्री और मेधा आदि देवी-देवताओं की पूजा की जाती है।

समावर्तन संस्कार –

यह संस्कार विद्यार्थी जीवन के अंत का प्रतीक है। समावर्तन शब्द का अर्थ है ‘घर प्रस्थान करना’। इसका मतलब यह है कि वेदों का अध्ययन करने के बाद छात्र गुरुकुल से अपने घर लौटता था, फिर यह संस्कार गुरुकुल में ही पूरा किया जाता था। इस संस्कार के लिए सामान्य आयु 24 वर्ष मानी जाती है।

क्योंकि इस समय विद्यार्थी वेदों की शिक्षा पूर्ण करता था। मनु ने लिखा है कि गुरु की आज्ञा लेकर समावर्तन संस्कार करना चाहिए और उसके बाद सवर्णा तथा गुणवती कन्या से विवाह करना चाहिए। इस संस्कार को पूरा करने के लिए एक शुभ दिन चुना गया।

इस दिन उन्होंने गुरु को प्रणाम किया और वैदिक अग्नि में अंतिम आहुति दी। आग के पास पानी से भरे आठ घड़े रखे हुए थे। इस अवसर पर वे इन कलशों के जल से स्नान करते थे, जिसे ब्रह्मचर्य आश्रम के अंत और गृहस्थ जीवन की शुरुआत का प्रतीक माना जाता था।

यह प्रक्रिया दर्शाती है कि व्यक्ति अब ब्रह्मचर्य के नियमों से बंधा नहीं है। इसके बाद वह गुरु का आशीर्वाद लेकर घर लौट आते हैं। इसका मतलब यह है कि समावर्तन संस्कार को विवाह का प्रवेश द्वार भी कहा जा सकता है।

विवाह संस्कार –

विवाह हिंदुओं के लिए एक धार्मिक संस्कार है। विवाह के माध्यम से व्यक्ति घर में प्रवेश करता है और अपने समाज एवं संस्कृति की समृद्धि में योगदान देता है। विवाह संस्कार व्यक्ति को ऋषि-ऋण, देव-कर्ण, पितृ-ऋण, अतिथि-ऋण तथा जीव-ऋण से मुक्ति दिलाने का साधन माना जाता है।

विवाह के माध्यम से पत्नी प्राप्त करके ही व्यक्ति चार पुरुषार्थ – धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को प्राप्त कर सकता है। विवाह न केवल जैविक आवश्यकताओं की पूर्ति करता है बल्कि धार्मिक कार्यों को करने और समाज में निरंतरता बनाए रखने के लिए भी एक आवश्यक प्रक्रिया है।

अन्त्येष्टि संस्कार –

यह मनुष्य की जीवन-यात्रा का अंतिम संस्कार है, जिसके साथ व्यक्ति का सांसारिक जीवन भी समाप्त हो जाता है। इसका उद्देश्य परलोक में मृत व्यक्ति की आत्मा को शांति प्रदान करना है। मृत्यु के बाद, अंतिम संस्कार के शव-यात्रा क से पहले, मृतक को नहलाया जाता है, नए कपड़े पहनाए जाते हैं और बांस से बने शरीर पर लिटा दिया जाता है।

अंतिम संस्कार शव-यात्रा क के दौरान, रास्ते भर सामूहिक रूप से मंत्रों (राम नाम सत्य है, सत्य मुक्ति है) का जाप किया जाता है। मंत्रोच्चारण के साथ मृतक के पुत्र व अन्य रक्त संबंधी लोगों चिता को ​अग्नि दी। दाह संस्कार के बाद राख को गंगा या अन्य नदी में विसर्जित कर दिया जाता है।

मृत्यु के दिन से मृतक के घर में अशौच की अवधि होती है और इस अवधि के दौरान मृतक की आत्मा की शांति और अगली दुनिया में उसके कल्याण से संबंधित कई अनुष्ठान किए जाते हैं। इसके अलावा आत्मा की शांति के लिए हर साल श्राद्ध और पिंडदान भी किया जाता है।

मृत्यु के दिन से दसवाँ या तेरहवाँ दिन तक मृतक के घर में अशौच की अवधि होती है और इस अवधि के दौरान मृतक की आत्मा की शांति और अगली दुनिया में उसके कल्याण से संबंधित कई अनुष्ठान किए जाते हैं। इसके अलावा आत्मा की शांति के लिए हर साल श्राद्ध और पिंडदान भी किया जाता है।

संस्कार का महत्व :-

शिक्षा का सर्वोत्तम साधन –

शिक्षा के क्षेत्र में सभी मूल्यों का बहुत बड़ा योगदान रहा है। संस्कार जीवन के हर स्तर पर व्यक्ति को सांसारिक ज्ञान देने, प्रशिक्षण देने तथा समाजोपयोगी एवं योग्य सदस्य बनाने में सहायक सिद्ध हुए हैं।

शिक्षा का मुख्य उद्देश्य व्यक्ति को विभिन्न परिस्थितियों में उसके उत्तरदायित्वों एवं कर्तव्यों का बोध कराकर उसके व्यक्तित्व का सही दिशा में विकास करना है। मानव जीवन के हर क्षेत्र, जैसे माता-पिता, पुत्र, छात्र, गृहस्थ आदि में उनके द्वारा निभाई गई कई भूमिकाओं में हिंदू संस्कृति ने उन्हें अनुशासित जीवन जीना सिखाने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

व्यक्तित्व निर्माण –

व्यक्तित्व निर्माण में संस्कारों की अहम भूमिका रही है। मनुष्य की प्रवृत्तियों और मन की वृत्तियों के प्रेरक उसके मन में पले-बढ़े संस्कार ही हैं। मनुष्य अपने जीवन में जो भी अच्छे और बुरे कर्म करता है, उसी प्रकार नए संस्कारों का निर्माण होता है। इस प्रकार इन अनुष्ठानों की एक अंतहीन शृंखला चलती रहती है जो मनुष्य के व्यक्तित्व के निर्माण में योगदान देती है।

सामाजिक समस्याओं का समाधान –

संस्कारों ने सामाजिक समस्याओं को सुलझाने और समाधान करने में भी अमूल्य भूमिका निभाई है। जब किसी व्यक्ति को स्वास्थ्य विज्ञान और प्रजनन विज्ञान का ज्ञान नहीं था और स्वास्थ्य विज्ञान इतना विकसित नहीं था, उस स्थिति में यह संस्कार उसकी शिक्षा का माध्यम बन गया और बच्चे के जन्म से संबंधित समस्याओं का भी समाधान हो गया।

नैतिक सद्गुण एवं सांस्कृतिक विकास का आधार –

संस्कृति के स्थायित्व और जनता में नैतिक गुणों के विकास में अनुष्ठानों की विशेष भूमिका रही है। संस्कारों की सहायता से ही व्यक्ति के जीवन और व्यवहार में दया, सदाचार, पवित्रता, क्षमा, नम्रता, स्वतंत्रता, सहानुभूति और समर्पण जैसे अनेक नैतिक गुणों का विकास होता है।

इन्हीं गुणों की सहायता से एक ऐसे व्यक्ति का निर्माण होता है जो विस्तृत होता है और समाज की नैतिक उन्नति की ओर अग्रसर होता है।

यह वे संस्कार हैं जिनके माध्यम से व्यक्ति सामाजिक रीति-रिवाजों और सांस्कृतिक परंपराओं से परिचित होता है और उनके प्रति विचारशील होकर उसी प्रकार व्यवहार करने का प्रयास करता है। इस प्रकार ये सांस्कृतिक विशेषताएँ एक से दूसरे में हस्तांतरित होकर रीति-रिवाजों को लम्बे समय तक सुरक्षित रखती हैं।

समाजीकरण में सहायक –

संस्कार व्यक्ति के समाजीकरण का एक ऐसा विशिष्ट माध्यम है, जिसकी सहायता से व्यक्ति यथाशीघ्र सामाजिक मूल्यों के अनुरूप आचरण करना सीखता है, उन्हें आत्मसात करता है और अपने जीवन के वास्तविक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए प्रयासरत रहता है।

इन संस्कारों द्वारा निर्दिष्ट नैतिकता के उचित पालन से व्यक्ति का समाजीकरण इस प्रकार होता है कि वह हर पल अपने सामाजिक कर्तव्यों के प्रति जागरूक रहता है। इसके अलावा, सामाजिक अपेक्षाओं का ज्ञान, सामाजिक परिपक्वता और उन्हें पूरा करने के लिए सहायक और अनुकूल वातावरण बनाने में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है।

संक्षिप्त विवरण :-

हिंदू संस्कार किसी व्यक्ति को सामाजिक बनाने और उसके सामाजिक व्यक्तित्व को विकसित करने का मुख्य आधार रहे हैं, लेकिन आधुनिक समय में कई संस्कारों का पालन पहले की तरह नहीं किया जाता है या कई संस्कारों को समय के साथ छोड़ दिया गया है।

आज अगर कुछ संस्कारों का पालन किया जा रहा है तो उनमें आवश्यकता के अनुसार कुछ बदलाव करके स्वीकार कर लिया जाता है।

FAQ

संस्कार का महत्व क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *