भारत में अनेकता में एकता है समझाइए? (Unity in diversity)

प्रस्तावना :-

भारत में अनेकता में एकता को बनाए रखने में कई भारतीय राजाओं, हिंदू और मुस्लिम संतों और समाज सुधारकों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यही कारण है कि बाहर से देखने पर भले ही इतने सारे मतभेद हों, फिर भी इन सबके बीच भारतीय संस्कृति में एक मौलिक एकता है, जिसे भारतीय संस्कृति की आत्मा माना जा सकता है।

भारत में अनेकता में एकता :-

भारतीय इतिहास के सभी कालखंडों में यह देखा गया है कि भारत में सभी समूहों के लोगों ने आपसी सौहार्द बनाए रखा और एक ऐसी समन्वयवादी संस्कृति का निर्माण किया जो कई धर्मों, जातियों और भाषाओं के लोगों को एक साथ बांधती है।

भौतिक भिन्नताओं, सामाजिक भिन्नताओं, रीति-रिवाजों और धर्मों के बावजूद, भारतीय समाज में एक आश्चर्यजनक एकता मौजूद है जिसे हिमालय से कन्याकुमारी तक आसानी से देखा जा सकता है।

इसका मुख्य कारण भारतीय संस्कृति का लचीला दृष्टिकोण है जिसने सभी संस्कृतियों के साथ इतना अच्छा सामंजस्य स्थापित कर लिया है कि समय के साथ यह भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग बन गया है। भारतीय संस्कृति एवं समाज में अनेकता में एकता को हम निम्नलिखित कारकों द्वारा स्पष्ट करेंगे –

धार्मिक अनेकता में एकता –

यह भारतीय समाज की एक अनूठी विशेषता है कि यहां सभी धर्मों को मानने वाले एक साथ रहते हैं और एक-दूसरे की विशेषताओं को आत्मसात करते हैं। एक ही स्थान पर मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारा है, जहां वे अपने धर्म के अनुसार पूजा करते हैं। सभी धर्मों के लोग होली, दीपावली, बुद्ध-पूर्णिमा, गुरु नानक जयंती, ईद, क्रिसमस मनाते हैं और एक साथ आनंद लेते हैं।

भारत में कुछ ऐसे धार्मिक स्थल हैं जो पूरे देश को एकता की डोर में बांधते हैं। पूर्व में जगन्नाथ पुरी, पश्चिम में द्वारका, उत्तर में बद्रीनाथ और दक्षिण में रामेश्वरम भारत की एकता के ठोस प्रमाण हैं। राम और कृष्ण की लीलाओं का वर्णन पूरे भारत में किया जाता है।

ऊपर से देखने पर सभी धर्म अलग-अलग लग सकते हैं, लेकिन सभी की मूल बातें एक ही हैं। सभी धर्म नैतिकता, दया, ईमानदारी, पाप-पुण्य, स्वर्ग-नर्क, सत्य, अहिंसा, आध्यात्मिकता में विश्वास करते हैं। भारत का धर्मनिरपेक्ष स्वरूप इसकी एकता का सबसे बड़ा कारण माना जा सकता है।

भौगोलिक विविधता में एकता –

भारत की जलवायु उष्णकटिबंधीय और समशीतोष्ण है। यहां सभी ऋतुओं की जलवायु एक ही समय में अलग-अलग भागों में पाई जाती है। चेरापूंजी में लगभग वार्षिक वर्षा होती है जबकि राजस्थान के थार-रेगिस्तान में कम वर्षा होती है। कुछ क्षेत्र बहुत उपजाऊ हैं, कुछ कम और कुछ बंजर हैं।

लेकिन ये मतभेद अलग-अलग माध्यमों से सभी को एक साथ भी जोड़ते हैं। गंगा, यमुना, कावेरी, नर्मदा, गोदावरी देश के कई हिस्सों और उनके निवासियों को जोड़ती हैं। देश में विभिन्न क्षेत्रों की जलवायु में उगने वाली वनस्पति एवं खाद्य पदार्थ पाये जाते हैं।

पहाड़ी इलाकों में रहने वाले लोग मैदानों से आने वाली सामग्रियों पर निर्भर रहते हैं और मैदानी इलाकों के निवासी पहाड़ों से आने वाली कई चीजों पर निर्भर रहते हैं। देश की प्राकृतिक सीमाओं ने इसे अन्य देशों से अलग कर दिया है और एक साथ रहने की ओर प्रेरित किया है।

भाषाई विविधता में एकता –

भारत एक ऐसा देश है जहां कई भाषाएं बोली जाती हैं। इसीलिए भारतीय संविधान में २२ आधिकारिक भाषाओं को मान्यता दी गई है। इतनी सारी भाषाओं के प्रचलन के बावजूद उनकी उत्पत्ति संस्कृत भाषा में होने के कारण सभी में एकरूपता है।

वैदिक युग से लेकर ईसा से ४०० वर्ष पूर्व तक संस्कृत भारत की मुख्य भाषा थी। पाली भाषा की उत्पत्ति लगभग २,२०० वर्ष पूर्व संस्कृत से हुई थी। हिंदी, बांग्ला, मराठी, गुजराती, असमिया, उड़िया और पंजाबी भाषाओं को भी संस्कृत का स्थानीय रूप माना गया है।

तमिल, तेलुगु, कन्नड़ भी इससे प्रभावित हुए हैं। इसी कारण सभी की वर्णमाला लगभग एक जैसी होती है। उर्दू भाषा को फ़ारसी और संस्कृत का मिश्रण भी माना जाता है। तथापि यहाँ का संपूर्ण साहित्य, सामाजिक मूल्य और आचार-विचार संस्कृत भाषा और संस्कृत साहित्य से प्रभावित हैं। भाषा की यही समानता सभी को एकता के सूत्र में बांधती है।

प्रजातीय अनेकता में एकता –

भारत में कई प्रजातियाँ आईं, लेकिन अब सभी मिश्रित रूप में यहाँ पाई जाती हैं। उत्तर भारत में आर्य जाति और दक्षिण में द्रविड़ जाति की प्रधानता है। भारत में विश्व की तीन प्रमुख प्रजातियों के लोग और उनकी उपशाखाएँ (सफेद, पीली और काली) देखने को मिलती हैं, जो भारत में हर जगह पाई जाती हैं। इस प्रकार, भारतीय संस्कृति विभिन्न जातीय विशेषताओं वाले लोगों के मिश्रित समूह का प्रतिनिधित्व करती है।

राजनीतिक अनेकता में एकता –

आजादी से पहले भारत पर अलग-अलग राज्यों और शासकों का शासन था। लेकिन आज़ादी के बाद पूरा देश एक सत्ता के अधीन आ गया और देश में लोकतांत्रिक शासकों की शुरुआत हुई, जिसका अर्थ था “जनता का शासन, जनता द्वारा, जनता के लिए” विभिन्न प्रांतों के माध्यम से एक भारतीय संघ का गठन किया गया।

भारतीय संसद में सभी क्षेत्रों, धर्मों और जातियों के लोगों को प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिला है। सरकार जो भी कानून बनाती है वह सभी के लिए समान होता है।

समाज के कमजोर और निचले तबकों के लिए योजना बनाना, पंचायतों में महिलाओं के लिए एक तिहाई आरक्षण आरक्षित करना, विकास योजनाएं चलाना, ये सब पूरे भारत के लिए किया जाता है। राजनीतिक दृष्टि से भारत एक इकाई है, यह बात विदेशी आक्रमणों के समय सभी भारतीयों द्वारा मिलकर लड़ने से सही साबित हुई है।

सांस्कृतिक विविधता में एकता –

भारत के सभी लोग, चाहे वे हिंदू हों, मुस्लिम हों, सिख हों, ईसाई हों, पारसी हों, किसी भी संस्कृति और धर्म के अनुयायी हों, सभी एक ही रंग में रंग गए हैं। भारतीय शास्त्रीय संगीत पूरे देश में चाव से सुना जाता है।

उत्तर भारत में दक्षिण भारतीय खाना बड़े चाव से खाया जाता है तो दक्षिण भारत में उत्तर के व्यंजन मशहूर हैं। भारतीय कला सांस्कृतिक एकता का भी उदाहरण है। कई मंदिरों में मस्जिदों की तरह गोलाकार संरचना पाई जाती है।

मुसलमानों में भी अब एक विवाह का चलन हो रहा है। सभी धर्मों के लोगों का धर्म, खान-पान, पहनावा-शैली, भाषा-साहित्य आदि विविध क्षेत्रों में मेल-जोल और आदान-प्रदान बढ़ा है जिससे सांस्कृतिक एकता स्थापित हुई है।

जातीय विविधता में एकता –

भारत में कई जातियां रहती हैं जिनकी अपनी अलग-अलग आचार-विचार, प्रथाएं और परंपराएं हैं। यह न केवल हिंदुओं में बल्कि मुस्लिम, सिख, ईसाई और जैनियों में भी प्रचलित है।

लेकिन यह भी सच है कि, जाति व्यवस्था के अस्तित्व के बावजूद सभी समुदायों में, जातियों के बीच पदानुक्रम और सामाजिक प्रतिबंधों में बहुत तेजी से ढील दी जा रही है। सामाजिक समरसता के लिए यह बहुत लाभकारी परिवर्तन है।

ग्रामीण-शहरी विविधता में एकता –

गाँव और नगर का जीवन पहले से ही काफी अलग रहा है। जबकि गाँवों में अधिकांश लोगों का मुख्य व्यवसाय कृषि कार्य था, परिवारों की प्रकृति एकजुट थी, महिलाओं का जीवन घरेलू कार्यों तक ही सीमित था, शहरों और महानगरों में एक अलग तरह का माहौल था।

शहर में उद्योग-धंधे खुलने से यहाँ रोजगार के मुख्य साधन व्यापार, उद्योग और नौकरियाँ थे। यह स्थिति काफी देर तक बनी रही. लेकिन आज कुछ बदलना शुरू हो गया है।

अब शहर कच्चे माल और सस्ते श्रम की मांग के कारण, लोक संस्कृति और कला के प्रति आकर्षण के कारण और गाँव की आर्थिक स्थिति में सुधार के कारण अपनी पूर्ति के लिए शहर की ओर रुख कर रहे हैं। इससे शहर और गांव में एकीकरण हो रहा है।

संक्षिप्त विवरण :-

उपरोक्त विवरण से यह तथ्य सिद्ध होता है कि प्राचीन काल से ही भारत में अनेक परस्पर विरोधी संस्कृतियाँ, सभ्यताएँ एवं प्रजातियों के समूह आते-जाते रहे हैं। इसी प्रकार यहां रहते हुए वे सभी समूह अपने-अपने विचारों, मान्यताओं और व्यवहार से कुछ बिंदुओं पर सहमत हुए और फिर समय के साथ धीरे-धीरे भारत का अभिन्न अंग बन गये।

अन्य समकालीन संस्कृतियाँ लुप्त हो गईं लेकिन भारतीय संस्कृति और सभ्यता ने आज भी अपनी निरंतरता बनाए रखी है। यही निरन्तरता भारतीय संस्कृति एवं समाज की एकता का मुख्य आधार है।

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *