अनुकरण का अर्थ , imitation in hindi, anukaran ka arth

अनुकरण का अर्थ (anukaran meaning in hindi) :-

सरल भाषा में अनुकरण का अर्थ है नकल करना। जब कोई बच्चा या व्यक्ति दूसरों के व्यवहार को देखकर वैसा ही व्यवहार करता है तो इस प्रक्रिया को अनुकरण कहा जाता है। भले ही नकल करने वाले व्यक्ति को नकल किये जा रहे व्यवहार का अर्थ पता न हो, फिर भी वह उसकी नकल कर लेता है।

अनुक्रम :-
 [show]

चेतन अनुकरण –

जब कोई व्यक्ति जानबूझकर किसी अन्य व्यक्ति के व्यवहार का अनुकरण करता है तो इसे चेतन अनुकरण कहा जाता है।

अचेतन अनुकरण –

अचेतन अनुकरण में, व्यक्ति जानबूझकर दूसरे की नकल नहीं करता है। यह अज्ञात रूप से स्वयं ही नकल किया गया है। मिलर और डिलार्ड ने ऐसे अचेतन अनुकरण को समेल निर्भरता कहा है।

अनुकरण इतनी स्वाभाविक और व्यापक है कि मैकडॉगल ने इसे मूल प्रवृत्ति की श्रेणी में रखने की सिफारिश की। मिलर और डिलार्ड, मर्फी और मर्फी और न्यूकॉम्ब जैसे आधुनिक मनोवैज्ञानिकों ने असहमति जताते हुए कहा कि नकल एक बुनियादी प्रवृत्ति नहीं हो सकती, क्योंकि यह एक अर्जित प्रक्रिया है।

अनुकरण उदाहरण :-

  • पिता को लिखते देख बच्चा भी पेंसिल से रेखाएं खींचने लगता है।
  • सिनेमा में अभिनेता-अभिनेत्रियों की पोशाक देखकर युवक-युवतियां उनकी नकल करने लगते हैं।
  • किसी मधुर संगीत को सुनने के बाद व्यक्ति अपने आप अपनी उंगलियों से थपथपाना या तान शुरू कर देता है।

अनुकरण की परिभाषा :-

अनुकरण को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति के क्रियाकलाप और शरीर संचालन की नकल मात्र को अनुकरण कहते हैं।”

विलियम मैकडॉगल

“अनुकरण किसी दूसरे व्यक्ति के बाहरी व्यवहार की नकल हैं।”

रायबर्न

“अनुकरण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें दूसरे व्यक्ति की समान क्रियाएं उद्दीपक का कार्य करती हैं।”

“दूसरे व्यक्ति के कार्यों या व्यवहारों को जानबूझकर अपनाना नकल है।”

मीड

अनुकरण की विशेषताएँ :-

इस प्रकार स्पष्ट है कि किसी के आचरण को स्वेच्छा से अपना लेना अथवा उसी प्रकार का व्यवहार करने लगना अनुकरण है। बच्चे अपने जीवन में अनुकरण करके विभिन्न व्यवहार सीखते हैं। नकल किशोरों और वयस्कों में भी देखी जाती है। पहले तो इसे एक तरह का मूल प्रवृत्ति माना जाता है। आजकल इसे अर्जित व्यवहार माना जाता है। इसका निष्कर्ष इस प्रकार है:-

  • अनुकरण यांत्रिक है।
  • अनुकरण एक कार्यात्मक प्रक्रिया है।
  • अनुकरण अधिगम की एक सरल तकनीक है।
  • अनुकरण व्यक्ति द्वारा प्रयत्नपूर्वक किया जाता है।
  • अनुकरण में तादात्मीकरण भी निहित हो सकता है।
  • अनुकरण में किसी अन्य व्यक्ति के कार्य या व्यवहार की पुनरावृत्ति शामिल होती है।
  • व्यवहार या शारीरिक क्रिया ऐसी होती है जिसे अनुकरण करने वाला महत्व देता है।
  • अनुकरण चेतन और अचेतन दो प्रकार से की जाती है। जब अनुकरण सचेतन या होशपूर्वक किया जाता है तो उसे नकल कहते हैं। अनजाने या अचेतन रूप से किया गया अनुकरण समेल निर्भरता कहलाता है।

अनुकरण के नियम :-

टार्डे ने अनुकरण के संबंध में तीन नियम बनाये हैं:-

अनुकरण ऊपर से नीचे की ओर चलता है –

जो कार्य या व्यवहार पहले समाज के धनी या प्रतिष्ठित वर्ग या वरिष्ठजनों द्वारा किया जाता है उसका अनुकरण बाद में निचले स्तर के लोग या बच्चे करते हैं।

अनुकरण अंदर से बाहर की ओर चलता है –

व्यक्ति सबसे पहले अपने परिवार और आस-पड़ोस के लोगों का अनुकरण करता है। इसके बाद ही बाहरी समूहों के लोगों की नकल की जाती है।

अनुकरण ज्यामितीय क्रम में चलता है –

इसका मतलब यह है कि अनुकरण की गति काफी तेज होती है। अर्थात् अनुकरण की गति प्रारम्भ में जितनी थी उससे भी अधिक तथा भविष्य में उससे भी अधिक हो जाती है।

अनुकरण के प्रकार :-

आरंभिक अनुकरण –

ऐसी नकलें अक्सर छोटे बच्चों में देखने को मिलती हैं। इसके उदाहरण हैं जब कोई हंसता है तो बच्चे हंसते हैं। इसे निरर्थक अनुकरण भी कहा जाता है।

सहानुभूति पूर्ण अनुकरण –

किसी का दुःख, दर्द या कष्ट देखकर व्यक्ति वैसा ही महसूस करता है और उसके जैसा ही व्यवहार करता है। जैसे किसी को रोता हुआ देखकर आप भी रोने लगते हैं।

विचार चालक अनुकरण –

किसी के व्यवहार या कार्य को देखकर दूसरा व्यक्ति आंतरिक रूप से प्रेरित होता है और स्वतः ही वैसा व्यवहार करने लगता है। उदाहरण के लिए, गीत या नृत्य से प्रभावित होकर सिर हिलाना या पैर हिलाना। इसे स्वाभाविक अनुकरण भी कहा जाता है।

तार्किक अनुकरण –

इसमें नकल करने वाला व्यक्ति के व्यवहार को सोच-समझकर दोहराता है। जैसे किसी प्रशिक्षु द्वारा अपने प्रशिक्षक के व्यवहार का अनुकरण करना।

अभिनयात्मक अनुकरण –

किसी के व्यवहार के अनुसार अभिनय करना अभिनयात्मक अनुकरण करना कहलाता है। जैसे बच्चों द्वारा पिता का चश्मा पहनना या राजा की तरह व्यवहार करना आदि।

ऐच्छिक अनुकरण –

यदि कोई बच्चा या व्यक्ति अपनी इच्छा से किसी दूसरे का अनुकरण करता है तो इसे ऐच्छिक या उद्देश्यपूर्ण अनुकरण कहा जाता है। इसे चेतन अनुकरण भी कहा जाता है।

अनुकरण के सिद्धांत:-

मिलर और डिलार्ड का सिद्धांत –

मिलर और डिलार्ड के अनुसार, पुरस्कार और दंड का अनुकरण मूलक व्यवहार पर प्रभाव पड़ता है। पुरस्कृत व्यवहार का शीघ्र अनुकरण किया जाता है। दंडात्मक व्यवहार का अनुकरण नहीं किया जाता. जब बच्चे अनुचित व्यवहार प्रदर्शित करते हैं तो व्यवहार तीव्र गति से होने लगता है।

थार्नडाइक का सिद्धांत –

व्यक्ति अक्सर उन्हीं कार्यों या व्यवहारों का अनुकरण करना चाहता है जिनसे उसकी कोई आवश्यकता पूरी होती है। अनुमोदित व्यवहारों का अनुसरण अधिक होता है और तिरस्कृत व्यवहारों का अनुकरण कम होता है। प्रयास और त्रुटियाँ सिद्धांत के आधार पर की जाती हैं।

इसलिए, यदि बच्चा या व्यक्ति सीखने के लिए तैयार है और उचित अभ्यास करता है, तो अनुकरण आसान हो जाता है। यदि अनुकरण का प्रभाव सुखद होगा तो उस व्यवहार की पुनरावृत्ति होगी। यदि परिणाम कष्टकारी हो तो उसे दबा दिया जायेगा।

बंडुरा का सिद्धांत –

बंडुरा के अनुसार, बच्चे व्यक्तियों के व्यवहार या प्रतिमानों की नकल करते हैं जिन्हें उनके व्यवहार करने पर पुरस्कृत किया जाता है। जिन व्यवहारों के लिए उन्हें दंडित किया जाता है उनका अनुकरण बच्चे नहीं करते। बंडुरा ने प्रयोग के माध्यम से समझाया कि जब आक्रामक व्यवहार के लिए प्रतिमान को पुरस्कृत किया गया, तो बच्चों ने भी आक्रामकता का अनुकरण किया। दंडित किये जाने पर आक्रामक व्यवहार का अनुकरण नहीं किया गया।

अनुकरण का महत्व :-

सामाजिक अधिगम और समायोजन

बच्चे सामाजिक शिक्षा के लिए अपने दोस्तों और वरिष्ठों के कार्यों का अनुसरण करते हैं।

आवश्यकता की संतुष्टि –

जिन आवश्यकताओं को व्यक्ति अपने प्रयत्नों से पूरा नहीं कर पाता वे अन्य लोगों के व्यवहार का अनुकरण करके पूरी कर लेता है। अतः व्यक्ति के जीवन में अनुकरण का प्रभाव एवं महत्व काफी व्यापक है।

व्यक्तित्व का विकास –

अनुकरण के अध्ययन से व्यक्ति में साहस एवं धैर्य की भावना विकसित होती है तथा वह सामाजिक मूल्यों एवं आदर्शों को अपनाकर व्यक्तित्व को एक गतिशील संगठन का रूप प्रदान करता है।

अनुरूपता –

बच्चे अपने परिवार समूह या समाज के रीति-रिवाजों, नियमों और आदर्शों का अनुकरण करते हैं। इससे उनके व्यवहार में एकरूपता आती है। सामाजिक मानकों के प्रति सम्मान बढ़ता है।

सामाजिक प्रगति –

बच्चों, किशोरों या वयस्कों को जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति के पथ पर अग्रसर लोगों के कार्यक्रमों का अनुसरण करने की प्रेरणा मिलती है और वे स्वयं भी प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित होते हैं। यह प्रेरणा एक समूह या राष्ट्र से दूसरे समूह या राष्ट्र को भी मिलती है।

संक्षिप्त विवरण :-

जब कोई बच्चा या व्यक्ति दूसरों के व्यवहार को देखकर वैसा ही व्यवहार करता है तो इस प्रक्रिया को अनुकरण कहा जाता है। अनुकरण चेतन भी हो सकती है, अचेतन भी। अनुकरण ऊपर से नीचे, अंदर से बाहर और ज्यामितीय क्रम में चलता है। बच्चे या व्यक्ति “प्रयत्न और त्रुटि” के आधार पर किसी व्यवहार का अनुकरण करते हैं। पुरस्कृत व्यवहार का अनुकरण किया जाता है। दंडात्मक व्यवहार का अनुकरण नहीं किया जाता है।

FAQ

अनुकरण के नियम बताइए?

अनुकरण का महत्व बताइए?

अनुकरण के प्रकार बताइए?

अनुकरण किसे कहते हैं?

social worker

Hi, I Am Social Worker इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

प्रातिक्रिया दे