सामाजिक अधिगम क्या है? सामाजिक अधिगम का सिद्धांत

सामाजिक अधिगम का अर्थ :-

सामाजिक अधिगम में व्यक्ति विभिन्न कौशलों, तथ्यों और मूल्यों के साथ-साथ समाज में प्रचलित कई मान्यताओं और अन्य सामाजिक व्यवहारों को भी सीखता है। वह अपने संप्रत्यय को संगठित करके दुनिया की समझ हासिल करता है, वह समाजीकरण के माध्यम से सब कुछ सीखता है।

समाजीकरण के माध्यम से वह वह भाषा सीखता है जिसके द्वारा वह अपने विचार व्यक्त करता है और दूसरों के साथ बातचीत करता है। आत्म-पहचान और स्व-मूल्यांकन भी सामाजिक रूप से सीखते हैं। इसलिए, सामाजिक सीखने की प्रक्रिया एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है।

सामाजिक अधिगम की परिभाषा :-

“सामाजिक अधिगम, कौशल, तथ्यों और मूल्यों के अधिग्रहण को की ओर संकेत करती है जो अन्य व्यक्तियों के साथ हमारे आचरण करने के परिणामस्वरूप प्राप्त करते है।”

किम्बल यंग

“सामाजिक अधिगम का एक अधिक सामान्य रूप भूमिका सीखना है, जिसमें एक व्यक्ति दूसरे उन व्यक्तियों, जिनकी समान भूमिका स्थित है, के समान व्यवहार करना और समान व्यवहार से देखना सीखता है।”

सिकोर्ड एवं बैकमैन

सामाजिक अधिगम का सिद्धांत :-

अल्बर्ट बंडुरा को प्रेक्षणात्मक अधिगम का प्रवर्तक माना जाता है। इस प्रकार के अधिगम में बालक सामाजिक व्यवहारों का अनुकरण करके सीखता है, इसलिए इसे सामाजिक अधिगम का सिद्धांत भी कहा जाता है।

अल्बर्ट बंडूरा का मानना है कि बच्चा, एक सामाजिक प्राणी होने के नाते, समाज में किसी प्रतिमान के व्यवहार को देखकर उसका अनुकरण करने का प्रयास करता है। कोई व्यक्ति किसी विशेष व्यवहार को देखकर और दोहराकर वैसा ही व्यवहार करना सीखता है, इसे मॉडलिंग कहा गया।

इस सिद्धांत को बंडुरा, रॉस और रॉस ने एक लोकप्रिय प्रयोग के माध्यम से समझाया है। इस प्रयोग में, कुछ स्कूली बच्चों को एक वयस्क व्यक्ति द्वारा बॉब डॉल नाम की 3 से 4 फीट की गुड़िया को उछालकर, मारकर और उसके प्रति आक्रामकता होते हुए दिखाया गया था। जब उन बच्चों को गुड़िया के साथ अकेला छोड़ दिया गया तो उन्होंने देखा कि वे भी गुड़िया के प्रति उतना ही आक्रामक व्यवहार कर रहे थे।

बाद के प्रयोगों में यह देखा गया कि जब बच्चे टेलीविजन पर ऐसे आक्रामक दृश्य देखते थे, तो उनका आक्रामक व्यवहार उन बच्चों की तुलना में बढ़ जाता था, जो टेलीविजन पर ऐसे दृश्य नहीं देखते थे। बंडुरा द्वारा किए गए शोध से यह स्पष्ट है कि प्रेक्षणात्मक संबंधी सीखने की प्रक्रिया निम्नलिखित 4 प्रक्रियाओं द्वारा नियंत्रित होती है:-

अवधान (Attention) –

अवधान प्रेक्षणात्मक सीखने की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। प्रेक्षक सामाजिक मॉडल के व्यवहार को यथासंभव सावधानी से देखता है। सीखना उतना ही मजबूत होता है। केवल मॉडल के व्यवहार की कल्पना करना यह सुनिश्चित नहीं करता है कि अवलोकन संबंधी सीखने की प्रक्रिया संचालित होगी।

अपने मॉडल पर प्रेक्षक का ध्यान मॉडल की उम्र, लिंग, समाज में स्थिति आदि पर भी निर्भर करता है। जब मॉडल और प्रेक्षक की उम्र और लिंग में समानता होती है, तो प्रेक्षक के व्यवहार को सफलतापूर्वक देख पाता है।

धारण (Retention) –

प्रेक्षणात्मक अधिगम की दूसरी महत्वपूर्ण प्रक्रिया धारणा है। मॉडलिंग की प्रक्रिया में यह भी आवश्यक है कि प्रेक्षक सामाजिक मॉडल पर ध्यान दे और उसे याद रखे, अर्थात वह मॉडल के सभी प्रासंगिक व्यवहारों को दोहरा सके और समय आने पर उसी व्यवहार को पुनरावृत्ति कर सके।

पुनरुत्पादन (Reproduction) –

पुनरुत्पादन भी प्रेक्षणात्मक अधिगम की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। इसका तात्पर्य व्यवहार में प्रतीकात्मक अभिनय के प्रदर्शन से है। प्रेक्षक पुनर्भ्यास के माध्यम से मॉडल के जटिल व्यवहारों को निष्पादित करना सीखता है। मान लीजिए कि कोई व्यक्ति कंप्यूटर चलाना सीख रहा है, तो ऐसी स्थिति में, प्रेषक केवल कंप्यूटर को चलता हुआ देखकर मॉडल नहीं सीख सकता जब तक कि वह वास्तव में कंप्यूटर चलाने का अभ्यास न कर ले।

अभिप्रेरणा (Motivation) –

प्रेक्षणात्मक अधिगम की प्रक्रिया में अभिप्रेरणा एक महत्वपूर्ण योगदान है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि प्रेषक मॉडल के व्यवहार को कितनी ध्यान से देखता है, वह उस व्यवहार को तब तक ठीक से नहीं सीख पाता जब तक उसे उस व्यवहार को सीखने के लिए पर्याप्त पुनर्बलन नहीं मिल जाता। जब प्रेषक को लगातार व्यवहार करने के लिए पर्याप्त पुनर्बलन मिलता है, तो प्रेषक तुरंत उस व्यवहार को कार्य में बदल देता है।

संक्षिप्त विवरण :-

सीखना एक सतत, व्यापक और आजीवन चलने वाली प्रक्रिया है। एक बच्चा जो पैदा होता है वह सीखता है और कई सामाजिक कारक उसके सीखने को प्रभावित करते हैं। समाजीकरण में व्यक्ति को सीधे समाज के कर्ताओं द्वारा प्रशिक्षित किया जाता है। समाज के प्रभाव से तथा समाज के कर्ता-धर्ता द्वारा व्यक्ति जो कुछ भी सीखता है, वह सब सामाजिक अधिगम के अंतर्गत आता है।

FAQ

सामाजिक अधिगम सिद्धांत के प्रतिपादक?

सामाजिक अधिगम से क्या अभिप्राय है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *