ट्रस्टीशिप का सिद्धांत principle of trusteeship of Gandhi

ट्रस्टीशिप का अर्थ :-

ट्रस्टीशिप का तात्पर्य किसी वस्तु को किसी के संरक्षण में रखना है। गांधीवादी अर्थशास्त्र में ट्रस्टीशिप का सिद्धांत में समानता का भाव है। गांधीजी का मानना था कि चाहे वकील हो या मजदूर, सभी को समान पैसा मिलना चाहिए।

यदि समाज का प्रत्येक व्यक्ति सामाजिक कल्याण के लिए धन अर्जित करे तो वर्ग संघर्ष की स्थिति उत्पन्न नहीं होगी, व्यक्ति को अर्जित धन को समाज की आवश्यकताओं के अनुसार समर्पित करना चाहिए, अर्थात् ट्रस्टीशिप का सिद्धांत की मूल भावना है पूंजीपतियों के पास जो धन है वह समाज की धरोहर है, जिसका उपयोग समाज कल्याण में निहित है।

ट्रस्टीशिप का सिद्धांत :-

प्रत्येक समाज, चाहे आदिम हो या आधुनिक, सभ्य हो या असभ्य, की एक निश्चित सामाजिक संस्तरण होती है, जिसे जाति, वर्ण, वर्ग आदि नामों से पुकारा जाता है। इस संस्तरण का आधार सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक, राजनीतिक रूप से विभिन्न समाजों में पाया गया है। वर्तमान पूंजीवादी युग में अर्थव्यवस्था का बहुत महत्व है, जिसके आधार पर समाज अमीर और गरीब दो वर्गों में बंटा हुआ है। जिसका मुख्य कारण अपने चरम पर मौजूद आर्थिक विषमता है।

जहां आर्थिक रूप से समृद्ध पूंजीपति वर्ग के पास आर्थिक संसाधनों का खजाना है। शेष समाज (गरीब वर्ग) आर्थिक कठिनाइयों से जूझता नजर आ रहा है। इससे समाज में आर्थिक असमानता और शोषण बढ़ता है।

गांधी जी के अनुसार- व्यक्ति को अपने पास केवल उतनी ही संपत्ति रखनी चाहिए, जिससे वह अपनी उचित आवश्यकताओं की पूर्ति कर सके। आवश्यकता से अधिक धन संग्रह करने से शोषण की प्रवृत्ति विकसित होती है तथा असमानता एवं विषमता फैलने लगती है।

अमीर और गरीब के बीच असमानता को दूर करने के लिए गांधीजी ने शोषण मुक्त और समान समाज की स्थापना के आधार पर आर्थिक असमानताओं को दूर करने के लिए ट्रस्टीशिप का सिद्धांत का प्रतिपादन किया। गांधीजी का मानना था कि साम्यवादी उपायों अर्थात कानून और सत्ता की सहायता से तथा स्वेच्छा से संपत्ति को एक समाज मानकर व्यक्ति (धनवान) को स्वयं उसका संरक्षक बनना चाहिए।

इस प्रकार आर्थिक असमानता को दूर किया जा सकता है। गांधीजी उस साम्यवादी व्यवस्था के विरोधी थे, जो अमीरों के धन को जबरन छीनकर आम हित में लगाने की बात करती थी, क्योंकि यह रास्ता हिंसक है, लेकिन अहिंसा के आधार पर समानता विकसित करने के पक्ष में थे सभी के लाभ के लिए स्वेच्छा से धन का उपयोग करना।

ट्रस्टीशिप के तत्व :-

ट्रस्टीशिप का अर्थ इस तथ्य को स्पष्ट करता है कि किसी द्रव्य या रुपये को संरक्षण में रखना अर्थात पूंजी को संरक्षण में रखना, जिसका उपयोग समाज के कल्याण के लिए किया जा सके। इसके बाद ट्रस्टीशिप के तत्वों पर चर्चा की जाएगी, जो गांधीजी के अनुसार इस प्रकार हैं:-

उचित आवश्यकताओं की पूर्ति –

ट्रस्टीशिप का सिद्धांत का मानना है कि मनुष्य को केवल अपनी आवश्यकता को पूरा करने के लिए पैसा खर्च करना चाहिए न कि भौतिकवादी जरूरतों को पूरा करने के लिए। गांधीजी ने लिखा, “प्रत्येक व्यक्ति को उन सामान्य नागरिकों की तरह जीवन यापन करें। जिस प्रकार समाज में रहने वाले व्यक्ति करते हैं और यह तभी संभव होगा जब व्यक्ति की आवश्यकताएं सीमित होंगी।”

आवश्यकतानुसार पूंजी –

ट्रस्टीशिप का दूसरा तत्व आवश्यकता के बाद बचे धन को उपयोग के लिए सुरक्षित रखने के बजाय उसका संरक्षक बनना है। ऐसे आत्मविश्वास से ही समाज में समानता और सच्चा समाजवाद स्थापित करना संभव होगा।

नैतिकता पर आधारित –

गांधीजी का दर्शन नैतिकता और धर्म पर आधारित है। इसीलिए उन्होंने नैतिक तत्वों के आधार पर ट्रस्टीशिप का सिद्धांत का भी प्रतिपादन किया है। गांधीजी ने सदैव अधिकार से अधिक कर्तव्य को महत्व दिया है।

जिसके लिए वह व्यक्ति को जागृत रखने के पक्ष में थे, क्योंकि कर्तव्यों के प्रति जागरूकता ही व्यक्ति में नैतिकता का विकास करती है। गांधीजी का मानना था कि संपूर्ण गीता का सिद्धांत कर्म और त्याग पर आधारित है। अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूकता समाज में ट्रस्टीशिप का सिद्धांत को विकसित करने में मदद करती है।

सत्याग्रह और असहयोग पर आधारित –

सत्याग्रह और असहयोग दोनों ट्रस्टीशिप का सिद्धांत के महत्वपूर्ण तत्व हैं, यदि पूंजीपति अपनी अधिशेष पूंजी को सामाजिक हित में नहीं देता है तो गांधी जी के अनुसार उसे प्राप्त करने के लिए अहिंसक असहयोग तथा सविनय कानून भंग सिद्धांत के आधार पर बाध्य पूंजी प्राप्त करना होगा।

ऐसा करने से एक हिंसक क्रांति होगी जिसका गांधी जी विरोध करते थे। इसलिए गांधीजी ने ट्रस्टीशिप का सिद्धांत के आधार पर संरक्षित धन को अहिंसा और नैतिकता के आधार पर जनहित में उपयोग करने की बात कही है।

अहिंसक क्रांति –

परिवर्तन प्रकृति का अपरिहार्य नियम है। इसमें तेजी लाने के लिए गांधीजी अहिंसक क्रांति पर जोर देते हैं और व्यवस्थित सामाजिक परिवर्तन लाने के पक्ष में नजर आते हैं। उनका मानना था कि अहिंसक क्रांति में एक-दूसरे के प्रति प्रेम, सहयोग की भावना शामिल होती है, जो हिंसा की क्रांति को नकार देती है।

ट्रस्टीशिप के सिद्धांत का महत्व :-

गांधीजी का ट्रस्टीशिप का सिद्धांत व्यक्ति, समाज, देश, राष्ट्र के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसा कैसे? इसकी चर्चा का अध्ययन निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से किया जाएगा:-

  • ट्रस्टीशिप का सिद्धांत अहिंसक क्रांति का पक्षधर है।
  • प्रेम और सहयोग सामाजिक एकता और संगठन में सहायक होते हैं।
  • इस सिद्धांत का उपयोग वर्ग संघर्ष को समाप्त करने के लिए भी किया जा सकता है।
  • ट्रस्टीशिप का सिद्धांत संपत्ति और वस्तुओं के व्यक्तिगत स्वामित्व की अवहेलना करता है।
  • आर्थिक असमानता की समाप्ति के साथ सभी के लिए समान अवसर के लिए ट्रस्टीशिप का सिद्धांत महत्वपूर्ण है।
  • यह एक नैतिक सिद्धांत है जो सामाजिक कल्याण के लिए प्रचारित किया जाता है, जो व्यक्तित्व विकास के लिए आवश्यक है।
  • संपत्ति का उपयोग सामाजिक प्रकृति का होता है। ट्रस्टीशिप का सिद्धांत पूंजी को सामाजिक उपयोग की वस्तु बनाने में योगदान देता है।
  • ट्रस्टीशिप का सिद्धांत मनुष्यों के बीच प्रेम, अहिंसा, सहानुभूति, सहयोग और भाईचारे जैसे आदर्श गुणों को विकसित करने का प्रयास करता है।

ट्रस्टीशिप का आलोचनात्मक मूल्यांकन :-

गांधीजी द्वारा प्रतिपादित ट्रस्टीशिप के सिद्धांत की आलोचना का अध्ययन किया जाएगा, जो निम्नलिखित बिंदुओं पर आधारित है:-

१. विद्वानों का मानना है कि केवल पूंजीपतियों को संरक्षक बना देने से परिवर्तन नहीं हो सकता।

२. यह सिद्धांत समाजवाद और पूंजीवाद दोनों के विकल्प का वर्णन करता है, लेकिन व्यवहार में यह पूंजीवाद और समाजवाद दोनों के दोष शेष को दर्शाता है। पूंजीपतियों के निरर्थक संचय और शोषण को कम करने की कोई संभावना नजर नहीं आता है।

३. आज तक का अनुभव बताता है कि कोई भी पूंजीपति व्यापारिक संपत्ति पर व्यक्तिगत अधिकार को छोड़कर स्वेच्छा से अपनी संपत्ति का उपयोग दूसरों के लिए नहीं करता है। इस तरह की थ्योरी महज कल्पना है।

४. यदि हम इस सिद्धांत का मूल्यांकन करें तो पाते हैं कि एक ओर जहां गांधीवादी औद्योगिक संस्थानों में इस सिद्धांत के आधार पर कुछ कार्य किये जा रहे हैं। वहीं मजदूरों की हालत अन्य पूंजीवादी संस्थानों में काम करने वाले मजदूरों से भी ज्यादा खराब है। संरक्षक कहे जाने वाले निरंकुश अधिकारी पूंजीपतियों से भी अधिक शोषण कर रहे हैं।

अत: यह स्पष्ट है कि वर्तमान समाज में जहां अमीर और अमीर होते जा रहे हैं तथा गरीब और गरीब होते जा रहे हैं, समानता की अवधारणा निरर्थक है। सहयोग प्रेम, अहिंसा के स्थान पर हिंसा, वर्ग संघर्ष, असमानता, व्यक्तिवाद आज सर्वत्र व्याप्त है।

संक्षिप्त विवरण :-

उपरोक्त चर्चा करने के बाद हम गांधीजी द्वारा प्रतिपादित ट्रस्टीशिप का सिद्धांत को संक्षेप में समझेंगे:-

  • गांधीजी का ट्रस्टीशिप का सिद्धांत सभी की आवश्यकताओं की समान पूर्ति पर आधारित है।
  • पूंजीपति संरक्षित अतिरिक्त धन को समाज कल्याण के हित में लगाने के पक्ष में हैं।
  • अहिंसा, नैतिकता, सत्याग्रह आदि के आधार पर ट्रस्टीशिप के अर्थ को स्वीकार करना।
  • जमींदारों, राजाओं, व्यापारियों, उद्योगपतियों सभी को लालच और उपकार की भावना को त्यागकर अपना आत्मविश्वास वृद्धि होगा।
  • इसका मुख्य उद्देश्य अतिरिक्त संपत्ति को राज्य की भलाई के लिए समर्पित करना है ताकि व्यक्ति, समाज, देश, राष्ट्र सभी का विकास हो सके।

गांधीजी के ट्रस्टीशिप का सिद्धांत को कुछ लोग केवल अमीर और पूंजीपति वर्ग के लिए मानते हैं, जो गलत है। यह समाज के सभी लोगों और पूरे समाज पर समान रूप से लागू होता है। पूंजीपति-श्रमिक, शिल्पकार, कलाकार, वैज्ञानिक आदि भी अपने ज्ञान का उपयोग समाज के हित में करके समाज के सहायक बन सकते हैं। इसका तात्पर्य यह है कि इन लोगों के पास जो भी ज्ञान है। ये केवल उन्हीं तक सीमित नहीं रहेंगे बल्कि पूरे समाज के लिए उपयोग में लाये जायेंगे।

FAQ

ट्रस्टीशिप का सिद्धांत किसने दिया?

गाँधी के ट्रस्टीशिप (न्यासिता) से आप क्या समझते हैं?

social worker

Hi, I Am Social Worker इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

प्रातिक्रिया दे