सत्याग्रह क्या है? सत्याग्रह का अर्थ What is Satyagraha?

सत्याग्रह का अर्थ :-

इंसान के जीवन में कई आवश्यकताएँ और परेशानियां होती हैं। जिनकी पूर्ति अलग-अलग उद्देश्यों के आधार पर की जाती है। इन उद्देश्यों को कैसे पूरा किया जाए। इस संबंध में विभिन्न विद्वानों की अलग-अलग राय है। उनमें से गांधीजी भी एक हैं जो मानते हैं कि सत्याग्रह अहिंसा का व्यावहारिक रूप है।

जिसके आधार पर लक्ष्य तक पहुंचना आसान हो जाता है। वहीं गांधीजी ने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए क्रांति को जरूरी माना और सत्याग्रह को इसका प्रमुख हथियार बताया। सत्याग्रह दो शब्दों से मिलकर बना है – सत्य और आग्रह। अर्थात् सत्य का आग्रह करना, सत्य पर टिके रहना ही सत्याग्रह ।

सत्याग्रह के तत्व :-

यहां हम गांधीजी के सत्याग्रह में निहित तत्वों पर चर्चा करेंगे –

सत्य और अहिंसा –

गांधीजी सत्य की शक्ति को सत्याग्रह का पहला तत्व और अहिंसा को दूसरा तत्व मानते थे। उनका मानना था कि सत्याग्रही को हमेशा यह विश्वास रखना चाहिए कि वह सत्य के लिए लड़ रहा है। सत्य जो ईश्वर का स्वरूप है वह प्रेम है, न्याय है, क्योंकि सत्य सामाजिक क्रिया पर आधारित है।

अहिंसा के तत्त्व को प्रस्तुत करते हुए उन्होंने लिखा है- यह एक सकारात्मक आचरण है जो सत्य की प्राप्ति का लक्ष्य है। इसके अंतर्गत मन और शरीर को किसी भी प्रकार का दर्द और आघात न पहुंचाना, प्रेम और स्नेह की भावना को शामिल किया गया है।

आत्मपीड़ा –

सत्याग्रह प्रेम पर आधारित है, जिसके लिए व्यक्ति को समझौता, कष्ट और आत्मपीड़ा सहना पड़ता है। प्रेम की परख बलिदान और त्याग से होती है और तपस्या का अर्थ है सदैव कष्ट सहने के लिए तैयार रहना, आत्मपीड़ा में भी संतोष का होना है। जो व्यक्ति आत्मपीड़ा के लिए तैयार रहता है वह निडर और निडर होता है, जिसमें मृत्यु का सामना करने की क्षमता होती है।

गांधीजी ने लिखा, “प्रेम कभी मांग नहीं करता, वह हमेशा देता है, प्रेम कष्ट सहता है, कभी शिकायत नहीं करता है और न ही बदला लेता है।” इसलिए, सत्याग्रह एक धर्मयुद्ध है, जिसमें ईश्वर की सहायता आवश्यक है, जो केवल आत्मपीड़ा, अहिंसा और सत्याचरण के माध्यम से ही प्राप्त की जा सकती है।

सत्याग्रह की लक्षण :-

गांधीजी द्वारा सत्याग्रह की दस प्रमुख विशेषताएँ प्रस्तुत की गई हैं, जिनकी चर्चा इस प्रकार की जाएगी:-

अहिंसा –

दूसरों की आत्मा को दुखी न करना।

सत्य –

दूसरों के साथ हमारी परमार्थ एकता।

अस्तेय –

यद्यपि यह नियम भी एक सहायक नियम है, तथापि सामाजिक संगठन की दृष्टि से इसका बहुत महत्व है। व्यक्ति में आत्मसंतुष्टि का होना आवश्यक है, क्योंकि आत्मसंतुष्टि ही अस्तेय प्राप्ति का प्रतीक है। सामान्यतः दूसरे की अनुमति के बिना किसी दूसरे की वस्तु को उठाना या उपयोग करना चोरी है, लेकिन यदि कोई व्यक्ति अपनी आवश्यकता से अधिक वस्तुओं की चाहत रखता है। यदि कोई उनके लिए प्रयास करता है और उन्हें अपने पास रखता है, तो यह भी एक प्रकार की चोरी है।

आवश्यकता से अधिक रखने का अभिप्राय दूसरों के अधिकार की वस्तु पर अपना हाथ डालना है, जिन्हें इसकी आवश्यकता है। दूसरे की वस्तु की चाह न रखना, आवश्यकता से अधिक वस्तु का समाधान कर पाना असंभव है। अतः कहा जा सकता है कि अस्तेय एक वृत्ति एवं प्रवृत्ति भी है। यह एक निष्ठा है, सिर्फ आचरण नहीं है। वृत्ति और आचरण में समानता के साथ-साथ अपने परिश्रम से प्राप्त वस्तु के अतिरिक्त किसी अन्य वस्तु की आकांक्षा न करना अस्तेय है।

अपरिग्रह –

गांधीजी का मानना है कि व्यक्ति और समाज की खुशी और शांति परिग्रह या संचय करने में नहीं है, बल्कि सोच-समझकर और स्वेच्छा से संग्रह की जाती है। वस्तुओं, संपत्ति या सुख-सुविधाओं का त्याग करने में सच्ची शांति और खुशी है, जैसे-जैसे परिग्रह कम होती जाती है, मानवीय चिंताएं कम होती जाती हैं और सच्ची खुशी और शांति प्राप्त होती है।

ऐसा करने से जहां व्यक्ति की आत्मा को सच्चा सुख मिलता है। साथ ही समाज में धन का समान वितरण, गरीबी, भुखमरी आदि भी समाप्त हो जाती है और समाज के प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकताएं पूरी होने लगती हैं। परिग्रह का त्याग आवश्यक है, क्योंकि यह सभी बुराइयों की जड़ है।

ब्रह्मचर्य –

गांधीजी ने सत्य और अहिंसा के लिए ब्रह्मचर्य को आवश्यक माना है। इसके प्रति उनकी धारणा सामाजिक थी। वह सार्वभौमिक प्रेम में विश्वास करते थे, जिसमें प्रेम की सीमा केवल स्त्री-पुरुष तक सीमित नहीं होनी चाहिए, बल्कि सभी के लिए होनी चाहिए। उनके अनुसार यह तभी संभव है जब यौन सुख का उपयोग या उपभोग दायरे में हो।

परिवार में महिला की स्थिति मातृत्व की भावना से युक्त होनी चाहिए, ताकि उसमें त्याग की भावना विकसित हो। महिला को व्यक्तिपरक नहीं बल्कि तत्वनिष्ठ होना चाहिए। नारी के सहअस्तित्व की बुनियाद पवित्रता पर होनी चाहिए। पुरुष का दृष्टिकोण स्त्री के प्रति अनुक्रमणशीलता का और स्त्री की निडरता की होनी चाहिए। यही जीवन का आधार है। समाज को पतन के मार्ग से बचाने के लिए ब्रह्मचर्य आवश्यक है।

स्वदेशी –

स्वालम्बन व्यक्ति के लिए अत्यंत आवश्यक व्रत है। गाँधी जी ने कहा है- स्वदेशी ऐसी भावना है जो हमें आस-पास के रहने वाले लोगों की सेवा के लिए प्रेरित करती है, जो व्यक्ति अपने निकट वालों को छोड़कर दूर वालों की सेवा के लिए दौड़ता है। वह स्वदेशी व्रत को भंग करता है।” स्वनिर्मित वस्तुओं का उपयोग करना हमारा स्वाभिमान है। ऐसी भावना सत्याग्रह के लिए आवश्यक है।

शारीरिक श्रम –

शारीरिक श्रम के सिद्धांत के आधार पर मनुष्य को जीवित रखने के लिए श्रम आवश्यक है, जो मस्तिष्क से नहीं बल्कि शरीर से होना चाहिए। काम और आराम के बीच का अंतर ही संघर्ष का कारण है, जिसे दूर करने के लिए हर व्यक्ति को शारीरिक श्रम करना पड़ता है। जो भी कार्य हम कर सकते हैं, वह हमें स्वयं ही करना चाहिए।

सामाजिक दृष्टि से भी यदि हम अपनी आवश्यकताओं के अनुसार काम करें और भोजन करें तो इससे समाज में व्याप्त समस्याओं का भी समाधान होगा। पूंजीपति और श्रमिकों के बीच संघर्ष कम होगा और समाज में न्याय स्थापित होगा तथा शोषण कम होगा।

अस्वाद –

शारीरिक श्रम के बदले कुछ पाने की कामना अस्वाद है। दूसरों को खिलाकर खाना, स्वयं के बजाय समाज के उत्पादन के अधिकार पर विश्वास करना, दूसरों की आंखों में खुशी की छाया देखकर खुशी मनाना अस्वाद है। अर्थात पहले दूसरों को वितरित हो, फिर बच जाए तो मैं लूं, इस अनुभूति को अस्वाद कहते हैं।

धार्मिक समानता –

धार्मिक समानता विभिन्न संप्रदायों का विघटन है। गांधीजी के अनुसार सभी धर्मों के मूल सिद्धांत एक ही हैं, जिनका उद्देश्य सभी धर्मों को सम्मान की दृष्टि से देखना है। यदि यह प्रक्रिया जीवन में अपना ली जाए तो धर्म परिवर्तन की समस्या भी समाप्त हो जाएगी।

संक्षेप में, गांधीजी ने सत्याग्रह को “क्रांति का विज्ञान” कहा। सत्याग्रह के लिए उपरोक्त लक्षणों का पालन आवश्यक है जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से किसी न किसी तरह से एक दूसरे से संबंधित हैं।

स्पर्श भावना –

गांधीजी के अनुसार जाति-वर्ण के बंधन से उत्पन्न ऊंच-नीच के आधार पर उत्पन्न अस्पृश्यता का सर्वोदय सामाजिक व्यवस्था में कोई स्थान नहीं है। प्रत्येक व्यक्ति को दूसरे के साथ अपने जैसा व्यवहार करना चाहिए तथा प्रत्येक व्यक्ति में स्पर्श की भावना उत्पन्न होनी चाहिए। सभी मनुष्य समान हैं। इसलिए किसी को भी किसी का सही ढंग से जीने का अधिकार छीनने का अधिकार नहीं है।

सत्याग्रह की विधियाँ :-

गांधीजी के सत्याग्रह में वर्णित विधियाँ इस प्रकार हैं:-

  • प्रार्थना
  • प्रतिज्ञा
  • धरना
  • हड़ताल
  • उपवास
  • करबंदी
  • असहयोग
  • सविनय अवज्ञा
  • अहिंसक धावे
  • आमरण अनशन
  • अपनी इच्छा से सरकारी सीमा छोड़ना

सत्याग्रह का प्रयोग :-

आमतौर पर यह माना जाता है कि सत्याग्रह का प्रयोग केवल शत्रुओं पर करना गलत है। गांधी जी के अनुसार- यदि सत्याग्रह न्याय और सत्य पर आधारित है, तो इसका उपयोग परिवार के सदस्यों, दोस्तों, पड़ोसियों, साथियों, यहां तक कि संसार के खिलाफ भी किया जा सकता है।

सत्याग्रह एक अलौकिक शक्ति है, जो जाति, धर्म, लिंग, संप्रदाय, क्षेत्र आदि के आधार पर भेदभाव नहीं करती। इसलिए, सत्याग्रह एक सार्वभौमिक प्रक्रिया है, जिसका प्रयोग सभी व्यक्तियों, सभी स्थितियों में किया जाता है।

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *