सर्वोदय क्या है? अर्थ, तत्व, लक्ष्य

सर्वोदय का अर्थ :-

सर्वोदय शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है, जिसका अर्थ है ‘सभी के कल्याण’ से है। सर्वोदय की विचारधारा का बीजारोपण महात्मा गांधी ने किया था। उनका विचार था कि जब तक संपूर्ण समाज विकसित नहीं होता तब तक कोई स्थायी स्वतंत्रता नहीं हो सकती। ‘सर्वजन सुखाय’ का अर्थ भौतिक और आध्यात्मिक सुख दोनों है। सर्वोदय के सिद्धांत के मूल तत्वों को तैयार करते समय, गांधीजी ने निम्नलिखित का उल्लेख किया:-

  • सबकी अपनी भलाई में अपनी भलाई है।
  • वकील और नाई दोनों के काम का मूल्य समान होना चाहिए क्योंकि दोनों को आजीविका प्राप्त करने का समान अधिकार है।
  • श्रमिकों और कामगारों का जीवन ही सच्चा जीवन है।

सर्वोदय समाज में उच्च विचारों का सर्वोच्च स्थान है। ऐसे समाज में व्यक्ति का समस्त श्रम समाज के कल्याण के लिए होता है तथा समाज व्यक्ति की पूर्ण वृद्धि एवं विकास के लिए सभी सुविधाएँ प्रदान करता है। ऐसे समाज में सभी व्यक्तियों के नैतिक, सामाजिक और आर्थिक मूल्य समान होते हैं।

गांधीजी ने सर्वोदय को सत्य और अहिंसा पर आधारित जीवन शैली के रूप में विकसित करने का प्रयास किया। गांधीजी की मृत्यु के बाद विनोबा भावे ने भूदान और ग्रामदान की विचारधारा को ध्यान में रखते हुए सर्वोदय के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

उनकी राय में सर्वोदय सार्वभौमिक प्रेम पर आधारित एक आदर्श सामाजिक व्यवस्था है जिसमें राजा और रंक, अमीर और गरीब सभी का अपना-अपना स्थान होता है। किसी भी व्यक्ति या समूह का दमन, शोषण या विनाश नहीं किया जा सकता। राधाकृष्ण की दृष्टि में सर्वोदय का अर्थ है कि “सभी लोगों का हित प्रत्येक के हित में सन्निहित है और इसका प्रतिकूल भी सही है।”

सर्वोदय के तत्व :-

पारिश्रमिक की समानता –

जितना वेतन नाई को उतना ही वेतन वकील को। “unto this last” का यह तत्व सर्वोदय में पूरी तरह समाया हुआ है।

प्रतिस्पर्धा का अभाव –

प्रतियोगिता संघर्ष को जन्म देती है, लेकिन सर्वोदय सहयोग में विश्वास करता है, संघर्ष में नहीं। सर्वोदय की पूरी इमारत अहिंसा की नींव पर खड़ी है।

साधन शुद्धि –

सर्वोदय में साधना शुद्धि प्रधान तत्व है। साध्य भी शुद्ध है और साधन भी शुद्ध है।

आनुवंशिक संस्कारों से लाभ उठाने के लिए ट्रस्टीशिप की योजना –

जिसे तन, बुद्धि और संपत्ति मिलती है, उसे समझ लेना चाहिए कि यह केवल लाभ सबका हित के लिए दिया गया है। वह भरोसे की भावना है। एक ट्रस्टी के रूप में, व्यक्ति को अपनी शक्ति और संपत्ति का उपयोग मानव जाति के लाभ के लिए करना चाहिए।

विकेंद्रीकरण-

सर्वोदय सत्ता और धन का विकेंद्रीकरण चाहता है। ताकि शोषण और दमन से बचा जा सके। केंद्रीकृत औद्योगीकरण के इस युग में यह और भी आवश्यक हो गया है। यहां सत्ता के मामले में विकेन्द्रीकरण की प्रक्रिया लागू की जाती है, तो उसका परिणाम होता है, शासन मुक्त समाज में, साम्यवादी की कल्पना में भी, राज्य सत्ता तपती धूप में रखे घी की तरह आखिर में पिघलने वाली है। गांधीजी ने शुरुआत, मध्य और अंत तीन स्थितियों में विकेंद्रीकरण और डी-गवर्नेंस की बात की। यह सर्वोदय का मार्ग है।

सर्वोदय के लक्ष्य :-

सर्वोदय का उद्देश्य अहिंसक साधनों का उपयोग करते हुए जाति और वर्गहीन समाज का निर्माण करना है जिसमें व्यक्ति द्वारा व्यक्ति का शोषण न हो, जिसमें कोई अमीर और कमजोर वर्ग न हो, जिसमें विचारों को व्यक्त करने और व्यापार करने की पूर्ण स्वतंत्रता हो, जिसमें विभिन्न धर्मों के अनुयायियों में घृणा की भावना न हो।

जिसमें सभी लोग दूसरे लोगों के धर्म का सम्मान करते हैं और जिसमें प्रत्येक व्यक्ति को अपनी क्षमता के अनुसार काम करने का अवसर मिलता है और वह स्वेच्छा से समाज के विकास में अधिक से अधिक योगदान देता है।

सर्वोदय के 4 प्रमुख लक्ष्य हैं : –

राजनीतिक लक्ष्य –

ये लक्ष्य इस प्रकार हैं:-

  • ग्राम स्वराज की स्थापना और राजनीति के स्थान पर लोक नीति का प्रादुर्भाव।
  • लोकतांत्रिक विकेंद्रीकरण पर आधारित नई राजनीतिक व्यवस्था का विकास।

आर्थिक लक्ष्य –

ये लक्ष्य इस प्रकार हैं :-

  • औद्योगिक क्रियाओं में गांधी न्यासधारिता का उपयोग।
  • त्याग और तपस्या पर आधारित भारतीय दर्शन का पुनरुत्थान।
  • आर्थिक विकेंद्रीकरण के लिए ग्रामीण और कृषि आधारित उद्योगों का विकास।
  • बुनियादी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपयुक्त प्रौद्योगिकी का विकास।
  • भूस्वामियों के हृदय में प्रेम और श्रद्धा की भावना की उत्पत्ति और पूरे देश का नैतिक उत्थान।
  • भावना और पारस्परिक सहयोग में वृद्धि और फलस्वरूप वर्ग संघर्ष, घृणा आदि का उन्मूलन।
  • स्वैच्छिक शारीरिक श्रम, अस्वामित्व और आत्मविश्वास पर आधारित एक नई समाज व्यवस्था का निर्माण।

सामाजिक लक्ष्य –

ये लक्ष्य इस प्रकार हैं :-

  • सुख-समृद्धि, भाईचारा एवं सहयोग की भावना के विकास के लिए जीवन स्तर में सुधार।
  • जाति व्यवस्था और वर्ग भेदभाव का अंत।
  • शोषण को समाप्त करने के लिए सामाजिक समानता को बढ़ावा देना।

नैतिक और धार्मिक लक्ष्य –

ये लक्ष्य इस प्रकार हैं:-

  • मानव व्यक्तित्व के समुचित विकास के लिए वैज्ञानिक ज्ञान के विकास के साथ-साथ आध्यात्मिक पक्ष का विकास।
  • उचित उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए उपयुक्त साधनों का उपयोग।
  • जीवन के सभी पक्षों में नैतिक मूल्यों का विकास तथा उनके महत्व का ज्ञान वर्धन।

सर्वोदय के तहत आयोजित होने वाले कार्यक्रम इस प्रकार हैं:-

  • साम्प्रदायिक एकता,
  • अस्पृश्यता निवारण, मद्यनिषेध,
  • ग्राम उद्योग,
  • ग्राम स्वच्छता,
  • बुनियादी शिक्षा,
  • प्रौढ़ शिक्षा,
  • स्त्री शिक्षा,
  • आरोग्य शिक्षा,
  • राष्ट्रीय भाषाएँ और प्रांतीय भाषाएँ,
  • आर्थिक समानताएँ,
  • आदिवासियों का विकास और
  • कुष्ठ रोगी, विद्यार्थी एवं पशु सुधार।

सर्वोदय के उद्देश्य:-

  • शोषण मुक्त समाज की स्थापना के लिए प्रयास करना।
  • व्यक्ति में आत्मसंयम की भावना का विकास करना।
  • मानव समाज के सर्वांगीण विकास के लिए प्रयास करना।
  • लोक नीति के आधार पर शासन का संचालन किया जाना।
  • सत्ता के विकेन्द्रीकरण के प्रयास सुनिश्चित किए जाने ।

FAQ

सर्वोदय विचार क्या है?

सर्वोदय शब्द किसने दिया ?

सर्वोदय के मुख्य तत्व क्या है?

सर्वोदय का प्रमुख लक्ष्य क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *