संविधान किसे कहते हैं संविधान की परिभाषा संविधान का अर्थ

प्रस्तावना  :-

किसी भी देश को गणतंत्र बनाने में संविधान की भूमिका सबसे आगे होती है। संविधान के बिना किसी भी राष्ट्र की शासन व्यवस्था को सुचारु रूप से चलाना असंभव है।

किसी भी देश का संविधान उस देश की राजनीतिक व्यवस्था, न्याय व्यवस्था और नागरिकों के हितों की रक्षा का एक बुनियादी साधन है। जो उस देश के विकास की दिशा तय करता है। संविधान किसी भी देश का मौलिक कानून है जो सरकार के विभिन्न अंगों की संरचना और मुख्य कार्यों को निर्धारित करता है। यह सरकार और देश के नागरिकों के बीच संबंध भी स्थापित करता है।

संविधान के माध्यम से ही किसी देश की शासन व्यवस्था नियंत्रित होती है। सरल शब्दों में कहें तो किसी देश या संस्था का शासन संविधान द्वारा ही नियंत्रित और निर्धारित होता है।

संविधान का अर्थ :-

संविधान – ‘सम्’ + ‘विधान’ बुनियादी सिद्धांतों का एक समूह है जिसके द्वारा कोई राज्य या अन्य संगठन शासित होता है। इसमें सम का अर्थ है बराबर या समान तथा विधि का अर्थ है नियम या कानून। इस प्रकार, संविधान नियमों का एक संग्रह है जो सभी नागरिकों पर समान रूप से लागू होता है।

किसी देश की शासन व्यवस्था कैसी होगी, सरकार का चयन कैसे होगा, सत्ता का वितरण कैसे होगा, न्यायिक प्रक्रिया क्या होगी, नागरिकों को क्या अधिकार दिये जायेंगे, नागरिकों और सरकारों के प्रति क्या कर्तव्य होंगे देश, इन सभी चीजों को संविधान कहा जाता है।

किसी देश या राज्य द्वारा निर्धारित वे नियम या कानून जिनके माध्यम से उस देश या राज्य को बेहतर ढंग से शासित किया जा सकता है, उस देश या राज्य का संविधान कहलाते हैं। संविधान उस देश की राजनीतिक व्यवस्था, न्याय व्यवस्था के नियम और कानून तथा नागरिकों के अधिकारों और कर्तव्यों का संकलन है।

संविधान की परिभाषा :-

संविधान को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

”संविधान उन समस्त लिखित व अलिखित विधियों और नियमों का संग्रह है जिनके आधार पर किसी देश की शासन व्यवस्था संगठित की जाती है, शासन के विभिन्न अंगों के बीच शक्तियों का विभाजन किया जाता है और उन सिद्धांतों का निर्धारण किया जाता है जिन पर उन शक्तियों का प्रयोग किया जाएगा ।”

गिलक्राइस्ट

“किसी देश का संविधान उस पद्धति का प्रतीक है जो उस देश या राज्य द्वारा अपने लिए अपनाई जाती है।”

अरस्तु

“संविधान सिद्धांतों का एक संग्रह है जिसके अनुसार सरकार की शक्तियों और शासितों के अधिकारों और दोनों के बीच संबंधों का समन्वय किया जाता है।”

वुल्से

“संविधान विहीन राज्य की परिकल्पना नहीं की जा सकती। संविधान के अभाव में राज्य, राज्य नहीं बल्कि एक प्रकार की अराजकता होगी।”

जेलिनेक

”संविधान ऐसे निश्चित नियमों का संकलन है जिसमें सरकार की कार्यविधि प्रतिपादित होती है तथा जिनके द्वारा उसका संचालन होता हैं ।”

ब्राइस
संविधान
CONSTITUTION

संक्षिप्त विवरण :-

किसी भी देश या संगठन द्वारा लागू किया गया वह कानून या नियम जिसके द्वारा उस देश या संगठन को पूर्ण रूप से शासित किया जा सकता है, उस देश का संविधान कहलाता है।

FAQ

संविधान क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *