पर्यावरण प्रदूषण क्या है? पर्यावरण प्रदूषण के प्रकार

पर्यावरण प्रदूषण प्रस्तावना :-

पर्यावरण दुनिया का एक समग्र दृष्टिकोण है और यह स्थानिक तत्वों और विभिन्न सामाजिक-आर्थिक प्रणालियों द्वारा बनाया गया है। पर्यावरण का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष संबंध मनुष्य के विभिन्न कार्यों से है। मनुष्य की विकासात्मक गतिविधियों ने पर्यावरणीय घटकों में विभिन्न तरीकों से परिवर्तन उत्पन्न किए हैं जो व्यवस्था पर हानिकारक प्रभाव डालते हैं। पर्यावरण में घातक और अवांछित परिवर्तनों से पर्यावरण प्रदूषण की समस्या जटिल होती जा रही है। पर्यावरण प्रदूषण की इन समस्याओं का समाधान प्रस्तुत करना अत्यावश्यक है।

पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ :-

पर्यावरण प्रदूषण का सीधा संबंध विभिन्न मानवीय गतिविधियों और औद्योगिक विकास से है। मनुष्य अपनी बुनियादी और अन्य आवश्यकताओं को पूरा करने और संतुष्ट करने के लिए जो गतिविधियाँ करता है, वे पर्यावरण प्रदूषण का मुख्य स्रोत हैं। एक हद तक, प्राकृतिक वातावरण मानव द्वारा उत्पादित विभिन्न प्रदूषकों को अवशोषित करता है और उन्हें उपयोगी तत्वों में परिवर्तित करता है।

प्रदूषकों की मात्रा कितनी दुर्लभ या कम है कि वे सीधे मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं हैं, लेकिन जब मानव द्वारा प्रदूषण की मात्रा एक सीमा से अधिक हो जाती है, तो इसका घातक प्रभाव मानव सहित समग्र पर्यावरण पर पड़ता है। विश्व स्तर पर, बढ़ते औद्योगीकरण, शहरीकरण, सघन कृषि, पशुपालन, उत्खनन, परमाणु ऊर्जा के उत्पादों और अन्य विकासात्मक गतिविधियों ने विभिन्न तरीकों से पर्यावरण को प्रदूषित करने में योगदान दिया है।

पर्यावरण प्रदूषण की परिभाषा :-

“पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ है किसी भी प्रकार की ठोस, द्रव या गैसीय वस्तु की इतनी मात्रा में उपस्थिति हो, जो पर्यावरण के लिए किसी भी प्रकार से हानिकारक या होने की संभावना रखती हो। “

पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986

पर्यावरण प्रदूषण के कारक  :-

पर्यावरण प्रदूषण के विभिन्न कारकों को मुख्य भागों में विभाजित किया जा सकता है-

  1. प्राकृतिक प्रदूषक
  2. मनुष्यकृत प्रदूषक

प्राकृतिक प्रदूषक –

प्रकृति द्वारा ऐसे पदार्थ जो पर्यावरण को अधिक मात्रा में प्रदूषित करते हैं, प्राकृतिक प्रदूषक कहलाते हैं। ये पदार्थ ठोस, द्रव या गैसीय अवस्था में हो सकते हैं। मुख्य प्रदूषक ओजोन, सोडियम क्लोराइड, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, ज्वालामुखी विस्फोट के कारण धूल गैसें, जंगल की आग के कारण गैसें, जीवाणु बीजाणु और परागकण आदि हैं।

कई प्रकार के खनिज लवण, कोयले की खदानों से बहने वाला अम्लीय पानी, गाद, वनस्पति और मिट्टी आदि। जल को गन्दा और खारा बनाने में प्रमुख हैं। खनिज और धर्मी पदार्थ भूमि को प्रदूषित करते हैं।

मनुष्यकृत प्रदूषक –

मनुष्य की विभिन्न जैविक गतिविधियों, औद्योगिक उत्पादन और विकास के कारण उत्पन्न प्रदूषक इसी श्रेणी में आते हैं। कृषि, खनन, बिजली उत्पादन, पशुपालन, परिवहन और परिवहन आदि कई प्रकार के प्रदूषकों का कारण बनते हैं, जो पर्यावरण प्रदूषण के मुख्य स्रोतों में से एक हैं।

मानवीकृत कारकों में मनुष्य स्वयं एक प्रमुख प्रदूषक है। मनुष्य की अनियंत्रित जनसंख्या वृद्धि पर्यावरण क्षय और प्रदूषण के मुख्य कारणों में से एक है। विकसित देशों में परमाणु ऊर्जा के लिए स्थापित परमाणु संयंत्रों से उत्पन्न रेडियोधर्मी सामग्री भी प्रदूषण का एक अन्य स्रोत है।

प्रदूषण चाहे प्राकृतिक हो या मानव निर्मित, समग्र पर्यावरण के क्षरण में इसका बहुत बड़ा हाथ है। मानव भले ही प्राकृतिक प्रदूषण को रोकने में सक्षम न हो, लेकिन मानव निर्मित प्रदूषण को जरूर कम किया जा सकता है।

पर्यावरण प्रदूषण के प्रकार :-

पर्यावरण प्रदूषण की समस्या बहुत जटिल है। पर्यावरण एवं इसके विभिन्न घाटों को प्रदूषित करने वाले प्रदूषकों की प्रकृति के अनुसार प्रदूषण के प्रकार इस प्रकार हैं:

मृदा या भूमि प्रदूषण –

मिट्टी पर्यावरण का एक महत्वपूर्ण घटक है, जो एक प्रकार से पृथ्वी की ऊपरी परत है। मिट्टी में कई प्रकार के कार्बनिक और अकार्बनिक पदार्थ पाए जाते हैं। कृषि और वनस्पति के विकास के लिए मिट्टी में मौजूद खनिज तत्व, मिट्टी जैव, पानी और मिट्टी के घोल बहुत महत्वपूर्ण हैं।

मृदा अपरदन मृदा को नष्ट कर देता है, जिससे अपरदन की समस्या उत्पन्न हो जाती है। जब भूमि का कटाव बढ़ता है तो भूमि कृषि योग्य नहीं होती है। जनसंख्या वृद्धि, कृषि और औद्योगिक विकास के कारण हवा और पानी के साथ-साथ मिट्टी भी प्रदूषित हो रही है। कृषि भूमि प्रदूषण के लिए जिम्मेदार मुख्य कारकों में से एक है।

बढ़ती आबादी के लिए खाद्य उत्पादन में इस्तेमाल होने वाले रासायनिक उर्वरक और कीटनाशक न केवल मिट्टी और पानी को बल्कि उत्पादित अनाज को भी प्रदूषित कर रहे हैं। मृदा प्रदूषण के प्रमुख कारणों में गंदगी, कचरा, राख, अपशिष्ट पदार्थ, जल-मल उपचारित ठोस पदार्थ, मृत पशु; औद्योगिक ठोस अपशिष्ट, उत्खनन व्यर्थ और कृषि अपशिष्ट आदि प्रमुख हैं।

जल प्रदूषण –

जल प्रदूषण अवांछित विदेशी बाह्य के घुलने के कारण प्राकृतिक जल की गुणवत्ता में कमी है। यह पानी को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक या कम उपयोगी बनाता है। जल प्रदूषण की समस्या दुनिया भर में मुख्य रूप से जनसंख्या वृद्धि, सघन कृषि और बढ़ते औद्योगीकरण के कारण है। लगभग सभी देशों में, औद्योगिक अपशिष्ट और नगरी कचरे और पदार्थों को जलीय स्रोतों में फेंक दिया जाता है, जिससे जल संसाधनों के दूषित होने का खतरा होता है।

प्रदूषकों की प्रकृति के आधार पर जल प्रदूषण की चार श्रेणियां हैं:

  • भौतिक प्रदूषण
  • रासायनिक प्रदूषण
  • शरीर क्रियात्मक प्रदूषण
  • जैव प्रदूषण

भौतिक प्रदूषण पानी के भौतिक गुणों जैसे स्वाद, रंग और गंध आदि में परिवर्तन है। पानी के रासायनिक पदार्थों के मिलने से प्रदूषित पानी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो जाता है। औद्योगिक कचरे, उर्वरकों और कीटनाशकों के उपयोग के कारण पानी में रासायनिक प्रदूषण बढ़ रहा है। जहरीले रसायनों के कारण प्रदूषण के साथ-साथ जलीय जीवन भी प्रभावित हो रहा है।

इसी प्रकार शरीर क्रियात्मक प्रदूषण में जल के गुण मानवीय गतिविधियों के लिए हानिकारक हो जाते हैं। जब पानी में रोगजनक कीटाणु और विषाणु आदि मिल जाते हैं तो जैब प्रदूषण की समस्या उत्पन्न हो जाती है। जैव प्रदूषण पानी मानव स्वास्थ्य के लिए सबसे खतरनाक है। इससे डायरिया, टाइफाइड, हैजा, पेचिश और पीलिया आदि फैलने की संभावना बढ़ जाती है।

जल प्रदूषण के सभी स्रोतों को मुख्य रूप से दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है: प्राकृतिक स्रोत और मानवीय स्रोत। प्राकृतिक स्रोतों के अन्तर्गत मिट्टी, खनिज, वनस्पति, मृत पशुओं के अवशेष तथा मल-मूत्र आदि प्रमुख स्रोत हैं। इसके अलावा सीसा, पारा, आर्सेनिक और कैडमियम आदि जहरीली धातुओं के कारण पानी प्रदूषित हो जाता है।

इसी तरह निकल, बेरियम, कोबाल्ट, टिन मैलबिडेनम, बेंजेडियम और वेरिलियम आदि पदार्थों की अधिक मात्रा बहुत घातक होती है। जल में खनिज लवणों के मिलने से जलीय प्रदूषण होता है, प्राकृतिक रूप से प्रदूषित जल मानव क्रियाकलापों के लिए उपयुक्त नहीं होता है।

जल के प्राकृतिक स्रोतों में मानवीय हस्तक्षेप से जल प्रदूषण होता है। जनसंख्या वृद्धि, शहरीकरण और औद्योगीकरण के कारण जलाशयों में प्रदूषण की समस्या बढ़ती जा रही है। मानवीय गतिविधियाँ जिनके कारण जल प्रदूषित होता है। इनमें घरेलू मल-मूत्र और कचरे का निस्तारण, छोड़े गए सीवेज, औद्योगिक बहिःस्राव, ऊष्मीय संदूषण, तेल संदूषण और रेडियोधर्मी अपशिष्ट आदि प्रमुख हैं।

वायु प्रदूषण –

यह समस्या मनुष्य की सभ्यता के फलने-फूलने के दौर से शुरू हुई जब मनुष्य ने आग का प्रयोग करना शुरू किया। हजार वर्ष पूर्व मनुष्य ने जंगलों में आग लगाकर भूमि की सफाई की और कृषि का प्रारम्भिक ज्ञान प्राप्त किया। वायुमण्डल में प्राकृतिक अवस्था में वायु के विभिन्न घटकों के बीच सन्तुलन बना रहता है। जो प्रदूषित होने पर बदल जाता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, वायु प्रदूषण “मनुष्य द्वारा किए गए कार्यों के माध्यम से हवा में पदार्थों की पर्याप्त संकेन्द्रण है जो स्वास्थ्य, वनस्पति और संपत्ति पर घातक प्रभाव डालती है या उसकी संपत्ति के उपयोग में बाधा डालती है।”

ध्वनि प्रदूषण –

ध्वनि प्रदूषण का कारण मानव द्वारा यांत्रिक विकास है, उद्योगों और वाहनों से उत्पन्न अवांछित शोर और ध्वनि आज एक बड़ी समस्या है। ध्वनि प्रदूषण की समस्या रेडियो, टेलीविजन, लाउडस्पीकर, सिनेमा, पटाखों, बैंड-बाजे, मोटर वाहनों और हवाई जहाजों द्वारा उत्पन्न तेज आवाज के कारण उत्पन्न हुई है। ध्वनि प्रदूषण का मानव स्वास्थ्य पर बड़ा घातक प्रभाव देखा जा रहा है।

अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने बेल्स नामक ध्वनि मापने वाले यंत्र का आविष्कार किया। इसके अनुसार 0 से 12 डेसिबल के बीच की ध्वनि सामान्य रूप से कानों द्वारा सुनी जा सकती है। लेकिन इससे तीव्र ध्वनि का मनुष्य की कार्य क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। तीव्र ध्वनि मनुष्य के कार्यों में बाधा डालती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने शोर की सामान्य सीमा 45 डेसिबल की सिफारिश की है।

सामाजिक प्रदूषण –

अन्य प्राणियों की तरह, मनुष्य भी जटिल पर्यावरण का एक हिस्सा है जो बुद्धि में सृजन के अन्य प्राणियों से श्रेष्ठ होने के कारण पर्यावरणीय संसाधनों को अपनाने में संलग्न है। मनुष्य की समग्र सामाजिक-सांस्कृतिक विरासत उसके प्रयासों का परिणाम है। इस सन्दर्भ में मानव विज्ञानी हर्शकविट्ज़ का कथन है, “संस्कृति पर्यावरण का मानवीय अंग है”, इस कथन का अर्थ है कि मनुष्य पर्यावरणीय घटनाओं को अपने सामाजिक-सांस्कृतिक मूल्यों के अनुरूप बनाने का प्रयास करता है।

वास्तव में, सामाजिक प्रदूषण वह स्थिति है जब व्यक्ति और समाज पर सामाजिक वातावरण का अस्वास्थ्यकर प्रभाव बढ़ता है। सामाजिक प्रदूषण के पीछे कई कारक हैं। सामाजिक प्रदूषण के कारणों में समाज में व्याप्त नियमहीनता भी शामिल है। विचलन एवं सामाजिक विघटन आदि प्रमुख हैं।

समाज में उत्पन्न इस स्थिति के पीछे जनसंख्या वृद्धि, निर्धनता, जाति और वर्ग भेद, सामाजिक-आर्थिक असमानता, अशिक्षा, सामाजिक कुरीतियाँ, दुर्व्यवहार और उपभोक्तावादी जीवन मूल्य आदि कारण हैं, जिन्हें किसी भी समाज में सामाजिक प्रदूषण के लिए उत्तरदायी माना जा सकता है।

सामाजिक प्रदूषण के कारण भ्रष्टाचार, अपराध और बाल अपराध, शराब, जुआ, वेश्यावृत्ति, अशिक्षा, बीमारी, गरीबी, सामाजिक तनाव और संघर्ष, हिंसा, युद्ध और सांप्रदायिक दंगों के कारण समाज में सामाजिक मूल्य ध्वस्त हो जाते हैं।

विद्युत चुम्बकीय हस्तक्षेप / प्रदूषण –

वर्तमान सभ्यता मशीनीकृत सभ्यता है जिसमें औजारों और मशीनों का उपयोग दैनिक जीवन की आवश्यकता बन गया है। लेकिन इन मशीनों और उपकरणों से एक तरह की इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगें पैदा होती हैं। जो एक विशेष प्रकार के निस्तब्ध प्रदूषण का जनक है। विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र में आने वाले जीवों और वस्तुओं पर इनका घातक प्रभाव पड़ता है।

पर्यावरण प्रदूषण के उपाय :-

हम दिन-ब-दिन पर्यावरण की रक्षा के प्रति लापरवाह होते जा रहे हैं, जिसके परिणाम भविष्य में घातक हो सकते हैं। यदि पर्यावरण के प्रति संवेदनशील होकर ध्यान नहीं दिया गया तो इसके परिणाम सार्वजनिक जीवन  घातक हो सकते हैं। इसके लिए निम्नलिखित कार्य करने होंगे।

वृक्षारोपण कार्यक्रम –

युद्धस्तर पर वृक्षारोपण कार्यक्रम चलाना, परती भूमि, पहाड़ी क्षेत्र, ढलान क्षेत्र में पौधरोपण करना।

उपयोग की वस्तु का पुन: प्रयोग –

डिस्पोजेबल, कांच, नैपकिन, रेजर आदि का पुन: उपयोग किया जाना चाहिए।

पॉलीथिन का बहिष्कार –

पर्यावरण संरक्षण के लिए पॉलीथिन का बहिष्कार करें, लोगों को पॉलीथिन से होने वाले खतरों के प्रति जागरूक करें।

कचरा निपटान –

कूड़ा करकट को एक स्थान पर एकत्रित करना, सब्जियों, छिलकों, अवशेषों, सड़ी-गली वस्तुओं को एक स्थान पर एकत्रित कर वानस्पतिक खाद तैयार करना।

संक्षिप्त विवरण :-

पर्यावरण प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से मनुष्य के विभिन्न कार्यों से संबंधित है। मनुष्य की विकासात्मक गतिविधियों ने पर्यावरणीय घटकों में कई तरह के बदलाव किए हैं जिनका मंडल पर हानिकारक प्रभाव पड़ा है। अतः पर्यावरण में होने वाले घातक एवं अवांछनीय परिवर्तनों से पर्यावरण प्रदूषण की समस्याएँ जटिल होती जा रही हैं।

FAQ

पर्यावरण प्रदूषण के प्रकार बताइए?

पर्यावरण प्रदूषण के उपाय बताइए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *