वायु प्रदूषण क्या है? वायु प्रदूषण के कारण, प्रकार, उपाय

प्रस्तावना :-

वायुमण्डल एक गैसीय आवरण है, जो पृथ्वी को चारों ओर से घेरे हुए है। वायु विभिन्न गैसों का यांत्रिक मिश्रण है। इसमें गैसों का अनुपात इतना संतुलित होता है कि इसमें जरा सा भी परिवर्तन होने पर संपूर्ण तंत्र या चक्र प्रभावित होता है और यह पृथ्वी के जीव को प्रभावित करता है। वायु में उपस्थित गैसों पर प्राकृतिक या मानवीय प्रभाव वायु प्रदूषण के लिए उत्तरदायी होते हैं।

वायु प्रदूषण का अर्थ :-

जब विभिन्न प्रदूषकों और धूल, गैसों और वाष्प आदि को वातावरण से इतनी मात्रा और अवधि में एकत्र हो जाता है कि यह हवा के प्राकृतिक गुणों को बदलना शुरू कर देता है और यह मानव स्वास्थ्य, सुखी जीवन और संपत्ति को नुकसान पहुंचाता है और जीवन की गुणवत्ता को बाधित करता है। तो इसे “वायु प्रदूषण” कहा जाता है।

वायु प्रदूषण की परिभाषा :-

“प्राकृतिक और मानव निर्मित स्रोतों से उत्पन्न बाहरी तत्वों के वायु में मिश्रण के कारण वायु की असंतुलित अवस्था को वायु प्रदूषण कहलाती है।”

प्रो० डॉ० सविन्द्र के अनुसार

“वायु प्रदूषण एक ऐसी स्थिति है जिसमें मनुष्य और उसके पर्यावरण को नुकसान पहुँचाने वाले तत्व बाहरी वातावरण में सघन रूप से एकत्रित हो जाते हैं।”

विश्व स्वास्थ्य संगठन

“वातावरण में उपस्थित समस्त अवांछनीय घटकों की मात्रा, जिससे जीवों को हानि पहुँचती है, वायु प्रदूषण कहलाती है।”

वायु प्रदूषण के कारण –

बढ़ती हुई जनसंख्या –

देश में जिस गति से जनसंख्या बढ़ रही है, वह बढ़ते वायु प्रदूषण के सबसे बड़े संकेतकों में से एक है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण प्राकृतिक संसाधनों का अंधाधुंध उपयोग है। पहले यह समस्या शहरों तक ही सीमित थी, लेकिन अब यह समस्या गांव-गांव बढ़ती जा रही है। बढ़ती जनसंख्या के कारण औद्योगीकरण में भी भारी वृद्धि हुई है।

अंधाधुंध वनों की कटाई –

हम सभी मनुष्यों ने अपनी सुख-सुविधा के लिए अंधाधुंध वनों को काटा है, जिससे वायु प्रदूषण बढ़ा है। जाहिर है पेड़ लगातार वातावरण के प्रदूषण को कम करने का काम करते हैं।

उद्योगों की बढ़ती संख्या –

तेजी से औद्योगीकरण के कारखानों की चिमनियों से निकलने वाला धुआं जो गैसों के रूप में वायुमंडल में प्रवेश करता है, वायु प्रदूषण का मुख्य स्रोत भी है। सीमेंट, ईंट भट्टों और रसायनों से संबंधित उद्योगों से बड़ी मात्रा में गैसें निकलती हैं जो वातावरण को प्रदूषित करती हैं।

धुआँ –

घरेलू ईंधन के जलने से उत्पन्न धुआँ और कारखानों की चिमनियों और ताप विद्युत संयंत्रों से निकलने वाला धुआँ वायु प्रदूषण का कारण बनता है। इस धुएँ में बिना जले हुए कार्बन कण, जहरीली गैसें और हाइड्रोकार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड होती है, जो वायु प्रदूषण का कारण है।

कीटनाशकों का प्रयोग –

आजकल फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़ों को नष्ट करने के लिए कई तरह के कीटनाशकों का खेतों में छिड़काव किया जाता है। इस प्रकार के छिड़काव से जहरीले रसायन वाष्प और महीन कणों के रूप में वातावरण के एक विस्तृत क्षेत्र में पहुंच जाते हैं और गंभीर वायु प्रदूषण का कारण बनते हैं।

वायु प्रदूषण के स्रोत :-

वायु प्रदूषण की समस्या जटिल और गंभीर होती जा रही है, स्थानीय  और वैश्विक स्तर पर प्रदूषण बढ़ रहा है, इसके लिए कोई भौगोलिक सीमा नहीं है, मुख्य रूप से प्रदूषण एक स्थानीय समस्या है, इसके स्रोत और कारक एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। वातावरण में परिवर्तन, अम्लीय वर्षा, ओजोन गैस का बढ़ना, ओजोन परत का क्षरण महाद्वीपीय और वैश्विक वायु प्रदूषण के उदाहरण हैं।

देश में वायु प्रदूषण की समस्या काफी जटिल है। पेट्रोलियम रिफाइनरियों, कपड़ा उद्योगों, रासायनिक उद्योगों और विद्युत उद्योगों से औद्योगिक प्रदूषण काफी अधिक है। देश के अधिकांश बड़े महानगरों में यातायात के कारण वायु प्रदूषण सबसे अधिक है, खासकर दुपहिया और तिपहिया वाहनों से।

आधुनिकता और विकास ने वर्षों से हवा को प्रदूषित किया है। उद्योग, वाहन, प्रदूषण में वृद्धि, शहरीकरण कुछ प्रमुख घटक हैं। जिससे वायु प्रदूषण बढ़ता है। थर्मल पावर प्लांट, सीमेंट, लोहा उद्योग, तेल अनुसंधान उद्योग, खदानें, पेट्रोलियम उद्योग वायु प्रदूषण के प्रमुख कारण हैं।

कार्बन डाईऑक्साइड –

यह कोयला, तेल और अन्य प्राकृतिक गैसों को जलाने वाले मनुष्यों द्वारा उत्पादित प्रमुख ग्रीनहाउस गैस है।

कार्बन मोनोऑक्साइड –

यह एक गंधहीन, रंगहीन गैस है। जो पेट्रोल, डीजल और कार्बन युक्त ईंधन के पूर्ण रूप से न जलने से उत्पन्न होता है। यह हमारे प्रतिक्रिया तंत्र को प्रभावित करता है और हमें नींद में ले जाकर भ्रमित करता है।

क्लोरोफ्लोरोकार्बन –

यह एक गैस है जो मुख्य रूप से फ्रीज और एयर कंडीशनिंग उपकरणों से निकलती है। यह ऊपरी वायुमंडल में पहुंचकर अन्य गैसों के साथ मिलकर ओजोन परत को प्रभावित करती है जो सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी किरणों को रोकने का कार्य करती है।

लैड –

यह पेट्रोल, डीजल, एलईडी बैटरी, दीवारों को रंगने वाले उत्पादों आदि में पाया जाता है और प्रमुख रूप से बच्चों को प्रभावित करता है। यह रासायनिक प्रणाली को प्रभावित करता है और कैंसर और अन्य पाचन रोगों का कारण बन सकता है।

ओजोन –

यह वायुमंडल की ऊपरी सतह पर पाया जाता है। यह महत्वपूर्ण गैस पृथ्वी को हानिकारक पराबैंगनी किरणों से बचाती है। लेकिन पृथ्वी पर यह अत्यंत हानिकारक प्रदूषक है। ऑटोमोबाइल और उद्योग इसके उभरने के मुख्य कारण हैं। इससे आंखों में खुजली, जलन, पानी आने लगता है। यह सर्दी और निमोनिया के प्रति हमारी प्रतिरोधक क्षमता को कम करता है।

नाइट्रोजन ऑक्साइड

यह धुआं पैदा करता है। अम्लीय वर्षा को जन्म देता है। इसका उत्पादन पेट्रोल, डीजल, कोयला जलाकर किया जाता है। यह गैस सर्दियों में बच्चों को सांस की बीमारियों की चपेट में ले लेती है।

सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर –

कभी-कभी धुएं-धूल के वाष्प के कण हवा में लटक जाते हैं। वे धुंध पैदा करते हैं और दूरगामी दृष्टि की सीमा को कम करते हैं। सांस लेने से इनके महीन कण जीवों के फेफड़ों में चले जाते हैं, जिससे श्वसन तंत्र प्रभावित होता है।

सल्फर डाइऑक्साइड –

यह कोयले के जलने से बनता है। विशेष रूप से ताप विद्युत उत्पादन और अन्य उद्योगों के कारण उत्पन्न होता है। यह स्मॉग कोहरा, अम्लीय वर्षा को जन्म देता है और विभिन्न प्रकार के फेफड़ों के रोग का कारण बनता है।

वायु प्रदूषण के प्रकार :-

गैसीय प्रदूषण –

मानव क्रियाओं से कई प्रकार की गैसें बनती हैं और कई प्राकृतिक तत्वों का मिश्रण भी इस निर्माण में योगदान देता है। जब ईंधन के जलने पर सल्फर के ऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड से निकलने वाला धुंआ वायु में मिल जाता है तो इसे गैसीय प्रदूषक कहते हैं।

धुआँ प्रदूषण –

वातावरण में धुआँ और कोहरा अर्थात वायु में उपस्थित जलवाष्प के महीन कणों और जल की बूंदों के मिलने से स्मॉग बनता है जिससे वातावरण में घुटन पैदा होती है और दृश्यता कम हो जाती है।

रासायनिक प्रदूषण –

आधुनिक उद्योगों में अनेक रासायनिक पदार्थों का उपयोग होता है और इन उद्योगों से निकलने वाली गैसें, धुंआ आदि वातावरण में जहरीली रासायनिक गैसें वायु को प्रदूषित करती हैं।

विविक्त प्रदूषण –

कई प्रदूषक ठोस रूप में हवा में उड़ते पाए जाते हैं। ऐसे प्रदूषकों के उदाहरण हैं- धूल, राख आदि। ये कण बड़े आकार के होते हैं और पृथ्वी की सतह पर प्रदूषण फैलाते हैं, इस प्रकार के प्रदूषण को विविक्त प्रदूषण कहते हैं।

वायु प्रदूषण के दुष्प्रभाव :-

वायु प्रदूषण मनुष्य के स्वास्थ्य पर निम्न हानिकारक प्रभाव डालता है –

  1. प्रदूषित हवा से श्वसन तंत्र प्रभावित होता है। दमा, ब्रोंकाइटिस, गले में दर्द, निमोनिया जैसे श्वसन रोग इसी का परिणाम हैं।
  2. प्रदूषण के कारण कैंसर (विशेष रूप से फेफड़े का कैंसर), हृदय रोग, उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियां भी बड़े पैमाने पर हो रही हैं।
  3. वायु प्रदूषण के कारण शरीर के महत्वपूर्ण अंग, हृदय और मस्तिष्क प्रभावित होते हैं और दिल का दौरा पड़ने की घटनाएं भी बढ़ जाती हैं।
  4. मनुष्य और अन्य जानवरों की तरह पौधे भी वायु प्रदूषण से प्रभावित होते हैं। इससे न केवल पौधों की वृद्धि प्रभावित होती है, बल्कि उनका उत्पादन भी कम हो जाता है।
  5. वायु प्रदूषण के कारण स्मारकों, निर्जीव वस्तुओं और मूर्तियों को भी नुकसान पहुँचता है। प्रदूषकों से ताजमहल और मथुरा के प्राचीन मंदिर प्रभावित हो रहे हैं।
  6. हवा में पाई जाने वाली कार्बन मोनोऑक्साइड रक्त में प्रवेश कर तुरंत ऑक्सीजन की जगह ले लेती है। यह हीमोग्लोबिन को जोड़कर कार्बोक्सी हीमोग्लोबिन बनाता है जो शरीर के सभी महत्वपूर्ण अंगों को नुकसान पहुंचाता है।
  7. लेड, मरकरी और कैडमियम के प्रभाव से ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है और कई तरह के हृदय रोग हो सकते हैं। वातावरण में सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड की अधिकता के कारण कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह आदि भी हो सकते हैं। सल्फर डाइऑक्साइड भी वातस्फीति नामक रोग का कारण बन सकता है।

वायु प्रदूषण के बचाव के उपाय :-

वायु प्रदूषण को समग्र रूप से नियंत्रित करने के लिए निम्नलिखित प्रयास किए जाने चाहिए –

  • वायु प्रदूषण अधिनियम 1981′ का सख्ती से पालन किया जाए।
  • वाहनों को सीएनजी ईंधन और यूरो-1 और यूरो-2 मानकों का पालन करना चाहिए।
  • परम्परागत ईंधन का नियंत्रित सीमा में प्रयोग करना चाहिए तथा ‘धुआं रहित’ चूल्हे का प्रयोग करना चाहिए।
  • औद्योगिक विकास के साथ-साथ वायु प्रदूषण के दुष्प्रभाव को ध्यान में रखते हुए औद्योगिक क्षेत्र में हरित पट्टी का विकास किया जाए।
  • घरेलू स्रोतों से वायु प्रदूषण से छुटकारा पाने के लिए धुआँ रहित ईंधन जैसे हीटर, कुकिंग गैस, कुकिंग रेंज आदि का घरेलू ईंधन के रूप में उपयोग किया जाना चाहिए।
  • वाहनों का इंजन पुराना नहीं होना चाहिए और वाहनों से निकलने वाले धुएं में छलनी और ज्वाला मंदक लगा होना चाहिए। वाहनों में इस्तेमाल होने वाले डीजल में संयोजी सामग्री मिलाए जाने चाहिए।
  • वायु प्रदूषण के बारे में जनता को जागरूक किया जाना चाहिए और इसके हानिकारक दुष्प्रभावों से अवगत कराया जाना चाहिए, जिसके तहत आम जनता को मानव शरीर पर पड़ने वाले घातक प्रभावों के बारे में जागरूक किया जाना चाहिए।
  • घातक प्रदूषक सामग्री और तत्वों का उत्पादन और उपभोग तत्काल बंद किया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, ओजोन परत, क्लोरोफ्लोरोकार्बन आदि को नुकसान पहुंचाने वाली गैसों की खपत और उत्पादन में भारी कमी की जानी चाहिए।
  • वनों की कटाई पर नियंत्रण कर वनीकरण के कार्य को तेज किया जाए। अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों के अनुसार, यदि किसी क्षेत्र का 33 प्रतिशत या उससे अधिक भाग वनों से आच्छादित है, तो प्रदूषण की तीव्रता परिलक्षित नहीं होती है।
  • यदि कोई नागरिक या संस्था प्रदूषण से संबंधित कोई शिकायत करती है तो उसे गुप्त रखा जाना चाहिए और राज्य प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण बोर्ड द्वारा निश्चित समयबद्ध कार्रवाई करते हुए इसे सार्वजनिक किया जाना चाहिए।

FAQ

वायु प्रदूषण किसे कहते हैं?

वायु प्रदूषण के कारण क्या है?

वायु प्रदूषण के प्रकार बताइए?

वायु प्रदूषण के बचाव के उपाय लिखिए?

वायु प्रदूषण के दुष्प्रभाव क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *