मृदा प्रदूषण क्या है? मृदा प्रदूषण के कारण और उपाय

मृदा प्रदूषण प्रस्तावना :-

भूमि या भू एक व्यापक शब्द है जिसमें पृथ्वी की पूरी सतह शामिल है, लेकिन मूल रूप से भूमि की ऊपरी परत, जिस पर कृषि की जाती है और मनुष्य आजीविका कमाने के विभिन्न कार्य करते हैं, का विशेष महत्व है। यह परत या भूमि विभिन्न प्रकार की चट्टानों से बनी है, जिनके अपरदन से मिट्टी का जन्म होता है। जिसमें विभिन्न कार्बनिक और अकार्बनिक यौगिकों का मिश्रण होता है। जब मानवीय और प्राकृतिक कारणों से भूमि की प्राकृतिक प्रकृति नष्ट होने लगती है तो वहीं से मृदा प्रदूषण शुरू हो जाता है।

मृदा प्रदूषण का अर्थ :-

विभिन्न मानवीय गतिविधियों या भूमि के दुरुपयोग से मिट्टी की भौतिक, रासायनिक और जैविक स्थितियों में परिवर्तन, जिसके कारण मिट्टी की गुणवत्ता और उर्वरता का ह्रास होता है, मृदा प्रदूषण कहलाता है।

मृदा प्रदूषण जल और वायु प्रदूषण से अलग है क्योंकि इसमें पाए जाने वाले प्रदूषक लंबे समय तक मौजूद रहते हैं। बढ़ते शहरीकरण के कारण भवनों के निर्माण में वृद्धि हुई है और इसके कारण अपशिष्ट निपटान के लिए उपलब्ध भूमि में कमी आई है।

मिट्टी में एक निश्चित अनुपात में विभिन्न लवण, खनिज, कार्बनिक पदार्थ, गैस और पानी होते हैं, लेकिन जब इन भौतिक और रासायनिक गुणों का अतिक्रम हो जाती है, तो यह मृदा प्रदूषण का कारण बनते हैं।

मृदा प्रदूषण की परिभाषा :-

“भूमि के भौतिक, रासायनिक या जैविक गुणों में कोई अवांछित परिवर्तन, जो मानव और अन्य जीवों को प्रभावित करता है या भूमि की प्राकृतिक गुणवत्ता और उपयोगिता को नष्ट करता है, मृदा प्रदूषण कहलाता है। “

मृदा प्रदूषण के कारण:-

मृदा प्रदूषण के निम्नलिखित कारण हैं:

  • औद्योगिक इकाइयों, खानों और खानों द्वारा उत्पन्न ठोस अपशिष्ट का निर्वहन ।
  • भवनों, सड़कों आदि के निर्माण में ठोस अपशिष्ट का निर्वहन ।
  • कागज और चीनी मिलों से निकलने वाली सामग्री का निपटान जो मिट्टी द्वारा अवशोषित नहीं होती है।
  • प्लास्टिक की थैलियों का अत्यधिक उपयोग, जिन्हें जमीन में दबाने से नहीं गलती है।
  • कीटनाशकों और कृत्रिम उर्वरकों द्वारा प्रदूषण – मिट्टी में जमा होने के कारण ये धीरे-धीरे बढ़ते हैं, जिससे सूक्ष्म जीवों का विनाश होता है और मिट्टी के तापमान में वृद्धि के कारण मिट्टी की गुणवत्ता नष्ट होने लगती है।
  • घरेलू और औद्योगिक संस्थानों से अपशिष्ट पदार्थ, जैसे सीसा, तांबा, पारा, प्लास्टिक, कागज आदि मिट्टी में मिल जाते हैं और इसे दूषित कर देते हैं।
  • वनों की कटाई से मृदा प्रदूषण – जिन क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर वनों को नष्ट किया गया है, वहाँ की मिट्टी के जैविक गुण लुप्त होते जा रहे हैं।

मृदा प्रदूषण के प्रभाव :-

मृदा प्रदूषण के दुष्प्रभाव बहुआयामी हैं। एक ओर तो यह पर्यावरण को प्रदूषित करता है, वहीं दूसरी ओर मानव स्वास्थ्य पर भी इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। मृदा प्रदूषण के दुष्प्रभाव इस प्रकार हैं:

  • शहरी कचरा मिट्टी की गुणवत्ता को नष्ट कर देता है।
  • औद्योगिक अपशिष्ट के कारण भूमि की उर्वरता प्रभावित होती है।
  • प्लास्टिक जैसे अपशिष्ट जो भूमि में समाप्त नहीं होते, भूमि की उर्वरता को नष्ट कर देते हैं।
  • रासायनिक उर्वरक आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करते हैं, लेकिन इनके अत्यधिक उपयोग से मिट्टी के भौतिक और रासायनिक गुणों में भारी परिवर्तन होता है। परिणामस्वरूप उर्वरता बनाए रखने वाली मिट्टी के प्राकृतिक गुण नष्ट हो रहे हैं।
  • मृदा प्रदूषण के व्यापक प्रभाव के कारण भूमि में कैल्शियम, मैग्नीशियम, सल्फर, आयरन, कॉपर, गिम्ब, बोरान, मैलिब्डेनम, मैंगनीज, नाइट्रोजन पोटेशियम और फास्फोरस जैसे आवश्यक तत्वों की मात्रा में गंभीर कमी आई है।
  • मृदा प्रदूषण से सभी जहरीले पदार्थ खाद्य श्रृंखला का हिस्सा बन गए हैं। इनके युक्त भोजन से मनुष्य तथा पशुओं में विभिन्न रोग उत्पन्न होते हैं।

मृदा प्रदूषण को रोकने के उपाय :-

मृदा प्रदूषण को रोकने के कुछ उपाय इस प्रकार हैं:-

  • फसलों पर जहरीली दवाओं के छिड़काव पर रोक लगाई जाए।
  • गाँवों और कस्बों में सीवेज और गंदगी जमा करने के लिए उचित स्थान होने चाहिए।
  • कृषि भूमि में कृत्रिम खाद के स्थान पर परम्परागत खाद का प्रयोग करना चाहिए।
  • वनों के विनाश पर रोक लगानी चाहिए साथ ही वृक्षारोपण को प्रोत्साहित कर मृदा निर्माण प्रक्रिया में आ रहे गतिरोध को दूर करना चाहिए।
  • खेतों में पानी की निकासी की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए। नहरों व नालों को पक्का किया जाए। नहरों का निर्माण करते समय पारिस्थितिक कारकों को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

संक्षिप्त विवरण :-

मृदा या भूमि प्रदूषण का तात्पर्य जहरीले, अवांछित और अनुपयोगी पदार्थों को जमीन पर गिराने व  मिलने से है, क्योंकि यह भूमि को ख़राब करता है और मिट्टी की गुणवत्ता को प्रभावित करता है। लोगों की भूमि के प्रति बढ़ती लापरवाही के कारण भूमि प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है।

FAQ

मृदा प्रदूषण के कारण लिखिए?

मृदा प्रदूषण को रोकने के उपाय बताइए?

मृदा प्रदूषण किसे कहते हैं?

मृदा प्रदूषण का दुष्प्रभाव क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *