सामाजिक समूह का वर्गीकरण प्रस्तुत करें?

सामाजिक समूह का वर्गीकरण :-

समाजशास्त्रियों ने विभिन्न आधारों को सामने रखकर सामाजिक समूह का वर्गीकरण किया है। प्रमुख समाजशास्त्रियों ने समूहों को निम्नानुसार वर्गीकृत किया है:

कूले का वर्गीकरण :-

चार्ल्स कूले द्वारा दिया गया वर्गीकरण सामाजिक समूहों के वर्गीकरण में सर्वाधिक वैज्ञानिक और महत्वपूर्ण माना जाता है। चार्ल्स कूले ने प्राथमिक समूह और द्वितीयक समूह के बीच अंतर किया है। यह वर्गीकरण समूह के सदस्यों की संख्या, समूह के महत्व और सदस्यों के आपसी संबंधों के आधार पर किया गया है।

  1. प्राथमिक समूह
  2. द्वितीयक समूह

प्राथमिक समूह –

प्राथमिक समूह उस समूह को संदर्भित करता है। जिसमें रिश्ता आमने-सामने होता है, जिसमें आपसी सहयोग की भावना होती है। प्राथमिक समूह सही अर्थों में प्राथमिक समूह है। सदस्यों के बीच संबंध सामान्य से अधिक पूर्ण हैं। यह पूर्णता हमारी आत्मा को विकसित करती है। प्राथमिक समूह व्यावहारिक और मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण हैं। इन समूहों के माध्यम से व्यक्ति समाज के सदस्यों के साथ संबंध स्थापित करता है। प्राथमिक समूह के माध्यम से आदतों, भावनाओं, मूल्यों, आवश्यकताओं की प्राप्ति का आधार बनता है। इसी कारण कूले ने इसे मसनव प्रकृति का पोसिका कहा है। प्राथमिक समूह में परिवार, गांव, सामुदायिक खेल भागीदार, पड़ोस आदि शामिल हैं।

द्वितीयक समूह –

द्वितीयक समूह आधुनिक समाज की देन है, आज के समय में रिश्तों में अपनत्व और आत्मीयता का अभाव है। माध्यमिक समूह उन समूहों को संदर्भित करते हैं जिनके अव्यैक्तिक संबंध हैं। व्यक्ति अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए उनका सदस्य बन जाता है। उदाहरण के लिए, निगम, दर्शक, क्लब, व्यावसायिक संघ आदि प्रमुख द्वितीयक समूह हैं।

मिलर का वर्गीकरण :-

हर्बर्ट मिलर ने समूह के मध्य में स्थित सामाजिक दूरी के आधार पर सामाजिक समूहों को दो वर्गों में विभाजित किया है –

  1. विषमजातीय समूह
  2. समजाजीय समूह

विषमजातीय समूह –

वे ऐसे समूह हैं जिन्हें विभिन्न खंडों में विभाजित किया गया है और उनमें सामाजिक दूरी की भावना है। जब समूह के खंडों में उच्च और निम्न या संस्तरण पाए जाते हैं, तो इसे विषमजातीय कहा जाता है। जैसे जाति और वर्ण । इसी प्रकार आर्थिक समूहों, धार्मिक समूहों आदि में उच्च, निम्न, प्रतिष्ठित या अप्रतिष्ठित सभी प्रकार के सदस्य पाए जाते हैं। ऐसे समूहों में सदस्य स्वयं कई आधारों पर कई स्तरों में बंटे होते हैं।

समजाजीय समूह –

इस समूह के सभी सदस्य लगभग समान सामाजिक-आर्थिक स्तर के हैं। इस प्रकार के समूह में सभी सदस्यों की स्थिति लगभग समान होती है। ऐसे समूहों की मुख्य विशेषता यह है कि समान सामाजिक स्थिति के कारण सदस्यों के घनिष्ठ संबंध होते हैं। जैसे शिक्षक संघ, ट्रेड यूनियन आदि।

समनर का वर्गीकरण :-

समनर ने समूह के सदस्यों के बीच निकटता और सामाजिक दूरी के आधार पर सभी समूहों को निम्नलिखित दो प्रकारों में वर्गीकृत किया है:

  1. अन्तः समूह
  2. बाह्य समूह

अन्त: समूह –

हम उन समूहों को अन्तः समूह कहते हैं जिनके सदस्य स्वयं को ‘हम’ शब्द से संबोधित करते हैं। समूह के कार्य को ‘हमारे कार्य’ समूह के दृष्टिकोण और उद्देश्य शब्दों द्वारा “हमारे दृष्टिकोण” और “हमारा उद्देश्य” शब्दों द्वारा समझाया गया है। उदाहरण के लिए, जब हम कहते हैं कि यह हमारा परिवार है, हमारा साथी है, हमारा व्यवसाय है, हमारा गाँव है, हमारी जाति है, या हमारा मंदिर है, तो ये सभी पते एक अन्तः समूह की ओर इशारा करते हैं। अन्तः समूह के सभी सदस्य मानते हैं कि उनका कल्याण समूह के कल्याण में है। इस भावना के कारण वे हमेशा अपने समूह के सदस्यों का पक्ष लेते हैं।

अन्तःसमूह का कोई निश्चित आकार नहीं बताया जा सकता है। यह स्थान और स्थिति के अनुसार बदलता रहता है। अगर दो परिवारों के बीच संघर्ष होता है, तो हमारा परिवार हमारे लिए एक अन्तःसमूह बन जाता है। यदि यह संघर्ष दो गाँवों के बीच है तो जिस गाँव में हम रहते हैं वह हमारा अन्तःसमूह बन जाता है और यदि यह संघर्ष दो देशों के बीच है, तो हमारा पूरा देश हमारे लिए एक अन्तःसमूह बन जाएगा। इसका अर्थ यह हुआ कि जिस समूह को हम किसी विशेष स्थान या स्थिति में अपने बहुत करीब और उससे जुड़ाव महसूस करते हैं, वह हमारे लिए अन्तःसमूह है।

बाह्य समूह –

एक व्यक्ति अपने अन्तःसमूह के संदर्भ में एक बाह्य समूह को संदर्भित करता है। समूहों के लिए वह “वे” या “अन्य” जैसे शब्दों का उपयोग करता है। बाह्य समूह में पाए जाने वाले गुण अन्तःसमूह के विपरीत होते हैं। इसमें ऐसी भावना होती है कि व्यक्ति इसे दूसरों का समूह मानता है। इस कारण बाहरी समूह के प्रति सहयोग, सहानुभूति, स्नेह आदि का पूर्ण अभाव होता है। इसके स्थान पर बाह्य समूह के प्रति दूरी या अलगाव, उदासी, घृणा, प्रतिस्पर्धा, पूर्वाग्रह की भावना होती है। यह भावना कभी-कभी शत्रुता या बेर के रूप में भी हो सकती है। उदाहरण के लिए, हम इस पड़ोस के सदस्य हैं, लेकिन वह “पड़ोस बहुत भ्रष्ट और गन्दा है।” इसमें ‘वो’ समूह एक बाह्मसमूह है। शत्रु शक्तियाँ, विदेशी समूह, प्रतिस्पर्धी समूह आदि बाह्य समूहों के मुख्य उदाहरण हैं।

लेस्टर वार्ड का वर्गीकरण :-

लेस्टर वार्ड ने इसके विभिन्न रूपों को ध्यान में रखते हुए समूह को दो मुख्य भागों में विभाजित किया है।

  1. ऐच्छिक समूह
  2. अनिवार्य समूह

ऐच्छिक समूह –

ऐच्छिक समूह उन समूहों को संदर्भित करता है जो विशेष हितों को ध्यान में रखकर व्यक्तियों द्वारा बनाए जाते हैं। ऐसे समूहों की सदस्यता वैकल्पिक है। इसके लिए उन पर कोई दबाव नहीं है। जैसे क्लब की सदस्यता, सहकारी समिति, ट्रेड यूनियन, कॉलेज आदि।

अनिवार्य समूह –

अनिवार्य समूह वे हैं जो स्वतः या स्वाभाविक रूप से विकसित हुए हैं जिनमें शामिल होना या न होना व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर नहीं करता है। बल्कि सामान्य जीवन के लिए सदस्यता अनिवार्य है। परिवार, जाति, समुदाय ऐसे समूह हैं।

मैकाइवर एवं पेज का वर्गीकरण :-

मैकाइवर और पेज ने विभिन्न समूहों को चार मुख्य भागों में अलग-अलग आधारों पर विभाजित करने की व्याख्या की है:-

  1. क्षेत्रीय समूह
  2. हितों के प्रति चेतन समूह
  3. अनिश्चित संगठन वाले समूह
  4. निश्चित संगठन वाले समूह

क्षेत्रीय समूह –

क्षेत्रीय समूह वे होते हैं जिनके सदस्य एक निश्चित क्षेत्र के भीतर संबंध स्थापित करते हैं। इस क्षेत्र के भीतर, उस समूह के सभी सदस्यों के हितों की पूर्ति की जाती है। जैसे गाँव के पड़ोस, जनजातियाँ, समुदाय, नगर आदि क्षेत्रीय समूह हैं।

हितों के प्रति चेतन समूह –

ये समूह अपने हितों के प्रति जागरूक होते हैं, लेकिन उनके पास एक निश्चित संगठन का अभाव होता है। इस प्रकार के समूह के सदस्यों में समान प्रवृत्ति पाई जाती है। उनमें एक समूह से दूसरे समूह में जाने की इच्छा और प्रतिष्ठा की प्रवृत्ति भी पाई जाती है। इसके उदाहरण हैं वर्ग, जाति, शरणार्थी समूह, समान और असमान रुचि की भीड़।

अनिश्चित संगठन वाले समूह –

ये समूह वे हैं जिनमें कई व्यक्ति अचानक किसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए संगठित होते हैं और उद्देश्य पूरा होने के बाद तुरंत एक दूसरे से अलग हो जाते हैं। इन समूहों के सदस्यों की मनोवृत्ति भी समान होती है, लेकिन उनका संगठन प्रकृति में बहुत अनिश्चित और अस्थिर होता है। ऐसे समूहों का सबसे अच्छा उदाहरण ‘भीड़’ है जो अचानक संगठित हो जाती है और जल्दी समाप्त हो जाती है।

निश्चित संगठन वाले समूह –

ये समूह अपने हितों के प्रति जागरूक होते हैं और संगठित भी होते हैं। इन समूहों की सदस्यता सीमित है लेकिन असीमित जिम्मेदारियां हैं; उदाहरण के लिए, परिवार, पड़ोस, क्लब, आदि। इस श्रेणी में कुछ ऐसे समूह भी हैं जिनके सदस्यों की संख्या अधिक है लेकिन संगठन में औपचारिकता है; उदाहरण के लिए, राज्य, चर्च, ट्रेड यूनियन, आदि।

गिलिन और गिलिन का वर्गीकरण :-

गिलिन और गिलिन ने समूहों के सभी संबंधित आधारों को सामने रखते हुए समूहों का वर्गीकरण निम्नलिखित तरीके से प्रस्तुत किया है:

  1. नातेदारी या रक्त सम्बन्ध (जैसे  परिवार, जाति, आदि),
  2. शारीरिक विशेषताओं वाले समूह (जैसे समान लिंग, आयु या प्रजाति के आधार पर समूह),
  3. स्थानीय निकटता पर आधारित (जैसे जनजाति, राज्य, राष्ट्र, आदि),
  4. अस्थिर समूह (जैसे भीड़, दर्शक समूह, आदि),
  5. स्थायी समूह (जैसे खानाबदोश समूह, ग्रामीण पड़ोस, कस्बा, शहर और बड़े शहर आदि) और
  6. सांस्कृतिक हितों पर आधारित समूह (जैसे आर्थिक, धार्मिक, राजनीतिक, मनोरंजक और शैक्षिक समूह) ।

FAQ

सामाजिक समूह का वर्गीकरण प्रस्तुत कीजिए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *