भारत में महिलाओं की समस्याएं women’s problems in India

भारत में महिलाओं की समस्याएं :-

महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। भारत में महिलाओं की समस्याएं इस प्रकार हैं:-

लैंगिक भेदभाव –

सामाजिक फन्दे के अत्याचार – महिलाओं के प्रति भेदभाव जन्म से ही शुरू हो जाता है। यह भेदभाव परिवार में समाजीकरण की प्रक्रिया में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। लड़कों और लड़कियों के बीच असमानता से संबंधित मूल्यों का हस्तांतरण समाजीकरण के माध्यम से ही होता है। इस प्रकार सामाजिक फन्दे का यह अत्याचार पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलता रहता है।

रोजगार में असमानता –

यह सच है कि आज महिलाएं हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही हैं, फिर भी रोजगार में काफी असमानता है। रोजगार में महिलाओं का अनुपात काफी कम है। महिला श्रम की भी एक अजीब कहानी है। उसका गृहस्थी का कार्य, जिसे वह अक्सर सबसे पहले उठकर शुरू करती है और देर रात तक ख़त्म करती है, अनुत्पादक माना जाता है।

कृषि क्षेत्र में, जहां 80 प्रतिशत महिलाएं काम कर रही हैं, महिला श्रमिकों को पुरुषों की तुलना में कम भुगतान किया जाता है और वहां भी वे असंगठित हैं और मौसमी रोजगार के दबाव से पीड़ित हैं। संगठित उद्योगों में महिलाएँ निम्न स्तर पर कार्य कर रही हैं। वृत्ति समूहों के संदर्भ में, महिलाएं सबसे अधिक शिक्षित हैं, महिलाएं चिकित्सा और नर्सिंग के क्षेत्र में भी प्रवेश कर चुकी हैं।

शिक्षा में असमानता –

महिलाओं को कई तरह से धीरे-धीरे उन्हें शिक्षा से दूर कर दिया गया और विवाह ही उनके लिए एकमात्र संस्कार माना जाने लगा।

स्वास्थ्य एवं पोषण सुविधाओं में असमानताएँ –

महिलाओं में अस्वस्थता और कुपोषण की भी बहुत बड़ी समस्या है। बचपन से ही लड़कियों को वह पोषक तत्व नहीं दिए जाते जो लड़कों को दिए जाते हैं। वे अपने शरीर की सुरक्षा और स्वास्थ्य पर बहुत कम ध्यान देते हैं।

अक्सर घर में वही महिला होती है जो अपने पति और बच्चों के लिए अच्छा से अच्छा खाना बनाती है, जो बचता है वो बाद में खा लेती है और अगर बासी खाना रखा हो तो पहले खा लेती है। मातृत्व का भार भी उन पर सबसे ज्यादा है। उन्हें शारीरिक व्यायाम के बारे में नहीं सिखाया जाता।

एक ओर जहां गरीब महिलाओं को उचित इलाज और पोषण मिलना मुश्किल है, वहीं दूसरी ओर अमीर महिलाओं के लिए समस्या इसके विपरीत है। अत्यधिक नशीली दवाओं का सेवन या आलसी जीवन एक समस्या बन गया है।

अधिकांश महिलाएँ असंगठित कार्य क्षेत्र में लगी हुई हैं जहाँ उनके स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रखा जाता है। कई व्यवसाय महिलाओं के लिए विशेष रूप से हानिकारक हैं, लेकिन उनकी देखभाल की कोई व्यवस्था नहीं है। तनाव भरी जिंदगी और घर के तनाव भरे माहौल के बीच महिलाओं की सेहत लगातार गिरती रहती है।

दहेज के कारण उत्पीड़न –

दहेज एक ऐसी समस्या है जो कानून बनने के बावजूद जस की तस बनी हुई है। दहेज न देने के कारण हजारों महिलाओं को उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है और कई महिलाएं उत्पीड़न के कारण आत्महत्या भी कर लेती हैं। दहेज के विरुद्ध जिस प्रकार का जनमत तैयार किया जाना चाहिए वह आज भी नहीं बन पा रहा है। ऐसा लगता है कि दहेज पर अंकुश लगाने में कोई भी अपने आप को सक्षम नहीं समझ रहा है।

यौन शोषण और यौन उत्पीड़न –

यौन शोषण और यौन उत्पीड़न महिलाओं की एक बड़ी समस्या है। चाहे घर पर हो या कार्य स्थल पर, महिलाएं अभी भी विभिन्न रूपों में यौन शोषण और यौन उत्पीड़न से पीड़ित हैं। कार्यस्थल पर महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और उनके शोषण की घटनाएं आम हो गई हैं, जो आए दिन समाचार पत्रों में देखी जा सकती हैं।

महिला के विरुद्ध क्रूरता –

महिलाओं के सामने एक और समस्या उनके खिलाफ हिंसा है। यह हिंसा घरेलू हिंसा और कार्यस्थल हिंसा सहित विभिन्न रूप लेती है। हिरासत में हिंसा, बलात्कार, यौन उत्पीड़न, अश्लील साहित्य और विज्ञापन, वेश्यावृत्ति और महिलाओं की तस्करी महिलाओं के खिलाफ हिंसा के प्रमुख रूप हैं।

तलाक द्वारा उत्पीड़न –

महिलाओं के सामने एक और समस्या तलाक है। तलाक पति और पत्नी के बीच वैवाहिक संबंधों का कानूनी दृष्टि से विच्छेद है। अलग-अलग समुदायों में तलाक के अलग-अलग आधार हैं, लेकिन पुरुषों की तुलना में महिलाओं के लिए तलाक अधिक कष्टकारक और दर्दनाक घटना है। लंबी अदालती प्रक्रिया, बच्चों का सवाल, खुद के अस्तित्व का सवाल, सामाजिक अपमान और निंदा का सामना यह सब महिला को ही झेलना पड़ता है, पुरुष को नहीं।

तलाकशुदा महिला भारतीय समाज में अप्रतिष्ठा का विषय है और उसके पुनर्विवाह की समस्या भी कठिन है। इसलिए एक महिला के लिए तलाक एक महंगा सौदा है। लेकिन ऐसी कई स्थितियाँ हैं; जैसे पति द्वारा क्रूर अत्याचार, व्यभिचार में शामिल होना या घर छोड़ देना आदि; जो तलाक को ही एकमात्र समाधान के रूप में प्रस्तुत करता है।

महिला हत्या –

स्त्री-हत्या को वह हत्या कहा जा सकता है जो उस समय की जाती है जब वह मां के गर्भ में होती है, या जन्म के बाद कन्या भ्रूण हत्या के रूप में होती है और चाहे वह जलती हुई बहू द्वारा हत्या के रूप में हो या किसी अन्य रूप में। इतना ही नहीं, इसमें ऐसी घटनाएं भी शामिल हैं जिनमें ऐसे हालात पैदा हुए कि महिला को आत्महत्या करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

ऐसी घटनाएं महिलाओं के उत्पीड़न की बेहद दर्दनाक कहानियां पेश करती हैं और ये कोई अकेली घटनाएं नहीं हैं जिन्हें अपवाद मानकर टाला जाना चाहिए। यह राष्ट्रीय खोज का मामला है। गर्भ में लिंग निर्धारण परीक्षण, जिसे उल्बवेधन (amniocentesis) कहा जाता है, यह पता लगाता है कि गर्भ में लड़का है या लड़की, और जब हजारों लोगों को पता चलता है कि गर्भ में लड़की है तो गर्भपात करा लेते हैं। एक महिला की उसके जन्म से पहले ही हत्या कर दी जाती है।

FAQ

भारतीय समाज में महिलाओं की समस्याओं का वर्णन कीजिए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *