कर्म क्या है कर्म का अर्थ, कर्म के प्रकार, कर्म का महत्व

प्रस्तावना :-

भारतीय संस्कृति में धर्म और कर्म को भी प्रमुख स्थान दिया गया है। धर्म और कर्म के अनुसार कार्य करने से ही मोक्ष की प्राप्ति हो सकती है, जो मानव जीवन का मुख्य उद्देश्य है। इस प्रकार आश्रम व्यवस्था, वर्ण व्यवस्था, धर्म और कर्म न केवल भारतीय समाज को सहारा देते हैं बल्कि मार्गदर्शन भी करते हैं।

कर्म :-

भारतीय सामाजिक संगठन की एक महत्वपूर्ण विशेषता या आधार कर्म का सिद्धांत है। इस सिद्धांत के अनुसार मानव जीवन का सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य “कर्म” करना है। इस सिद्धांत के अंतर्गत यह माना जाता है कि मनुष्य को अपने भाग्य के भरोसे रहकर अकर्मण्य नहीं बनना चाहिए। वहीं, मनुष्य का भाग्य भी उसके “कर्मों” के अनुसार बनता है।

कर्म का अर्थ :-

कर्म शब्द “कृ” धातु से बना है, जिसका अर्थ है “करना”, “व्यापार” या “हलचल” इस अर्थ की दृष्टि से मनुष्य जो कुछ भी करता है वह सब कुछ “कर्म” के अंतर्गत आता है, खाना, पीना, सोना, उठना, बैठना, चलना, सोचना या इच्छा करना आदि। गीता के अनुसार सभी “कर्म” की श्रेणी में आते हैं। इसका तात्पर्य यह है कि मनुष्य द्वारा किया गया प्रत्येक कार्य “कर्म” है।

कर्म के प्रकार :-

कर्म तीन प्रकार के होते हैं –

  • संचित कर्म,
  • प्रारब्ध कर्म,
  • क्रियमाण या संचियमान कर्म।

संचित कर्म में वे कर्म शामिल होते हैं जो लोगों द्वारा पिछले जन्म में किए गए होते हैं। इन पूर्व कर्मों में से जिनका फल व्यक्ति को वर्तमान जीवन में भोगना पड़ता है, उन्हें ‘प्रारब्ध कर्म’ कहा जाता है। इस जीवन में व्यक्ति द्वारा किये जा रहे कर्म को ‘क्रियमाण कर्म’ कहा जाता है।

व्यक्ति का भावी जीवन संचित एवं क्रियमाण  कर्मों पर निर्भर करता है। कर्म का संबंध पुनर्जन्म के संपूर्ण चक्र से है।

कर्म का सिद्धांत :-

कर्म और पुनर्जन्म दो अलग-अलग सिद्धांत नहीं हैं, बल्कि एक ही सिद्धांत हैं और उनके बीच कारण और प्रभाव का संबंध है। वेदों में स्पष्ट कहा गया है कि आत्मा अमर है, लेकिन शरीर नाशवान है। एक व्यक्ति तब तक फिर से जन्म लेता है जब तक वह अमरता प्राप्त नहीं कर लेता, स्वयं को ब्रह्म में विलीन नहीं कर लेता।

उपनिषदों में सबसे पहले कर्म और पुनर्जन्म की अवधारणा को एक सिद्धांत का रूप दिया गया। उपनिषदों में वर्णित कर्म और पुनर्जन्म का सिद्धांत इस बात पर जोर देता है कि एक व्यक्ति जो भी है उसके लिए जिम्मेदार है, चाहे उसकी अच्छी या बुरी परिस्थितियाँ कैसी भी हों। उनकी इस हालत के लिए सामाजिक शक्तियों के बजाय उनकी अपनी कर्म जिम्मेदार हैं।

कर्म और भाग्य :-

भारत में कर्म सिद्धांत भाग्यवाद का आधार रहा है। पुनर्जन्म और कर्म सिद्धांत के संयुक्त प्रभाव के परिणामस्वरूप, एक ओर जहां व्यक्ति इस जन्म को पिछले जन्मों का परिणाम मानकर अपने भाग्य से संतुष्ट रहने के लिए प्रेरित होता है, वहीं दूसरी ओर, यह उसकी क्रियाशीलता को शिथिल कर देता है और वैराग्य की ओर ले जाता है।

भारतीय सामाजिक संगठन में कर्म का इतना महत्व होने के बावजूद इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हुए हैं। कर्म के भाग्यवादी होने के कारण कुछ लोग भाग्य को ही अपने जीवन का आधार मानते हैं। वे सोचते हैं कि हमने पिछले जन्म में जो कर्म किया है, उसका फल हमें मिलेगा।

कर्म का महत्व :-

  • कर्म का नियम व्यक्ति को अपने भाग्य का निर्माता स्वयं मानता है।
  • समाज में संघर्षों को कम करना, सामाजिक नियंत्रण और सामाजिक व्यवस्था को व्यवस्थित करना जैसी अवधारणाएँ कर्म के सिद्धांत से सफल हुई हैं।
  • कर्म के नियम ने नैतिकता के विकास में योगदान दिया है। कर्म के सिद्धांत ने लोगों को मानसिक संतुष्टि और कर्तव्य पथ पर सदैव आगे बढ़ने की प्रेरणा दी है।
  • कर्म सिद्धांत निरंतर कर्म करते रहने और प्रगति पथ पर आगे बढ़ते रहने की प्रेरणा देता रहा है। यह सिद्धांत स्वधर्म की धारणा और इस विश्वास पर आधारित है कि किसी का वर्तमान जीवन संयोग का परिणाम नहीं है, बल्कि पिछले जन्मों में उसके कर्मों का परिणाम है।

संक्षिप्त विवरण :-

भारत संस्कृति और परंपराओं का देश है। आज भी भारतीय संस्कृति और परंपराओं की विश्व में विशेष पहचान है। भारतीय संस्कृति की इस विशिष्टता का मुख्य कारक भारतीय सामाजिक संगठन है।

भारतीय समाज के संगठन में धर्म और कर्म की महत्वपूर्ण भूमिका है। ये सभी भारतीय समाज के मुख्य आधार हैं और ये सभी मिलकर भारतीय सामाजिक संगठन को विशिष्टता प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *