अवधान का अर्थ एवं परिभाषा, अवधान के प्रकार (Attention)

प्रस्तावना :-

अवधान व्यक्ति के जीवन में हर पल घटित होने वाली एक मानसिक प्रक्रिया है। विद्यार्थी जीवन में प्रत्येक विद्यार्थी को ध्यान अवधि बढ़ाने की चिंता रहती है। दूसरे शब्दों में, किसी वस्तु पर चेतना को केंद्रित करने की मानसिक प्रक्रिया को अवधान कहा जाता है।

अवधान का अर्थ :-

अवधान का संबंध हमारी इंद्रियों जैसे आंख, कान, नाक, त्वचा आदि से है। ये इंद्रियां हर पल अपने आसपास के वातावरण में मौजूद उद्दीपकों के संपर्क में रहती हैं और उद्दीपकों की प्रभावशीलता के अनुसार प्रभावित भी होती हैं।

लेकिन व्यक्ति उन सभी उद्दीपकों पर प्रतिक्रिया नहीं करता है। वह अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं के अनुसार विशिष्ट उद्दीपकों का चयन करता है और उन पर प्रतिक्रिया करता है।

एक उदाहरण – आप कक्षा में बैठे हैं और शिक्षक आपको पढ़ा रहे हैं। जिस कमरे में कक्षा चल रही है वह कई उद्दीपकों से भरा होगा, जैसे कुर्सी, मेज, बल्ब, दीवार घड़ी, पंखा, अन्य साथी छात्र आदि।

लेकिन आप इन सभी उद्दीपकों पर ध्यान नहीं देते हैं। आपका ध्यान शिक्षक द्वारा बोले जा रहे शब्दों और उनके चेहरे के भावों पर अधिक रहता है। जब आपके कान शिक्षक के शब्दों और इशारों पर ध्यान देते हैं तो आप एक विशेष शारीरिक मुद्रा में होते हैं। अतः यह स्पष्ट है कि –

  • ध्यान में अस्थिरता का गुण होता है।
  • जब बाहर शोर होता है तो आपका ध्यान भटक जाता है।
  • अवधान की स्थिति में, शरीर तदनुरूप समायोजन में होता है।
  • अवधान एक मानसिक प्रक्रिया है जिसमें एक उद्दीपक का चयन किया जाता है।
  • अवधान की सीमा सीमित है, जैसे कक्षा में पढ़ाए जाने के दौरान अचानक ध्यान आकर्षित होने की स्थिति में संबंधित उद्दीपकों के प्रति शिक्षक की प्रतिक्रिया।
  • अवधान में विभाजन का गुण होता है, जैसे कि जब कोई व्यक्ति एक ही स्थिति में दो या दो से अधिक अलग-अलग काम करना शुरू कर देता है। फिर व्यक्ति उन दोनों कार्यों पर ध्यान केंद्रित करता है। ध्यान की इस स्थिति को अवधान विभाजन कहा जाता है।

इस प्रकार, हम देखते हैं कि अवधान, जो मुख्य रूप से पर्यावरण में मौजूद कुछ उद्दीपकों के प्रति इंद्रियों की प्रतिक्रिया के कारण होता है, यानी, इसमें एक चयनात्मक मानसिक प्रक्रिया शामिल होती है, में कई अन्य विशेषताएं होती हैं। जिसके आधार पर उसे अन्य मानसिक प्रक्रियाओं में विशेष स्थान प्राप्त है।

अवधान की परिभाषा :-

अवधान को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“अवधान एक अभिप्रेरणात्मक क्रिया है।”

मन

“अवधान मस्तिष्क की शक्ति नहीं बल्कि विशुद्ध रूप से मस्तिष्कीय क्रिया या अभिवृत्ति है।”

वैलेन्टाइन

“अवधान किसी विचार की वस्तु को स्पष्ट रूप से मस्तिष्क के समक्ष प्रस्तुत करने की प्रक्रिया है।”

रॉस

“अवधान एक प्रकार की शक्ति या प्रेरणा है जिसका संचालन ज्ञानात्मक क्षेत्रों में गुणात्मक क्षेत्रों के द्वारा होती है।”

स्पीयरमैने

“अवधान अन्य वस्तुओं के बजाय एक वस्तु पर चेतना का केंद्रीकरण है।”

डम्बिल

“अवधान एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा उद्दीपक चेतना के सीमा क्षेत्र में चेतना के केंद्र तक आती है।”

वुण्ड

अवधान के प्रकार :-

ऐच्छिक अवधान –

इस अवधान में व्यक्ति की इच्छा प्रधान होती है। वातावरण में मौजूद विभिन्न प्रकार की उद्दीपकों में से व्यक्ति अपनी इच्छानुसार कुछ विशेष प्रकार की उद्दीपकों की ओर आकर्षित होता है, या उन्हें चुनता है।

उदाहरण के लिए, आपकी दो दिन बाद परीक्षा है लेकिन आपके पास किसी विशेष विषय से संबंधित किताब नहीं है और आप उसे खरीदने के लिए बाजार आए हैं। ऐसे में आपका ध्यान बाजार में मौजूद किताबों की दुकानों पर तुरंत जाएगा।

हालाँकि, अगर आप चारों ओर देखेंगे तो आपके सामने कई तरह की दुकानें होंगी। ऐसा इसलिए क्योंकि उस वक्त आपको सिर्फ किताब की जरूरत होती है यानी आपकी इच्छा किताब खरीदने की होती है।

इस प्रकार स्पष्ट है कि ऐच्छिक अवधान में –

  • एक स्पष्ट उद्देश्य होती है।
  • व्यक्ति की इच्छा की स्पष्ट आवश्यकता होती है।
  • व्यक्ति बाधक वस्तुओं पर ध्यान नहीं देता।

अनैच्छिक अवधान –

ऐसे अवधान में व्यक्ति की इच्छा या आवश्यकता प्रधान नहीं होती, बल्कि उद्दीपक वस्तु की आकर्षक शक्ति और उसकी गुणवत्ता प्रधान होती है। इस प्रकार के अवधान में व्यक्ति अपनी इच्छा या आवश्यकता के कारण किसी वस्तु पर ध्यान नहीं देता है, बल्कि उस वस्तु की गुणवत्ता उसका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करती है।

उदाहरण के लिए, आप अपने स्कूल की कक्षा में बैठे शिक्षक की बातें सुन रहे हैं। अचानक बाहर सड़क पर शोर होता है और आपका ध्यान उस शोर पर जाता है क्योंकि उस शोर की तीव्रता (जो शोर का विशेष गुण है) अधिक होती है।

इसी तरह रेलवे स्टेशन पर भी लोगों की भीड़ के कारण बहुत शोर होता है, लेकिन फिर भी हमारा ध्यान अनाउंसमेंट की आवाज और ट्रेन के हॉर्न की आवाज पर ही जाता है क्योंकि ये दोनों आवाजें ज्यादा तीव्र होती हैं।

इससे स्पष्ट है कि अनैच्छिक अवधान में –

  • कोई विशिष्ट लक्ष्य नहीं होती।
  • व्यक्ति की कोई स्पष्ट इच्छा या आवश्यकता नहीं होती।
  • व्यक्ति स्वयं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अतिरिक्त प्रयास नहीं करता है।

स्वाभाविक अवधान –

स्वाभाविक अवधान में, किसी व्यक्ति का ध्यान उसकी विशेष प्रकृति या आदत के कारण बिना किसी प्रयास के किसी वस्तु, ध्वनि, उत्तेजना की ओर आकर्षित होता है।

उदाहरण के लिए, किताब की दुकान की ओर, पानीपुरी खाने वाले का ध्यान पानीपुरी की दुकान की ओर, पीने वाले का ध्यान शराब की ओर और मोची का ध्यान लोगों के जूतों की ओर जाना स्वाभाविक है।

इससे स्पष्ट है कि स्वाभाविक अवधान में –

  • किसी व्यक्ति की इच्छाओं या आवश्यकता की कोई प्रधानता नहीं है।
  • व्यक्ति अपने स्वभाव, आदत और विशेष व्यवहार के अभ्यास के कारण ध्यान देता है।

संक्षिप्त विवरण :-

अवधान एक चयनात्मक प्रक्रिया है जिसमें व्यक्ति शरीर का एक विशेष शारीरिक मुद्रा किसी वस्तु या उद्दीपक को चेतना के केंद्र से लाने के लिए तैयार होता है। अवधान के तीन मुख्य प्रकार हैं: स्वैच्छिक अवधान, अनैच्छिक अवधान, और स्वाभाविक अवधान।

स्वैच्छिक ध्यान में व्यक्ति की इच्छाओं और आवश्यकताओं की प्रधानता होती है। अनैच्छिक ध्यान में कुछ उद्दीपक गुण होते हैं जो प्रबल होते हैं। स्वाभाविक ध्यान में व्यक्ति का ध्यान उसके विशेष प्रशिक्षण और आदत के कारण किसी वस्तु, उत्तेजना या घटना की ओर आकर्षित होता है।

FAQ

अवधान क्या है?

अवधान के प्रकारों का वर्णन?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *