अभिप्रेरणा क्या है अभिप्रेरणा का अर्थ अभिप्रेरणा के प्रकार

प्रस्तावना :-

मनोवैज्ञानिक मैक्डूगल ने मूल प्रवृत्तियों के आधार पर व्यक्ति के व्यवहार को स्पष्ट करने का प्रयास किया। परन्तु आधुनिक मनोवैज्ञानिक मूल प्रवृत्ति को व्यवहार का कारण नहीं मानते। उनके अनुसार अभिप्रेरणा ही प्राणी के विभिन्न व्यवहारों को संचालित करने वाली मुख्य शक्ति है। इसलिए अभिप्रेरणा के प्रत्यय का अध्ययन करना बहुत जरूरी है। अधिगम में अभिप्रेरणा का विशेष महत्व है।

अभिप्रेरणा की अवधारणा :-

मनुष्य स्वभाव से एक सक्रिय प्राणी है। वह सदैव किसी न किसी कार्य में लगा रहता है और किसी न किसी प्रकार का व्यवहार करता रहता है। वह बिना किसी उद्देश्य के कार्य या व्यवहार नहीं करता। उसके कार्य का उद्देश्य किसी विशेष लक्ष्य को पूरा करना होता है।

यह कहा जा सकता है कि किसी व्यक्ति के कार्यों और व्यवहार को संचालित करने वाली कुछ प्रेरक शक्तियाँ होती हैं जो उसे विभिन्न परिस्थितियों में कार्य करने या व्यवहार करने की अभिप्रेरणा देती हैं।

अभिप्रेरणा का अर्थ (abhiprerna ka arth) :-

अंग्रेजी शब्द motivation लैटिन शब्द Motum से लिया गया है। जिसका अर्थ है Move, Motor और Motion । अभिप्रेरणा के सरल एवं शाब्दिक अर्थ के अनुसार हम किसी भी उत्तेजना को अभिप्रेरणा कह सकते हैं जिसके कारण व्यक्ति प्रतिक्रिया या व्यवहार करता है।

इस प्रकार की उत्तेजना आंतरिक या बाह्य दोनों हो सकती है। लेकिन मनोवैज्ञानिक रूप से अभिप्रेरणा एक मानसिक प्रक्रिया या आंतरिक शक्ति है, जिसमें व्यक्ति को अपने भीतर से कुछ करने के लिए प्रेरित किया जाता है। इस प्रकार अभिप्रेरणा को जीव के शरीर की प्रेरक शक्ति कहा जाता है, जो व्यक्ति को व्यवहार करने के लिए प्रेरित करती है।

अभिप्रेरणा की परिभाषा :-

अभिप्रेरणा शब्द के मनोवैज्ञानिक अर्थ को समझाने के लिए निम्नलिखित परिभाषाएँ प्रस्तुत की गई हैं:-

“अभिप्रेरणा वह शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दशाएं है जो किसी कार्य को करने के लिए प्रेरित करती हैं।”

मैक्डूगल

“अभिप्रेरणा एक या एक से अधिक प्रभाव उत्पन्न करने वाली क्रिया की मनोवृत्ति का उत्प्रेरक शब्द है।”

एटकिंसन

“अभिप्रेरणा एक मनोवैज्ञानिक या आंतरिक प्रक्रिया है जो किसी आवश्यकता की उपस्थिति में उत्पन्न होती है। यह ऐसी क्रिया की ओर गतिशील है जो उस आवश्यकता को संतुष्ट करेगी।”

लावेल

“अभिप्रेरणा द्वारा उन विधियों का विकास किया जाता है जो व्यवहार के पहलुओं को प्रभावित करते हैं।”

बनार्ड

“अभिप्रेरणा कार्य को आरंभ करने, जारी रखने और नियमित करने की प्रक्रिया है।”

गुड

“प्रेरणा व्यवहार को जागृत करने, क्रिया के विकास को सम्पोषित करने और क्रिया के तरीकों को नियमित करने की प्रक्रिया है।”

पी0टी0 यंग

अभिप्रेरणा की विशेषताएं :-

  • अभिप्रेरणा क्रिया उद्देश्य की प्राप्ति तक जारी रहती है।
  • अभिप्रेरणा एक मनो-शारीरिक या आंतरिक प्रक्रिया है।
  • प्रेरित क्रिया किसी आवश्यकता के कारण उत्पन्न होती है।
  • अभिप्रेरणा प्रक्रिया किसी विशेष क्रिया की क्रिया या दिशा की ओर ले जाती है।

अभिप्रेरणा की प्रकृति :-

अभिप्रेरणा की प्रकृति को निम्नलिखित बिंदुओं की सहायता से समझाया जा सकता है:

  • अभिप्रेरणा प्रक्रिया और परिणाम दोनों है।
  • अभिप्रेरणा किसी आवश्यकता से पैदा होती है।
  • अभिरुचि के अभाव में भी अभिप्रेरणा व्यक्ति को क्रियाशील रखती है।
  • अभिप्रेरणा व्यक्ति को तब तक सक्रिय रखती है जब तक उद्देश्य प्राप्त न हो जाए।
  • अभिप्रेरणा उत्पन्न करने वाले कारकों को मनोवैज्ञानिक भाषा में अभिप्रेरक कहा जाता है।
  • अभिप्रेरकों को आम तौर पर दो वर्गों में विभाजित किया जाता है – आंतरिक और बाहरी।
  • चाहे कोई व्यक्ति आंतरिक प्रेरकों से प्रेरित हो और चाहे बाहरी प्रेरकों से, उनके द्वारा उत्पन्न अभिप्रेरणा हमेशा आंतरिक होती है।
  • अभिप्रेरणा प्रबल भावनात्मक उत्तेजना की एक अवस्था है जो व्यक्ति में मनोवैज्ञानिक तनाव पैदा करती है, जिसे कम करने के लिए वह सक्रिय रहता है।
  • अभिप्रेरणा किसी व्यक्ति के भीतर एक शक्ति या ऊर्जा उत्पन्न करने की प्रक्रिया है जो किसी व्यक्ति को किसी विशेष उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए एक विशेष कार्य करने के लिए प्रेरित करती है और परिणामस्वरूप यह आंतरिक शक्ति या ऊर्जा है जो व्यक्ति को किसी विशेष कार्य को करने के लिए प्रेरित करती है। किसी विशेष उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए।

अभिप्रेरणा के घटक :-

आवश्यकता –

आवश्यकता वास्तव में शारीरिक असंतुलन या कमी की ओर संकेत करती है। प्रत्येक जीवित प्राणी की अपनी बुनियादी जैविक और मनोवैज्ञानिक-सामाजिक आवश्यकताएँ होती हैं। जिसके अभाव में ये जरूरतें व्यक्ति में तनाव पैदा करती हैं। भोजन की आवश्यकता होती है क्योंकि भोजन की कमी से शरीर में तनाव उत्पन्न होता है।

जीव भोजन की तलाश में सक्रिय रहता है और भोजन मिलने पर सामान्य अवस्था में लौट आता है। भोजन, जल, वायु विश्राम, मल-मूत्र विसर्जन आदि कुछ प्रमुख जैविक आवश्यकताएँ हैं तथा सुरक्षा, स्नेह, सम्मान, धन, सामाजिक स्वीकृति, निकटता, अभिव्यक्ति आदि कुछ प्रमुख मनोसामाजिक आवश्यकताएँ हैं।

अन्तर्नोद –

अन्तर्नोद को चालक भी कहा जाता है, अन्तर्नोद आवश्यकताओं पर आधारित एक प्रत्यय है। प्राणी की आवश्यकताएँ अन्तर्नोद को जन्म देती हैं। अन्तर्नोद किसी आवश्यकता को पूरा करने या पूरा करने के लिए कार्य करने या कार्य करने की क्रिया है। आवश्यकता मूलतः शारीरिक होती है, जबकि अन्तर्नोद का संबंध व्यवहार से होता है।

प्रोत्साहन –

जो वस्तु अन्तर्नोद या आवश्यकता को समाप्त कर देती है उसे प्रोत्साहन कहते हैं। इसलिए, प्रोत्साहन वह उत्तेजना है जो अन्तर्नोद या अभिप्रेरक को जागृत करती है। प्रोत्साहन वह लक्ष्य वस्तु है जिसे प्राप्त करने के लिए कोई व्यक्ति प्रेरित होता है।

अभिप्रेरक –

अभिप्रेरक क्या है? इस संबंध में मनोवैज्ञानिकों के बीच कोई सहमति नहीं है। कुछ मनोवैज्ञानिक इन्हें शारीरिक एवं मानसिक दशायें मानते हैं, कुछ इन्हें प्राणी की आवश्यकताएँ मानते हैं तथा कुछ इन्हें विशिष्ट ढंग से कार्य करने की प्रवृत्ति मानते हैं। लेकिन लगभग सभी मनोवैज्ञानिक इस बात से सहमत हैं कि अभिप्रेरक एक बहुत व्यापक शब्द है जिसमें आवश्यकता, अन्तर्नाद और तनाव जैसे कई शब्द शामिल हैं।

अभिप्रेरणा उत्पन्न करने वाले कारक अभिप्रेरक कहलाते हैं। अभिप्रेरक को आम तौर पर दो वर्गों में विभाजित किया जाता है-

  • आंतरिक
  • बाह्य

आंतरिक अभिप्रेरक मनुष्य के शारीरिक और जैविक अभिप्रेरकों से होता हैं। उदाहरण के लिए, आत्मरक्षा, भूख, प्यास और काम आदि और बाह्य अभिप्रेरक से तात्पर्य मनुष्य के पर्यावरण या मनो-सामाजिक अभिप्रेरकों से है; जैसे आत्म-सम्मान, सामाजिक प्रस्थिति और इंजीनियर, डॉक्टर, वकील, जज और नेता बनने की इच्छा आदि। मकसद कोई भी हो आंतरिक या बाहरी, उससे उत्पन्न प्रेरणा हमेशा आंतरिक ऊर्जा के रूप में होती है।

अभिप्रेरणा के प्रकार (abhiprerna ke prakar) :-

अभिप्रेरणा को कई प्रकार से वर्गीकरण किया गया है। मैस्लो के अनुसार, प्रेरणा को जन्मजात अभिप्रेरणा और अर्जित अभिप्रेरणा में विभाजित किया जा सकता है। श्री थॉम्पसन के अनुसार, अभिप्रेरकों को प्राकृतिक अभिप्रेरणा और कृत्रिम अभिप्रेरणा में विभाजित किया जा सकता है। गैरेट के अनुसार, अभिप्रेरणा को जैविक प्रेरणा, मनोवैज्ञानिक अभिप्रेरणा और सामाजिक अभिप्रेरणा में विभाजित किया जा सकता है।

कुछ मनोवैज्ञानिक प्रेरणा को प्राथमिक अभिप्रेरणा और द्वितीय अभिप्रेरणा या दैहिक अभिप्रेरणा और मनोवैज्ञानिक अभिप्रेरणा के रूप में वर्गीकृत करते हैं। मनोवैज्ञानिकों ने प्रेरणा को विभिन्न दृष्टिकोणों से वर्गीकृत किया है, जिनमें निम्नलिखित महत्वपूर्ण हैं:-

सकारात्मक अभिप्रेरणा –

इस अभिप्रेरणा में बच्चा अपनी इच्छा से कुछ कार्य करता है। इस कार्य को करने से उसे खुशी और संतुष्टि मिलती है। शिक्षक विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करके तथा परिस्थितियाँ निर्मित करके बच्चे को सकारात्मक अभिप्रेरणा प्रदान करता है। इस अभिप्रेरणा को आंतरिक प्रेरणा भी कहा जाता है।

नकारात्मक अभिप्रेरणा –

इस अभिप्रेरणा में बच्चा कोई भी कार्य अपनी इच्छा से नहीं, बल्कि किसी और की इच्छा या बाहरी प्रभाव के कारण करता है। इस कार्य को करने से उसे वांछित या निश्चित लक्ष्य की प्राप्ति होती है। शिक्षक प्रशंसा, निंदा, पुरस्कार, प्रतिस्पर्धा आदि का उपयोग करके बच्चे को नकारात्मक अभिप्रेरणा प्रदान करता है। इस प्रेरणा को ब्रह्म अभिप्रेरणा के रूप में भी जाना जाता है।

आपात अभिप्रेरणा –

इसमें जीवन-रक्षक प्रेरणाएँ हमारे पर्यावरण की परिस्थितियों से प्राप्त होती हैं – जैसे दुश्मन को देखकर डरना और बचाव के लिए भागना या पलायन।

आंगिक अभिप्रेरणा –

इसमें वे प्रेरणाएँ शामिल हैं जो शरीर की आंतरिक दशा से संबंधित हैं, जैसे भूख, प्यास, उत्सर्जन, आदि।

सामाजिक अभिप्रेरणा –

ये अभिप्रेरणा वे हैं जिनके द्वारा व्यक्ति सामाजिक व्यवहार करता है।

वस्तुनिष्ठ अभिप्रेरणा –

इस प्रकार की प्रेरणाओं का लक्ष्य पर्यावरणीय परिस्थितियों से प्रभावित होकर एक विशिष्ट तरीके से प्रभावी ढंग से व्यवहार करना है। यह उस प्रकार की अभिप्रेरणा – है जो वैज्ञानिक अनुसंधान व्यवहार में काम करती है।

संक्षिप्त विवरण :-

व्यक्ति का प्रत्येक कार्य एवं व्यवहार उद्देश्यपूर्ण होता है। किसी व्यक्ति के कार्यों और व्यवहार को संचालित करने वाली कुछ प्रेरक शक्तियाँ होती हैं, जो उसे विभिन्न परिस्थितियों में कार्य करने या व्यवहार करने की अभिप्रेरणा देती हैं। अभिप्रेरणा को एक आंतरिक शक्ति के रूप में स्वीकार किया जा सकता है जो किसी प्राणी के व्यवहार को संचालित, निर्देशित और व्यवस्थित करती है।

FAQ

अभिप्रेरणा से आप क्या समझते हैं?

अभिप्रेरणा के कितने घटक होते हैं?

अभिप्रेरणा के प्रकार बताइए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *