युवा असंतोष क्या है? युवा असंतोष के कारण, दुष्परिणाम, उपाय

प्रस्तावना :-

युवा असंतोष मोटे तौर पर युवावस्था में पाए जाने वाले तनाव से संबंधित है। चूँकि समाज में सभी लोग युवा नहीं होते और न ही सभी तनावग्रस्त होते हैं और जो लोग होते हैं, ज़रूरी नहीं कि वे भी उतने ही तनावग्रस्त हों। युवा लोगों में बच्चों और बूढ़ों की तुलना में तनाव होने की संभावना ज़्यादा होती है।

युवा असंतोष का अर्थ :-

प्रत्येक राष्ट्र एवं समाज के विकास में उसके युवाओं का महत्वपूर्ण योगदान होता है। आज देश के हजारों-लाखों युवाओं में असंतोष अथवा तनाव एवं आक्रोश है, सक्रियता दिखाई दे रही है। वे आज अनेक प्रकार के तनाव से ग्रस्त हैं। यदि किसी राष्ट्र का युवा वर्ग अथवा विद्यार्थी वर्ग स्वयं भ्रमित एवं असंतुष्ट है तो वह अपनी भूमिका ठीक से नहीं निभा सकता।

भारत में युवा वर्ग का तनाव अथवा असंतोष अपने सक्रिय एवं विकराल रूप में दिखाई दे रहा है। युवाओं में व्याप्त इस असंतोष का ही परिणाम है कि आज विद्यालयों, महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में पथराव, सत्याग्रह, हड़ताल, भूख हड़ताल, घेराव, दंगे, परीक्षाओं का बहिष्कार, शिक्षकों एवं अधिकारियों का अनादर आदि के रूप में विस्फोट हो रहे हैं।

युवा असंतोष के कारण :-

कोई भी युवा जन्म से ही तनावग्रस्त नहीं होता। उसके जीवन में कुछ ऐसी परिस्थितियाँ आती हैं या कुछ ऐसी घटनाएँ होती हैं, जिनके कारण वह तनावग्रस्त हो जाता है। इसका अर्थ है कि युवा असंतोष कोई अकारण या आकस्मिक घटना नहीं है। इसके पीछे कुछ ठोस कारण हैं। युवा असंतोष के प्रमुख कारण इस प्रकार हैं:

भ्रष्टाचार –

युवा लोग आमतौर पर आदर्शवादी होते हैं। लेकिन व्यावहारिक जीवन में वे देखते हैं कि सरकारी दफ्तरों से लेकर शिक्षण संस्थानों और यहां तक कि क्षेत्रीय और प्रादेशिक विश्वविद्यालयों में भी कोई काम आसानी से सामान्य प्रक्रिया के तहत नहीं होता। काम तो दूर, सामान्य जानकारी हासिल करने के लिए भी उन्हें दफ्तरों के सैकड़ों चक्कर लगाने पड़ते हैं।

ऐसे में राष्ट्र निर्माण के लिए काम करने के उनके सपने टूटने लगते हैं। आदर्शों और हकीकत के बीच इतनी गहरी खाई है कि उनका युवा मन कभी कल्पना भी नहीं कर सकता। ऐसी कड़वी हकीकत से सामना होने पर युवाओं का चिंतित और तनावग्रस्त हो जाना कोई अस्वाभाविक बात नहीं है।

बेरोजगारी –

खासकर पढ़े-लिखे युवाओं में तनाव का सबसे बड़ा कारण बेरोजगारी है। पढ़ाई के समय बच्चों के माता-पिता उनसे बहुत उम्मीदें रखते हैं और खुद भी अपने लिए बड़े-बड़े सपने देखते हैं। लेकिन जब युवा पढ़ाई के बाद रोजगार के लिए दर-दर भटकते हैं और उन्हें अपने सपने पूरे होते नहीं दिखते तो वे बहुत निराश होते हैं। यही हताशा उनमें तनाव पैदा करती है।

पारिवारिक नियंत्रण में कमी –

आज पारिवारिक नियंत्रण दिन-प्रतिदिन कम होता जा रहा है। माता-पिता का अब अपने बच्चों पर पहले जैसा नियंत्रण नहीं रह गया है। परिवार जो कभी सेवा, त्याग, संयम, अनुशासन आदि गुणों का केंद्र हुआ करता था।

आज तनाव का केंद्र बन गया है, जिसके कारण बच्चों का समुचित समाजीकरण परिवार द्वारा नहीं हो पाता, पारिवारिक मूल्यों में गिरावट आई है। परिवार का नियंत्रणकारी प्रभाव कम हुआ है। परिवार से उचित मार्गदर्शन के अभाव में युवाओं में तनाव की स्थिति बढ़ती जा रही है।

औद्योगीकरण –

औद्योगीकरण ने मानव जीवन को सबसे अधिक प्रभावित किया है। लोग आजीविका की तलाश में औद्योगिक संस्थानों में काम करने के लिए शहरों में आते हैं। परिणामस्वरूप, कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं। जैसे परिवार, विघटन, घर की समस्या, मनोरंजन की समस्या आदि।

कई लोगों को कभी-कभी बेरोजगारी का सामना करना पड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप युवाओं में कई समस्याएं पैदा होती हैं और तनाव की स्थिति पैदा होती है। औद्योगीकरण से ग्रामीण उद्योग नष्ट हो रहे हैं, जिसके कारण ग्रामीण लोगों में बेरोजगारी तेजी से बढ़ रही है।

महंगाई –

वर्तमान समय में महंगाई दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इस बढ़ती महंगाई के कारण आम लोगों का गुजारा करना बहुत मुश्किल होता जा रहा है। महंगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है। युवाओं के खर्चे आज काफी बढ़ गए हैं। इसलिए युवाओं का इस महंगाई से परेशान होना स्वाभाविक है।

सोशल मीडिया –

सोशल मीडिया और अन्य संदेशवाहकों के माध्यम से युवा अपने से जुड़ी किसी भी समस्या पर चर्चा करते हैं। साथ ही संगठन और एकता भी स्थापित करते हैं। अपनी समस्या के समाधान के लिए वे इनके माध्यम से आवाज उठाते हैं। इसके अभाव में यह असंभव नहीं तो मुश्किल जरूर होता। इस प्रकार स्पष्ट है कि सोशल मीडिया साधन भी युवाओं के तनाव के लिए विशेष रूप से जिम्मेदार हैं।

सरकार की उदासीनता –

आज युवाओं के सामने कई समस्याएं हैं, युवाओं के प्रति सरकार की उदासीनता भी युवाओं के तनाव का एक मुख्य कारण है। हालांकि सरकार युवाओं की समस्याओं से अवगत है, लेकिन उनके समाधान के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं। नतीजतन युवाओं में निराशा और असंतोष की भावना पैदा हो गई है।

व्यावसायिक मनोरंजन –

मनोरंजन के वर्तमान साधनों ने भी ऐसा वातावरण निर्मित कर दिया है, जिसमें युवा पीढ़ी अनेक तनावों का अनुभव कर रही है। टेलीविजन और चलचित्रों की आधुनिक कथा-कहानियाँ और दृश्य युवा पीढ़ी को वास्तविकता से दूर ले जाते हैं।

अभाव में जी रही युवा पीढ़ी जब फिल्मों के माध्यम से वर्ग संघर्ष, नैतिकता के नए तरीके, विद्यार्थियों की स्वतंत्रता और प्रेम-प्रसंगों को देखती है, तो उसका अनुभवहीन भावुक मन शीघ्र ही इन विशेषताओं को ग्रहण कर लेता है।

ये काल्पनिक महत्त्वाकांक्षाएँ उसे इतना तनाव देती हैं कि धीरे-धीरे वह अध्ययन से विमुख हो जाता है और आंदोलन और हिंसा की स्थिति में कुछ चेतना और क्रियाशीलता का अनुभव करने लगता है।

मनोरंजन के व्यावसायिक साधनों के माध्यम से जो मूल्य और व्यवहार के तरीके प्रसारित होते हैं, वे व्यावहारिक जीवन से बहुत भिन्न होते हैं, इसलिए युवा पीढ़ी यह निर्णय नहीं कर पाती कि कौन-सा व्यवहार सही है और कौन-सा गलत। अनिश्चितता और भ्रम के इस वातावरण के कारण युवा असंतोष बढ़ता है।

युवा असंतोष के दुष्परिणाम :-

असंतोष कई रूपों में होता है, जैसे पथराव, भूख हड़ताल, घेराव,  हड़ताल, परीक्षाओं का बहिष्कार, सार्वजनिक संपत्ति की तोड़फोड़ आदि। युवा असंतोष के दुष्परिणाम इस प्रकार हैं:

  • शिक्षा प्रणाली का विघटन।
  • व्यक्तिगत समायोजन में विफलता।
  • समाज की कानूनी व्यवस्था का टूटना।
  • युवाओं की आकांक्षाओं की संरचना लड़खड़ा रही है।
  • संपत्ति की हानि और आर्थिक और सामाजिक विकास में बाधा।
  • एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक सामाजिक मूल्यों का हस्तांतरण बंद हो जाना।
  • सामाजिक संस्थाओं का विघटन जो अंततः समाज को प्रभावित करता है।

युवा असंतोष को दूर करने के उपाय :-

सभी समाज के नेता हैं। ऐसे में यदि युवा तनाव के कारण बीमार हो जाएं तो समाज की प्रगति अवरुद्ध हो जाती है और समाज का भविष्य अंधकारमय हो जाता है। इसलिए हर समाज अपने युवाओं को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ और तनाव मुक्त बनाने का प्रयास करता है। युवा असंतोष को दूर करने के उपाय इस प्रकार हैं:

शिक्षा प्रणाली में सुधार –

युवा तनाव की समस्या को नियंत्रित करने के लिए शिक्षा प्रणाली में कई सुधार अपरिहार्य हैं। शिक्षा प्रणाली में सुधार के लिए प्रमुख सुझाव इस प्रकार हैं:

  • परीक्षा प्रणाली में सुधार किया जाना चाहिए।
  • शिक्षा पाठ्यक्रम को रोजगारोन्मुखी बनाया जाना चाहिए।
  • शिक्षकों और विद्यार्थियों के बीच परस्पर विश्वास पैदा किया जाना चाहिए।
  • महाविद्यालय प्रशासन, सरकार और विद्यार्थियों के बीच परस्पर सामंजस्य होना चाहिए।

मनोरंजन की व्यवस्था –

युवा वर्ग जब खालीपन महसूस करता है तो वह अधिक गंदगी करता है। इसलिए उनके लिए उचित खेल, व्यायाम, वाद-विवाद, फिल्म, प्रदर्शन, नाटक आदि की व्यवस्था की जानी चाहिए। जो लोग इन क्षेत्रों में बहुत अच्छे हैं, उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

पीढ़ियों के बीच संघर्ष को कम करना –

युवा असंतोष का कारण पीढ़ियों के बीच संघर्ष की स्थिति है। पुरानी पीढ़ी की मान्यताएँ एक हैं और नई पीढ़ी की मान्यताएँ दूसरी। इसलिए अगर युवाओं के तनाव को कम करना है तो पीढ़ियों के बीच की दूरी को कम करना होगा। पुरानी पीढ़ी के लोगों को बहुत ज़्यादा दृढ़ नहीं होना चाहिए और गतिशीलता को जगह देनी चाहिए।

संक्षिप्त विवरण :-

युवा असंतोष के लिए कई शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है, जैसे युवा तनाव, युवा सक्रियता या छात्र असंतोष आदि। युवा असंतोष के नाम पर अनुशासनहीनता, अराजकता, बर्बरता, आगजनी और यहां तक कि पत्थरबाजी को भी जायज माना जाता है, जो कि बहुत गलत बात है। इस रूप में युवा असंतोष एक सामुदायिक समस्या है। इस समस्या के मुख्य शिकार युवा और छात्र हैं।

FAQ

युवा तनाव क्या है?

युवाओं में तनाव मुख्यतः किशोरावस्था में पाए जाने वाले तनाव से संबंधित है।

युवा तनाव के कारण बताइए?

  1. भ्रष्टाचार
  2. बेरोजगारी
  3. पारिवारिक नियंत्रण में कमी
  4. औद्योगीकरण
  5. महंगाई
  6. सोशल मीडिया
  7. सरकार की उदासीनता
  8. व्यावसायिक मनोरंजन

युवा तनाव को दूर करने के उपाय बताइए?

  1. शिक्षा प्रणाली में सुधार
  2. मनोरंजन की व्यवस्था
  3. पीढ़ियों के बीच संघर्ष को कम करना

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *