समाज कार्य और समाज सेवा में अंतर स्पष्ट

प्रस्तावना :-

एम.वी. मूर्ति ने बहुत सूक्ष्म तरीके से समाज कार्य और समाज सेवा में अंतर करके दोनों के बीच स्पष्ट अंतर किया है। उनके कथन के अनुसार समाज कार्य और समाज सेवा में वास्तविक और वैज्ञानिक अंतर है, यह मात्र कल्पना पर आधारित कुछ लोगों के निर्णयों के आधार पर किया गया मनमाना भेद नहीं है।

समाज कार्य और समाज सेवा में अंतर

“जब हम निःसहायों की सहायता करते है तो वह समाज सेवा है, निःसहायों को अपनी सहायता स्वयं करने में सहायता करना समाज कार्य है।”

एम. वी. मूर्थी

समाज कार्य

  1. सभी सेवाएँ समाज कार्य नहीं हैं।
  2. समाज कार्य में वैज्ञानिक ज्ञान, विधियों और अभ्यास का होना जरूरी है।
  3. समाज कार्य केवल वही व्यक्ति कर सकता है जो उचित प्रशिक्षण के माध्यम से आवश्यक ज्ञान और कौशल से युक्त हो।
  4. समाज कार्य के तहत सामान्य जरूरतों के अलावा विशिष्ट जरूरतों को भी पूरा किया जाता है। ध्यान रखा जाता है और एक व्यक्ति और समूह के साथ मिलकर काम किया जा सकता है।
  5. समाज कार्य के अंतर्गत मनुष्य के साथ उचित संबंध स्थापित करके उनकी सेवा या सहायता इस प्रकार की जाती है कि वे भविष्य में स्वयं की सहायता कर सकें।

समाज सेवा

  1. समाज कार्य द्वारा दी जाने वाली सभी सेवाएँ समाज सेवा हैं।
  2. समाज सेवा में वैज्ञानिक ज्ञान, विधियों और अभ्यास का होना जरूरी नहीं है।
  3. समाज सेवा के तहत कुछ ऐसी सेवाएं हैं जो आम आदमी बिना किसी प्रशिक्षण के कर सकता है।
  4. समाज सेवा के अंतर्गत आम आदमी की कुछ आवश्यक जरूरतों को पूरा करने का प्रयास किया जाता है और साथ ही सेवार्थियों के साथ बड़े पैमाने पर काम किया जाता है
  5. समाज सेवा के अंतर्गत प्रशासन और उपयोगिता पर अधिक बल दिया जाता है।

FAQ

समाज कार्य और समाज सेवा में अंतर स्पष्ट कीजिए

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

One comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *