सहकारिता के सिद्धांत लिखिए?

सहकारिता के सिद्धांत :-

सहकारिता के सिद्धांत निम्नलिखित है –

स्वैच्छिक संगठन या खुली सदस्यता का सिद्धांत –

एक सहकारी संगठन का मुख्य उद्देश्य अपने संगठन की वैकल्पिक प्रकृति होना है। सहकारी की सदस्यता स्वेच्छा से व्यक्ति द्वारा स्वीकार की जाती है, स्वेच्छा से इसे त्याग दिया जाता है। वास्तव में, व्यक्तिगत स्वतंत्रता का पूर्ण दर्शन एक सहकारी संगठन में है। खुली सदस्यता के सिद्धांत का अर्थ है कि सहकारी समिति की सदस्यता सभी व्यक्तियों को बिना किसी कृत्रिम प्रतिबंध के उपलब्ध होगी। जाति, धर्म, रंग आदि के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होगा।

खुली सदस्यता का मतलब यह नहीं है कि कोई भी व्यक्ति सहकारी समिति में प्रवेश की मांग अधिकार के रूप में कर सकता है। खुली सदस्यता का अर्थ केवल यह है कि जिन व्यक्तियों को उन उद्देश्यों में विश्वास है, उन्हें ही निश्चित उद्देश्यों के लिए गठित समिति में प्रवेश पाने का अधिकार होगा।

प्रजातांत्रिक या लोकतांत्रिक नियंत्रण का सिद्धांत –

लोकतांत्रिक नियंत्रण का अर्थ है कि एक सहकारी समिति के प्रत्येक सदस्य को केवल एक वोट देने का अधिकार होना चाहिए, भले ही उसके नाम पर कितने ही हिस्से हों। एक सहकारी समिति में, प्रत्येक सदस्य को समान माना जाता है और अन्य लोगों के साथ समिति के संचालन में भाग लेने की स्वतंत्रता और समान अवसर प्राप्त होता है।

सहकारी लोकतंत्र का अर्थ है कि सभी प्रकार की सहकारी समितियों में प्रत्येक सदस्य को नियंत्रण वितरित किया गया है। लोकतांत्रिक नियंत्रण के सिद्धांत को स्वीकार करने के कारण सहकारी समितियाँ स्वशासी संस्थाओं के रूप में कार्य करती हैं। सहकारिता एक व्यक्ति एक वोट के सिद्धांत पर आधारित है।

लाभ वितरण का सिद्धांत –

इस सिद्धान्त के अनुसार सहकारी समितियाँ अपने लाभ का वितरण अंश के आधार पर करती हैं। सहकारी अपनी व्यावसायिक गतिविधियों को बिना लाभ या हानि के सिद्धांत पर संचालित करता है। संस्था जो भी कम लाभ प्राप्त करती है उसे भी समानता के आधार पर बांट दिया जाता है।

पूंजी पर सीमित ब्याज का सिद्धांत –

सहकारी समिति का एक अन्य महत्वपूर्ण सिद्धांत पूंजी पर सीमित ब्याज देना है। सहकारिता में, पूंजी को द्वितीयक दर्जा दिया गया है क्योंकि पूंजी को शोषण को जन्म देने वाला माना जाता है। संस्था के सदस्यों के शेयरों पर कोई ब्याज नहीं दिया जाता है।

सीमित ब्याज क का उद्देश्य सहकारी समितियों में निःस्वार्थ भाव जगाना है। सहकारी समितियों में, पूंजी एक सेवक के रूप में कार्य करती है। पूंजी का बोलबाला न हो, इसके लिए सीमित ब्याज स्वीकार किया गया। सीमित स्वार्थ भी आपसी सहयोग और स्नेह के विचार को पुष्ट करता है।

सहकारी शिक्षा का सिद्धांत –

इस सिद्धांत के अनुसार सहकारी शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए एक निश्चित राशि व्यय करने का निर्णय लिया गया। इस सिद्धांत पर वस्तुनिष्ठ बल दिया गया था लेकिन इसकी उपेक्षा नहीं की गई थी। सहकारिता आन्दोलन की शक्ति एवं सफलता के लिए सहकारी शिक्षा के सिद्धान्त को स्वीकार किया गया। सहकारी शिक्षा के बढ़ते महत्व को ध्यान में रखते हुए इस सिद्धांत का महत्व बढ़ गया है।

सहकारिता में सहयोग विकास का सिद्धांत –

इस सिद्धांत का अर्थ है कि सभी सहकारी संगठनों को स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अन्य सहकारी संगठनों के साथ हर संभव तरीके से सक्रिय रूप से सहयोग करना चाहिए ताकि वे अपने सदस्यों और समाजों के हितों को अधिकतम सीमा तक बढ़ा सकें। आधुनिक सहकारिता आन्दोलन इस सिद्धांत पर आधारित संकीर्ण दृष्टिकोण और विकास की सीमित क्षमता दोनों को बचायेगा।

पारस्परिक सहायता –

पारस्परिक सहायता सदस्यों के बीच संबंधों की आत्मा है। सहकारिता का उद्देश्य सबके लिए और सब प्रत्येक के लिए है। एक सहकारी समिति आम आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्तियों का एक संगठन है। पारस्परिक सहायता से अपनी दुर्बलता को समाप्त कर दिया जाता है।

नकद व्यापार का सिद्धांत –

नकद बिक्री को भी सहयोग का एक आवश्यक सिद्धांत माना जाता था। अधिकांश सहकारी समितियों के पास पूंजी नहीं थी और सोसायटियों की वित्तीय सुदृढ़ता बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

राजनीतिक और धार्मिक निरपेक्षता का सिद्धांत –

इस सिद्धांत के अनुसार, सहकारी समितियाँ एक आर्थिक उपक्रम हैं। यह राजनीतिक और धार्मिक उद्देश्यों को पूरा करने का माध्यम या साधन नहीं है। एक सहकारी समिति एक राजनीतिक या धार्मिक संगठन के रूप में स्थापित नहीं होती है। इस सिद्धांत के अनुसार, सहकारी समितियों को चलाने और सदस्य बनने के लिए कोई भेदभाव नहीं है। सहकारी समितियों के सदस्यों को किसी राजनीतिक दल के सदस्य या समर्थक किसी भी विचारधारा का प्रचार करने की स्वतंत्रता है।

मितव्ययता या बचत का सिद्धांत –

इस सिद्धान्त के अनुसार सहकारी संस्थाएँ अपने सदस्यों में बचत करने की आदत को प्रोत्साहित करती हैं। बचत करते समय ही बचत करने की आदत को बढ़ावा दें। बचत होने पर ही सदस्य अपनी मदद कर सकते हैं। भविष्य में आने वाली आर्थिक कठिनाइयों से निपटने के लिए सहकारी संगठन के संसाधनों को बढ़ाने के लिए यह सिद्धांत महत्वपूर्ण है।

सेवा का सिद्धांत –

सहकारी आंदोलन का मुख्य उद्देश्य समूह या समाज की सेवा करना है, जबकि पूंजीवादी उद्यम का मुख्य उद्देश्य लाभ है। सहकारिता का संचालन सदस्यों के लिए न्यूनतम लागत पर सुविधाओं की व्यवस्था करना है। इसी सेवा भावना के आधार पर सहकारी अर्थव्यवस्था का संचालन होता है। कीमतों में कमी और उत्पादन व्यय को कम करना सहकारी अर्थव्यवस्था का मुख्य उद्देश्य है।

इस प्रकार सहकारिता वितरण व्यवस्था में पाये जाने वाले दोषों को दूर करती है तथा बिचौलियों द्वारा लिए गए अनावश्यक मुनाफे से समाज को बचाता है। इसीलिए सहकारी संस्थाओं का गठन लाभ कमाने के उद्देश्य से नहीं बल्कि सेवा की भावना से किया जाता है।

न्याय का सिद्धांत –

सहकारी समितियों का जन्म आर्थिक प्रणाली के अन्याय की प्रतिक्रिया के रूप में हुआ था। यही कारण है कि सहकारिता में न्याय के सिद्धांत को विशेष महत्व दिया जाता है। सहकारिता बिचौलियों को समाप्त कर उपभोक्ता को उत्पादक के शोषण से मुक्त करने का कार्य करती है। सहकारिता में सदस्यों की समान भूमिका एवं समान लाभ के बंटवारे तथा समानता के व्यवहार के आधार पर न्याय के सिद्धांत को व्यावहारिक रूप दिया गया है।

अवैतनिक सेवाओं का सिद्धांत –

सहकारिता आन्दोलन के संस्थापकों एवं प्रवर्तकों ने अवैतनिक सेवा को सहकारिता आन्दोलन का अंग माना है। इस सिद्धांत के अनुसार सामाजिक उत्तरदायित्व की भावना रखने वाले लोग अपनी शक्तियों का प्रयोग कर समाज की सेवा कर सकते हैं।

प्रचार का सिद्धांत –

प्रचार के सिद्धांत के अनुसार, सहकारिता का प्रत्येक कार्य सार्वजनिक रूप से किया जाना है। संगठन के व्यवसाय और कार्य को अधिक प्रचारित किया जाता है और सहकारिता के उद्देश्य से आम जनता को अवगत कराया जाता है। संस्था की सामान्य बैठक समय-समय पर बुलाई जाती है तथा उसमें लेखा-जोखा प्रस्तुत किया जाता है। वार्षिक आय व्यय के आंकड़े प्रकाशित किए जाते हैं, इस प्रकार प्रचार का सिद्धांत लागू होता है।

सामाजिक स्वामित्व का सिद्धांत –

सहकारी समिति के केवल सदस्य का ही उस संस्था पर निजी स्वामित्व होता है। बिना सदस्यता के किसी को भी मालिकाना हक नहीं मिल सकता। कई सदस्यों का संयुक्त रूप से स्वामित्व होना सामाजिक स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करता है।

स्वशासी स्थानीय समिति का सिद्धांत –

स्थानीय स्वशासन को सहकारी समितियों में प्रमुखता से लागू किया गया है। सारा अधिकार स्थानीय स्तर पर केंद्रित है।

FAQ

सहकारिता के सिद्धांत बताइए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *