समस्या समाधान क्या है समस्या समाधान विधि problem solving

समस्या समाधान का अर्थ :-

जब कोई व्यक्ति किसी लक्ष्य तक पहुंचना चाहता है और किसी कारणवश नहीं पहुंच पाता है तो उसके सामने एक समस्या खड़ी हो जाती है, जिसका समाधान ढूंढना होता है, जैसे कि यदि व्यक्ति अपने परिवार के साथ बाहर जाना चाहता है और नहीं जाता है। घूमने जाने के लिए कोई साधन उपलब्ध हो तो उसके लिए परेशानी खड़ी हो जाएगी। यदि वह इस कठिनाई पर काबू पा लेता है और लक्ष्य तक पहुंच जाता है, तो वह समस्या का समाधान कर लेगा। इस प्रकार समस्या समाधान का अर्थ है कठिनाइयों पर विजय प्राप्त करके लक्ष्य प्राप्त करना।

किसी समस्या का समाधान कब और कैसे होगा यह समस्या की प्रकृति पर निर्भर करता है। कुछ समस्याएं आसान होती हैं, जो आसानी से हल हो जाती हैं। लेकिन कुछ समस्याओं के अत्यधिक जटिल होने के कारण उनके समाधान में भी समय लगता है।

समस्या समाधान की परिभाषा :-

समस्या समाधान को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“समस्या समाधान का अर्थ होता है बाधाओं को दूर करने और लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए चिंतन प्रक्रियाओं का उपयोग करना है।”

“समस्या समाधान तब प्रकट होता है जब उद्देश्य की प्राप्ति में किसी प्रकार की बाधा आती है। यदि लक्ष्य तक पहुंचने का मार्ग सीधा और आसान हो तो कोई समस्या आती ही नहीं।”

वुडवर्थ

“समस्या समाधान में विभिन्न अनुक्रियाओं को करने या उनमें से चुनने का प्रयास सम्मिलित है। ताकि वांछित लक्ष्यों को प्राप्त किया जा सके।”

बेरोन

समस्या समाधान विधि :-

समस्या समाधान के क्षेत्र में मनोवैज्ञानिकों द्वारा कई शोध अनुसंधान किये गये हैं और उनके आधार पर किसी भी समस्या के समाधान में निम्नलिखित दो विधियों या उपायों को महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है –

यादृच्छिक खोज विधि :-

इस तकनीक में व्यक्ति प्रयास एवं त्रुटि उपायों का सहारा लेकर समस्या का समाधान करता है। यादृच्छिक अन्वेषण विधि को भी दो भागों में वर्गीकृत किया गया है –

अक्रमबद्ध यादृच्छिक अन्वेषण विधि –

इस पद्धति में व्यक्ति किसी समस्या के समाधान के लिए सभी संभावित प्रतिक्रियाओं को अक्रमबद्ध तरीके से अपनाता है, अर्थात क्रियाओं का कोई निश्चित क्रम नहीं होता है। न ही वह पहले से अपनाई गई क्रिया विधियों का कोई रिकॉर्ड रखता है।

क्रमबद्ध यादृच्छिक अन्वेषण विधि –

इस पद्धति में, समस्या को एक निश्चित क्रम में हल किया जाता है और समाधानकर्ता पहले से किए गए प्रतिक्रियाओं का रिकॉर्ड भी रखता है। जिससे कि जो त्रुटियां पहले हुई थीं वह दोबारा होने की संभावना न रहे। यद्यपि अक्रमबद्ध विधि में अव्यवस्थित विधि की तुलना में अधिक समय लगता है, यह विधि (क्रमबद्ध यादृच्छिक पता लगाने की विधि) अधिक प्रभावी है।

स्वतः अन्वेषण विधि :-

इस पद्धति के अंतर्गत व्यक्ति समस्या के समाधान के लिए केवल उन्हीं विकल्पों का चयन करता है जो उसे प्रासंगिक लगते हैं। सभी संभावित विकल्पों की खोज नहीं की गई है। इस पद्धति में इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि समस्या का समाधान अवश्य हो जायेगा, लेकिन समाधान की संभावना काफी रहती है। इनमें यादृच्छिक अन्वेषण विधि की तुलना में कम समय लगता है।

स्वतः शोध अन्वेषण विधि में निम्नलिखित विधियाँ शामिल हैं:-

साधन साध्य विश्लेषण –

इस विधि में मुख्य समस्या को कई छोटी-छोटी समस्याओं अर्थात् उप-समस्याओं में विभाजित कर दिया जाता है।

जब इन उपसमस्याओं का समाधान हो जाता है, तो मौलिक अवस्था और लक्ष्य अवस्था के बीच का अंतर कम हो जाता है। यानी व्यक्ति समस्या के समाधान के काफी करीब पहुंच जाता है। इस विधि का प्रयोग मुख्य रूप से शतरंज की समस्याओं को हल करने में, गणितीय समस्याओं को हल करने में, कंप्यूटर द्वारा किसी समस्या के समाधान के लिए प्रोग्राम तैयार करने में आदि में किया जाता है।

पश्चगामी अन्वेषण –

इसमें व्यक्ति समस्या समाधान के लिए क्रमशः लक्ष्य अवस्था से मूल अवस्था तक पहुँचने का प्रयास करता है। इस विधि का उपयोग निम्नलिखित स्थितियों में किया जाता है:-

  • जब समस्या की लक्ष्य अवस्था में मौलिक अवस्था की तुलना में अधिक जानकारी उपलब्ध हो।
  • जब समस्या के समाधान के लिए अग्रगामी और पश्चगामी दोनों दिशाओं में प्रयास संभव हो।

योजना विधि –

इस विधि में मुख्य समस्या को दो भागों में वर्गीकृत किया गया है –

  • साधारण पहलू
  • जटिल पहलू

व्यक्ति सबसे पहले साधारण पहलू को हल करता है। उसके बाद जटिल पहलू को सुलझाने की ओर बढ़ता है।

किसी समस्या को सुलझाने के कई तरीके हो सकते हैं जिन्हें व्यक्ति उन समस्याओं की प्रकृति और अपनी क्षमता के आधार पर अपनाता है।

समस्या समाधान के चरण :-

समस्या की स्वरूप का ज्ञान –

समस्या समाधान का पहला चरण समस्या की प्रकृति को समझना है। इस स्तर पर, समस्या स्पष्ट रूप से परिभाषित होती है क्योंकि समस्या को ठीक से समझे बिना समाधान नहीं खोजा जा सकता है।

परिभाषा सत्यापन का अवस्था –

दूसरे चरण में परिभाषा का सत्यापन किया जाता है। यदि परिभाषा ही गलत समझी गयी तो सारी समस्या ही गलत हल हो जायेगी। इस स्तर पर यह जांचा जाता है कि परिभाषा सही ढंग से समझ में आई या नहीं।

समस्या को स्मरण में रखना –

समस्या समाधान के तीसरे चरण में समस्या सदैव स्मृति में रखा जाता है।

परिकल्पनाओं का निरूपण –

समस्या समाधान के इस चौथे चरण में व्यक्ति परिकल्पना तैयार करता है।

मुख्य परिकल्पना का चयन –

निर्मित परिकल्पनाओं में से, मुख्य परिकल्पना अधिक केंद्रित किया जाता है। जिससे समस्या का समाधान आसानी से निकाला जा सके।

चुनी गई परिकल्पना का सत्यापन-

समस्या समाधान के छठे चरण में, किसी को चिंतन करता है कि क्या सभी परिकल्पनाओं का परीक्षण किया गया है और सर्वोत्तम परिकल्पना का चयन किया गया है।

चुनी गई सर्वोत्तम परिकल्पना को कार्यान्वित करना –

यह समस्या के समाधान का चरण है, इसका मतलब है कि वह समस्या का समाधान करता है।

कार्यान्वित समाधान का मूल्यांकन करना –

इस चरण में, व्यक्ति समस्या समाधान के परिणाम का मूल्यांकन करता है। इस चरण में व्यक्ति समस्या से जुड़े चरणों के गुण-दोषों की जांच करता है और इन चरणों के महत्वपूर्ण तथ्यों को पुनर्प्राप्ति संकेतों के रूप में संग्रहीत करता है ताकि भविष्य में उनका उपयोग अन्य समस्याओं को हल करने के लिए किया जा सके।

FAQ

समस्या समाधान का अर्थ क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 546

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *