प्राथमिक समूह एवं द्वितीयक समूह में अंतर स्पष्ट करें ?

प्राथमिक समूह एवं द्वितीयक समूह में अंतर :-

प्राथमिक समूह एवं द्वितीयक समूह की विशेषताएं एक दूसरे के बिल्कुल विपरीत हैं। प्राथमिक समूह एवं द्वितीयक समूह में अंतर को निम्नलिखित प्रमुख आधारों पर समझाया जा सकता है:-

सम्बन्ध –

प्राथमिक समूह के सदस्यों का आपस में घनिष्ठ संबंध होता है। व्यक्तिगत संबंधों के कारण उनमें औपचारिकता नहीं होती है। इसके विपरीत, प्रेम, सहयोग, सद्भावना आदि आंतरिक गुण शामिल हैं। उनमें हम की भावना की प्रधानता है। द्वितीयक समूह में अप्रत्यक्ष और असंबद्ध संबंध पाए जाते हैं। उनके पास सहयोग, स्नेह, आत्मीयता का अभाव है और ‘हम’ पर “मैं” की प्रधानता है।

सम्बन्धों का जन्म –

प्राथमिक संबंध अपने आप पैदा होते हैं। ऐसे संबंध स्थापित करने में कोई शर्त या दबाव नहीं होता है। द्वितीयक समूह में संबंध स्थापित करने के लिए दिखावटीपन या कृत्रिमता का सहारा लिया जाता है।

आकार-

प्राथमिक समूह का आकार छोटा होता है। उदाहरण के लिए, परिवार का आकार, पड़ोस और दोस्तों का दायरा सीमित है। फेयरचाइल्ड के अनुसार, यह तीन-चार व्यक्तियों से लेकर छप्पन व्यक्तियों तक हो सकता है और कूले के अनुसार यह दो से साठ व्यक्तियों तक हो सकता है। द्वितीयक समूह का आकार बड़ा होता है। इसके सदस्यों की संख्या असीमित हो सकती है। संपूर्ण राष्ट्र भी असीमित संख्या वाला एक द्वितीयक समूह है।

हित –

प्राथमिक समूह की कोई विशेष हित नहीं है। प्रत्येक सदस्य पूरे मनोयोग से सभी कार्यों में भाग लेता है। वे समूह के लिए सबसे बड़ा बलिदान देने को तैयार हैं। द्वितीयक समूह में, जिसे विशेष हित समूह के रूप में जाना जाता है, प्रत्येक सदस्य अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करता है। भले ही उसे अपने हित के लिए अन्य सदस्यों के हितों की अवहेलना करनी पड़े, वह इसके लिए तैयार है।

दायित्व –

प्राथमिक समूहों में दायित्व की कोई सीमा नहीं है। यह कहा नहीं जा सकता कि मां अपने बेटे के प्रति कितने दायित्व निभाएगी। द्वितीयक समूहों में सदस्यों की जिम्मेदारी सीमित और शर्तों या नियमों के अनुसार होती है।

नियम –

प्राथमिक समूह में कोई लिखित नियम नहीं है। ये समूह अनौपचारिक हैं। वे अपने सदस्यों पर कोई कानून या शर्तें नहीं थोपते। द्वितीयक समूह की प्रकृति औपचारिक होती है। इसमें सदस्यों पर कई तरह के नियम, कानून और प्रक्रियाएं थोपी जाती हैं और नियम का उल्लंघन करने वालों को औपचारिक सजा मिलती है।

क्षेत्र –

प्राथमिक समूह हर काल और हर समाज में पाए जाते हैं। दूसरे शब्दों में, ये सार्वभौमिक हैं। ये समूह बहुत छोटे क्षेत्र में फैले हुए हैं। द्वितीयक समूह सार्वभौमिक नहीं हैं। इनका भौगोलिक क्षेत्र बहुत विस्तृत है। कुछ द्वितीयक समूह भी पूरे देश में फैले हो सकते हैं।

नियन्त्रण –

प्राथमिक समूहों में नियंत्रण की प्रकृति अनौपचारिक होती है। सदस्यों का व्यवहार निन्दा और अवमानना आदि से नियंत्रित होता है। द्वितीयक समूहों का नियंत्रण प्रकृति में औपचारिक होता है। द्वितीयक समूह अपने सदस्यों के व्यवहार को द्वितीयक साधनों जैसे कानून, पुलिस आदि की सहायता से नियंत्रित करता है।

व्यक्तित्व –

प्राथमिक समूह में व्यक्ति के व्यक्तित्व का संपूर्ण भाग समूह के संपर्क में आता है। इसीलिए प्राथमिक समूह के सदस्य एक-दूसरे से पूरी तरह वाकिफ होते हैं। द्वितीयक समूह के सदस्यों में व्यक्तित्व का एक भाग ही समूह के संपर्क में आता है।

प्रभाव –

प्राथमिक समूह व्यक्ति के विचारों और दृष्टिकोणों को बनाते हैं, इसलिए उनका प्रभाव सर्वव्यापी है। द्वितीयक समूह विशिष्ट समूह होते हैं और उनका प्रभाव कुछ क्षेत्रों तक सीमित होता है।

सदस्यता –

प्राथमिक समूह की सदस्यता अनिवार्य है। इसके कारण मनुष्य को अपने परिवार, खेल समूहों और मोहल्लों में रहना पड़ता है। द्वितीयक समूह सदस्यता अनिवार्य नहीं है। केवल जब व्यक्ति को लगता है कि उसे एक विशेष हित प्राप्त करनी है, तो वह द्वितीयक समूह का सदस्य बन जाता है।

कार्य –

प्राथमिक समूह मनुष्य के व्यक्तित्व का निर्माण या समाजीकरण करता है। कूले के अनुसार, “यह मानव प्रकृति का निर्माण स्थल है।” इसके विपरीत, द्वितीयक समूह व्यक्ति के व्यक्तित्व के समूहों के विशेषज्ञ या या विशेषीकरण होते हैं।

कार्य-क्षेत्र –

प्राथमिक समूह के कार्य का दायरा सीमित और निम्न होता है। द्वितीयक समूह का कार्य क्षेत्र अधिक विस्तृत है।

व्यक्तिगत एवं सामूहिक हित –

प्राथमिक समूह समष्टिवादी होते हैं। इस कारण से, सदस्यों के व्यक्तिगत हित सामूहिक हित में विलीन हो जाते हैं। द्वितीयक समूह व्यक्तिवादी होते हैं। इनमें सामूहिक हितों की अपेक्षा व्यक्तिगत हितों को अधिक महत्व दिया जाता है।

हम की भावना –

प्राथमिक समूह में हम पाए जाते हैं और व्यक्तियों के संबंध प्राथमिक होते हैं। द्वितीयक समूह में हमारा कोई अर्थ नहीं है और संबंध गौण है।

प्राचीनता –

प्राथमिक समूह अत्यधिक प्राचीन हैं, शायद मानव समाज जितना ही। द्वितीयक समूह तुलनात्मक रूप से नए समूह हैं। जनसंख्या में वृद्धि, औद्योगिक क्रांति, सामाजिक गतिशीलता आदि कारणों से आधुनिक समाजों में द्वितीयक समूहों की संख्या में वृद्धि हुई है।

FAQ

प्राथमिक समूह एवं द्वितीयक समूह में अंतर बताइए?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *