व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता क्यों है?

प्रस्तावना :-

व्यक्तिगत भिन्नताओं और व्यवसायों की विविधता के कारण, व्यावसायिक निर्देशन का उपयोग करना बहुत महत्वपूर्ण है। मानव व्यक्तित्व की जटिलता और व्यावसायिक क्षेत्र में हो रहे तेजी से हो रहे परिवर्तनों को ध्यान में रखते हुए व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता और भी अधिक महसूस की जा रही है।

अनुक्रम :-
 [show]

व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता :-

विभिन्न दृष्टिकोणों से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता है:-

सामाजिक दृष्टिकोण से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता :-

किसी भी समाज की सुरक्षित प्रगति के लिए यह आवश्यक है कि समाज का प्रत्येक व्यक्ति व्यवसाय/कार्य ऐसी जगह करे जहां देश परिवार और समाज के विकास में अपना अधिकतम योगदान दे सके, अर्थात समाज के प्रत्येक व्यक्ति को चाहिए कि वह व्यावसायिक निर्देशन इस तरह दिया जाए कि वह अपने प्रदर्शन को उचित तरीके से पेश कर सके। है। संयुक्त परिवार के स्थान पर एकल परिवार को महत्व दिया जा रहा है। दुनिया के अन्य देशों के साथ सांस्कृतिक आदान-प्रदान हो रहा है। नए क्षेत्रों में रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं।

इन सभी बदली हुई परिस्थितियों में विकास को सही ढंग से बढ़ाने में व्यावसायिक निर्देशन की भूमिका बढ़ जाती है। सामाजिक दृष्टिकोण से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता को निम्नलिखित संदर्भ में देखा जा सकता है।

परिवर्तित पारिवारिक दशायें –

प्राचीन काल में छात्रों को व्यावसायिक प्रशिक्षण परिवार में ही प्राप्त होता था। माता-पिता को किसी एक क्षेत्र के अलावा कई अन्य क्षेत्रों की भी जानकारी थी। धीरे-धीरे परिवार का स्वरूप और परिवेश बदल गया। इससे जहां छात्र-छात्राओं को पहले घर पर ही माता-पिता से व्यावसायिक प्रशिक्षण प्राप्त होता था, अब उसके लिए उन्हें स्कूल का सहारा लेना पड़ता है।

छात्र-छात्राओं पालन-पोषण इनके पारिवारिक स्तर, योग्यता आदि में अंतर होता है। इसलिए विद्यार्थियों को अपनी योग्यता और क्षमता के अनुसार अध्ययन/ प्रशिक्षण करना चाहिए। प्रशिक्षण देने के लिए जिसमें वे जहां कहीं भी व्यवसाय करते हैं, समाज के हित में व्यावसायिक निर्देशन देना आवश्यक हो जाता है।

उद्योग और श्रम के बदलते हालात –

प्रारंभ में अधिकांश छात्र अपने घर में प्रचलित व्यवसाय को अपनाते थे, लेकिन वर्तमान प्रगतिशील और भौतिक युग में स्थिति पूरी तरह से बदल गई है। एक ओर जहां व्यवसायों की संख्या में वृद्धि हुई, वहीं दूसरी ओर इसमें विविधता आई। विभिन्न व्यवसायों के कामकाज अलग-अलग होते जा रहे हैं। हर छात्र इसे ठीक से नहीं कर सकता। इसलिए ऐसी स्थिति में व्यावसायिक निर्देशन आवश्यक हो जाती है।

सामाजिक मूल्यों में परिवर्तन –

हर क्षेत्र में दिन-ब-दिन हो रहे परिवर्तनों के परिणामस्वरूप समाज की व्यवस्था और सोच और पूर्व-स्थापित सामाजिक मूल्य बदल गए हैं। विद्यार्थी प्राचीन मूल्यों के स्थान पर नये मूल्यों के पीछे भाग रहे हैं। प्राचीन काल में जहां आध्यात्मिक पक्ष को महत्व दिया जाता था, वहीं आज भौतिकता और दौड़-भाग को महत्व दिया जाने लगा है। ऐसे में छात्रों को समझ में नहीं आता है कि किस क्षेत्र में व्यापार करे जहां सफल हो। ऐसे में उन्हें व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता है।

जनसँख्या वृद्धि –

जनसंख्या वृद्धि के साथ-साथ लोगों की सोच और स्वभाव भी बढ़ रहा है। पहले लोग ग्रामीण परिवेश को पसंद करते थे, अब लोग शहर की ओर भाग रहे हैं, जिससे रोजगार पाने में कठिनाई हो रही है, ऐसे में व्यावसायिक निर्देशन से छात्रों को राहत मिलती है और वे अपनी क्षमता का अच्छा उपयोग कर सकते हैं।

धार्मिक और नैतिक मूल्यों में परिवर्तन –

समाज में हो रहे सामाजिक-आर्थिक और औद्योगिक परिवर्तनों के परिणामस्वरूप हमारे धार्मिक और नैतिक मूल्य भी बदल रहे हैं। प्रारंभ में जहां छात्र व अन्य लोग धार्मिक कार्यों को बहुत अधिक महत्व देते थे, वहीं वर्तमान की भागदौड़ और आगे बढ़ने की होड़ में कमी आ रही है। नैतिक मूल्यों के साथ भी ऐसा ही हो रहा है। यानी व्यक्ति अपने कर्तव्यों की कम, अधिकारों की अधिक बात करता है। ऐसे में व्यावसायिक निर्देशन के जरिए छात्रों को पटरी पर लाया जा सकता है।

यांत्रिक विकास और सामाजिक आवश्यकताओं में परिवर्तन –

प्रारम्भ में जहाँ मनुष्य अधिकांश कार्य स्वयं करता था, उस सन्दर्भ में उसकी आवश्यकताएँ सीमित थीं। लेकिन आज वैज्ञानिक युग में यांत्रिकी के क्षेत्र में काफी विकास हो गया है, जिससे व्यक्ति की सामाजिक आवश्यकताओं में काफी बदलाव आया है, अब जरूरतें बहुत बढ़ गई हैं। विद्यार्थी यह भी नहीं सोचते कि हम कहां जाएं, अपनी आवश्यकताओं को पूरा करके प्रगति के पथ पर आगे बढ़ें।। ऐसी परिस्थितियों में ही उनके लिए व्यावसायिक निर्देशन प्राप्त करना आवश्यक हो जाता है।

उचित रोजगार की आवश्यकता –

यदि किसी समाज का कोई भी विद्यार्थी अपनी योग्यता और रुचि के अनुसार व्यवसाय प्राप्त कर लेता है तो वह प्रदर्शन को सही ढंग से प्रस्तुत करके आगे बढ़ता है, लेकिन यदि ऐसा नहीं किया जाता है, तो परिणाम विपरीत हो जाता है। चूंकि छात्र स्वयं अपनी रुचि और योग्यता के अनुसार पेशा नहीं चुन सकते हैं। इसलिए, उन्हें व्यावसायिक निर्देशन प्रदान करना आवश्यक हो जाता है। जिसमें वे अपनी काबिलियत का अच्छा इस्तेमाल कर सकें।

महिलाओं के लिए रोजगार की आवश्यकता –

प्राचीन काल में महिलाएं घर के कामों तक ही सीमित थीं, लेकिन आज वे परिवार और समाज में अपनी स्थिति मजबूत करने, आत्मनिर्भर बनने और पारिवारिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए रोजगार के लगभग सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ रही हैं। कभी-कभी उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में उनके लिए यह सलाह दी जाती है कि वे ऐसे व्यवसाय में जाएं जहां से वे अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्वों का निर्वहन कर सकें। इसलिए उन्हें व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता है।

राजनीतिक दृष्टि से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता :-

अध्ययन से यह पाया गया कि राजनीतिक दृष्टिकोण से कई क्षेत्रों में व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता होती है।

स्वदेश रक्षा –

सेना में ऐसे अधिकारियों और सैनिकों का चयन किया जाना चाहिए जिनका मनोबल ऊंचा हो और देश के लिए कुछ भी करने को तैयार हों। ऐसे सैनिकों और अधिकारियों के लिए व्यावसायिक निर्देशन का महत्व बढ़ जाता है। अर्थात् उपयुक्त चयन विधि विकसित करके ही उपयुक्त व्यक्तियों की खोज की जा सकती है।

लोकतंत्र की रक्षा –

किसी भी देश में लोकतंत्र की रक्षा तभी हो सकती है जब देश का हर नागरिक जानता हो कि देश के लिए हमारे कर्तव्य और अधिकार क्या हैं। हमें अपने-अपने क्षेत्रों में से किस प्रकार के जन-प्रतिनिधियों को चुनना चाहिए जो हमारे समाज की अपेक्षाओं के अनुरूप कार्य कर सकें? इस कार्य के लिए व्यावसायिक निर्देशन की भी आवश्यकता होती है।

धर्मनिरपेक्षता –

हमारे देश/समाज में विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं। इसलिए यह आवश्यक है कि समाज के विभिन्न विभागों में विभिन्न पदों पर कार्यरत व्यक्तियों को व्यावसायिक निर्देशन के माध्यम से यह महसूस करने की आवश्यकता है कि उन्हें अपने कर्तव्यों का पालन कैसे करना है ताकि देश और समाज में शांति और अमन का माहौल बना रहे।

शैक्षिक दृष्टिकोण से व्यावसाथिक निर्देशन की आवश्यकता :-

समाज का प्रत्येक व्यक्ति शिक्षित हो, क्योंकि जब वह शिक्षित होगा, तभी वह अपने संसाधनों और आयामों की दृष्टि से अपने व्यवसाय में जहां कहीं भी करेगा, प्रगति करेगा। शैक्षिक दृष्टि से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता को निम्न प्रकार से देखा जा सकता है।

पाठ्यक्रम विषयों का चयन –

विभिन्न मनोवैज्ञानिक परीक्षणों के आधार पर जब यह तय हो जाता है कि छात्र के लिए कौन सा व्यवसाय उपयुक्त होगा, तब ही वह निर्देशन के माध्यम से यह जान सकता है कि उसे किस विषय की कक्षा में आगे की पढ़ाई करनी चाहिए जिसमें वह किसी विशेष व्यवसाय में सफल हो।

अपव्यय और अवरोधन –

हमारे देश में कई छात्र किसी न किसी स्तर पर अपनी पढ़ाई पूरी किए बिना ही स्कूल छोड़ देते हैं। ऐसे में उनका और सरकारी मशीनरी का काफी पैसा बर्बाद हो जाता है. इसी प्रकार यह भी देखा गया है कि कुछ विद्यार्थी एक कक्षा में कई बार अनुत्तीर्ण होते हैं। उनके दिमाग में यह ख्याल आता है कि अगर वे इस कोर्स/कक्षा को सफलतापूर्वक पूरा कर लेते हैं, तो उन्हें शायद नौकरी मिल सकती है। लेकिन किसी न किसी वजह से वे इसमें सफल नहीं हो पाते हैं। इसलिए यह आवश्यक है कि विभिन्न आयामों की जांच कर उनका व्यावसायिक निर्देशन दिया जाए ताकि वे अपनी पढ़ाई और रोजगार को बीच में ही न छोड़ें।

छात्रों की संख्या में वृद्धि –

स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों की संख्या में भी काफी वृद्धि हुई है। इस वृद्धि के साथ, छात्रों की व्यक्तिगत विविधता में भी काफी वृद्धि हुई है। इसके कारण विद्यालय के सामने समस्या यह थी कि उन्हें उनकी योग्यता, रुचि आदि के आधार पर व्यवसाय के लिए शिक्षित/ प्रशिक्षित किया जाना चाहिए। प्रशिक्षण द्वारा ऐसे नागरिकों को बनाया जाना चाहिए ताकि वे समाज के विकास में योगदान दे सकें। यह कार्य व्यावसायिक निर्देशन से ही संभव है।

सामान्य शिक्षा के क्षेत्र में विकास –

आज सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक आदि सभी क्षेत्रों में काफी बदलाव आया है। इस बदलाव का असर शिक्षा जगत पर भी पड़ा है। व्यक्ति की जरूरतें दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही हैं, इन जरूरतों को पूरा करने के लिए नए-नए व्यवसाय उभर रहे हैं। इसलिए यह जानने के लिए व्यावसायिक निर्देशन देना आवश्यक हो जाता है कि किस व्यवसाय में जाना उचित होगा।

मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता :-

व्यक्ति चाहे किसी भी समाज, क्षेत्र का क्यों न हो, उसकी हर क्षेत्र से संबंधित विशेषताएं होती हैं। इन्हीं विशेषताओं के आधार पर वह कार्य करता है। इसके साथ ही छात्रों को शिक्षा/व्यवसाय के लिए ऐसे क्षेत्र में भेजने की जिम्मेदारी विद्वानों की है जहां वे अपने में मौजूद विशेषताओं का अच्छा उपयोग करके प्रगति कर सकें। लेकिन इसके लिए व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता होती है जिसे निम्नलिखित के रूप में देखा जा सकता है:

संतोषजनक समायोजन –

संतोषजनक समायोजन एक ऐसा कारक है जो किसी व्यक्ति की दक्षता, मानसिक स्थिति और सामाजिक दक्षता को प्रभावित करता है। हम जानते हैं कि जब कोई व्यक्ति शैक्षिक, सामाजिक या व्यावसायिक रूप से समायोजन प्राप्त करने में असमर्थ होता है, तो यह स्थिति उसके और समाज दोनों के लिए खराब मानी जाती है। कोई भी छात्र तभी समायोजित महसूस करता है जब उसकी योग्यता, रुचि, व्यक्तित्व से मेल खाने वाला स्कूल, व्यवसाय-समाज मिल जाता है, ऐसे में उनका दिमाग काम करने में लगा रहता है। योग्यता के अनुसार रुचि, व्यक्तित्व, व्यवसाय, विद्यालय, समाज को व्यावसायिक निर्देशन द्वारा प्राप्त किया जा सकता है, जिसमें मनोवैज्ञानिक परीक्षणों के माध्यम से इसके विभिन्न तथ्यों की जांच की जाती है।

भावनात्मक समस्याएं –

भावनात्मक समस्याएं ऐसी होती हैं जो व्यक्ति के जीवन में विभिन्न समस्याओं के कारण उत्पन्न होती हैं। इनका प्रभाव व्यक्ति के जीवन पर पड़ता है जिससे व्यक्ति परेशान रहता है। और वह तनाव में रहने लगता है। जिससे वह कहीं भी व्यापार/काम ठीक से नहीं कर पाता है। ऐसे में व्यावसायिक निर्देशन में मनोवैज्ञानिक परीक्षणों द्वारा कारणों का पता लगाया जाता है और उनका समाधान किया जाता है।

व्यक्तित्व विकास –

शिक्षा का स्तर जो भी हो, यह कोशिश की जानी चाहिए कि बच्चे के व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास हो। व्यावसायिक विकास के माध्यम से छात्रों को विभिन्न मनोवैज्ञानिक परीक्षणों के आधार पर उनके विभिन्न आयामों/गुणों का पता लगाने और उन्हें आवश्यक परिस्थिति देने के निर्देशन दिए जाते हैं।

ख़ाली समय का सदुपयोग करें –

आज जीवन के सभी क्षेत्रों में प्रगति के साथ, मशीनों/उपकरणों के उपयोग में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। ऐसे में मशीनों से काम हो रहा है। इससे कर्मचारियों के समय की काफी बचत होती है, जब समय की बचत होती है तो व्यक्ति इधर-उधर बात करता है। यानी उसका समय बर्बाद होता है, यह उसके और समाज दोनों के लिए हानिकारक है। इसलिए व्यावसायिक निर्देशन के माध्यम से बताया जाता है कि फुर्सत के समय में क्या करना चाहिए ताकि उसके खाली समय का सदुपयोग हो सके।

FAQ

व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता क्यों होती है?

सामाजिक दृष्टिकोण से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता क्यों है?

शैक्षिक दृष्टिकोण से व्यावसाथिक निर्देशन की आवश्यकता क्यों है?

राजनीतिक दृष्टि से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता क्यों है?

मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण से व्यावसायिक निर्देशन की आवश्यकता क्यों है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *