समन्वित परामर्श क्या है? चरण, विशेषताएं, सीमाएं

प्रस्तावना :-

समन्वित परामर्श न तो पूरी तरह से निर्देशात्मक परामर्श है और न ही अनिदेशात्मक परामर्श, बल्कि यह मध्यवर्गीय है। यह दोनों प्रकार के परामर्श के मिश्रित सिद्धांतों पर आधारित है। इस प्रकार का परामर्श, परामर्श प्रार्थी व परामर्श दाता अपनी जरूरतों और अपनी परिस्थितियों दोनों का अध्ययन करता है। यह उन दोनों की कुछ बातों का अनुसरण करता है।

समन्वित परामर्श के चरण :-

समन्वित परामर्श के चरण निम्नलिखित हैं:

प्रार्थी की आवश्यकताओं और व्यक्तित्व की विशेषताओं का अध्ययन –

इस विचारधारा के तहत परामर्श दाता सबसे पहले प्रार्थी की जरूरतों की जांच करता है। इस चरण के अंतर्गत वह व्यक्ति के व्यक्तित्व की विशेषताओं के बारे में जानकारी एकत्रित करता है।

प्रविधियों का चयन –

इस चरण के अन्तर्गत आवश्यकतानुसार विधियों का चयन एवं प्रयोग किया जाता है। इन विधियों का प्रयोग व्यक्ति की आवश्यकता के अनुसार किया जाता है।

प्रविधियों का प्रयोग –

चयनित विधियों का प्रयोग विशेष परिस्थितियों में ही किया जाता है। चुने गए तरीकों की उपयोगिता प्रार्थी की स्थिति के अनुसार देखी जाती है।

प्रभावशीलता का मूल्यांकन –

इस चरण के तहत प्रभावशीलता का मूल्यांकन विभिन्न तरीकों से किया जाता है।

परामर्श की तैयारी –

इस चरण के अन्तर्गत पथ-निर्देशन की आवश्यक तैयारी की जाती है।

प्रार्थी एवं अन्य व्यक्ति की राय लेना –

परामर्श कार्यक्रम एवं अन्य उद्देश्यों एवं विषयों से संबंधित प्रार्थी एवं अन्य व्यक्तियों से राय ली जाती है।

समन्वित परामर्श की विशेषताएं  :-

थार्न के अनुसार, समन्वित परामर्श की विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

  • इसमें वस्तुनिष्ठ और समन्वय विधियों का उपयोग किया जाता है।
  • परामर्श की शुरुआत में, सेवार्थी की गतिविधि के तरीकों का अधिक उपयोग किया जाता है और इसमें संरक्षक निष्क्रिय होता है।
  • इसमें दक्षता और उपचार प्राप्त करने पर विशेष महत्व दिया जाता है।
  • इसके उपयोग में, अल्पव्यय उपयोग के सिद्धांत को ध्यान में रखा जाता है।
  • इस प्रकार के परामर्श में परामर्शदाता में समस्त विधियों एवं पद्धतियों के प्रयोग के लिए व्यावसायिक कौशल एवं दक्षता का होना आवश्यक है।
  • सेवार्थी की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया जाता है कि कब शिक्षण विधि का प्रयोग करना है और कब विरोधात्मक विधि का।
  • सेवार्थी को एक अवसर प्रदान करने पर जोर दिया जाता है ताकि वह स्वयं समस्या का समाधान खोज सके।

समन्वित परामर्श के लाभ :-

  • इसमें परामर्श दाता और सेवार्थी दोनों को समान महत्व दिया जाता है।
  • दोनों के बीच उचित तालमेल पैदा होता है।
  • यह व्यवस्था किसी एक पद्धति पर निर्भर नहीं करती, इसमें आवश्यकतानुसार परिवर्तन भी किया जा सकता है।
  • इस प्रकार की काउंसलिंग में छात्र से संबंधित सभी वर्गों जैसे सतही, शिक्षकों, अधिकारियों और अभिभावकों आदि का आवश्यक सहयोग प्राप्त किया जाता है।

समन्वित परामर्श की सीमाएं :-

  • इस प्रकार का परामर्श अस्पष्ट और अवसरवादी है।
  • निर्देशात्मक और अनिर्देशीय परामर्श दोनों को मिलाया नहीं जा सकता है।
  • इसमें सवाल उठता है कि आवेदक को कितनी आजादी दी जानी चाहिए। इसका कोई निश्चित नियम नहीं हो सकता।

संक्षिप्त विवरण :-

परामर्श दाता जो निर्देशात्मक या अनिर्देशात्मक विचारधाराओं से सहमत नहीं हैं, उन्होंने समन्वित परामर्श नामक एक अन्य प्रारूप विकसित किया है। संग्रह परामर्श में निर्देशात्मक और अनिर्देशात्मक दोनों स्वरूपों की अच्छी बातों को स्वीकार किया गया है। एक तरह से यह दोनों के बीच एक परामर्श प्रारूप है जिसे मध्यमार्गी कहा जा सकता है।

FAQ

समन्वित परामर्श से क्या अभिप्राय है?

समन्वित परामर्श न तो पूरी तरह से निर्देशात्मक परामर्श है और न ही अनिदेशात्मक परामर्श, बल्कि यह मध्यवर्गीय है। यह दोनों प्रकार के परामर्श के मिश्रित सिद्धांतों पर आधारित है।

समन्वित परामर्श के चरण क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *