परामर्श की प्रविधियां का वर्णन।

परामर्श की प्रविधियां :-

आपसी विचारों का आदान-प्रदान परामर्श का महत्वपूर्ण तत्व है। यदि विचारों के आदान-प्रदान में कोई बाधा आती है, तो परामर्श अधूरा रहता है। उपयुक्त परामर्शप्रार्थी-परामर्शदाता संबंधों को विकसित करने के लिए कुछ तकनीकों का विकास किया गया है। विलियमसन ने निम्नलिखित पाँच शीर्षकों के तहत परामर्श की प्रविधियां या विधियों या तकनीकों का वर्णन किया है:-

सौहार्दपूर्ण सम्बन्ध स्थापित करना –

जब परामर्शप्रार्थी पहली बार परामर्शदाता के पास आता है तो परामर्शदाता का प्रथम कार्य उसका स्वागत करना होता है। परामर्शप्रार्थी को सहज स्थिति में लाकर विश्वास में लेना चाहिए। मधुर सम्बन्ध स्थापित करने का मुख्य आधार है परमर्शदाता की योग्यता की ख्याति, व्यक्तित्व के प्रति आदर और साक्षात्कार से पूर्व विद्यार्थी के साथ विश्वास और संबंध विकसित करना।

आत्मबोध उत्पन्न करना –

परामर्शप्रार्थी को अपनी क्षमताओं और जिम्मेदारियों का प्रयोग करने से पहले ही हो जानी चाहिए। इसके लिए परामर्शदाता के पास परीक्षण करने और परीक्षण के अंकों की व्याख्या करने का अनुभव होना चाहिए। परीक्षण-बिंदु निदान और पूर्व अनुमान की परामर्श की प्रक्रिया में एक ठोस आधार प्रदान करते हैं।

क्रिया के लिये कार्यक्रम का नियोजन और सुझाव –

परामर्शदाता परामर्शप्रार्थी के लक्ष्यों, उसके दृष्टिकोण या अभिवृत्तियों आदि से शुरू होता है और अनुकूल और प्रतिकूल आंकड़ों या तथ्यों को इंगित करता है। वह प्रमाणों या सबूतों का तौलता करता है और वह इस तथ्य को समझता है कि वह परामर्शप्रार्थी को कोई विशेष सुझाव क्यों दे रहा है। विलियमसन का मानना है कि परामर्शदाता को निश्चित रूप से अपनी बात रखनी चाहिए।  उसे अनिर्णायक की स्थिति में नहीं दिखना चाहिए।

व्याख्यात्मक विधि –

परामर्श में व्याख्यात्मक विधि सबसे वांछित विधि है। इसमें परामर्शदाता सावधानीपूर्वक लेकिन धीरे-धीरे निदानात्मक आंकड़ें को समझता है और संभावित स्थितियों की ओर इशारा करता है जिसमें परामर्शप्रार्थी की शक्तियों और क्षमताओं का प्रयोग किया जा सकता है। इसमें डेटा के उपयोग को विस्तार से और सावधानीपूर्वक तर्क के साथ समझाया गया है। इसके बाद परामर्शप्रार्थी के निर्णय या रुचि को जानकर, साक्षात्कार इस निर्णय को लाने में प्रत्यक्ष सहायता प्रदान कर सकता है, इस सहायता में उपचारात्मक कार्य और शैक्षिक या शिक्षण नियोजन कार्य शामिल हैं।

अन्य कार्यकर्ताओं का सहयोग –

कोई भी परामर्शदाता सभी प्रकार के प्रार्थियों की समस्याओं का समाधान नहीं कर सकता है। उसे अपनी सीमाओं को पहचानना चाहिए और उसे विशेष सहायता के स्रोतों का ज्ञान होना चाहिए। प्रार्थियों को सलाह देनी चाहिए कि वे अन्य उपयुक्त स्रोतों से सहायता प्राप्त करें।

परामर्श की विधियां :-

इन उपरोक्त प्रविधियां के अतिरिक्त, परामर्श के अन्य विधियां भी हैं जो इस प्रकार हैं:

मौन-धारण

कई बार कई परिस्थितियों में मौन रहकर किसी की बात को सुनना बोलने से अधिक प्रभावशाली होता है। जब प्रार्थी अपनी समस्या बता रहा होता है तो परामर्शदाता चुप्पी साध लेता है। इससे परामर्शप्रार्थी को विश्वास होता है कि परामर्शदाता परामर्शप्रार्थी की बात को बहुत ध्यान से सुन रहा है और गंभीरता से विचार कर रहा है।

स्वीकृति –

परामर्शदाता के दृष्टिकोण से परामर्शप्रार्थी को अस्थायी स्वीकृति देनी चाहिए। कई बार परामर्शदाता कुछ शब्द इस तरह कहता है जिससे यह स्पष्ट हो जाता है कि परामर्शप्रार्थी स्पष्ट रूप से समझ रहा है कि वह क्या कह रहा है। लेकिन ये शब्द परामर्शदाता द्वारा इस तरह कहे जाते हैं कि परामर्शप्रार्थी के बोलने के धारा प्रवाह में कोई बाधा नहीं आती है। उदाहरण के लिए, ‘ठीक है’, ‘बहुत अच्छा’, ‘ हूँ’ आदि। कई अवसरों पर, परामर्शदाता अपनी स्वीकृति देने के लिए एक शब्द भी नहीं कहता है, केवल स्वीकारात्मक तरीके से अपना सिर हिलाता है।

स्पष्टीकरण –

कई अवसरों पर, परामर्शदाता को परामर्शप्रार्थी के निवेदन या उसके द्वारा दिए गए विवरण को स्पष्ट करना चाहिए। परामर्शप्रार्थी का परिचय कराना परामर्शदाता का कर्तव्य है कि वह इसे समझ रहा है और स्वीकार कर रहा है। लेकिन कभी-कभी परामर्शदाता के लिए यह आवश्यक हो जाता है कि वह परामर्शप्रार्थी के विवरण की व्याख्या करते समय परामर्शप्रार्थी को किसी प्रकार की बाध्यता का आभास न हो।

पुनर्कथन –

स्वीकृति और दोहराव दोनों ही परामर्शप्रार्थी को यह आभास कराते हैं कि परामर्शदाता उनकी बातों को समझ रहा है और स्वीकार कर रहा है। पुनरावृत्ति द्वारा, परामर्शदाता वही दोहराता है जो परामर्शप्रार्थी ने वर्णित किया है लेकिन परामर्शदाता पुनर्कथन के समय परामर्शप्रार्थी के मापन में कोई संशोधन या स्पष्टीकरण नहीं करता है।

मान्यता –

परामर्शप्रार्थी अपनी समस्या के लिए तरह-तरह के विचार देता है। परामर्शदाता इनमें से कुछ विचारों को पहचानता है और कुछ नहीं। पहचाने जाने वाले विचार परामर्शप्रार्थी को बहुत प्रभावित करते हैं। परामर्शप्रार्थी परामर्शदाता के ज्ञान और व्यक्तित्व से प्रभावित होता है। यदि परामर्शदाता बीच-बीच में परामर्शप्रार्थी के विचारों को मान्यता देता रहता है तो मान्यता निष्प्रभावी हो जाती है। इसका ध्यान रखा जाना चाहिए।

प्रश्न पूछना –

परामर्शप्रार्थी को अपनी समस्याओं के बारे में अधिक सोचने के लिए प्रेरित करने के लिए परामर्शदाता को कुछ प्रश्न पूछने चाहिए, ये प्रश्न परामर्शप्रार्थी के कथन का भाग समाप्त होने के बाद पूछे जाने चाहिए।

हास्य रस –

परामर्श के दौरान, परामर्शप्रार्थी के तनाव को दूर करने और बातचीत को रोचक बनाने के लिए हास्य-रस का उपयोग करना भी आवश्यक हो जाता है।

सारांश स्पष्टीकरण –

परामर्शप्रार्थी के कथन का कुछ भाग लाभकारी नहीं हो सकता है। इसके कारण परामर्शप्रार्थी को समस्या स्वयं अस्पष्ट प्रतीत होती है। ऐसी स्थिति में, परामर्शदाता के लिए यह आवश्यक हो जाता है कि वह परामर्शप्रार्थी के भाषण को संक्षिप्त और व्यवस्थित करे ताकि परामर्शदाता समस्या को अधिक स्पष्ट रूप से समझ सके। परामर्शदाता का प्रयास होना चाहिए कि वह कभी भी अपनी ओर से विचार न जोड़े।

विश्लेषण –

परामर्शप्रार्थी की समस्या का समाधान प्रस्तुत करने के लिए परामर्शदाता पहल कर सकता है। लेकिन परामर्शदाता उस समाधान को लागू करने के लिए परामर्शप्रार्थी से अमल नहीं करवा सकता है। सलाहकार उस समाधान को स्वीकार या अस्वीकार करने या उसमें कुछ संशोधन करने के लिए इसे परामर्शप्रार्थी पर छोड़ देता है। इस संबंध में परामर्शप्रार्थी पर कोई दबाव नहीं डाला गया है।

व्याख्या या विवेचना –

परामर्शदाता को परामर्शप्रार्थी के बयान की व्याख्या या विवेचना करने का अधिकार होना चाहिए। उसे अपनी ओर से कुछ भी नहीं जोड़ना चाहिए। परामर्शदाता परामर्शप्रार्थी के बयान के परिणाम की व्याख्या करता है। अकेले परामर्शप्रार्थी इन निष्कर्षों को निकालने में असमर्थ है। यहां यह ध्यान देने योग्य है कि परामर्शदाता द्वारा निकाले गए निष्कर्ष अन्य परीक्षणों द्वारा निकाले गए निष्कर्षों से मेल खा सकते हैं या नहीं भी।

परित्याग –

कई बार परामर्शप्रार्थी जो सोचता या कहता है वह त्रुटिपूर्ण होता है। अतः दोषपूर्ण विचारधाराओं का त्याग कर देना चाहिए। इसका परित्याग करने के लिए परामर्शदाता को बहुत सावधानी से कार्य करना चाहिए ताकि परामर्शप्रार्थी विद्रोही न हो जाए तथा परामर्शप्रार्थी इस परित्याग का विपरीत अर्थ न ले ले।

आश्वासन –

परामर्श के सबसे महत्वपूर्ण और मनोवैज्ञानिक पहलू के रूप में आश्वासन प्रदान करना परामर्शप्रार्थी की समस्या को हल करने की आशा देता है। आश्वासन देकर परामर्शदाता परामर्शप्रार्थी के बयानों को भी स्वीकार करता है और स्वीकृति देता है या अनुमोदन के साथ-साथ समर्थन भी प्रदान करता है।

FAQ

परामर्श की प्रविधियां का वर्णन करें?
  1. सौहार्दपूर्ण सम्बन्ध स्थापित करना
  2. आत्मबोध उत्पन्न करना
  3. क्रिया के लिये कार्यक्रम का नियोजन और सुझाव
  4. व्याख्यात्मक विधि
  5. अन्य कार्यकर्ताओं का सहयोग

परामर्श की विधियां क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *