विद्यालयों में परामर्श का वर्णन ।

प्रस्तावना :-

भारत में मिमेटिक और उच्चतर माध्यमिक स्कूलों की एक छोटी संख्या है जहां इस तरह की परामर्श सेवाएं उपलब्ध हैं। लेकिन इस सेवा के महत्व को देखते हुए वर्तमान में विशेष प्रशिक्षण देकर शिक्षकों को सलाहकार या परामर्शदाता के रूप में नियुक्त कर इस कमी को भरा जा सकता है। माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में परामर्श की आवश्यकता निम्नलिखित क्षेत्रों में होती है।

विद्यालयों में परामर्श की आवश्यकता :-

विषयों के चयन के लिए :-

भारत में कुछ विषयों में चुनाव की व्यवस्था है, आमतौर पर माध्यमिक स्तर से ही। उच्च माध्यमिक कक्षाओं में उचित परामर्श व्यवस्था होनी चाहिए ताकि छात्र कला, विज्ञान एवं वाणिज्य, कृषि आदि के विकल्पों में से अपनी परिस्थितियों और क्षमता के अनुसार सही क्षेत्र का चुनाव कर सकें।

स्कूल की गतिविधियों और स्कूल जीवन से परिचित होने के लिए :-

शुरुआत में जब छात्र नए स्कूल में एडमिशन लेते हैं तो उन्हें एडमिशन संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, साथ ही नए दोस्तों और टीचर्स के बीच एडजस्टमेंट की जरूरत होती है। स्कूल का माहौल नया है, पाठ्यक्रम नया है। इन सभी के लिए परामर्श की आवश्यकता होती है।

पाठ्येतर क्रियाकलापों के लिए :-

बच्चों के समुचित विकास में पाठ्येतर गतिविधियों का महत्व किसी से छिपा नहीं है। वाद-विवाद, छात्र क्लब, छात्रों की सामाजिक सेवाओं आदि के आयोजन में और उन्हें उनमें भाग लेने के लिए प्रेरित करने का काम परामर्श सेवा का कार्य है।

छात्रों की स्वास्थ्य आवश्यकताओं के लिए :-

बच्चों की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य जरूरतों के लिए भी परामर्श की आवश्यकता होती है।

सामाजिक कौशल को विकसित करना :-

बच्चों में सामाजिक कौशल और सामाजिक गुणों को विकसित करना है ताकि जब बच्चा शिक्षा पूरी होने के बाद वास्तविक जीवन में प्रवेश करे, तो वह समाज के साथ समायोजित हो सके और एक सफल सामाजिक जीवन जी सके।

अच्छे चरित्र का निर्माण करना :-

पढ़ाने के साथ-साथ काउंसलर की भी जिम्मेदारी है कि वह छात्रों के चरित्र का निर्माण करे, उनमें अच्छे नैतिक मूल्यों और आदर्शों का विकास करे ताकि वे अच्छे और बुरे के बीच के अंतर को समझ सकें और खुद को सही दिशा में विकसित कर सकें।

मूल्यांकन :-

शिक्षक का काम न केवल पढ़ाना है, बल्कि छात्रों को उनके ज्ञान, उनके काम और उनकी प्रगति की जांच करने के लिए भी परीक्षण करना है।

नेतृत्व का प्रशिक्षण के लिए :-

हमारे देश में लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली है और लोकतंत्र की सफलता कुशल नेताओं पर निर्भर करती है। इसलिए काउंसलर का भी काम है कि वह बच्चों को लीडरशिप ट्रेनिंग दे ताकि स्टूडेंट्स अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद सभी क्षेत्रों में कुशल नेतृत्व का काम कर सकें।

विद्यालयों में परामर्श
COUNSELLING IN SCHOOLS

संक्षिप्त विवरण :-

विद्यालयों में परामर्श का महत्व वर्त्तमान समय में बढता जा रहा है । परामर्श से बच्चों के समुचित विकास उन का चरित्र का निर्माण, विषयों में चुनाव आदि कार्य किया जाता है ।

FAQ

विद्यालयों में परामर्श की आवश्यकता क्यों है ?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *