निदेशात्मक परामर्श तथा अनिदेशात्मक परामर्श में अंतर क्या है?

निदेशात्मक परामर्श तथा अनिदेशात्मक परामर्श में अंतर :-

निदेशात्मक परामर्श और अनिदेशात्मक परामर्श के बीच अंतर विभिन्न परामर्शदाताओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले सिद्धांतों और प्रक्रियाओं पर आधारित है। दोनों के बीच कोई लक्ष्य अंतर नहीं है। ऐसा कहा जाता है कि एक ही लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए निर्देशात्मक और अनिदेशात्मक परामर्श अलग-अलग साधन हैं। फिर भी साधन अंतरों को समझना वांछनीय है। निदेशात्मक परामर्श तथा अनिदेशात्मक परामर्श में अंतर इस प्रकार हैं:-

१. अनिदेशात्मक परामर्श व्यक्ति-केंद्रित होता है और निर्देशात्मक परामर्श समस्या-केंद्रित होता है।

२. अनिदेशात्मक परामर्श में संश्लेषण और निर्देशात्मक परामर्श में विश्लेषण को अधिक महत्व दिया जाता है।

३. अनिदेशात्मक परामर्श के अनुसार मनुष्य में विकास की अपार शक्ति। यही कारण है कि व्यक्ति अपने वातावरण के साथ समायोजन करने में सक्षम होता है, लेकिन वे निहित शक्तियाँ अज्ञात और अनुपयोगी होती हैं। निर्देशात्मक परामर्श इस सिद्धांत को स्वीकार नहीं करता है। उनका कहना है कि कोई भी व्यक्ति अपना अध्ययन निष्पक्ष होकर नहीं कर सकता। इसलिए, गैर-पक्षपातपूर्ण अध्ययन के लिए एक परामर्श दाता की आवश्यकता होती है। निर्देशात्मक परामर्श में भावात्मक पहलू, जबकि अनिर्देशीय परामर्श में बौद्धिक पहलू को अधिक महत्व दिया जाता है।

४. अनिदेशात्मक परामर्श दाता का मुख्य कार्य परामर्श सेवार्थी के भावात्मक हित का अध्ययन करना है। सेवार्थी अपनी भाव-समस्या आदि का साहित्यिक भाषा में वर्णन कर सकता है, परन्तु अनिर्देशक सलाहकार का इससे कोई लेना-देना नहीं है। निदेशात्मक परामर्श दाता के लिए समस्या समाधान उपागम बहुत महत्वपूर्ण है। वह भावनात्मक वातावरण से बौद्धिक वातावरण में जाने की कोशिश करता है।

५. समय की दृष्टि से निदेशात्मक परामर्श शास्त्री का कहना है कि यह संभव नहीं है कि परामर्श दाता को कम समय में प्रशिक्षित किया जा सके। कम समय में उसे इतना ही प्रशिक्षित किया जा सकता है कि वह स्वर संबंधी निर्णय ले सके, दूसरों को सलाह नहीं दे सकता है। इसके विपरीत, विद्वानों के अनुसार अनिदेशात्मक परामर्श में यह संभव है। वे कहते हैं कि हो सकता है कि कोई व्यक्ति कम समय में एक अच्छा विश्लेषक न बन सके लेकिन वह एक प्रभावी परामर्श दाता बन सकता है।

६. अनिदेशात्मक परामर्श परामर्श प्रार्थी की निकट और वर्तमान समस्याओं को महत्व देता है, इसका पिछली समस्याओं से कोई लेना-देना नहीं है, इसलिए वह परामर्श प्रार्थी के जीवन इतिहास का अध्ययन नहीं करता है। निर्देशात्मक परामर्श इसके विपरीत अतीत का अध्ययन करना अनिवार्य मानता है। इसके लिए उसके गत जीवन के इतिहास का विभिन्न माध्यमों से अध्ययन करना चाहिए।

७. राय और सुझावों के संबंध में भी दोनों में अंतर है। अनिर्देशात्मक परामर्श की राय के अनुसार उचित निदान के लिए। “राय, सुझाव और अनिर्देशीय क्रियाएं आवश्यक हैं। रोग निदान लिए व्यक्ति का अनुभव और आत्म-बोध बहुत महत्वपूर्ण है। निर्देशात्मक परामर्श के अनुसार, भविष्य को ध्यान में रखते हुए बौद्धिक विकल्प बनाया जाता है और यह परामर्श दाता काम है चुनाव कराने में प्रार्थी की सहायता करना।

FAQ

निदेशात्मक परामर्श तथा अनिदेशात्मक परामर्श में अंतर बताइए?
  • अनिदेशात्मक परामर्श व्यक्ति-केंद्रित होता है और निर्देशात्मक परामर्श समस्या-केंद्रित होता है।
  • अनिदेशात्मक परामर्श में संश्लेषण और निर्देशात्मक परामर्श में विश्लेषण को अधिक महत्व दिया जाता है।

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *