प्रश्नावली निर्माण, प्रश्नावली निर्माण के चरण एवं  सावधानी

प्रश्नावली निर्माण के चरण :-

प्रश्नावली निर्माण विस्तृत और व्यवस्थित तरीके से किया जाता है, इसलिए यह प्रक्रिया कई परस्पर संबंधित चरणों से होकर गुजरती है, जिनमें से प्रमुख है।

तैयारी –

इसमें शोधकर्ता प्रश्नावली में सम्मिलित विषय तथा अन्य शोधों से सम्बन्धित प्रश्नों पर विचार करता है।

प्रथम प्रारुप निर्माण –

यह विभिन्न प्रकार के प्रश्नों जैसे प्रत्यक्ष, खुले, सीमित/असीमित, प्राथमिक/द्वितीयक प्रश्नों सहित विभिन्न प्रकार के प्रश्न बनाता है।

स्व मूल्यांकन –

शोधकर्ता प्रश्नों की प्रासंगिकता, एकरूपता, भाषा में स्पष्टता आदि पर भी विचार करता है।

वाहय मूल्यांकन –

पहला फॉर्म एक या दो सहयोगियों/विशेषज्ञों को जांच और सुझाव के लिए दिया जाता है।

पुनरावलोकन –

सुझाव मिलने के बाद कुछ प्रश्न हटा दिए जाते हैं, कुछ बदल दिए जाते हैं और कुछ नए प्रश्न जोड़ दिए जाते हैं।

पूर्व परीक्षण अथवा पायलट अध्ययन –

संपूर्ण प्रश्नावली की उपयुक्तता की जांच के लिए पूर्व परीक्षण अथवा पायलट अध्ययन किया जाता है।

संशोधन-

पूर्व परीक्षण से प्राप्त अनुभव के आधार पर कुछ बदलाव किए जा सकते हैं।

दूसरा पूर्व परीक्षण –

संशोधित प्रश्नावली का पुन: परीक्षण किया जाता है और आवश्यकता के अनुसार सुधार किया जाता है।

अंतिम प्रारूप तैयार करना –

संपादन, वर्तनी जाँच, उत्तर के लिए स्थान, पूर्व-कोडिंग के बाद अंतिम प्रारुप तैयार किया जाता है।

प्रश्नावली निर्माण –

प्रश्नावली निर्माण एक शिक्षित उत्तरदाता से जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है, इसलिए इसके निर्माण में अधिक सतर्कता की आवश्यकता होती है। प्रश्नों का चयन इस तरह से किया जाता है कि वे स्पष्ट और सरल हों, प्रश्नावली मुख्य रूप से तीन बुनियादी पहलुओं से बनी होती है।

  • अध्ययन की समस्या
  • प्रश्नों की उपयुक्तता
  • प्रश्नावली का बाह्य अथवा भौतिक पक्ष

अध्ययन की समस्या :-

किसी विषय पर शोध करने से पहले ही समस्या से संबंधित सभी जानकारी एकत्र कर लेनी चाहिए। अनुसंधानकर्ता के पूर्व अनुभवों का उपयोग करने से उपयुक्त प्रश्नों का चयन होता है जिससे सूचनादाता के लिए उत्तर देना आसान हो जाता है।

प्रश्नों की उपयुक्तता :-

प्रश्नावली में प्रश्न को सम्मिलित करने से पहले यह देखा जाता है कि यह विषय की जानकारी संकलित करने में कितनी सहायक है: प्रश्नों का क्रम बहुत सी बातों पर निर्भर करता है परन्तु कुछ महत्वपूर्ण बिन्दु इस प्रकार हैं।

प्रश्न से संबंधित हो –

प्रश्नों के समूह को अध्ययन के विषय से जोड़ना चाहिए तभी शोध में सहायक होगा। उदाहरण: आप अपने नगर के स्वच्छता से कितने संतुष्ट हैं। (पूरी तरह से संतुष्ट/संतुष्ट/असंतुष्ट/पूरी तरह से असंतुष्ट)

बहुत सरल प्रश्न न हों-

उदाहरण के लिए, आपने समाचार पत्र पढ़ना कब शुरू किया, एक उचित प्रश्न यह होगा कि जब आप दसवीं कक्षा में थे तब समाचार पत्र पढ़ने में आपकी रुचि थी या नहीं।

आसानी से जवाब देने वाले प्रश्न पहले होने चाहिए –

प्रारंभ में, उत्तरदाता कठिन प्रश्न से थक जाता है, इसलिए यह संभव है कि वह अन्य प्रश्नों का गंभीरता से उत्तर न दे। इसलिए, उम्र, आय, व्यवसाय, जाति, मांग, वैवाहिक स्थिति, निवास, पृष्ठभूमि आदि से संबंधित प्रश्नों का उत्तर आसानी से दिया जा सकता है।

संवेदनशील प्रश्न बीच में होने चाहिए –

राजनीतिक भ्रष्टाचार के प्रति रवैया, सरकार की समीक्षा नीति, पेशेवर ऑडिट में सुधार के लिए प्रोत्साहन, आरक्षण नीति की समीक्षा आदि से संबंधित प्रश्नों को बीच में रखा जाना चाहिए ताकि उत्तरदाता उन पर अधिक ध्यान देने को तैयार हों और थकान महसूस न करें। उनका ठीक से जवाब देने के लिए।

प्रश्नावली का बाह्य अथवा भौतिक पक्ष :-

प्रश्नावली की सफलता प्रश्न के चयन तथा उसकी भौतिक संरचना पर निर्भर करती है। इसलिए, प्रश्नावली की भौतिक संरचना जैसे उसका कागज, आकार, छपाई, रंग, लंबाई, आदि सूचक का ध्यान आकर्षित करने के लिए आकर्षक होना चाहिए।

आकार –

आमतौर पर, प्रश्नावली बनाने के लिए कागज का आकार 8″x 12″ या 9″x 11″ होना चाहिए। वर्तमान समय में पोस्टकार्ड के आकार में छोटे आकार की प्रश्नावली का प्रचलन भी बढ़ा है। प्रश्नावलियों के कम पन्ने होने से इसका डाक खर्च कम हो जाता है और इसके वापस भरे जाने की संभावना भी अधिक होती है।

कागज़ –

प्रश्नावली के लिए प्रयुक्त कागज सख्त, चिकना, मजबूत और टिकाऊ होना चाहिए। विभिन्न प्रकार के विषयों से संबंधित प्रश्नावली में विभिन्न रंगों के कागज का प्रयोग करने से उनकी छंटाई आसान हो जाती है।

मुद्रण –

प्रश्न मुद्रित किए जा सकते हैं। छपाई स्पष्ट और शुद्ध होनी चाहिए। ताकि उन्हें आसानी से पढ़ा जा सके। आकर्षक छपाई का सूचनादाता पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ता है।

प्रश्नावली की लंबाई –

जब प्रश्नावली बहुत लंबी हो जाती है तो उत्तरदाता ऊब और नीरसता का अनुभव करता है। अतः प्रश्नावली को भरने में आधे घंटे से अधिक का समय नहीं लगता है अतः इसकी लम्बाई कम रखनी चाहिए।

प्रसंगों की व्यवस्था –

एक विषय से संबंधित सभी प्रश्नों को एक साथ क्रम से लिखना चाहिए और यदि प्रश्नों की संख्या अधिक हो तो उन्हें व्यवस्थित समूहों में विभाजित कर देना चाहिए।

प्रश्नों के बीच पर्याप्त स्थान –

प्रश्नावली में प्रश्नों के बीच पर्याप्त स्थान छोड़ा जाना चाहिए ताकि पढ़ने में सुविधा हो और प्रश्नों के उत्तर निःशुल्क लिखे जा सकें। प्रश्नावली में शीर्षक, उपशीर्षक, कॉलम और टेबल आदि को सही क्रम में मुद्रित किया जाना चाहिए ताकि उन्हें संपादित करने में अधिक समय, श्रम और धन खर्च न करना पड़े।

प्रश्नावली निर्माण में सावधानी –

प्रश्नावली निर्माण करते समय, अनुसंधानकर्ता को निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए:-

  • उत्तरदाता को सवालों के जवाब देने के तरीके के बारे में पर्याप्त निर्देश दिए जाने चाहिए।
  • प्रश्नावली में प्रश्नों की भाषा अस्पष्ट और जटिल नहीं होनी चाहिए बल्कि उत्तरदाताओं की भाषा होनी चाहिए।
  • प्रश्नावली न तो बहुत लंबी होनी चाहिए और न ही बहुत छोटी, बल्कि उसका आकार मिश्रित होना चाहिए।
  • प्रश्न स्पष्ट होने चाहिए और उनकी भाषा सरल होनी चाहिए ताकि उत्तरदाता उन्हें आसानी से पढ़ और समझ सकें।
  • प्रश्नों को उचित क्रम में लिखा जाना चाहिए। सामान्य जानकारी वाले प्रश्न पहले और मुख्य विषयों से संबंधित प्रश्न बाद में आने चाहिए।
  • बहुअर्थी या द्विअर्थी प्रश्नों को प्रश्नावली में शामिल नहीं किया जाना चाहिए। अन्यथा, उत्तरदाता भ्रमित हो जाएगा और उसके द्वारा दिए गए उत्तरों को वर्गीकृत और सारणीबद्ध करने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा।
  • यदि प्रश्नावली में किसी शब्द पर विशेष जोर दिया गया है तो बेहतर होगा कि उसे रेखांकित कर दिया जाये।
  • उत्तरदाताओं को यह भी आश्वासन दिया जाना चाहिए कि उनके द्वारा प्रेषित सूचना को गुप्त रखा जाएगा। इससे उत्तरदाताओं के मन में कोई संदेह पैदा नहीं होगा और वे खुलकर सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे।

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *