वृहत् परंपरा और लघु परंपरा में अंतर स्पष्ट कीजिए?

वृहत् परंपरा और लघु परंपरा में अंतर :-

भारत में वृहत् और लघु दोनों ही परंपराएं बहुत प्राचीन हैं और दोनों की अपनी-अपनी विशिष्ट विशेषताएं हैं। ये दोनों परंपराएं एक-दूसरे के काफी करीब रही हैं। उनसे जुड़े लोग भी एक-दूसरे के करीबी संपर्क में रहे हैं। अतः इन दोनों परम्पराओं का निरन्तर अन्तःक्रिया होना स्वाभाविक है। हालाँकि, इन दोनों प्रकार की परंपराओं में स्पष्ट अंतर है। वृहत् परंपरा और लघु परंपरा में अंतर निम्नलिखित है :-

व्यापकता के आधार पर अंतर –

वृहत् परंपराएं व्यापक हैं, उनका एक राष्ट्रीय चरित्र है। ये वृहत् परंपराएं भारत के सभी वर्गों, जातियों और क्षेत्रों में किसी न किसी रूप में प्रचलित हैं, जबकि लघु परंपराओं का प्रचलन स्थानीय स्तर पर किसी न किसी रूप में पाया जाता है, जबकि स्थानीय स्तर पर लघु परंपराओं का प्रचलन किसी विशेष क्षेत्र में ही होता है। इसलिए हमें अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग लघु परंपराएं देखने को मिलती हैं।

लिखित और अलिखित के आधार पर अंतर –

वृहत् परंपराएं बहुत प्राचीन हैं और हमें उनका उल्लेख धार्मिक ग्रंथों, पुराणों, वेदों, उपनिषदों, रामायण, महाभारत आदि में मिलता है। वे लिखित हैं और पूरे देश में समान रूप से स्वीकृत हैं। उनका स्थानांतरण भी लिखित एवं मूल रूप में होता है। दूसरी ओर, लघु परंपराएँ अलिखित होती हैं, जिनका शास्त्रों में उल्लेख नहीं मिलता है और मौखिक रूप से एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पारित की जाती हैं।

व्यवस्थितता के आधार पर अन्तर –

वृहत् परंपराएं व्यवस्थित होती हैं। इनके नियम, कर्मकांड और शास्त्रों में वर्णित हैं, अत: इनका स्वरूप निश्चित और स्पष्ट है। लघु परम्पराएँ सुविधाजनक होती हैं, उनसे सम्बन्धित नियम निश्चित, स्पष्ट और व्यवस्थित नहीं होते। प्रत्येक व्यक्ति अपनी सुविधा के अनुसार इनके पालन में थोड़ा बहुत फेरबदल करता है।

प्राचीनता के आधार पर अंतर –

वृहत् परंपराएं अति प्राचीन और पौराणिक होती हैं, उनकी सामग्री में शास्त्रीय तत्व होते हैं, जबकि लघु परंपराएं शास्त्रीय नहीं होतीं क्योंकि वे बहुत प्राचीन और पौराणिक नहीं होतीं।

हस्तांतरण के आधार पर अंतर –

वृहत् परंपराओं का हस्तांतरण लिखित रूप में होता है जबकि छोटी परंपराओं का मौखिक रूप होता है।

निर्माण और विकास के आधार पर अंतर –

वृहत् परंपराएँ अभिजात वर्ग के विचारशील लोगों द्वारा बनाई और विकसित की जाती हैं, इसलिए वे अधिक व्यवस्थित और स्पष्ट हैं। लघु परंपराएँ गाँव के अशिक्षित लोगों द्वारा बनाई और विकसित की जाती हैं, इसलिए उनमें सोच, स्पष्टता और व्यवस्था का अभाव होता है।

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

One comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *