वैयक्तिक अध्ययन के चरण क्या है?

प्रस्तावना :-

वैयक्तिक अध्ययन की विषय वस्तु सामाजिक इकाइयों की आंतरिक संरचना और उनके बाहरी वातावरण से संबंधित है, जो स्वाभाविक रूप से इतने जटिल और अव्यवस्थित हैं कि उनके समुचित अध्ययन के लिए एक व्यवस्थित पद्धति का उपयोग करना आवश्यक हो जाता है। वास्तव में, वैयक्तिक अध्ययन में सामाजिक इकाइयों के सैद्धांतिक और व्यावहारिक पहलुओं का अध्ययन इस तरह से शामिल है कि उनकी आंतरिक संरचना और बाहरी वातावरण की मूलभूत विशेषताओं को समझा जा सकता है। इस पृष्ठभूमि में यह आवश्यक प्रतीत होता है कि वैयक्तिक अध्ययन के चरण और सोपानों को समझना आवश्यक है ताकि इस पद्धति का व्यवस्थित रूप से उपयोग किया जा सके।

वैयक्तिक अध्ययन के चरण :-

वैयक्तिक अध्ययन पद्धति और इसकी पद्धति के मुख्य चरण इस प्रकार हैं:

समस्या के पक्षों का निर्धारण –

सबसे पहले, वैयक्तिक अध्ययन के लिए इकाई की प्रकृति या अध्ययन की समस्या की उचित व्याख्या, इकाइयों का निर्धारण और अध्ययन के क्षेत्र के बारे में पूरी तरह से जागरूक होने की आवश्यकता होती है। वास्तव में, वैयक्तिक अध्ययन की सफलता भी इस प्रारंभिक चरण पर अत्यधिक आधारित है। इसलिए, इस परिदृश्य में, सामाजिक इकाई या समस्या के विभिन्न पहलुओं से संबंधित निम्नलिखित तथ्यों पर ध्यान देना शोधकर्ता के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

समस्या का चुनाव –

वैयक्तिक अध्ययन के लिए सर्वप्रथम अध्ययन से संबंधित समस्या या विषय का चयन करना अत्यंत आवश्यक है। वास्तव में इस चुनी हुई समस्या पर ही कोई शोध व्यवस्थित रूप से किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, यह समस्या बाल अपराध, शराबखोरी, अनुशासनहीनता, पारिवारिक विघटन, सामाजिक तनाव आदि से संबंधित हो सकती है।

इकाइयों का निर्धारण –

समस्या के चयन के बाद उससे संबंधित इकाइयों का निर्धारण करना आवश्यक हो जाता है। उदाहरण के लिए, यदि अध्ययन पदार्थ के उपयोग से संबंधित है, तो यह निर्धारित करना आवश्यक है कि मादक द्रव्य व्यसन के अध्ययन के लिए कौन सी इकाई का चयन किया जाना है। इसके अंतर्गत ये इकाइयां कोई भी व्यक्ति, समूह या विशेष संस्था आदि हो सकती हैं।

इकाइयों की संख्या का निर्धारण –

उसी क्रम में, यह आवश्यक प्रतीत होता है कि वैयक्तिक अध्ययनों में अध्ययन की जाने वाली इकाइयों की संख्या निर्धारित की जाए। यह संख्या शोधकर्ता के पास उपलब्ध संसाधनों और समय के आधार पर निर्धारित की जाती है। यहाँ यह ध्यान देने योग्य बात है कि यह संख्या इतनी कम नहीं होनी चाहिए कि अध्ययन से संबंधित सभी प्रकार के तथ्यों को संकलित न किया जा सके और न ही यह संख्या इतनी अधिक हो कि उनका गहन अध्ययन करना संभव न हो।

अध्ययन का क्षेत्र का निर्धारण –

वैयक्तिक अध्ययन में समस्या के विभिन्न पहलुओं का निर्धारण करने के बाद, शोधकर्ता को उस स्थान या क्षेत्र को निर्धारित करने की आवश्यकता होती है जहां विभिन्न इकाइयों का अध्ययन किया जाना है। उदाहरण के लिए, मादक पदार्थों की लत की समस्या के तहत, व्यक्ति, समूहों, किन संस्थानों, सुधार गृहों, अस्पतालों को निर्धारित करना आवश्यक है जिसमें इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति रह रहा है, जहां व्यक्तिगत अध्ययन करना है।

विश्लेषण क्षेत्र का निर्धारण –

वैयक्तिक अध्ययन के अंतर्गत समस्या के विशिष्ट क्षेत्र का निर्धारण करने के बाद अध्ययन की इकाई के विश्लेषण के क्षेत्र को पूरी तरह से स्पष्ट करना आवश्यक है। विश्लेषण क्षेत्र का मतलब है कि अध्ययन की जाने वाली इकाई के संबंध में कौन से पहलू महत्वपूर्ण हैं और कौन से उपयोगी नहीं हैं। इस प्रकार विश्लेषण क्षेत्रों की उपयोगिता और अनुपयोगिता दोनों का निर्धारण व्यक्तिगत अध्ययनों के आयोजन से संबंधित है।

समय या अवधि के अंतर्गत घटनाओं के क्रम का विवरण –

अध्ययन की इकाई के विश्लेषण के क्षेत्रों का निर्धारण करने के बाद, किसी विशेष समय या अवधि के संदर्भ में अध्ययन से संबंधित समस्या या इकाई को समझने की कोशिश करना आवश्यक है, अर्थात् इस तथ्य को समझने के लिए कि सामाजिक इकाई की कुछ घटनाएँ घटित हुई हैं। किस अवधि में और उन घटनाओं से संबंधित अलग-अलग समय अवधि में कौन-सी विशेषताएँ जुड़ी हुई हैं, और इकाई से संबंधित कौन-सी घटनाएँ भविष्य में होने की संभावना है, आदि।

निर्धारक या प्रेरक तत्व –

वैयक्तिक अध्ययनों की मुख्य मान्यता यह रही है कि कोई भी घटना शून्य में घटित नहीं होती है, अर्थात कुछ निर्धारक या प्रेरक तत्व होते हैं जो प्रत्येक घटना या समस्या का निर्माण करते हैं। इसलिए, घटनाओं के क्रम को स्पष्ट करने के बाद, समस्या या इकाई के भीतर घटनाओं के निर्धारक तत्वों का पता लगाना अध्ययन के लिए आवश्यक है। उदाहरण के लिए, ऐसे कई कारक हो सकते हैं जो मादक पदार्थों की लत को बढ़ावा देते हैं, जैसे कि परिवार की स्थिति, पड़ोस, दोस्त की संगति इत्यादि। वैयक्तिक अध्ययन के लिए ऐसे सभी प्रेरक तत्वों का ज्ञान व्यवस्थित तरीके से वास्तविक अध्ययन करने के लिए आवश्यक है।

विश्लेषण और निष्कर्ष –

वैयक्तिक अध्ययन पद्धति का अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण चरण सभी एकत्रित तथ्यों का वर्गीकरण और विश्लेषण करना और निष्कर्ष निकालना है। इस विश्लेषण और निष्कर्ष का मुख्य अर्थ है, एक विशेष अवधि या वास्तविकता के भीतर होने वाली चयनित इकाई/ इकाइयों के व्यवहार की प्रकृति के बारे में पूरी तरह से अवगत होना और उन स्थितियों या कारकों से परिचित होना जो चयनित समस्या या मानव व्यवहार के लिए जिम्मेदार हैं।

संक्षिप्त विवरण :-

वैयक्तिक अध्ययन के अन्तर्गत वैज्ञानिक पद्धति अपनाकर कार्य करते हुए शोधकर्ता चयनात्मक प्रत्यक्ष ज्ञान द्वारा अध्ययन का प्रारम्भ करता है। एक गहन विश्लेषक की भूमिका में वह वैज्ञानिक वस्तुओं, तथ्यों और घटनाओं को एक विशिष्ट दृष्टिकोण और एक विशिष्ट प्रकार की रुचि से समझता है और उनका संग्रह, संकलन, रिकॉर्ड और व्याख्या करता है। हालांकि यह यहां एक जटिल सामाजिक स्थिति है।

वास्तविकता में पाए जाने वाले तत्वों की आत्मनिर्भरता को ध्यान में रखते हुए भी इन सभी तत्वों का विवरण एक साथ प्रस्तुत नहीं किया गया है और एक-एक करके उनका विवेचन और विश्लेषण किया गया है। वह वैयक्तिक अध्ययन प्रक्रिया से संबंधित आवश्यक गुणों जैसे कि अध्ययन के विषय का उचित ज्ञान, निरीक्षण करने की क्षमता, विश्लेषण करने की क्षमता, ग्राफिक व्याख्या का कौशल और रिपोर्टिंग में वस्तुनिष्ठता आदि के माध्यम से वैयक्तिक अध्ययन के विभिन्न चरणों/ सोपानोंको पार करता है।

FAQ

वैयक्तिक अध्ययन के चरण बताइए?
  1. समस्या के पक्षों का निर्धारण
  2. अध्ययन का क्षेत्र का निर्धारण
  3. विश्लेषण क्षेत्र का निर्धारण
  4. समय या अवधि के अंतर्गत घटनाओं के क्रम का विवरण
  5. निर्धारक या प्रेरक तत्व
  6. विश्लेषण और निष्कर्ष

social worker

Hi, I Am Social Worker इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

प्रातिक्रिया दे