दैव निदर्शन किसे कहते हैं? अर्थ, परिभाषा, प्रकार, गुण व दोष

प्रस्तावना  :-

सभी प्रकार के निदर्शन में दैव निदर्शन सबसे महत्वपूर्ण और सर्वाधिक प्रचलित तरीका है। इसके तहत शोधकर्ता को समूह से कुछ व्यक्तियों या इकाइयों का चयन करने की कोई व्यक्तिगत स्वतंत्रता नहीं होती है, लेकिन कुछ तरीकों की मदद से इकाइयों के चयन का कार्य पूरी तरह से मौका पर छोड़ दिया जाता है। इसका अर्थ है कि दैव निदर्शन के तहत निदर्शन चुनाव के लिए संपूर्ण समग्र की सभी इकाइयों का चयन बहुत संयोग या दैव पर आधारित है। इसलिए इस निदर्शन को दैव निदर्शन कहा जाता है।

दैव निदर्शन का अर्थ :-

सुविधा की दृष्टि से भी दैव निदर्शन को दो भागों में बाँटा जा सकता है। साधारण दैव निदर्शन और सीमित दैव निदर्शन । सरल दैव निदर्शन वह है जिसमें कुछ इकाइयों को संपूर्ण समग्र से यादृच्छिक रूप से चुना जाता है। इसके विपरीत, सीमित दैव निदर्शन के लिए इकाइयों का चयन करने से पहले, समग्र की सभी इकाइयों को कुछ वर्गों या श्रेणियों में विभाजित किया जाता है और फिर प्रत्येक श्रेणी से कुछ इकाइयों का चयन किया जाता है। इसके बाद भी दैव निदर्शन का अर्थ यह नहीं है कि शोधकर्ता मनमाने ढंग से किसी इकाई का चयन करे। निदर्शन की इस पद्धति का उद्देश्य चयनित होने वाली सभी इकाइयों को समान अवसर देना है। इस दृष्टि से दैव निदर्शन प्राप्त करने के लिए अनेक विधियों या पद्धतियों का प्रयोग किया जाता है।

दैव निदर्शन की परिभाषा :-

दैव निदर्शन को और भी स्पष्ट करने के लिए कुछ प्रमुख विद्वानों की परिभाषाओं का उल्लेख कर सकते हैं –

“दैव निदर्शन वह है जिसमें समग्र या जनसंख्या की प्रत्येक इकाई को निदर्शन में सम्मिलित होने का समान अवसर प्राप्त होता है”

फ्रेकयेट्स

”एक दैव निदर्शन वह निदर्शन है जिसका चयन इस प्रकार हुआ है कि समग्र की प्रत्येक इकाई को सम्मिलित होने का समान अवसर प्राप्त हुआ हो।“

हार्पर

“दैव निदर्शन के लिए समग्र की सभी इकाइयों को इस प्रकार क्रमबद्ध किया जाता है कि चयन प्रक्रिया की प्रत्येक इकाई को चुनाव की समान संभावना प्रदान कर सकें ।“

गुडे तथा हॉट

दैव निदर्शन के विशेषताएँ :-

पार्टन ने दैव निदर्शन की कुछ मुख्य विशेषताएं बताया है –

  1. समग्र की इकाइयाँ स्पष्ट होनी चाहिए।
  2. इनका आकार लगभग एक समान होना चाहिए।
  3. प्रत्येक इकाई को एक दूसरे से स्वतंत्र होना चाहिए।
  4. प्रत्येक इकाई को सम्रग का चुनाव करने का समान अवसर मिलना चाहिए ।
  5. निदर्शन चयन की विधि भी स्वतंत्र होनी चाहिए।
  6. शोधकर्ता की प्रत्येक इकाई तक पहुंच सुलभ होनी चाहिए।
  7. एक बार चयनित इकाइयों को हटाया नहीं जाना चाहिए या निदर्शन द्वारा प्रतिस्थापित नहीं किया जाना चाहिए।

दैव निदर्शन के प्रकार :-

लाटरी प्रणाली –

यह दैव निदर्शन की सबसे सरल प्रणाली है, जिसके तहत कागज की कई पर्चियों पर सभी इकाइयों या व्यक्तियों का क्रमांक या नाम लिखा जाता है और एक बड़े बर्तन या बॉक्स में डाल दिया जाता है और अच्छी तरह से हिलाया जाता है। इसके बाद निदर्शन के तहत जितनी इकाइयों का चयन करना होता है, कागज के टुकड़े या कार्ड बिना देखे ही निकाल लिए जाते हैं। इन पर्चियों या कार्डों पर लिखी इकाइयों की संख्या या नाम अध्ययन के लिए चुना जाता है। यद्यपि इस प्रणाली का उपयोग दैव निदर्शन के लिए बहुत अधिक किया जाता है, इस प्रणाली का उपयोग करना अधिक उपयुक्त नहीं होता यदि समग्र की इकाइयों की संख्या बहुत अधिक होती।

कार्ड विधि या टिकट पद्धति –

यह प्रणाली लॉटरी प्रणाली का एक संशोधित रूप है जिसे ड्रम प्रणाली या टिकट प्रणाली भी कहा जाता है। इसके तहत समग्र की सभी इकाइयों के नाम एक ही आकार और रंग के कई कार्डों पर लिखे जाते हैं और एक बड़े ड्रम में डाल दिए जाते हैं और उन्हें जोर से हिलाया जाता है। इसके बाद ड्रम में से एक कार्ड को उठा लिया जाता है। निदर्शन के तहत, ड्रम को हिलाकर हर बार एक कार्ड निकाला जाता है, जितनी इकाइयों को शामिल किया जाता है। कार्ड को उठाने का काम भी किसी अन्य व्यक्ति द्वारा किया जाता है न कि शोधकर्ता द्वारा।

ग्रिड पद्धति या झंझरी अथवा छलनी विधि –

इसका उपयोग भौगोलिक क्षेत्र के एक हिस्से का चयन करने के लिए किया जाता है। इस पद्धति में सबसे पहले प्रस्तावित क्षेत्र का भौगोलिक मानचित्र तैयार किया जाता है। फिर मानचित्र के समकक्ष एक सेल्युलाइड या एक पारदर्शी प्लेट (ग्रिड प्लेट) ली जाती है और इसे क्षेत्र निदर्शन में शामिल करने के लिए संयोजन या यादृच्छिक रूप से कई वर्गों द्वारा छिद्रित किया जाता है। इस ग्रिड प्लेट को मानचित्र पर रखा गया है। छिद्रों में दिखाई देने वाले क्षेत्रों की पहचान की जाती है और उन्हें क्षेत्र निदर्शन में शामिल किया जाता है। ग्रिड प्लेट को मानचित्र पर रखने के बाद छिद्रों के नीचे जो क्षेत्र दिखाई देते हैं, उन्हें निदर्शन की इकाई माना जाता है।

टिप्पेट विधि अथवा दैव संख्या सारणी पद्धति –

इस पद्धति को एच. जी. टिप्पेट  द्वारा चार अंकों की 10400 संख्याओं की सूची के आधार पर बनाया गया था। इन संख्याओं में कोई क्रम नहीं है, जितनी इकाइयों के योग को छांटना है, तो इस सूची के एक पृष्ठ पर उसके नीचे की संख्याओं को स्थायी या पड़े के क्रम में लगातार लिया जाना चाहिए, यदि संयुक्त की संख्याएँ हैं केवल तीन या दो अंकों तक, तो सूची के पहले तीन या दो अंकों को बाईं ओर से लिया जाना चाहिए, उदाहरण के लिए, 1254 में से 125 या 12, यह सूची केवल इकाई-समग्र में निदर्शन का चयन कर सकती है 9999 तक और इसे अधिक विश्वसनीय माना जाता है।

इस प्रणाली का उपयोग करते समय तीन प्रमुख सावधानियों को ध्यान में रखना चाहिए –

  1. यदि कोई संख्या वापस आती है, तो उसे छोड़ दिया जाता है
  2. निदर्शन में सूची में दी गई संख्याओं के पहले दो अंकों को 99 तक की इकाइयों के चयन का आधार माना जाता है, जबकि पहले तीन अंकों को तीन अंकों की संख्या (100 से लेकर 400 तक) में इकाइयों के चयन के लिए आधार माना जाता है।
  3. निदर्शन के लिए इकाइयों का चयन किसी एक आदेश से संबंधित संख्याओं के आधार पर किया जाना चाहिए।

दैव निदर्शन के लिए टिपेट प्रणाली को आज अधिक वैज्ञानिक माना जाता है क्योंकि यह इकाइयों के चुनाव में शोधकर्ता के पूर्वाग्रह की कोई संभावना नहीं छोड़ता है। इसके अलावा, समग्र का आकार बहुत बड़ा होने पर भी टिपेट प्रणाली द्वारा एक सीमित प्रदर्शन प्राप्त किया जा सकता है।

नियमित अंकन विधि अथवा क्रमांक सूची प्रणाली –

इस पद्धति के माध्यम से निदर्शन प्राप्त करने के लिए, समग्र की सभी इकाइयों को क्रमानुसार में या किसी अन्य आधार पर सूचीबद्ध किया जाता है। इसके बाद कुल इकाइयों में से चुनी जाने वाली इकाइयों के अनुपात के अनुसार अध्ययन के लिए इकाइयों का चयन किया जाता है। उदाहरण के लिए, यदि कुल मिलाकर दो हजार दो सौ इकाइयों का अध्ययन के लिए चयन किया जाना है, तो पूरी सूची में से प्रत्येक दस संख्याओं के बाद आने वाली इकाई का चयन इस प्रणाली के अनुसार किया जाएगा। इस तरह सूची में 40, 20, 30, 40, 50, 60 और इसी तरह की संख्या की इकाइयों को निदर्शन के तहत शामिल किया जाएगा। इस प्रणाली से इकाइयों का चयन नियमित आदेश के आधार पर किया जाता है। इसलिए इसे नियमित अंकन प्रणाली भी कहा जाता है।

अनियमित अंकन विधि –

इस विधि द्वारा निदर्शन का चयन करने के लिए पहले समग्र की सभी इकाइयों की एक सूची बनाई जाती है और पहले और अंतिम अंकों को छोड़कर शेष इकाइयों की सूची से इकाइयों को निर्धारित मात्रा में अनियमित रूप से चिह्नित किया जाता है। इस पद्धति में पक्षपात की संभावना रहती है।

दैव निदर्शन के गुण :-

दैव निदर्शन के महत्व को निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से स्पष्ट किया जा सकता है:-

  • दैव निदर्शन में इकाइयों का चयन शोधकर्ता की इच्छा, पसंद या पक्षपात से प्रभावित नहीं होता है।
  • इस पद्धति में, समय की सभी इकाइयों को निदर्शन में भाग लेने का समान अवसर मिलता है।
  • दैव निदर्शन एक बहुत ही सरल प्रणाली है क्योंकि इसमें शोधकर्ता को किसी जटिल या कठिन नियम का पालन नहीं करना पड़ता है।
  • इस पद्धति द्वारा चुनी गई इकाइयाँ संपूर्ण समग्र का प्रतिनिधित्व करती हैं क्योंकि एक इकाई के चयन का अन्य इकाइयों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।
  • यह विधि अत्यधिक मितव्ययी है क्योंकि यह बहुत कम समय और धन में निदर्शन का चयन कर सकती है। अंत में, सांख्यिकीय रूप से यह विधि अधिक उपयुक्त है क्योंकि निदर्शन में इकाइयों के चयन के दोष की किसी भी समय पुन: जांच की जा सकती है।

दैव निदर्शन के दोष :-

अनेक गुणों के होते हुए भी दैव निदर्शन में अनेक दोष होते हैं, जिससे कभी-कभी अध्ययन के प्रतिनिधिपूर्ण होने की सम्भावना कम हो जाती है-

  • सर्वप्रथम इस विधि का प्रयोग तभी किया जा सकता है जब शोधकर्ता द्वारा समग्र की सभी इकाइयों की अनुक्रमिक सूची तैयार की जाए। व्यवहारिक रूप से यह कार्य बहुत कठिन है।
  • यदि समय की सभी इकाइयों की प्रकृति समान नहीं होती, तो इस पद्धति द्वारा चुनी गई इकाइयाँ समग्र की विशेषताओं का प्रतिनिधित्व नहीं करतीं।
  • दैव निदर्शन के अंतर्गत अक्सर ऐसी इकाइयों का चयन किया जाता है जिनसे संपर्क करना कभी-कभी बहुत कठिन या असंभव होता है। इसके बाद भी शोधकर्ता को चुनी हुई इकाइयों में से कोई भी परिवर्तन करने की स्वतंत्रता नहीं होती है।
  • इस पद्धति द्वारा किसी विशेष इकाई का चयन या चूक पूरी तरह से संयोग पर निर्भर है। नतीजतन, कुछ इकाइयाँ जो अध्ययन के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, अक्सर निदर्शन में शामिल नहीं होती हैं।

संक्षिप्त विवरण :-

सभी प्रकार के निदर्शन के बीच दैव निदर्शन सबसे महत्वपूर्ण और सबसे लोकप्रिय विधि है। निदर्शन की इस विधि का उद्देश्य चयनित होने वाली सभी इकाइयों को समान अवसर देना है।

FAQ

दैव निदर्शन क्या हैं?

दैव निदर्शन के विशेषताएँ क्या हैं?

दैव निदर्शन के प्रकार क्या हैं?

दैव निदर्शन के गुण क्या हैं?

दैव निदर्शन के दोष क्या हैं?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *