सामाजिक विकास के कारक क्या है?

सामाजिक विकास के कारक :-

सामाजिक विकास के कारक का अध्ययन करते समय यह ज्ञात होता है कि विभिन्न सामाजिक विचारकों जैसे मिर्डल, हैबहाउस और एगबर्न आदि ने कुछ सामाजिक कारकों का उल्लेख किया है। इन विचारकों द्वारा उल्लिखित प्रमुख सामाजिक कारक इस प्रकार हैं:

सामंजस्य –

सामाजिक विकास के लिए समाज के विभिन्न हिस्सों के बीच सामंजस्य आवश्यक है। यदि समाज के विभिन्न भागों में सामंजस्य नहीं होगा तो सामाजिक विकास की गति तीव्र नहीं होगी।

आविष्कार –

आविष्कार का सीधा संबंध उस समाज के लोगों की क्षमता, साधन और अन्य सांस्कृतिक कारकों से होता है। जैसे-जैसे आविष्कार तेजी से हो रहे हैं, वैसे-वैसे सामाजिक संबंधों में भी बदलाव आ रहे हैं।

प्रसार –

सामाजिक विकास की प्रक्रिया आविष्कारों के प्रसार पर निर्भर है। विभिन्न आविष्कारों के प्रसार के कारण, सामाजिक संबंध बदल रहे हैं और विकसित हो रहे हैं।

ज्ञान भंडार –

पुराने ज्ञान के संचय के कारण नवप्रवर्तन कर्ता पैदा हो रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप सामाजिक विकास बढ़ रहा है।

औद्योगीकरण  –

औद्योगीकरण सामाजिक विकास का एक महत्वपूर्ण साधन है। औद्योगीकरण के बिना सामाजिक विकास संभव नहीं है। विकसित समाजों में राष्ट्रीय आय में वृद्धि औद्योगीकरण के परिणामस्वरूप ही संभव हुई है, इसलिए विकासशील देश भी औद्योगीकरण पर विशेष ध्यान दे रहे हैं। अधिकांश कम विकसित देशों में, यह बड़े और ग्रामीण हैं, जो कृषि कार्य करते हैं जिनकी न्यूनतम उत्पादन क्षमता बहुत कम होती है। कुछ देशों में, औसत उत्पादकता बढ़ाना आर्थिक विकास का मुख्य कार्य है। शुरुआत में इसे काफी हद तक कृषि क्षेत्र में ही किया जाना चाहिए।

नगरीकरण

शहरीकरण आर्थिक और सामाजिक विकास की प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और गांवों से शहरों में प्रवास, ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में जीवन स्तर, विभिन्न आकार के करों में आर्थिक और सामाजिक सेवाएं प्रदान करने के लिए सापेक्ष व्यय, विभिन्न के लिए आवास जैसी सेवाओं का प्रावधान। जनसंख्या के हिस्से, जल आपूर्ति, स्वच्छता, परिवहन और बिजली, आर्थिक विकास की प्रकृति कई समस्याओं से निकटता से संबंधित है जैसे उद्योगों की हैंडलिंग और विकिरण, नागरिक प्रशासन, वित्तीय नीतियां और भूमि उपयोग योजना। इन अंगों का महत्व शहरी क्षेत्रों में विशेष हो जाता है जो बहुत तेजी से विकसित हो रहे हैं।

आर्थिक स्थिति –

आर्थिक स्थिति और सामाजिक विकास निकट से संबंधित हैं। आर्थिक दृष्टि से मजबूत समाज लगातार विकास की ओर बढ़ रहा है। इसके विपरीत कमजोर आर्थिक स्थिति वाले समाज में विकास की गति बहुत धीमी होती है।

सामाजिक गतिशीलता –

सामाजिक विकास के लिए आवश्यक है कि सामाजिक गतिशीलता को बढ़ाया जाए। व्यावसायिक गतिशीलता के परिणामस्वरूप सामाजिक गतिशीलता में भी वृद्धि होती है जो सामाजिक विकास के मार्ग में सहायक होती है।

शिक्षा –

किसी समाज का विकास किस स्तर पर होता है यह वहां के लोगों के शैक्षिक स्तर पर निर्भर करता है। शिक्षा सामाजिक-आर्थिक प्रगति का सूचक है। शिक्षा का मुख्य कार्य मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं जैसे बौद्धिक, भावनात्मक, शारीरिक, सामाजिक आदि का समुचित विकास है। इसलिए, शिक्षा को सामाजिक विकास की प्रक्रिया के रूप में जाना जाता है। शिक्षा का बढ़ता प्रभाव सामाजिक विकास में काफी सहायक रहा है।

राजनैतिक व्यवस्था –

सामाजिक विकास और राजनीतिक व्यवस्था का अटूट संबंध है। जिस समाज में राजनीतिक अस्थिरता हो, उस समाज में विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। अधिकांश समाज लोकतंत्र के माध्यम से विकास की ओर बढ़ रहा है। जहाँ राजनीतिक व्यवस्था न्याय और समानता पर आधारित हो और शोषण के विरुद्ध हो, वहाँ सामाजिक विकास सुनिश्चित होता है।

FAQ

सामाजिक विकास के लिए अनिवार्य कारक क्या है?

Share your love
social worker
social worker

Hi, I Am Social Worker
इस ब्लॉग का उद्देश्य छात्रों को सरल शब्दों में और आसानी से अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना है।

Articles: 553

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *